Wednesday, 14 September 2022

आगे नाथ न पीछे पगहा मुहावरे का अर्थ और वाक्य प्रयोग

आगे नाथ न पीछे पगहा मुहावरे का अर्थ - बेसहारा, जिसके आगे-पीछे कोई न हो, जिसका कोई न हो, निरा अकेला होना, किसी तरह की जिम्मेदारी न होना। 

Aage Nath na Piche Pagha Muhavare ka arth - Besahara, Jiske aage-piche koi na ho, Jiska koi na ho, Nira akela hona, Kisi tarah ki jimmedari na hona.

आगे नाथ न पीछे पगहा मुहावरे का वाक्य प्रयोग

वाक्य प्रयोग: संजू को इससे क्या लेना-देना, वह तो सदा निश्चिन्त ही रहता है, क्योंकि उसके आगे नाथ न पीछे पगहा। 

वाक्य प्रयोग: एक ही बेटा था, वह भी चल बसा। अब क्या है न आगे नाथ न पीछे पगहा। 

वाक्य प्रयोग: मुन्ना के माँ-बाप दोनों बीमारी में मर चुके है अब तो उसके आगे नाथ न पीछे पगहा। 

वाक्य प्रयोग: तलाक के बाद रमेश को उसके पत्नी-बच्चे भी छोड़ देंगे, फिर तो उसकी स्थिति आगे नाथ न पीछे पगहा वाली हो जाएगी। 

यहाँ हमने "आगे नाथ न पीछे पगहा मुहावरे का अर्थ" और उसका वाक्य प्रयोग समझाया है। आगे नाथ न पीछे पगहा मुहावरे का अर्थ होता है - बेसहारा, जिसके आगे-पीछे कोई न हो, जिसका कोई न हो, निरा अकेला होना, किसी तरह की जिम्मेदारी न होना। यदि कोई एकदम अकेला रह जाये या किसी के आगे पीछे कोई न हो तो ऐसे व्यक्ति के लिए कहा जाता है कि उसके न आगे नाथ न पीछे पगहा है। कभी-कभी इस मुहावरे का उनके लिए भी किया जाता है जिनके ऊपर किसी की जिम्मेदारी नहीं होती। 

सम्बंधित मुहावरे और लोकोक्तियाँ 

  1. एक अनार सौ बीमार मुहावरे का अर्थ और वाक्य प्रयोग
  2. बाल बांका न होना मुहावरे का अर्थ और वाक्य प्रयोग
  3. कलेजा धड़कना मुहावरे का अर्थ और वाक्य प्रयोग
  4. कोरा जवाब देना मुहावरे का अर्थ और वाक्य प्रयोग
  5. गोटी बैठाना मुहावरे का अर्थ और वाक्य प्रयोग
  6. गोटी लाल करना मुहावरे का अर्थ और वाक्य प्रयोग
  7. आँचल पसारना मुहावरे का अर्थ और वाक्य प्रयोग
  8. एक अनार सौ बीमार मुहावरे का अर्थ और वाक्य प्रयोग


SHARE THIS

Author:

I am writing to express my concern over the Hindi Language. I have iven my views and thoughts about Hindi Language. Hindivyakran.com contains a large number of hindi litracy articles.

0 comments: