Friday, 3 April 2020

ಝಾನ್ಸಿ ರಾಣಿ ಲಕ್ಷ್ಮೀಬಾಯಿ ಪ್ರಬಂಧ Jhansi Rani Lakshmi Bai Essay in Kannada

ಝಾನ್ಸಿ ರಾಣಿ ಲಕ್ಷ್ಮೀಬಾಯಿ ಪ್ರಬಂಧ Jhansi Rani Lakshmi Bai Essay in Kannada

Jhansi Rani Lakshmi Bai Essay in Kannada Language: In this article, we are providing ಝಾನ್ಸಿ ರಾಣಿ ಲಕ್ಷ್ಮೀಬಾಯಿ ಪ್ರಬಂಧ for students and teachers. Students can use this Jhansi Rani Lakshmi Bai Essay in Kannada Language to complete their homework.

ಝಾನ್ಸಿ ರಾಣಿ ಲಕ್ಷ್ಮೀಬಾಯಿ ಪ್ರಬಂಧ Jhansi Rani Lakshmi Bai Essay in Kannada

ಬಾಲ್ಯದಿಂದಲೇ ಹುಡುಗರ ಜೊತೆ ಕತ್ತಿವರಸೆ, ಕುದುರೆ ಸವಾರಿ ಕಲಿತ ಲಕ್ಷ್ಮೀಬಾಯಿ 1830ರ ನವೆಂಬರ್ 19 ರಂದು ಜನಿಸಿದಳು. ತಂದೆ ಮೋರೋಪಂತ. ಪೇಶ್ವ ಎರಡನೆಯ ಬಾಜೀರಾಯನ ಆಶ್ರಿತ. ಬಾಜೀರಾಯ ಪೇಶ್ವ ಸ್ಥಾನ ಕಳೆದುಕೊಂಡ ನಂತರ ಚಿತ್ತೂರಿಗೆ ಬಂದಾಗ ಮೋರೋಪಂತ ಮಗಳ ಜೊತೆ ಅವನನ್ನು ಹಿಂಬಾಲಿಸಿದ. ಲಕ್ಷ್ಮೀಬಾಯಿಯ ಹುಟ್ಟಿದ ಹೆಸರು ಮಣಿಕರ್ಣಿಕಾ, ಬಾಜೀರಾಯನ ಮಕ್ಕಳ ಜೊತೆ ಯುದ್ಧವಿದ್ಯೆ ಕಲಿತಳು. ಝಾನ್ಸಿಯ ರಾಜ ಗಂಗಾಧರ ನವಲ್ಕರ್ ಜೊತೆ ಅವಳ ವಿವಾಹ ನಡೆಯಿತು. ಗಂಡನ ಮನೆಯವರು ಅವಳನ್ನು ಲಕ್ಷ್ಮೀಬಾಯಿ ಎಂದು ಕರೆದರು. ಹುಟ್ಟಿದ ಮಗು ಮರಣಿಸಿತು. ಇದೇ ಚಿಂತೆಯಿಂದ ನವಲ್ಕರ್ ಕಾಯಿಲೆಯಿಂದ ನರಳಿ 1956ನವಂಬರ್ 21 ರಂದು ಮರಣಿಸಿದ. ಅನಂತರ ಆಕ ತನ್ನ ಅಕ್ಕನ ಮಗನನ್ನು ದತ್ತು ತೆಗೆದುಕೊಂಡಳು. ಬ್ರಿಟಿಷರು ಈ ದತ್ತು ಸ್ವೀಕಾರವನ್ನು ನಿರಾಕರಿಸಿದರು.
ಝಾನ್ಸಿ ರಾಣಿ ಲಕ್ಷ್ಮೀಬಾಯಿ ಪ್ರಬಂಧ Jhansi Rani Lakshmi Bai Essay in Kannada
ಬ್ರಿಟಿಷರ ವಿರುದ್ದ ಹೋರಾಟ ನಡೆಸಲು ಸಾಧುವೊಬ್ಬ ರಾಣಿಯ ಬಳಿ ಬಂದು ಧನ ಸಹಾಯ ಕೇಳಿದ. ಆಕೆ ತನ್ನ ಸ್ವಂತ ಖಜಾನೆಯಿಂದ ಹಣ ಕೊಟ್ಟಳು. ಸುದ್ದಿ ಬ್ರಿಟಿಷರಿಗೆ ತಿಳಿಯಿತು. ಆಕೆ ದಂಗೆಕೋರರ ಪಡೆಗೆ ಸೇರಿದವಳಂದು ಬ್ರಿಟಿಷರು ಆರೋಪಿಸಿದರು. ರಾಜ್ಯಾಡಳಿತವನ್ನು ತಮಗೆ ಬಿಟ್ಟುಕೊಡಲು ಅವರು ಒತ್ತಾಯಿಸಿದರು. ರಾಣಿ ತನ್ನ ಪ್ರಜೆಗಳು ಮತ್ತು ಸಂಸ್ಥಾನಿಕರ ನೆರವಿನಿಂದ ಬ್ರಿಟಿಷರನ್ನು ಎದುರಿಸಲು ಸನ್ನದ್ಧಳಾದಳು. ಅಗತ್ಯವಾದ ಯುದ್ಧ ಸಾಮಗ್ರಿಗಳನ್ನು ಕೂಡಿ ಹಾಕಿದಳು. ಸರ್ ಹೂರೋಜ್ 1858 ಮಾರ್ಚ್ 22 ರಂದು ಝಾನ್ಸಿಯ ಮೇಲೆ ದಾಳಿ ನಡೆಸಿದ. ಲಕ್ಷ್ಮೀಬಾಯಿ ಅತ್ಯಂತ ದಕ್ಷತೆ, ಶಿಸ್ತು, ಅಪ್ರತಿಮ ಶೌರ್ಯದಿಂದ ಬ್ರಿಟಿಷರ ವಿರುದ್ದ ಹೋರಾಡಿದಳು. ಫಿರಂಗಿ ಹೊಡೆತದಿಂದ ಬಿರುಕು ಬಿಟ್ಟ ಕೋಟೆಯನ್ನು ಸರಿಪಡಿಸಲು ಹೆಂಗಸರು ಅವಿಶ್ರಾಂತವಾಗಿ ಶ್ರಮಿಸಿದರು. ಲಕ್ಷ್ಮೀಬಾಯಿ ಸ್ವತಃ ಎಲ್ಲೆಡೆ ಸಂಚರಿಸಿ ತನ್ನ ಸೈನಿಕರನ್ನೂ, ಜನರನ್ನೂ ಹುರಿದುಂಬಿಸಿದಳು. ಕೋಟೆಯನ್ನು ವಶಪಡಿಸಿಕೊಳ್ಳಲು ಬ್ರಿಟಿಷರು ಹೆಣಗಾಡಬೇಕಾಯಿತು. ತಾತ್ಯಾಟೋಪೆ ಲಕ್ಷ್ಮೀಬಾಯಿಯ ಸಹಾಯಕ್ಕೆ ಬಂದ. ಈಗ ಬ್ರಿಟಿಷರೂ ಅವನೊಡನೆ ಹೋರಾಡುವುದು ಅನಿವಾರ್ಯವಾಯಿತು. ಕೊನೆಗೂ ಬ್ರಿಟಿಷರು ಎಲ್ಲ ಅಡ್ಡಿಆತಂಕಗಳನ್ನು ನಿವಾರಿಸಿಕೊಂಡು ಝಾನ್ಸಿಯನ್ನು ವಶಪಡಿಸಿಕೊಂಡರು. - ಲಕ್ಷ್ಮೀಬಾಯಿ ಮತ್ತು ಅವಳ ರಕ್ಷಕರು ವೈರಿಗಳ ಕೈಗೆ ಸಿಕ್ಕದೆ ತಪ್ಪಿಸಿಕೊಂಡರು. ಕಾಲ್ಪಿಗೆ ಹೋಗಿ ತಾತ್ಯಾಟೋಪೆಯನ್ನು ಸೇರಿಕೊಂಡರು. ಬ್ರಿಟಿಷರು ಕಾಲ್ಪಿಯ ಮೇಲೆ ದಾಳಿ ಮಾಡಿ ಅದನ್ನು ತಮ್ಮ ವಶಪಡಿಸಿಕೊಂಡರು. ಬ್ರಿಟಿಷರ ಸ್ನೇಹಿತನಾಗಿದ್ದ ಸಿಂಧ್ಯದ ರಾಜಧಾನಿ ಗ್ವಾಲಿಯರ್ ಮೇಲೆ ಲಕ್ಷ್ಮೀಬಾಯಿ ಮತ್ತು ತಾತ್ಯಾಟೋಪೆ ದಾಳಿ ನಡೆಸಿದರು. ಸಿಂಧ್ಯ ಮತ್ತು ಅವನ ಪರಿವಾರದವರು ತಪ್ಪಿಸಿಕೊಂಡು ಓಡಿಹೋದರು. ಗ್ವಾಲಿಯರ್ ಸುಲಭವಾಗಿ ಅವನ ವಶವಾಯಿತು.

ಬ್ರಿಟಿಷರು ತಮ್ಮ ಸ್ನೇಹಿತ ಸಿಂಧ್ಯನಿಗೆ ಸಹಾಯ ಮಾಡಲು ಗ್ವಾಲಿಯರ್‌ಗೆ ಮುತ್ತಿಗೆ ಹಾಕಿದರು. ಈ ಸಂದರ್ಭದಲ್ಲಿ 1858 ಜೂನ್ 17 ರಂದು ಬೆಳಿಗ್ಗೆ ವೈರಿಗಳ ಕಡೆಯಿಂದ ಬಂದ ಗುಂಡ ಲಕ್ಷ್ಮೀಬಾಯಿಗೆ ತಗುಲಿತು. ಝಾನ್ಸಿರಾಣಿ ಲಕ್ಷ್ಮೀಬಾಯಿ ಮರಣಿಸಿದಳು. ಕೋಟೆ ಮತ್ತು ಪೂಲ್‌ಬಾಗ್‌ಗಳ ನಡುವೆ ನದೀತೀರದಲ್ಲಿ ಆಕೆಯ ದೇಹಕ್ಕೆ ದಹನ ಸಂಸ್ಕಾರ ನಡೆಯಿತು.
ಕರ್ನಾಟಕದ ಶಾಸನಗಳು ಮಾಹಿತಿ Information of Inscriptions of Karnataka in Kannada Language

ಕರ್ನಾಟಕದ ಶಾಸನಗಳು ಮಾಹಿತಿ Information of Inscriptions of Karnataka in Kannada Language

Information of Inscriptions of Karnataka in Kannada Language: In this article, we are providing ಕರ್ನಾಟಕದ ಶಾಸನಗಳು ಮಾಹಿತಿ for students and teachers. Students can use this Information of Inscriptions of Karnataka in Kannada Language to complete their homework.

ಕರ್ನಾಟಕದ ಶಾಸನಗಳು ಮಾಹಿತಿ Information of Inscriptions of Karnataka in Kannada Language

ಕರ್ನಾಟಕದ ಶಾಸನಗಳು ಮಾಹಿತಿ Information of Inscriptions of Karnataka in Kannada Language
ಪ್ರಾಚೀನ ಚರಿತ್ರ ಬರೆಯಲು ಶಿಲಾ ಲೇಖನಗಳು ಅತ್ಯಂತ ನಂಬಿಕೆಗೆ ಅರ್ಹವಾದ ಮುಖ್ಯವಾದ ಸಾಧನಗಳು. ಈ ಎಲ್ಲ ಶಾಸನಗಳಿಂದ ಅಂದಂದಿನ ರಾಜಕೀಯ, ಸಾಮಾಜಿಕ, ಚಾರಿತ್ರಿಕ, ಸಾಂಸ್ಕೃತಿಕ ವಿಷಯಗಳು ತಿಳಿಯುವುದು. ಅಲ್ಲದೆ, ಭಾಷೆ, ಲಿಪಿ, ಬರವಣಿಗೆಯ ರೀತಿ - ಮೊದಲಾದ ಅಂಶಗಳನ್ನು ತಿಳಿಯಲು ಇವು ಸಾಧನಗಳಾಗಿವೆ. ಮೊದಮೊದಲು ಬರವಣಿಗೆಯ ಸಾಧನವಾದುದು ಭೂರ್ಜಪತ್ರ, ತಾಳೆಗರಿ, ಮರದ ತೊಗಟೆ, ಅನಂತರ ತಾವು ಕೊಟ್ಟ ದಾನ ಶಾಶ್ವತವಾಗಿ ಉಳಿಯಬೇಕೆಂದು ಕಲ್ಲುಗಳ ಮೇಲೂ, ಲೋಹಗಳ ಕಂಬ, ತಗಡುಗಳ ಮೇಲೂ ಬರೆಸಿ ಅವನ್ನು ಎಲ್ಲ ಜನರಿಗೂ ತಿಳಿಯುವ ಸ್ಥಳಗಳಲ್ಲಿ ನಡೆಸಿದರು. ಕೊನೆಕೊನೆಗೆ ಬರವಣಿಗೆಗೆ ಅವಕಾಶ ಸಿಕ್ಕಿದ ಕಡೆಗಳಲ್ಲಿ ತಮ್ಮ ಕೀರ್ತಿ ಬೆಳಗಬೇಕೆಂದು. ಬರೆಸಿದವರುಂಟು. ದೇವಸ್ಥಾನ, ಮಠಗಳ ಚಿನ್ನ, ಬೆಳ್ಳಿ, ಮೊದಲಾದ ಲೋಹಗಳ ಪಾತ್ರಗಳು, ಮಡಕೆಗಳು ಲೋಹದ ತಗಡುಗಳು ಕಬ್ಬಿಣದ ಕಂಬ, ದೇವರ ಪೀಠಗಳು, ಮೂರ್ತಿಗಳ ಬೆನ್ನು ಭಾಗ ದೇವಸ್ಥಾನಗಳ ತಳಪಾಯದ ಕಲ್ಲು, ಕಂಬ, ಗೋಡೆ ಬಲಿಪೀಠ ಗೋಪುರದ ಕಲಶ ಇವೇ ಮೊದಲಾದ ಕಡೆಗಳಲ್ಲಿ ಬರವಣಿಗೆಗಳಿವೆ. ಇವುಗಳಲ್ಲದ ಊರುಗಳ ಮುಂಭಾಗದಲ್ಲಿ, ಕಾಡುಗಳಲ್ಲಿ ನೆಟ್ಟ ಬೋರುಕಲ್ಲು, ಯಂತ್ರಕಲ್ಲು, ವೀರಗಲ್ಲು, ತುರುಗಲ್ಲು, ಲಿಂಗಮುದ್ರೆಕಲ್ಲು, ವಾಮನ ಮುದ್ರೆಕಲ್ಲು, ಮಾಸ್ತಿಕಲ್ಲುಗಳೆಂದು ಕರೆಯಲ್ಪಡುವ ಅನ್ವರ್ಥವಾದ ಶಿಲಾಲೇಖನಗಳಿವೆ. ಪುಣ್ಯಕ್ಷೇತ್ರ ಮತ್ತು ಬೆಟ್ಟಗಳ ಬಂಡೆಗಳಲ್ಲಿ, ನದಿತೀರಗಳಲ್ಲಿ, ಕೊಳಗಳ ಪಕ್ಕದಲ್ಲಿ ಅಲ್ಲಿಗೆ ಬಂದ ಯಾತ್ರಾರ್ಥಿಗಳು. ರಾಜರ, ಕವಿಗಳ ಸ್ಮಾರಕ ಬರವಣಿಗೆಗಳಿವೆ. ಕೆರೆ ಕಟ್ಟಿಸಿ ತೂಬಿನ ಮೇಲೆ ಬರೆಸಿರುವ ಶಾಸನಗಳೂ ಸಿಕ್ಕಿವೆ. ಅನಶನ ವ್ರತದಿಂದ ಪ್ರಾಣಾರ್ಪಣೆ ಮಾಡಿದವರ ಜ್ಞಾಪಕಾರ್ಥವಾದ ನಿಶಧಿಕಲ್ಲು ತಮ್ಮ ಸ್ವಾಮಿಗೆ ಭಕ್ತಿ ಸಲ್ಲಿಸಲು ಶರೀರ ತ್ಯಾಗಮಾಡಿ ತ್ಯಾಗಿಗಳ ಗರುಡಕಲ್ಲುಗಳು ಇವೆ. ಕನ್ನಡ ಭಾಷೆಯಲ್ಲಿಯೇ ಬರೆದ ಬರವಣಿಗೆ ಕ್ರಿ.ಶ. ಐದನೆಯ ಶತಮಾನಕ್ಕೆ ಮೊದಲು ಎಲ್ಲಿಯೂ ದೊರೆತಿಲ್ಲ. ಮೊಟ್ಟಮೊದಲು ಕನ್ನಡ ಭಾಷೆಯಲ್ಲೇ ಬರೆದ ಬರವಣಿಗೆ ಎಂದರೆ ಹಿಡಿಯ ಶಿಲಾಲೇಖನವೇ. ಈ ಶಿಲಾಶಾಸನದ ಮಂಗಳಶ್ಲೋಕ ಸಂಸ್ಕೃತಭಾಷೆಯಾಗಿದ್ದು ಉಳಿದದ್ದು ಕನ್ನಡ ಲಿಪಿ ಮತ್ತು ಭಾಷೆಯಲ್ಲಿದೆ. ಇಲ್ಲಿಂದ ಮುಂದೆ ಕನ್ನಡ ಭಾಷೆಯಲ್ಲಿ ರಚಿತವಾದ ಕವಿರಾಜಮಾರ್ಗ ಗ್ರಂಥದ ಕಾಲದವರೆಗೆ ಸಿರಿಗುಂದದ ದುರ್ವಿನೀತನ ಶಾಸನ, ಬಾದಾಮಿಯ ಮಂಗಳೇಶನ ಶಾಸನವೇ ಮೊದಲಾದ ಶಾಸನಗಳು, ವೀರಗಲ್ಲುಗಳು, ಶ್ರವಣಬೆಳಗೊಳದ ನಿಶದಿಕಲ್ಲುಗಳು ಕನ್ನಡ ಭಾಷೆಯಲ್ಲಿವೆ. ಸುಮಾರು ಇದುವರೆಗೂ ಕನ್ನಡನಾಡಿನಲ್ಲಿ ಇಪ್ಪತ್ತು ಸಾವಿರ ಶಾಸನಗಳು ಸಿಕ್ಕಿವೆ. ಆತ್ಮಾರ್ಪಣೆ ಮಾಡಿದ ತ್ಯಾಗಿಗಳ ಶಾಸನಗಳನ್ನು ವೀರಗಲ್ಲುಗಳೆಂದು ಕರೆಯುವರು. ಅನೇಕ ಪುರಾತನ ಪಟ್ಟಣಗಳ, ರಾಜಧಾನಿಗಳ, ಹಳೆ ಊರುಗಳ ಮುಂಭಾಗದಲ್ಲಿ ಸಾಲಾಗಿ ನೆಡಿಸಿರುವ ಚಿತ್ರಗಳುಳ್ಳ ಕಲ್ಲುಗಳಿವು. ಈ ವೀರಗಲ್ಲುಗಳಲ್ಲಿ ಊರಿನ ಗೋವುಗಳನ್ನು ಕಾಪಾಡಲು ಪ್ರಾಣ ಬಿಟ್ಟವನ ಜ್ಞಾಪಕಾರ್ಥವಾಗಿ ಹಾಕಿರುವ ಕಲ್ಲಿಗೆ ತುರುಕಲ್ಲೆಂದು ಹೆಸರು. ಹೆಂಗಸರು ತಮ್ಮಗಂಡ ಸತ್ತಾಗ ಪ್ರಾಣ ಬಿಟ್ಟಿದ್ದಕ್ಕೆ ಹಾಕಿರುವ ಕಲ್ಲುಗಳೇ ಮಾಸ್ತಿಕಲ್ಲುಗಳು. ಮಹಾಸತಿ ಎಂಬುದು ಮಾಸ್ತಿ ಆದಂತೆ ತೋರುತ್ತದೆ. ರಾಜರ ಕಾಲಗಳಲ್ಲಿ ರಾಜ ಸತ್ತಾಗ ಅವನೊಡನೆ ಆತ್ಮಾರ್ಪಣ ಮಾಡಿರುವ ವೀರರ ಸ್ಮಾರಕಗಳನ್ನು ಗರುಡಗಲ್ಲುಗಳೆಂದು ಕರೆಯುವರು.

ಜೈನರಲ್ಲಿ ಅವಸಾನಕಾಲ ಪ್ರಾಪ್ತವಾದಾಗ ಅಥವಾ ಜೀವನದಲ್ಲಿ ಜುಗುಪ್ಪ ತೋರಿ ವೈರಾಗ್ಯ ಬಂದಾಗ ಅನಶನವ್ರತ ಮಾಡಿ ಪ್ರಾಣಾರ್ಪಣ ಮಾಡಿರುವುದಕ್ಕಾಗಿ ಹಾಕಿಸಿರುವ ಕಲ್ಲುಗಳಿಗೆ ನಿಶದಿ ಕಲ್ಲುಗಳೆಂದು ಹೆಸರು. ಶ್ರವಣಬೆಳಗೊಳ ಒಂದರಲ್ಲಿಯೇ ಇಂಥ ಅರುವತ್ತು ನಿಶದಿ ಕಲ್ಲುಗಳಿವೆ. ಪ್ರಾಚೀನ ಕಾಲದ ಬರವಣಿಗೆಯ ಈ ವಿಧವಾದ ಶಿಲಾಲೇಖನಗಳ ಪ್ರತಿಗಳನ್ನು ಸಂಗ್ರಹಿಸಿ ಅವುಗಳಲ್ಲಿ ಹೇಳಿರುವ ದಾನ, ಧರ್ಮ, ತ್ಯಾಗ, ಚರಿತ್ರಾಂಶಗಳನ್ನು ಬೆಳಕಿಗೆ ತಂದ ಕೀರ್ತಿ ಪಾಶ್ಚಾತ್ಯ ವಿದ್ವಾಂಸರಿಗೆ ಸೇರಿದುದು. 1879ರಲ್ಲಿ ಮೈಸೂರು ದೇಶದ ವಿದ್ಯಾಭ್ಯಾಸದ ಇಲಾಖೆಯ ಮುಖ್ಯಾಧಿಕಾರಿಯಾಗಿದ್ದ ಬಿ.ಎಲ್. ರೈಸರ ನೇತೃತ್ವದಲ್ಲಿ ಶಾಸನಗಳ ಸಂಗ್ರಹಕಾರ್ಯ ಪ್ರಾರಂಭವಾಯಿತು. ಈ ಪುರಾತನ ಬರವಣಿಗೆ ಇರುವ ಲೇಖನಗಳು ಹೆಚ್ಚು ಹೆಚ್ಚಾಗಿ ಕಣ್ಣಿಗೆ ಬೀಳಲು ಸರ್ಕಾರದವರು ಮೈಸೂರು ರಾಜ್ಯದಲ್ಲಿ ಪ್ರತ್ಯೇಕವಾಗಿ ಒಂದು ಇಲಾಖೆಯನ್ನೇ ತೆರೆದರು. ಅದರ ಮುಖ್ಯಾಧಿಕಾರಿಯನ್ನಾಗಿ ಬಿ.ಎಲ್. ರೈಸ್ ಅವರನ್ನೇ ನೇಮಿಸಲಾಯಿತು. 1879ರಿಂದ 1906ರವರೆಗೆ ಬಿ.ಎಲ್. ರೈಸ್ ಅವರು ಸಂಗ್ರಹಿಸಿದ ಶಾಸನಗಳಲ್ಲ ಎಫಿಗ್ರಾಫಿಯ ಕರ್ನಾಟಕ ಎಂಬ ಅಂಕಿತದ ಹನ್ನೆರಡು ಸಂಪುಟಗಳಲ್ಲಿ ಪ್ರಕಟವಾಗಿವೆ. ಅವರ ನಂತರ ಬಂದ ರಾವ್ ಬಹದ್ದೂರ್ ಆರ್. ನರಸಿಂಹಾಚಾರ್ಯರು ತಮ್ಮ ಕಾಲದಲ್ಲಿ ಸಂಗ್ರಹಿಸಿದ ಶಾಸನಗಳನ್ನೆಲ್ಲ ಮೈಸೂರು ಶಾಸನ ಇಲಾಖಾ ವರದಿಗಳಲ್ಲಿ ಮುದ್ರಿಸಿರುವುದಲ್ಲದೆ ರೈಸ್ ಅವರು ಪ್ರಕಟಿಸಿದ ಕೆಲವು ಶಾಸನಗಳ ತಿದ್ದುಪಡಿ ಕೂಡಾ ಮಾಡಿರುವರು. ಐತಿಹಾಸಿಕ ದೃಷ್ಟಿಯಿಂದ ಇಂಡಿಕ, ಇಂಡಿಯನ್ ಆಂಟೆರಿ ಮೊದಲಾದ ವಿದ್ವತ್ತೂರ್ಣ ಪತ್ರಿಕೆಗಳಲ್ಲಿ ಪ್ರಕಟವಾಗಿವೆ.
Read also :

Natural Disasters Essay in Kannada Language

Essay on My Favourite Hobby Coin Collection

Togalu Gombe Information in Kannada Language

Thursday, 2 April 2020

Hindi Essay on "Coronavirus", "Covid19", "कोरोना वायरस पर हिंदी निबंध" For Class 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11 & 12

Hindi Essay on "Coronavirus", "Covid19", "कोरोना वायरस पर हिंदी निबंध" For Class 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11 & 12

Hindi Essay on "Corona Virus", "Covid19", "कोरोना वायरस पर हिंदी निबंध" For Class 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11 & 12

क्या है कोरोना वायरस: कोरोना वायरस का संबंध वायरस के ऐसे परिवार से है, जिसके संक्रमण से जुकाम से लेकर सांस लेने में तकलीफ जैसी समस्या हो सकती है. कोरोनावायरस (Coronavirus) कई प्रकार के विषाणुओं (वायरस) का एक समूह है जो स्तनधारियों और पक्षियों में रोग उत्पन्न करता है। यह आरएनए वायरस होते हैं। इनकी रोकथाम के लिए कोई टीका (वैक्सीन) या विषाणुरोधी (antiviral) अभी उपलब्ध नहीं है।इस वायरस (कोविड 19) का संक्रमण दिसंबर 2019 में चीन के वुहान में शुरू हुआ था। डब्लूएचओ ने इसे वैश्विक महामारी की संज्ञा दी है। 
कोरोना को हराना है, देश को बचाना है 
कोरोना का अर्थ : लैटिन भाषा में "कोरोना" का अर्थ "मुकुट" होता है।  यह वायरस अपने इर्द-गिर्द उभरे हुए कांटेनुमा ढाँचों के कारण इलेक्ट्रान सूक्षमदर्शी में मुकुट जैसा आकार का दिखता है। इसी कारण इसका नाम कोरोना रखा गया है। 
Hindi Essay on "Corona Virus", "Covid19", "कोरोना वायरस पर हिंदी निबंध" For Class 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11 & 12
कोरोना वायरस पर हिंदी निबंध
कोरोना महामारी की उत्पत्ति : यह वायरस भी जानवरों से आया है। ज्यादातर लोग जो चीन शहर के केंद्र में स्थित हुआनन सीफ़ूड होलसेल मार्केट में खरीदारी के लिए आते हैं या फिर अक्सर काम करने वाले लोग जो जीवित या नव वध किए गए जानवरों को बेचते थे जो इस वायरस से संक्रमित थे।

भारत में कोरोना वायरस : भारत में कोरोना वायरस संक्रमण स्पेन इटली व अमेरिका जैसे विकसित देशो  तुलना में कम फैला है परन्तु कोरोना वायरस और न फैले, इसके लिए पूरे देश में 21 दिनों के लॉकडाउन का एलान किया गया है। दुनिया के सभी देश जहां भी कोरोना के मामले सामने आए हैं उनके मुक़ाबले भारत में सबसे कम लोगों का टेस्ट किया गया है कोरोना वायरस टेस्ट को लेकर भारत में अभी और गंभीरता लाने की ज़रूरत है। वायरस के सैंपल टेस्ट करने के लिए देश भर में कुल 52 लैब बनाई गई हैं।

कोरोनो वायरस संक्रमण के लक्षण : मानव शरीर में पहुंचने के बाद कोरोना वायरस उसके फेफड़ों में संक्रमण करता है। जिसके कारण सबसे पहले बुख़ार फिर उसके बाद सूखी खांसी आती है और सांस लेने में समस्या हो सकती है. वायरस के संक्रमण के लक्षण दिखना शुरू होने में आमतौर पर पाँच दिन लगते हैं।  हालांकि वैज्ञानिकों का कहना है कि कुछ लोगों में इसके लक्षण 14 - 24 दिनों बाद में भी देखने को मिल सकते हैं। बीमारी के शुरुआती लक्षण सर्दी और फ्लू जैसे ही होते हैं जिससे कोई आसानी से भ्रमित हो सकता है.

क्या हैं इससे बचाव के उपाय : कोरोना वायरस से बचने के लिए हाथों को साबुन से धोना चाहिए। अल्‍कोहल आधारित हैंड रब का इस्‍तेमाल भी किया जा सकता है. खांसते और छीकते समय नाक और मुंह रूमाल या टिश्‍यू पेपर से ढककर रखें. घर से बाहर निकलते समय चेहरे पर मास्क लगाएं। जिन व्‍यक्तियों में जुकाम और फ्लू के लक्षण हों उनसे दूरी बनाकर रखें। मांसाहारी आहार से बचें। जंगली जानवरों के संपर्क में आने से बचें. कोरोना वायरस यानी 'कोविड 19' से बचने के लिए अपने हाथ सैनिटाइज़र, साबुन और पानी से अच्छे से धोना चाहिए। 

निष्कर्ष : पूरी दुनिया को पश्चिमी देशों की खुली जीवनशैली ने प्रभावित किया है। मगर यूरोपीय जीवनशैली के चारों स्तंभ देशों इटली, फ्रांस, ब्रिटेन और स्पेन कोरोना से लड़ रहे हैं। अमेरिका जैसी महाशक्ति भी इस महामारी कोरोना वायरस के संक्रमण के पहले तक पूरी दुनिया में पर्यटकों को काफी महत्व दिया जाता था, उन्हें आर्थिक आय का बड़ा जरिया माना जाता था। इस वायरस का संक्रमण मुख्य रूप से पर्यटकों से ही फैला है, ऐसे में संभव है कि अब शायद ही दुनिया में पर्यटकों का स्वागत पहले की तरह होगा। संभव है कि शायद इतना खुलापन अब न रहे और समाज खुद को बदल लेंगे।

Wednesday, 1 April 2020

ಕರ್ನಾಟಕದ ಜಲಪಾತಗಳು Waterfalls of Karnataka Information in Kannada

ಕರ್ನಾಟಕದ ಜಲಪಾತಗಳು Waterfalls of Karnataka Information in Kannada

Waterfalls of Karnataka Information in Kannada: In this article, we are providing ಕರ್ನಾಟಕದ ಜಲಪಾತಗಳು for students and teachers. Students can use this Waterfalls of Karnataka Information in Kannada to complete their homework.

ಕರ್ನಾಟಕದ ಜಲಪಾತಗಳು Waterfalls of Karnataka Information in Kannada

Waterfalls of Karnataka Information in Kannada
ನದೀಪಾತ್ರ ಬಲು ಕಡಿದೂ ಆಳವೂ ಆಗಿರುವೆಡೆಯಲ್ಲಿ ನೀರಿನ ಧುಮುಕಾಟ (ವಾಟರ್ ಫಾಲ್), ಅಂಚು ಬಲು ಕಡಿದಾಗಿದ್ದರೆ ಅಲ್ಲಿ ನೀರು ಅತಿ ರಭಸದಿಂದ ನೆಗೆಯುವಾಗ, ನೆಲಸಂಪರ್ಕವೇ ಇಲ್ಲದೆ, ಹಲವಾರು ಅಡಿಗಳ ಆಳದಲ್ಲಿನ ತಳಕ್ಕೆ ಬೀಳಬಹುದು. ಜಲಪಾತಗಳು ಹಲವು ಅಡಿಗಳಿಂದ ನೂರಾರು ಅಡಿಗಳಷ್ಟು ಆಳದವರೆಗೆ ಧುಮುಕುವುವು. ಅವುಗಳ ಠೀವಿ, ಸಿಡಿಯುವ ತುಷಾರಗಳ ಚೆಲುವು, ಬಿಸಿಲಿನಲ್ಲಿ ಚೆಲ್ಲಾಡುವ ಬಣ್ಣಗಳ ಬೆಡಗು, ಭೋರ್ಗರೆಯುವ ಶಬ್ದಗಾಂಭೀರ್ಯ ಮತ್ತು ಪರಿಸದ ಸೃಷ್ಟಿಸೌಂದರ್ಯ ವೀಕ್ಷಕರ ಕಿವಿ ಕಣ್ಮನಗಳನ್ನು ಸೂರೆಗೊಳ್ಳುತ್ತವೆ. ಜಲಪಾತಗಳ ಚಲನಶಕ್ತಿಯನ್ನು ಉಪಯುಕ್ತವಾಗಿ ಪರಿವರ್ತಿಸಿಕೊಳ್ಳುವುದು ಕೂಡ ಸಾಧ್ಯ.
  1. ಜೋಗ್ ಜಲಪಾತ
  2. ವನಸಮುದ್ರ
  3. ಅಬ್ಬಿ ಜಲಪಾತ
  4. ಗೋಕಾಕ ಜಲಪಾತ
  5. ಕಲ್ಲತಗಿರಿ ಫಾಲ್ಸ್
  6. ಮಾಗೋಡು ಜಲಪಾತ
  7. ಸಾತೋಡಿ ಜಲಪಾತ
  8. ಬೆಣ್ಣೆಹೊಳೆ ಜಲಪಾತ
ಜೋಗ್ ಜಲಪಾತ: ಪ್ರಪಂಚದ ಪ್ರಸಿದ್ಧ ಜಲಪಾತಗಳಲ್ಲಿ ಕರ್ನಾಟಕದ ಉತ್ತರ ಕನ್ನಡ ಮತ್ತು ಶಿವಮೊಗ್ಗ ಜಿಲ್ಲೆಗಳ ಗಡಿಯಲ್ಲಿ ಹರಿಯುವ ಶರಾವತಿ ನದಿಯಜಲಪಾತ (ಗೇರುಸೊಪ್ಪ; ಜೋಗ್) ಅತ್ಯಂತ ರಮಣೀಯವಾದುದು. ಶರಾವತಿ ಇಲ್ಲಿ ರಾಜಾ, ರೋರರ್, ರಾಕೆಟ್ ಮತ್ತು ಲೇಡಿ (ರಾಣಿ) ಎಂಬ ನಾಲ್ಕು ಭಾಗಗಳಾಗಿ 830 ಅಡಿ ಎತ್ತರದಿಂದ ಭೋರ್ಗರೆಯುತ್ತ ಕಳಕ್ಕೆ ರಭಸವಾಗಿ ಧುಮುಕುತ್ತದೆ. ಹಾಲಿನ ರಾಶಿಯಂತೆ ನೂರಗೂಡಿದ ನೀರಿನ ಪ್ರವಾಹವೂ ಅಂತರಾಳದಲ್ಲಿ ಶೋಭಿಸುವ ವಿವಿಧ ವರ್ಣಗಳ ಸಾವಿರಾರು ಕಾಮನಬಿಲ್ಲುಗಳ ದೃಶ್ಯವೂ ಉಪಮಾತೀತವಾಗಿವೆ. ಇಲ್ಲಿನ ಜಲಸಾಮರ್ಥ್ಯದ ಸಹಾಯದಿಂದ ಜೋಗ್ (ಮಹಾತ್ಮಾಗಾಂಧಿ ಜಲವಿದ್ಯುತ್ ಉತ್ಪಾದನಾ ಕೇಂದ್ರ) ಮತ್ತು ಶರಾವತಿ ಕಣಿವೆಯ ಹೊಸ ಜಲವಿದ್ಯುಚ್ಛಕ್ತಿ ಯಂತ್ರಾಗಾರಗಳು ನಡೆಯುತ್ತಿವೆ. ಇಲ್ಲಿ ಏಷ್ಯದಲ್ಲೇ ಅತಿ ಕಡಿಮೆ ವೆಚ್ಚದಲ್ಲಿ ಜಲವಿದ್ಯುಚ್ಛಕ್ತಿ ನಿರ್ಮಾಣವಾಗುತ್ತಿದೆ.

ವನಸಮುದ್ರ: ಮಂಡ್ಯ ಜಿಲ್ಲೆಯಲ್ಲಿದೆ. ಭಾರತದ ಮೊದಲ ಜಲವಿದ್ಯುತ್ ಉತ್ಪಾದನಾ ಕೇಂದ್ರವಾದ ಇದನ್ನು 1902ರಲ್ಲಿ ಸ್ಥಾಪಿಸಲಾಯಿತು. ಕಾವೇರಿ ನದಿ ಎರಡು ಕವಲುಳಾಗಿ 91 ಮೀಟರ್ ಎತ್ತರದಿಂದ ಧುಮ್ಮಿಕ್ಕಿ ಜಲಪಾತ ಸೃಷ್ಟಿಯಾಗಿದೆ. ಇಲ್ಲಿ ಧುಮುಕುವ ಕಾವೇರಿ ನದಿಯ ಪಶ್ಚಿಮ ಕವಲಿಗೆ ಗಗನಚುಕ್ಕಿ ಎಂದೂ ಅಲ್ಲಿಗೆ ಸುಮಾರು ಒಂದುವರೆ ಕಿ.ಮೀ. ದೂರದಲ್ಲಿ ಧುಮುಕುವ ಪೂರ್ವದ ಕವಲಿಗೆ ಭರಚುಕ್ಕಿ ಎಂದೂ ಹೆಸರು. ಶಿವನಸಮುದ್ರ ನೀರನ್ನು ಬಳಸಿಕೊಂಡು ಹತ್ತಿರದಲ್ಲಿ ವಿದ್ಯುತ್ ಉತ್ಪಾದನಾ ಕೇಂದ್ರವಿರುವ ಪ್ರದೇಶದಲ್ಲಿ ಬ್ಲಫ್ ಇದೆ. ಇವು ನೋಡುಗರಿಗೆ ತುಂಬಾ ಆಕರ್ಷಣೀಯವಾಗಿದೆ.

ಅಬ್ಬಿ ಜಲಪಾತ: ಮಡಿಕೇರಿಯಿಂದ 8 ಕಿ.ಮೀ. ದೂರವಿರುವ ಸುಮಾರು 70 ಅಡಿ ಎತ್ತರದಿಂದ ಧುಮುಕುವ ಜಲಪಾತ, ಅಬ್ಬಿ ಜಲಪಾತ ಮಳೆಗಾಲದಲ್ಲಿ ತುಂಬಿರುತ್ತದೆ.

ಗೋಕಾಕ ಜಲಪಾತ: ಬೆಳಗಾವಿ ಜಿಲ್ಲೆಯ ಗೋಕಾಕ ಬಳಿಯ ಜಲಪಾತವನ್ನು ಜಗತ್ತಿನ ಪ್ರಸಿದ್ಧ ನಯಾಗರಾ ಜಲಪಾತಕ್ಕೆ ಹೋಲಿಸಲಾಗುತ್ತದೆ. ಬೆಳಗಾವಿಯಿಂದ 58 ಕಿ.ಮೀ. ದೂರವಿದೆ. ಇಲ್ಲಿ ಘಟಪ್ರಭಾ ನದಿಯು 52 ಮೀಟರ್ ಎತ್ತರದಿಂದ ಧುಮ್ಮಿಕ್ಕಿ ಆಳವಾದ ಕಣಿವೆಗೆ ಬೀಳುತ್ತದೆ. ಜಲಪಾತಕ್ಕಿಂತ ಸ್ವಲ್ಪ ಮುಂಚೆಯೇ ನದಿ ದಡಗಳ ನಡುವೆ ಜನಸಂಚಾರಕ್ಕೆ ಅನುಕೂಲ ಕಲ್ಪಿಸಲು 20 ಮೀಟರ್ ಉದ್ದದ ತೂಗುಸೇತುವೆ - ನಿರ್ಮಿಸಿದ್ದು ಇದರ ಮೇಲೆ ನಡೆದಾಡುವುದು ಬಹಳ ರೋಮಾಂಚಕಾರಿಯಾಗಿದೆ.

ಹೊಗೇನಕಲ್ ಜಲಪಾತ ಕರ್ನಾಟಕ ಮತ್ತು ತಮಿಳುನಾಡು ಗಡಿಯಲ್ಲಿದೆ. ಇದರ ಆಕರ್ಷಣೆ 400 ಎಕರೆ ಪ್ರದೇಶದ ದ್ವೀಪ, ಜಲಪಾತವನ್ನು ನೋಡಲು ವೀಕ್ಷಣಾ ಗೋಪುರ, ತೂಗುಸೇತುವೆ, ತಪ್ಪ ಸೌಲಭ್ಯಗಳಿವೆ. ಇಲ್ಲಿ ಕಾವೇರಿ ನದಿ ಧುಮ್ಮಿಕ್ಕಿ ಹರಿಯುತ್ತದೆ. ಬೆಂಗಳೂರಿನಿಂದ ಧರ್ಮಪುರಿ ಮಾರ್ಗವಾಗಿ ಸುಮಾರು 180 ಕಿ.ಮೀ. ದೂರವಿದೆ. ಇದು ಬೆಂಗಳೂರು ಗ್ರಾಮಾಂತರ ಜಿಲ್ಲೆಯ ವ್ಯಾಪ್ತಿಯಲ್ಲಿದೆ.

ಕಲ್ಲತಗಿರಿ ಫಾಲ್ಸ್: ಕೆಮ್ಮಣ್ಣುಗುಂಡಿ ಗಿರಿಧಾಮಕ್ಕೆ 10 ಕಿ.ಮೀ. ದೂರದಲ್ಲಿರುವ ಕಲ್ಲತ್ತಗಿರಿ ಫಾಲ್ಸ್ ಹೆಚ್ಚು ಜನಪ್ರಿಯ ಸ್ಥಳ. ಚಂದ್ರದ್ರೋಣ ಪರ್ವತ ಶ್ರೇಣಿಯಲ್ಲಿ ಹರಿದುಬರುವ ನೀರು ಸುಮಾರು 122 ಮೀಟರ್ ಎತ್ತರದಿಂದ ಇಲ್ಲಿಗೆ ಧುಮುಕುತ್ತದೆ. ವೀರಭದ್ರೇಶ್ವರ ದೇವಾಲಯದ ಅಂಗಳದಲ್ಲಿರುವ ಕಲ್ಲತ್ತಿ ಜಲಪಾತ ಧಾರ್ಮಿಕ ಸ್ಥಳವೂ ಆಗಿದೆ.

ಮಾಗೋಡು ಜಲಪಾತ: ಜಲಪಾತಗಳ ಆಗರ ಎಂದೇ ಹೆಸರಾದ ಉತ್ತರ ಕನ್ನಡ ಜಿಲ್ಲೆಯ ಯಲ್ಲಾಪುರ ತಾಲ್ಲೂಕಿನಲ್ಲಿ ಮಾಗೋಡು ಫಾಲ್ಸ್ ಅತೀ ರಮಣೀಯ ಆಗಿದೆ. ಘಟ್ಟದ ಮೇಲೆ ಬೇಡ್ತಿ ನದಿ ಮತ್ತು ಘಟ್ಟದ ಕೆಳಗೆ ಹಂಗಾವಳಿ ಎಂಬ ಹೆಸರು ಪಡೆದಿರುವ ಈ ನದಿಯು ಮಾಗೋಡು ಎಂಬಲ್ಲಿ ಸುಮಾರು 640 ಅಡಿ ಎತ್ತರದಿಂದ ಧುಮ್ಮಿಕ್ಕಿ ಮನಮೋಹಕ ಜಲಪಾತವನ್ನುಂಟು ಮಾಡಿದೆ.

ಸಾತೋಡಿ ಜಲಪಾತ: ಸಾತೋಡು ಜಲಪಾತವನ್ನು ಜನ ನಯಾಗರ ಜಲಪಾತ ಎಂದು ಕರೆಯುತ್ತಾರೆ. ಉತ್ತರ ಕನ್ನಡ ಜಿಲ್ಲೆಯ ಯಲ್ಲಾಪುರದಿಂದ 32 ಕಿ.ಮೀ. ದೂರ ಇದೆ. ಗಣೇಶಗುಡಿಯಿಂದ ಕಚ್ಚಾ ರಸ್ತೆಯಲ್ಲಿ ಹೋಗುತ್ತಿದ್ದರೆ ಜುಳುಜುಳು ಸಾಥೋಡು ಜಲಪಾತ ತೆರೆದುಕೊಳ್ಳುತ್ತದೆ. ಇದು ಸುಮಾರು 50 ಅಡಿಗಳ ಎತ್ತರದಿಂದ ಕೆಳಕ್ಕೆ ಬೀಳುವ ಜಲಪಾತ.

ಬೆಣ್ಣೆಹೊಳೆ ಜಲಪಾತ: ಜಲಪಾತಗಳ ಆಗರ ಉತ್ತರ ಕರ್ನಾಟಕ ಜಿಲ್ಲೆಯ ಶಿರಸಿಯಿಂದ ಸುಮಾರು 21 ಕಿ.ಮೀ. ದೂರದಲ್ಲಿದೆ. ಅಘನಾಶಿನಿ ನದಿಯು ಪಶ್ಚಿಮಘಟ್ಟದ ದೇವಿಮನೆ ಅರಣ್ಯಘಟ್ಟದಲ್ಲಿದೆ. ಸುಮಾರು 200 ಅಡಿ ಎತ್ತರದಿಂದ ಹಾಲಿನ ನೊರೆಯಂತೆ ಕೆಳಕ್ಕೆ ಬೀಳುವ ಈ ಜಲಪಾತ ನೋಡಲು ಸುಂದರವಾಗಿದೆ.
Information about "Volcano in Kannada Language", "ಜ್ವಾಲಾಮುಖಿ ಬಗ್ಗೆ ಮಾಹಿತಿ"

Information about "Volcano in Kannada Language", "ಜ್ವಾಲಾಮುಖಿ ಬಗ್ಗೆ ಮಾಹಿತಿ"

Information about Volcano in Kannada Language: In this article, we are providing ಜ್ವಾಲಾಮುಖಿ ಬಗ್ಗೆ ಮಾಹಿತಿ for students and teachers. Students can use this Information about Volcano in Kannada Language to complete their homework.

Information about "Volcano in Kannada Language", "ಜ್ವಾಲಾಮುಖಿ ಬಗ್ಗೆ ಮಾಹಿತಿ"

ಜ್ವಾಲಾಮುಖಿ ಎಂದರೇನು What is a volcano?

Information about Volcano in Kannada Language
ಭೂಮಿಯ ಅಂತರಾಳದಿಂದ ಕುದಿಯುತ್ತಿರುವ ಲಾವಾರಸವನ್ನು ಹೊರಕ್ಕೆ ಉಗುಳುವ ಪರ್ವಗಳಿಗೆ ಈ ಹೆಸರಿದೆ. ಇವನ್ನು ಜ್ವಾಲಾಮುಖಿಗಳೆಂದೂ ವಿನೋಗಳೆಂದೂ ಕರೆಯುತ್ತಾರೆ. ವಿನೂ ಎಂಬ ಹೆಸರು ಬಂದದ್ದು. ಸಿಸಿಲಿ ದ್ವೀಪದ ಉತ್ತರಕ್ಕಿರುವ ವಲ್ಕೆನೋ ಎಂಬ ದ್ವೀಪದಿಂದ. ಪ್ಲೇಟೊ, ಅರಿಸ್ಟಾಟಲ್, ಸ್ಟಾಬೊ ಮೊದಲಾದವರು ಇವುಗಳ ಚಟುವಟಿಕೆಗಳನ್ನು ವರ್ಣಿಸಿದ್ದಾರೆ. ಆದರೆ ಮೊಟ್ಟಮೊದಲ ವೈಜ್ಞಾನಿಕವರ್ಣನೆ ಸಿಕ್ಕುವುದು. ಕ್ರಿ.ಶ. 79ರಲ್ಲಿದ್ದ ಇಟಲಿಯ ಕಿರಿಯ ಫಿನಿಯ ಗ್ರಂಥದಲ್ಲಿ, ಆತ ಪ್ರಕೃತಿಯ ಉಪಾಸಕ, ಇಟಲಿ ದೇಶದ ಹರ್‌ಕುಲೇನಿಂಯ ಮತ್ತು ಪಾಂಪ ನಗರಗಳನ್ನು ನೆಲಸಮಮಾಡಿದ ವಸೂವಿಯಸ್ ಅಗ್ನಿಪರ್ವತ ಕಾದ ಪದಾರ್ಥಗಳನ್ನು ಕಾರುತ್ತಿರುವಾಗ ಬಹು ಸಮೀಪದ ದೃಶ್ಯವನ್ನು ನೋಡಲು ಹೋಗಿದ್ದರಿಂದ ಹೊರಹೊರಟ ವಿಷವಾಯುವಿನಿಂದ ಮೃತಪಟ್ಟು, ವಸೂವಿಯಸ್ ಪರ್ವತದ ಚಟುವಟಿಕೆ, ಹೊರಬಂದ ಪದಾರ್ಥಗಳ ವಿವರ ಇತ್ಯಾದಿಗಳನ್ನು ಈತ ಶಾಸ್ತ್ರೀಯವಾಗಿ ವರ್ಣಿಸಿದ್ದಾನೆ.

ಭೂಗೋಳದ ಮೂರರಲ್ಲೊಂದು ಪಾಲು ಭೂಭಾಗ, ಮಿಕ್ಕಪಾಲು ಜಲಭಾಗ. ಸಾಮಾನ್ಯವಾಗಿ ಭೂಭಾಗವೆಲ್ಲ ಮಣ್ಣುಕಲ್ಲುಗಳಿಂದ ಕೂಡಿ ಶಿಲಾಮಂಡಲವೆಂದು ಹೆಸರು ಪಡೆದಿದೆ. ಇದರ ಮೇಲುಭಾಗದಿಂದ ತಳಭಾಗಕ್ಕೆ ಹೋದಂತೆಲ್ಲ ಉಷ್ಣಾಂಶ ಸಾಧಾರಣವಾಗಿ 60 ಅಡಿಗೆ 1 ರಂತ ಹಚ್ಚುತ್ತ ಹೋಗಿ, ತಳಭಾಗದಲ್ಲಿ ಹೆಚ್ಚು ಉಷ್ಣತೆ ಕಂಡುಬರುತ್ತದೆ. ಹೀಗೆ ಹಚ್ಚುವ ಉಷ್ಣತೆಗೆ ಎರಡು ಕಾರಣಗಳುಂಟು. ಭೂಮಿ ಅನಿಲ ರೂಪದಿಂದ ದ್ರವರೂಪಕ್ಕೆ ಕುಗ್ಗಿ, ಅನಂತರ ಘನೀಭೂತವಾಗಿ, ಗೋಲವಾಗಿರುವುದರಿಂದ ವಿಶೇಷವಾದ ಉಷ್ಣ ಅದರ ಅಂತರಾಳದಲ್ಲಿ ಅಡಗಿದೆ. ಇದೇ ಮೂಲೋಷ್ಠ. ಜೊತಗೆ ಅಂತರಾಳದಲ್ಲಿ ಹುದುಗಿರುವ ವಿಶೇಷವಾದ ಉಷ್ಣತೆಗೆ ಪೂರಕವಾಗುತ್ತದೆ. ಘನೀಭೂತವಾದ ಶಿಲಾಸಮೂಹ. ಸಂಗ್ರಹವಾದ ಉಷ್ಣತೆಯಿಂದ ದ್ರವರೂಪಕ್ಕೆ ಪರಿವರ್ತನೆಯಾಗಿ, ಒತ್ತಡ ಮಿತಿಮೀರಿದಾಗ ಭೂಮಿಯನ್ನು ಭೇದಿಸಿಕೊಂಡು ಹೊರಗೆ ಬರುತ್ತದೆ. ಇದೇ ಶಿಲಾರಸ (ಲಾವಾ), ಜೊತೆಗೆ ಕಲ್ಲು, ಮಣ್ಣು, ಅನಿಲಗಳು ಸಹ ಹೊರಬರುತ್ತವೆ. ಹೀಗೆ ಭೂಮಿಯ ತಳಭಾಗದಿಂದ ದೊಡ್ಡ - ಬಿರುಕುಗಳ ಮೂಲಕ, ಕಾದು ಕರಗಿರುವ ಪದಾರ್ಥಗಳನ್ನು ಉಗುಳುವ ಪರ್ವತಗಳೇ ಅಗ್ನಿಪರ್ವತಗಳು.

ಅಗ್ನಿಪರ್ವತ ಕೇವಲ ಕೆಲವು ಅಡಿಗಳ ಅಡ್ಡಳತೆಯುಳ್ಳ ಒಂದು ಸಣ್ಣ ದಿಬ್ಬವಾಗಿರಬಹುದು ಅಥವಾ ಸಮುದ್ರಮಟ್ಟಕ್ಕೆ 20,000 ಮೇಲ್ಮಟ್ಟದಲ್ಲಿರುವ ದೊಡ್ಡ ಪರ್ವತವಾಗಿರಬಹುದು (ಆಫ್ರಿಕದ ಕಿಲಿಮಂಜಾರೊ), ಸಾಮಾನ್ಯವಾಗಿ ಇದು ಬುಗುರಿಯಾಕೃತಿಯಾಗಿರುತ್ತದೆ. ಶಿಖರದಲ್ಲಿ ಕಂಡುಬರುವ ಹಳ್ಳ ಪ್ರದೇಶವೇ ಅಗ್ನಿಪರ್ವತದ ಬಾಯಿ ಅಥವಾ ಕುಂಡ (ಕ್ರೇಟರ್), ಭೂಗರ್ಭದಿಂದ ಪದಾರ್ಥಗಳೆಲ್ಲವೂ ಹೊರಬರುವುದು ಮುಖ್ಯವಾಗಿ ಈ ಕುಂಡದ ಮೂಲಕವೇ. ಒತ್ತಡ ಬಲು ಹೆಚ್ಚಾದಾಗ, ದ್ರವಪದಾರ್ಥಗಳು ಪ್ರಧಾನದ್ವಾರದಿಂದ ಹೊರಬರುತ್ತವೆ. ಇದಲ್ಲದೆ ಶಿಲಾರಸ ಅಂತಸ್ಸರವಾಗಿ ನೇರವಾಗಿಯೋ (ಡೈಕ್), ಸಮತಲವಾಗಿಯೋ (ಸಿಲ್) ಮರದ ಕೊಂಬೆಗಳೋಪಾದಿಯಲ್ಲಿ ಅನೇಕ ಬೀಳುಬಿರುಕುಗಳಲ್ಲಿ ಹರಡಿಕೊಳ್ಳುತ್ತದೆ.

ಜ್ವಾಲಾಮುಖಿ ವಿಧಗಳು (Types of Volcano)

ಚಟುವಟಿಕೆಯ ದೃಷ್ಟಿಯಿಂದ ಅಗ್ನಿಪರ್ವತಗಳನ್ನು ಮೂರು ಬಗೆಯಾಗಿ ವಿಂಗಡಿಸಬಹುದು. ಶಿಲಾರಸಾದಿಗಳನ್ನು ಉಗುಳಿ, ಹಾವಳಿ ಮಾಡುತ್ತ ಸದಾ ಚಟುವಟಿಕೆಯಿಂದಿರುವುವು ಜಾಗೃತ ಜ್ವಾಲಾಮುಖಿಗಳು, ಚಟುವಟಿಕೆಗಳನ್ನು ತಾತ್ಕಾಲಿಕವಾಗಿ ನಿಲ್ಲಿಸಿರುವುವು ಸುಪ್ತಜ್ವಾಲಾಮುಖಿಗಳು (ಡೋರ್‌ಮೆಂಟ್). ಚಟುವಟಿಕೆಗಳೆಲ್ಲವನ್ನೂ ಮುಗಿಸಿಕೊಂಡು, ಪೂರ್ಣವಾಗಿ ನಿಶ್ಯಬ್ದವಾಗಿರುವುವು ಲುಪ್ತ ಜ್ವಾಲಾಮುಖಿಗಳು, (ಎಕ್ಸ್ಟಿಂಗ್ಸ್). ಸಾಮಾನ್ಯವಾಗಿ ಅಗ್ನಿಪರ್ವತಗಳು ಕೇವಲ ಶಿಲಾರಸಾದಿಗಳನ್ನೇ ಹೊರಸೂಸದ, ಬಿಸಿನೀರನ್ನೋ ಅಥರಾ ಕಾದ ನುಣುಪಾದ ಬರಿಯ ಮಣ್ಣನ್ನೂ ಹೊರಚಿಮ್ಮಬಹುದು. ಅಂಥವನ್ನು ಬಿಸಿನೀರಿನ ಊಟೆ (ರೈಸರ್)ಗಳಂದೂ ಮೃತ್ತಿಕಾಗ್ನಿಪರ್ವತಗಳೆಂದೂ ಕರೆಯುತ್ತಾರೆ. ಪರ್ವತಗಳು ಆವಿ, ಇಂಗಾಲಾಮ್ಲ, ಜಲಜನಕ ಮುಂತಾದ ಬರಿಯ ಅನಿಲಗಳನ್ನು ಹೊರಸೂಸುವುದುಂಟು. ಅಂಥವು ಅನಿಲರೂಪದ ಅಗ್ನಿಪರ್ವತಗಳು, ಬಿಸಿನೀರಿನ ಊಟೆಗಳಿಗೂ ಅನಿಲರೂಪದ ಅಗ್ನಿಪರ್ವತಗಳಿಗೂ ನಿಕಟವೂ ಸಹಜವೂ ಆದ ಸಂಬಂಧವಿರುತ್ತದೆ. ಬೇಸಗೆ ಕಾಲದಲ್ಲಿ ಜಾಲಾಂಶ ಕಡಿಮೆಯಾಗುವುದರಿಂದ, ಬಿಸಿನೀರಿನ ಊಟೆಗಳು ಅನಿಲರೂಪದ ಅಗ್ನಿಪರ್ವತಗಳಾಗಿಯೂ ಚಳಿಗಾಲ ಅಥವಾ ಮಳೆಗಾಲಗಳಲ್ಲಿ ಜಲಾಂಶ ಹೆಚ್ಚಾಗುವುದರಿಂದ ಅನಿಲರೂಪದ ಅಗ್ನಿಪರ್ವತಗಳು ಬಿಸಿನೀರಿನ ಊಟೆಗಳಾಗಿಯೂ ಪರಿವರ್ತನೆ ಹೊಂದುತ್ತವೆ.

ಅಗ್ನಿಪರ್ವತಗಳಿಂದ ಹೊರಬೀಳುವ ವಸ್ತುಗಳನ್ನು ಅನಿಲಾಂಶ, ಜಲಾಂಶ, ಘನಾಂಶಗಳಂದು ಮೂರು ಭಾಗಗಳಾಗಿ ಪ್ರತ್ಯೇಕಿಸಬಹುದು. ಇವು ಸಾಮಾನ್ಯವಾಗಿ ಒಂದಾದ ಮೇಲೊಂದು ಕ್ರಮವಾಗಿ ಹೊರಹೊಮ್ಮುತ್ತವೆ. ಅನಿಲಗಳಲ್ಲಿ ನೀರಿನ ಆವಿಯೇ ಹೆಚ್ಚು. ಈ ಆವಿ ಕೆಲವು ಕಡೆ ಮಳೆಯ ರೂಪದಲ್ಲಿ ಬೀಳುತ್ತದೆ. ಅನಿಲಗಳ ಜೊತೆಗೆ ಕಾರ್ಬನ್ ಮಾನಾಕೈಡ್, ಕ್ಲೋರಿನ್, ಸಾರಜನಕ, ಅಮೋನಿಯ ಮತ್ತು ಗಂಧಕದ ವಿವಿಧ ಸಂಯುಕ್ತ ಅನಿಲಗಳು ಇರುತ್ತವೆ.

ಅಗ್ನಿಪರ್ವತದಿಂದ ಹೊರಬರುವ ಘನಾಂಶವನ್ನು ಅಗ್ನಿಶಿಲಾಛಿದ್ರಗಳೆಂದು ಕರೆಯುತ್ತಾರೆ. ಇವುಗಳ ಗಾತ್ರ ಸಣ್ಣ ಕಣಗಳಿಂದ ಹಿಡಿದು ದೊಡ್ಡ ಬಂಡೆಗಳವರೆಗೂ ಇರುತ್ತದೆ: ಧೂಳು ಅಥವಾ ಬೂದಿ, ಶಿಲಾರಸದಗಟ್ಟಿ ಶಿಲಾರಸದ ಮುದ್ದೆ ಮತ್ತು ಶಿಲಾರಸದ ಗುಂಡು ಎಂದು ಇವನ್ನು ವಿಭಾಗಿಸಬಹುದು.

ಅಗ್ನಿಪರ್ವತಗಳು ನಿದ್ರಾವಸ್ಥೆಗೆ ಮಾರ್ಪಡುವ ಮುನ್ನ ಕೆಲವು ಸೂಚನೆಗಳು ತೋರಿಬರುತ್ತವೆ. ಸಾಮಾನ್ಯವಾಗಿ ಸುತ್ತಮುತ್ತಲಿನ ಪ್ರದೇಶದಲ್ಲಿ ಶಾಖ ಹೆಚ್ಚಾಗುತ್ತದೆ. ಹತ್ತಿರದಲ್ಲಿ ಹಿಮಗಡ್ಡೆಗಳಿದ್ದರೆ ಕರಗಿ ನೀರಾಗುತ್ತವೆ. ಬಾವಿಗಳಲ್ಲಿ ಕುಂಡದಲ್ಲಿನ ನೀರು ಇಂಗಿಹೋಗುತ್ತದೆ. ಇವುಗಳೆಲ್ಲದರ ಜೊತೆಗೆ ಕೆಲವು ಕಡೆ ಭೂಮಿ ಹಠಾತ್ತನೆ ನಡುಗಲು ಪ್ರಾರಂಭವಾಗುತ್ತದೆ.

Tuesday, 31 March 2020

Hindi Essay on “India The Country of Festivals”, “भारत त्योहारों का देश पर निबंध”, for Class 6, 7, 8, 9, and 10 and Board Examinations.

Hindi Essay on “India The Country of Festivals”, “भारत त्योहारों का देश पर निबंध”, for Class 6, 7, 8, 9, and 10 and Board Examinations.

Hindi Essay on “India The Country of Festivals”, “भारत त्योहारों का देश पर निबंध”, for Class 6, 7, 8, 9, and 10 and Board Examinations. जानिये इस निबंध में भारत को त्योहारों का देश क्यों कहा जाता हैं। 

Hindi Essay on “India The Country of Festivals”, “भारत त्योहारों का देश पर निबंध”

सारे संसार में भारत 'त्योहारों का देश' नाम से प्रसिद्ध है। इस बात में कोई सन्देह नहीं, कि गहराई से देखने पर हम पाते हैं, वर्ष में जितने दिन होते हैं, भारत में लगभग उतने ही त्योहार हैं। अलग-अलग जातियों, धर्मों, सभ्यता-संस्कृतियों का देश होने के कारण भारत का हर दिन किसी-न-किसी त्योहार का दिन ही हुआ करता है। फिर यहाँ केवल धर्मों, जातियों आदि के द्वारा मनाये जाने वाले त्योहार ही नहीं हैं, स्त्री-पुरुषों, बच्चों के लिए मनाये जाने वाले अलग-अलग त्योहार भी हैं। स्त्रियों के त्योहारों में पुरुष शामिल नहीं होते, पुरुषों में स्त्रियाँ ! हाँ, बाल-त्योहारों में स्त्री-पुरुष सभी का इस कारण सहयोग आवश्यक रहता है कि वे स्वयं उनकी व्यवस्था नहीं कर सकते। यदि अलग-अलग धर्मों और उनके अन्तर्गत आने वाले कई तरह के समुदायों, जातियों-उपजातियों, वर्णो-उपवर्गों आदि की दृष्टि से देखें, तब भी कहा जा सकता है कि यहाँ सभी के अपने साँझे और अलग-अलग दोनों प्रकार के त्योहार है। इस प्रकार सचमुच भारत विविध और भिन्न-भिन्न रंगों वाले त्योहारों का देश है। ध्यान में रखने वाली बात यह भी है कि भारत के प्रायः सभी त्योहार आनन्द और उल्लास के साथ मनाये जाते हैं।
Read also : भारतीय त्योहारों का महत्व पर निबंध

भारत में विशेष ऋतुओं से सम्बन्ध रखने वाले त्योहारों की भी कमी नहीं है ! वसन्त पंचमी, होली, श्रावण-तीज, शरद पूर्णिमा, लोहड़ी, पोंगल, बैसाखी आदि त्योहार किसी-न-किसी रूप में सारे देश में मनाये जाते हैं। सभी जानते हैं कि इनका सम्बन्ध विशेष ऋतुओं से ही है। वसन्त-पंचमी और होली वासन्ती रंग और मस्ती के त्योहार हैं। श्रावण-तीज सावनियों मस्ती के प्रतीक झूलों का त्योहार है? शरद पूर्णिमा वर्षा ऋतु के बाद वायु-मण्डल और वातावरण की निर्मलता का सन्देश देने वाला त्योहार है। लोहड़ी और पोंगल शीत-ऋतु की भरपूरता में मनाये जाने वाले त्योहार हैं। इन पर जो रेवड़ी, मूंगफली, तिल-गुड़, घी-खिचड़ आदि खाने की परम्परा है, वह वास्तव में सर्दी से बचाव और स्वास्थ्य-सुधार का उपाय ही है; यद्यपि कुछ धार्मिक-आध्यात्मिक बातें, कथाएँ और परम्पराएँ भी इनके साथ जुड़ गयी हैं। बैसाखी गेहूँ की नयी फसल आने और ऋतु-परिवर्तन की सूचना देने वाला त्योहार है कि जो पंजाब-हरियाणा जैसे कृषि-प्रधान प्रान्तों में विशेष सज-धज के साथ, नृत्य-गान की मस्ती के साथ मनाया जाता है। इनके अतिरिक्त भी लोग ऋतओं से सम्बन्धित स्थानीय स्तर के त्योहार मनाते ही रहते हैं। सभी में मेल-मिलाप. आनन्द-मौज की प्रधानता रहा करती है।
इसी प्रकार भारत में पारिवारिक-सामाजिक सम्बन्धों का महत्त्व बताने वाले कुछ त्योहारभी बड़े चाव, बड़ी धूमधाम से मनाये जाते हैं। रक्षा-बंधन और भैया दूज यदि भाई-बहन के स्नेहपूर्ण पवित्र रिश्ते को प्रकट करने वाले हैं, तो करवा चौथ आदि पति-पत्नी के पावन संबंधों को महत्त्व देने वाला त्योहार है! हमारे देश के प्रामीण-समाज और लोक-जीवन में चाचा, मामा आदि अन्य रिश्तों के लिए शुभ भावों को प्रकट करने वाले गीत तो गाये ही जाते हैं, कई छोटे-मोटे त्योहार भी मनाये जाते हैं। बाकी दशहरा, दिवाली आदि त्योहार सारा घर-परिवार मिल कर मनाता ही है। ध्यान रहे, जीवन-समाज के कल्याण और मंगल कामना के लिए इस देश के प्रायः सभी भागों में गंगा (नाग)-पूजा, पीपल-पूजा, तुलसी-पूजा आदि का आयोजन भी त्योहारों की तरह ही किया जाता है। इस प्रकार कहा जा सकता है कि भारतवर्ष वास्तव में त्योहारों का देश है। यहाँ का मूल निवासी घर-परिवार, धर्म-समाज,संस्कति आदि से सम्बन्ध रखने वाले छोटे-बड़े जितने भी त्योहार मनाता है, सबके मूल में आनन्द-उल्लास का भाव तो रहता ही है, सभी की सुख-समृद्धि और कल्याण की भावना भी रहती है।
इस देश में कुछ ऐसे त्योहार भी मनाये जाते हैं जिन्हें राष्ट्रीय महत्त्व प्राप्त है। उन्हेंसभी जातियों, वर्गों, धर्मों, सम्प्रदायों और संस्कृतियों के लोग एक साथ मिलजल कर मनायाकरते हैं। इस प्रकार के त्योहारों की मुख्य संख्या केवल चार-पाँच ही है। दशहरा, दिवाली,स्वतंत्रता दिवस (15 अगस्त) और गणतंत्र-दिवस (26 जनवरी) इसी प्रकार के त्योहार मानेजाते हैं। ईद को भी इस प्रकार का पाँचवाँ त्योहार कहा जा सकता है, क्योंकि यह सारेभारत में मनाया जाता है। मुसलमानों के अतिरिक्त सदभावना के तौर पर अन्य धर्मो-जातियोंके लोग भी कम-अधिक संख्या में इसमें सम्मिलित रहा करते हैं। दशहरा या विजयादशमीका सम्बन्ध भारतीय सभ्यता-संस्कृति का सन्देश उत्तर से दक्षिण, समुद्र पार करके श्रीलंकातक पहुंचने वाले महान् भारतीय नायक मर्यादा पुरुषोत्तम राम की विजय-यात्रा के साथ मानाजाता है। सो इस दिन कृतज्ञ राष्ट्र अनीति पर नीति, राक्षसी सत्ता पर दैवी सत्ता, असत्य परसत्य की जीत पर आनन्द-उल्लास प्रकट करता है। दीपावली दीपों का, यानि अँधेरे परउजाले की विजय का त्योहार है। इसके साथ व्यक्ति, समाज और सारे राष्ट्र की सुख-समद्धिकी भावना से लक्ष्मीपूजन का विधान भी जुड़ा हुआ है। स्वतंत्रता दिवस हम सभी देशवासी15 अगस्त के दिन उस पवित्र और महान् दिन की याद में मनाते हैं कि जिस दिन हमनेअनेक बर्बादियों और संघर्षों के बाद अपनी खोयी हुई स्वतंत्रता प्राप्त की थी। स्वतंत्र भारतका अपना नया संविधान बना। उसके अनुसार भारत को गणतंत्र घोषित किया गया । यहगणतंत्री-संविधान क्योंकि 26 जनवरी सन् 1950 के दिन लागू हुआ, इस कारण हर वर्ष 26जनवरी के दिन 'गणतंत्र दिवस' का त्योहार बड़ उत्सव और उल्लास के साथ मनाया जाताहै। इन राष्ट्रीय त्योहारों के अतिरिक्त राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी का जन्म-दिन, बाल-विवाररूप में पं. जवाहर लाल नेहरू का जन्म-दिन, शिक्षक-दिवस के रूप में स्व. राष्ट्रपतिडॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन का जन्म-दिन भी लगभग सारे देश में राष्ट्रीय त्योहार के रुप मेंही मनाया जाता है।
ऊपर जिन भारतीय त्योहारों का वर्णन किया गया है, उन सबको मुख्य रूप से तीन भागों में बाँट सकते हैं 
1. राष्ट्रीय त्योहार 
2. पारिवारिक-सामाजिक त्योहार और
3. धार्मिक-सांस्कृतिक त्योहार। 
इनके अतिरिक्त ऊपर त्योहारों के एक चौथे प्रकार का भी वर्णन किया गया है-ऋतु या मौसम-सम्बन्धी त्योहार। क्योंकि इस तरह के प्राय: सभी त्योहार धर्म एवं जाति-समाज का अंग बन चुके हैं, इस कारण हम इन्हें अलग श्रेणी रखना उचित नहीं मानते। इनके अतिरिक्त भी देश के अलग-अलग सम्प्रदायों या वर्गों द्वारा अपने सम्प्रदायों-वर्गों के प्रवर्तक धर्म गुरुओं के जन्म-दिनों के रूप में सदभावनापूर्वक मनाए जाते हैं। उन सभी का भी निश्चय ही अपना-अपना विशेष महत्त्व है। अन्य धर्मों,जातियों और सम्प्रदायों के लोग भी इस प्रकार के त्योहारों को आदर भाव से देखते, मनाने में पूर्ण सहयोग किया करते हैं!
भारत त्योहारों का देश है, ऊपर किये गये वर्णन से यह स्पष्ट हो जाता है। जहाँ तक भारत में मनाये जाने वाले इन तरह-तरह के त्योहारों के उद्देश्य और सन्देश का प्रश्न है,वह बहुत ही अच्छा, उन्नत और उत्साहवर्द्धक है। सारे त्योहार जातीय और मानवीय आनन्द-उल्लास के भावों को प्रकट करने के लिए मनाये जाते हैं। उनका उद्देश्य परस्पर मेल-मिलाप और सद्भावनाओं का विकास भी है। उनका सन्देश है कि हमें अपने जातीय और राष्ट्रीय भाव को हमेशा जगाये रखना है। इसी प्रकार का आनन्द भाव और उत्साह हमेशा बनाये रखना है। जातियों और राष्ट्रों की महानता, जिन्दादिली और स्थिरता उसके उत्सवों-त्योहारों के समय प्रकट होने वाले आनन्द और उत्साहपूर्ण व्यवहारों से ही प्रकट हुआ करती है। हमें उन्हें हमेशा जगाये और बनाये रखना है।
Hindi Essay on "Scout Guide", "स्काउट गाइड पर निबंध" for Class 5, 6, 7, 8, 9 & 10

Hindi Essay on "Scout Guide", "स्काउट गाइड पर निबंध" for Class 5, 6, 7, 8, 9 & 10

Hindi Essay on "Scout Guide", "स्काउट गाइड पर निबंध" for Class 5, 6, 7, 8, 9 & 10

प्रस्तावना : आज समाज को ऐसे युवकों की आवश्यकता है, जो समाज की नि:स्वार्थ सेवा कर सकें। किराए पर लाये हुए सेवक, सेवक नहीं कहे जाते, उन्हें लोग नौकर कहते हैं। आज देश को त्याग और बलिदान करने वाले नवयुवकों की आवश्यकता है जो अपने देश की, समाज की, हर समय और हर स्थिति में सेवा करने के लिये उद्यत रहें। भाड़े के सेवकों से कभी देश का भला नहीं हुआ करता। उसके लिये सच्चे समाज-सेवी चाहिये, जो जनता के सुख-दु:ख को पहचान सकें और उसे अपना समझ सके।
  1. प्रस्तावना
    1. स्काउट का इतिहास
    2. भारत में स्काउट गाइड की स्थापना
    3. स्काउट गाइड का आधुनिक स्वरुप
    4. स्काउट गाइड की ड्रेस
    5. स्काउट गाइड की शिक्षा
    6. स्काउट गाइड के कर्त्तव्य
    7. स्काउट गाइड से लाभ
  2. उपसंहार
सेवा, सहानुभूति एवं सहृदयता की कोमल और पवित्र भावनाओं का उदयकाल मनुष्य की बाल्यावस्था ही है। अच्छी या बुरी आदतें जैसी भी इस काल में मनुष्य में आ जाती हैं। वे जीवन भर उसके साथ रहती हैं। बुढ्डे तोते को आप नहीं पढ़ा सकते। तोते का बच्चा सरलता से राधा कृष्ण कहने लगता है। इसी दृष्टिकोण को लेकर समाज सेवा की पवित्र भावनाओं को। बाल्यकाल में ही जन्म देने के लिये बालचर संस्था का अपना विशेष महत्व है। ताकि बाल्यकाल में ही जन्म देने के लिये बालचर संस्था का अपना विशेष महत्व है। इसका प्रशिक्षण केन्द्र आज प्रत्येक विद्यालय है। नदी में डूबते हुए कितने व्यक्तियों को आज तक बालचरों ने बचाया, अग्नि की भयानक ज्वालाओं में भस्म होते हुए कितने घरों की रक्षा की, कराहते हुए टूटी। टॉग वाले कितने व्यक्तियों को अस्पताल पहुंचाया, कितने लोगों की उन्होंने प्राथमिक चिकित्सा। की, आज यह तथ्य सर्वविदित है। आज कौन है जो बालचर संस्था के महत्व को नहीं पहचानता, जबकि देश के ऊपर आपत्तियों के काले बादल छाये हुए हैं। आन्तरिक और बाह्य युद्ध की चिंगारियाँ चारों ओर दहक रही हैं। ऐसी स्थिति में बालचर संस्था के सदस्य ही देश के अवैतनिक सच्चे सिपाही सिद्ध होंगे।
Hindi Essay on Scout Guide, स्काउट गाइड पर निबंध for Class 5, 6, 7, 8, 9 & 10
वर्तमान स्काउटिंग नामक संस्था का अधिकांश प्रारूप भारतीय परम्परागत शिक्षा प्रणाली में निहित था जब हमारे ऋषि, मुनि तथा आचार्य प्रकृति की गोद में आश्रमों में बाल ब्रह्मचारियों को हर प्रकार की शिक्षा दिया करते थे। पठन-पाठन के अतिरिक्त कुटिया अथवा तम्बू का निर्माण, पाक विद्या, प्राथमिक चिकित्सा, सेवा-सुश्रुषा, सखा भाव, मार्ग निर्माण, पशु-पक्षियों का साहचर्य, होता था। आखेट, खेल-कूद, व्यायाम तथा सैन्य शिक्षा जैसे जटिल विषयों का समावेश शिक्षा के अन्तर्गत होता था।

स्काउट का इतिहास : बालचर संस्था का जन्म एक अंग्रेज महाशय के हाथों से हुआ था जिनका नाम था 'सर रॉबर्ट बैदन पाँवल'। सन् 1900 में जिस समय अफ्रीका में बोअर-युद्ध हो रहा था, तब उन्होंने इस प्रकार की बालचर सेना का निर्माण किया था। इस सेना से अंग्रेजों को युद्ध में बड़ी सहायता मिली। उन्होंने बालचरों को स्वयं सैनिक प्रशिक्षण दिया था। अपने इस सफल अनुभव के आधार पर उन्होंने यह निश्चय किया कि यह संस्था युद्ध के अतिरिक्त शान्तिकाल में भी उपयोगी सिद्ध हो सकती है। इसी दृढ़ निश्चय के आधार पर उन्होंने संस्था का देश और विदेशों में प्रचार किया।

भारत में स्काउट गाइड की स्थापना : भारतवर्ष में 1909 में स्काउटिंग और 1911 में गर्ल्स गाइडिंग प्रारम्भ हुई। बंगलौर में प्रथम स्काउट टुप और प्रथम गाइड कम्पनी का श्रीगणेश हुआ। अन्य शहरों में भी टूप खुले किन्तु उनका सीधा सम्पर्क इंग्लैण्ड से था और ये संस्थायें विदेशी युरोपीय बालकों के लिए ही थी। श्रीमती ऐनी बेसेण्ट ने भारतीय बच्चों को भी स्काउटिंग में प्रवेश देने के लिए दिल्ली में लेजिस्लेटिव एसेम्बली में बड़ा प्रभावकारी भाषण दिया। महामना मदनमोहन मालवीय तथा डॉ० हृदयनाथ कुंजरू ने भी प्रयास किए किन्तु अंग्रेजी सरकार पर उसका कोई प्रभाव नहीं पड़ा। अतः स्काउटिंग से मिलती-जुलती संस्था प्रारम्भ की गई जिनमें श्रीमती ऐनी बेसेण्ट द्वारा प्रतिपादित “Sons and Daughters of India” नामक संस्था प्रमुख थी। जिसका लक्ष्य था I Serve” 1914 में पंडित श्रीराम वाजपेयी ने लोक सेवा बालक दल की स्थापना शाहजहाँपुर में की जिसके अध्यक्ष पं० मदनमोहन मालवीय एवं सचिव डॉ० हृदय नाथ कुंजरू थे। चेन्नई में श्री जे० आई० आइनक द्वारा ब्वाय शिकारी मूवमेंट चलाया गया तथा श्री वी० आर० चेयरमैन ने स्कूल ब्वाय लीग ऑफ ऑनर नामक संस्था का निर्माण किया। सेंट्रल हिन्दू स्कूल के प्रधानाध्यापक डॉ० जी० एस० आशुतोष ने विद्यार्थियों की कैडेट कोर नाम की संस्था स्थापित की।

बहुत प्रयास करने के उपरान्त भी जब भारतीय बालकों को स्काउटिंग में प्रवेश नहीं मिला तो सुश्री ऐनी बेसेण्ट ने भारतीय बालकों के लिए स्वतन्त्र स्काउट संस्था स्थापित की, जिसका नाम रखा गया “इण्डियन ब्वायज स्काउट एसोसियेशन”। एक अक्टूबर, 1916 को चेन्नई में अडयार नामक स्थान पर इसकी रैली हुई। इसका अपना झण्डा बना और प्रतिज्ञा में देश शब्द सम्मिलित किया गया। टुपों का नामकरण भारतीय महापुरुषों के नाम पर आधारित था। सन् 1918 में पंडित श्री राम वाजपेयी अपने 100 स्वयंसेवकों के साथ प्रयाग के कण मेले में पधारे और प्रयाग सेवा समिति के साथ मिलकर मेले में कार्य किया। महामना मदन मोहन मालवीय जी के आग्रह पर वाजपेयी जी इलाहाबाद आ गए। 1 दिसम्बर, 1918 को “अखिल भारतीय सेवा समिति” ब्वाय स्काउट एसोसियेशन की स्थापना हुई। जिसके संरक्षक तत्कालीन गवर्नर हरकोर्ट बटलर थे।

मालवीय जी की सेवा समिति ब्वाय स्काउट संस्था तथा श्रीमती ऐनी बेसेण्ट की "इण्डियन ब्वॉय स्काउट संस्था के अतिरिक्त अनेक स्थानों पर मिलती-जुलती स्वतन्त्र संस्थायें खुली जैसे सन् 1915 में द सिन्ध ब्वॉय स्काउट एसोसियेशन, सन् 1916 में 'द बांगली ब्वॉय स्काउट लीग द ब्वाय ऑफ बंगाल, “द पारसी स्काउटिंग सोसाइटी” द ब्वॉय स्काउट ऑफ आगरा एण्ड अवध'। इसके अतिरिक्त अनेक रियासतों ने स्काउटिंग संस्थायें खोलीं, अतः स्वतन्त्रता प्राप्ति के उपरान्त एक राष्ट्रीय संस्था की स्थापना 7 नवम्बर 1950 को भारतीय राष्ट्रीय स्काउट की गई जिसका नाम “भारत स्काउट और गाइड” रखा गया। 15 अगस्त, 1951 को “गर्ल्स गाइड एसोसियेशन इन इण्डिया का समावेश इसमें किया गया। अब समस्त भारत में एकमात्र संस्था भारत स्काउट और गाइड है। प्रत्येक राज्य की स्काउट संस्थायें इसी राष्ट्रीय संस्था से संबद्ध हैं।

स्काउट गाइड/बालचर संस्था का आधुनिक स्वरुप : बालचर संस्था का आधुनिक स्वरूप एक सुसंगठित सूक्ष्म सैनिक प्रयास है। आठ वर्ष की अवस्था वाला या इससे अधिक अवस्था का प्रत्येक बालक इस संस्था का सदस्य बनकर अपने को गौरवशाली समझता है। स्काउट कहलाने में उसे एक विशेष स्वाभिमान का अनुभव होता है। बालचरों को विधिवत् उनके कर्त्वयों का ज्ञान कराया जाता है। उन्हें देश और समाज की सेवा करने की प्रतिज्ञा लेनी होती है। एक पैट्रोल में आठ बालचर होते हैं। उनका नायक पैट्रोल लीडर कहा जाता है, जो उन सब में तेज होता है और उनका पथ-प्रदर्शन करता है। चार पेट्रोल से अधिक पैट्रोल का एक टुप बनाया जाता है, जिसका नायक टुप लीडर कहा जाता है। प्रत्येक टुप का अधिकारी एक स्काउट मास्टर होता है, जो आगे टुप के प्रत्येक स्काउट की शिक्षा, वेश-भूषा, कर्तव्य-पालन, अनुशासन आदि की देखभाल रखता है तथा उन्हें प्रशिक्षण भी देता है। जिले के समस्त ट्रप डिस्ट्रिक्ट स्काउट कमिश्नर के अधीन होते हैं। डिस्ट्रिक्ट स्काउट कमिश्नर किसी ऐसे प्रतिभाशाली योग्य पुरुष को बनाया जाता है, जो जिले की समस्त टुपों का संचालन कर सके। प्रान्त की समस्त बालचर संस्थायें प्रान्तीय स्काउट कमिश्नर के अधीन होती हैं, जो समय-समय पर उनके द्वारा दिए गए निर्देशों का पालन करती हैं।

स्काउट गाइड की ड्रेस : सेना के समान स्काउटों की वेशभूषा भी एक समान होती है, उसमें अमीरी और गरीबी का कोई प्रश्न नहीं होता। सब समान वस्त्र पहिनते हैं, साथ-साथ भोजन करते हैं तथा पारस्परिक सहयोग से समस्याओं को सुलझाते हैं। इस प्रकार विद्यार्थी में समानता और सहयोग की भावना का प्रारम्भ से ही उदय हो जाता है। प्रत्येक बालचर खाकी मौजे, खाकी नेकर, खाकी कमीज और खाकी टोपी या खाकी साफा पहनता है। खाकी टोपी के विषय में तो अब कुछ नियम शिथिल-सा हो गया है, परन्तु शेष वेश-भूषा अब भी ज्यों-की-त्यों है। सबके समान जूते होते हैं, सभी स्कार्फ धारण करते हैं। प्रत्येक स्काउट की वेशभूषा में सीटी, झण्डी और लाठी की भी अनिवार्यता है। ये तीनों वस्तुये अपना-अपना विशेष महत्व रखती है और समय पड़ने पर बालचर की सहायक सिद्ध होती है।

स्काउट गाइड की शिक्षा : मानव जीवन के प्रत्येक क्षेत्र में सहायक सिद्ध होने के लिये बालचरों को अनेक प्रकार की शिक्षा दी जाती है। उन शिक्षाओं से वे आपत्तिग्रस्त मनुष्यों की सेवा करते हैं। शिक्षायें ये हैं—भोजन बनाना, तैरना, नदी पर पुल बनाना, घायल को पट्टी बाँधना, प्रारम्भिक चिकित्सा करना, घायल को अस्पताल पहुँचाना, गाँठ लगाना, मार्ग ढूंढना, सिगनल देना, सामयिक घर बनाना, सामयिक सड़क बनाना, आदि। बालचर को इन विषयों की कई परीक्षायें उत्तीर्ण करनी पड़ती हैं। वह एक डायरी रखता है, जिसमें वह अपने दैनिक कार्यक्रम का उल्लेख करता है, स्वास्थ्य रक्षा के लिये उसे सभी तरह के खेल खिलाये जाते हैं। ऊपर लिखी हुई सभी शिक्षायें समाज सेवा से भी सम्बन्धित हैं और सैनिक शिक्षा से भी। सैनिक के लिये ये सभी बातें जानना अत्यन्त आवश्यक होता है।

स्काउट गाइड के कर्त्तव्य : बालचर का प्रथम कर्तव्य है कि वह दीन-दुखियों की सेवा करे और उनसे सहानुभूतिपूर्ण व्यवहार करें। उसका प्रत्येक कार्य समाज हित की दृष्टि से होना चाहिये। दूसरों की सहायता के लिये उसे सदैव तत्पर रहना चाहिये, चाहे दिन हो या रात वह कभी भी बुलाया जा सकता है। बालचर का प्रमुख कर्तव्य है कि वह अपने प्राणों को संकट में डालकर दूसरों के प्राणों की रक्षा करे। सर्वसाधारण का हित ध्यान में रखें तथा अपने कर्तव्य का पूर्ण रूप से पालन करे। उसे सत्यवादी, सहानुभूतिपूर्ण, संवेदनशील, देशभक्त,कर्तव्य-परायण, आज्ञा-पालक, दयालु एवं सहनशील होना चाहिये। उसे साहसी एवं ईश्वर-निष्ठ होना चाहिये। ईश्वर में विश्वास और श्रद्धा रखते हुए भयंकर-से-भयंकर स्थिति में भी साहस नहीं खाना चाहिये और अपने कर्तव्य का पालन करना चाहिये। उसे आपस में बन्धुत्व की भावना रखते हुए परावलम्बन एवं सहयोग से कार्य कर चाहिये। बालचर को व्यक्ति-हित और समाज-हित दोनों का ही ध्यान रखना चाहिये।

स्काउट गाइड से लाभ: बालचर संस्था समाज के लिये अत्यन्त उपयोगी है। बड़े-बड़े मेलो में, रामलीला में गंगा स्नान के पर्वों पर और बड़ी-बड़ी सभाओं में बालचर अनुशासन स्थापित करते हैं, प्रबन्ध करते हैं जनता की सुविधा और सुरक्षा का ध्यान रखते हैं। बड़े-बड़े मेलों में चारा, आग लगना, झगड़ा होना आदि घटनाये साधारण होता है। स्काउट अपने प्रबन्ध से कोई अव्यवस्था नहीं होने देते। छोटे-छोटे बच्चे मेलों की भीड़ में जो अपने माता-पिता से बिछुड़ जाते हैं और इधर-उधर रोते-चिल्लाते घूमा करते हैं, उन्हें उनके माता-पिता तक ढूंढकर पहुँचाना बालचरों का प्रशंसनीय कार्य है। गंगा के पर्वो पर जो बच्चे या बड़े स्नान करते-करते गंगा के प्रवाह में डूबने लगते हैं, बालचर अपने प्राणों को हथेली पर रखकर उनके प्राणों की रक्षा के लिए गंगा में एकदम कूद जाते हैं और उन्हें बचाने का प्राणपण से प्रयत्न करते हैं। इतना ही नहीं, बीमार की परिचर्या उन्हें इससे भी ऊपर उठा देती है। जिसका कोई नहीं होता, कराहते-कराहते दिन और रात बिता देते हैं, एक बूंट पानी के लिए भी जो तरसते रहते हैं, बालचर उनकी सेवा करता है, प्राथमिक उपचार करता है, इसके पश्चात् उन्हें अस्पताल पहुँचाता है। बालचर अपने सत्प्रयासों से कलह की अग्नि और वास्तविक अग्नि, दोनों को ही शान्त कर देता है। जहाँ आपस में दंगे और लड़ाई-झगड़े हो जाते हैं, ये स्वयं सेवक वहाँ नम्रतापूर्वक शान्ति स्थापित करते हैं और जहां वास्तविक आग लग जाती है वहां तो अपने प्राणों को हथेली पर रखकर आग में कूद पड़ते हैं और जान माल की रक्षा करते हैं।

इस संस्था से समाज को अनेक लाभ हैं। यह संस्था नि:स्वार्थ भाव से मानवता की सेवा करती है। जनता में स्वावलम्बन और आत्म-निर्भरता की भावनाओं को जाग्रत करती है। इस संस्था का सबसे बड़ा लाभ यह है कि छोटे-छोटे बालकों में सेवा-धर्म का उदय होता है, वे सबके कल्याण में अपना कल्याण समझने लगते हैं, समाज का हित उनका अपना हित होता है। इस प्रकार उनका चरित्र एक आदर्श चरित्र बन जाता है। वे देश के कर्मठ और मनस्वी नागरिक बन जाते हैं। देश की सुख-समृद्धि, ऐश्वर्य और वैभव, ऐसे ही नागरिकों पर आधारित होता है।

उपसंहार : आज देश को और समाज को ऐसी ही नि:स्वार्थ सेवी संस्थाओं की आवश्यकता है । बालचर संस्था का उद्देश्य और लक्ष्य वास्तव में प्रशंसनीय है। बच्चे भी इसमें बड़े उत्साह से भाग लेते हैं। खाकी वर्दी पहन कर वे एक विशेष गौरव का अनुभव करते हैं। परन्तु दुःख का विषय है कि आज देश में जितना संरक्षण इस संस्था को प्राप्त होना चाहिये था, उतना नहीं प्राप्त हो रहा। इसलिए कलों और कॉलिजों में भी इस दिशा में उदासीनता आती जा रही है। शिक्षा प्रेमियों और देश के समाज सुधारकों तथा सरकार का यह पुनीत कर्तव्य है कि वे इस समाज-सेवी संस्था को विशेष रूप से पल्लवित और पुष्पित करने के लिए विशेष सहयोग दें।
Hindi Essay on “Bura Jo Dekhan Main Chala Bura na Milya Koi”, “बुरा जो देखन मैं चला बुरा न मिलिया कोय हिंदी निबंध”, for Class 6, 7, 8, 9, and 10, B.A Students and Competitive Examinations.

Hindi Essay on “Bura Jo Dekhan Main Chala Bura na Milya Koi”, “बुरा जो देखन मैं चला बुरा न मिलिया कोय हिंदी निबंध”, for Class 6, 7, 8, 9, and 10, B.A Students and Competitive Examinations.

Hindi Essay on “Bura Jo Dekhan Main Chala Bura na Milya Koi”, “बुरा जो देखन मैं चला बुरा न मिलिया कोय हिंदी निबंध”, for Class 6, 7, 8, 9, and 10, B.A Students and Competitive Examinations.

बुरा जो देखन मैं चला बुरा न मिलिया कोय हिंदी निबंध

"बुरा जो देखन में चला" यह भारत के मध्यकालीन निर्गुणवादी और ज्ञानमार्गी परम सन्त कबीर की उक्ति है। उनके जीवन-अनुभवों का सारतत्त्व है। वास्तव में बुराई क्या है और उसका वास कहाँ रहता है, इसी तथ्य को उन्होंने अपने अनुभव के आधार पर इस उक्ति में प्रगट किया है। 
Hindi Essay on “Bura Jo Dekhan Main Chala Bura na Milya Koi”, “बुरा जो देखन मैं चला बुरा न मिलिया कोय हिंदी निबंध”

किंवदंती प्रसिद्ध है कि एक बार कबीर जी तीर्थ यात्रा को जा रहे थे। मार्ग में एक स्थान पर लोगों की भीड़ लगी हुई थी और वे लोग हो-हल्ला कर रहे थे। कबीर जी हो-हल्ला का कारण जानना चाहा। पास जाकर वे देखते क्या हैं कि लोगों ने एक साधारण नागरिक को घेर रखा है और उसे बुरी तरह पीट रहे हैं। कबीर जी ने एक से पूछा-"भाई, बात क्या है ?" उत्तर में बीसियों आवाजें गरज उठीं। एक ने कहा-"महात्मा जी, यह चोर है।" दूसरे ने कहा-"यह विश्वासघाती है, इसने अपने स्वामी के घर में चोरी की है।" तीसरे ने कहा-"जिस थाली में खाता है, उसी में छेद करता है।" चौथे ने कहा-"महा अन्धेर है, कलियुग आ गया है।" पाँचवें ने कहा-“देखते क्या हो, जूतों की मार से इसकी खोपड़ी गंजी कर दो।” बस, फिर क्या था वे सभी उस बेचारे नागरिक पर टूट पड़े। चूंसों और लातों की वर्षा करने लगे। वह चीखने-चिल्लाने लगा।
यह सब देख-सुन अनुभवी कबीर जी बोले-"ठहरो । यह सत्य है कि इस व्यक्ति ने चोरी की है, अतः इसे दण्ड मिलना चाहिए। किन्तु एक शर्त है । इसे दण्ड देने का अधिकार केवल उसी व्यक्ति को है, जिसने स्वयं कभी चोरी न की है ।" यह सुनते ही गाँव वालों को काठ मार गया। एक-एक करके सब चुपके से अपने-अपने घर को चलते बने। केवल एक दर्शक शेष रह गया। उसने कबीर जी से प्रार्थना की-"महात्मन आपने तो अपने जीवन में कभी चोरी नहीं की. अतः आप ही इसे दण्ड दीजिए।" कबीर जी बोले-"अरे, मैं भी सभी की तरह चोर हूँ।” फिर कबीर जी यह गुनगुनाते हुए एक ओर चल दिये-
“बुरा जो देखन मैं चला, बुरा न दीखा कोय।
जो मन देखा आपना, मुझसे बुरा न कोय।”
अपने व्यवहार और कथन से कबीर जी वस्तुतः जीवन का एक बहुत बड़ा सत्य प्रगट कर गये। सन्त जन ऐसे ही सत्य का, अच्छाई का प्रतिपादन किया करते हैं। 'छाज तो बोले सो बोले, पर छलनी क्या बोले जिसमें नौ सौ छेद।' दूसरों को बुरा वह कहे जो स्वयं भला है। जो स्वयं भला है. वह क्यों लगा किसी को बरा कहने। भला बुराई खोजने से भलाई थोड़े ही हाथ लगेगी। बल्कि आत्मा में पाप का उदय होगा, हृदय में ईर्ष्या जगेगी. मन में अभिमान उठेगा। दूसरों को नीचा दिखाकर स्वयं श्रेष्ठ बनने की दुर्भावना उत्पन्न होगी. वह निन्दा करेगा. चगली खायेगा। इधर तो उसकी जिह्वा अपवित्र होगी, उधर सूनने वालों की दष्टि में भी वह गिर जायेगा। कोई कहेगा-“आज यह उसकी निन्दा कर रहा है, कल हमारी करेगा-दीया तले अँधेरा है।" ऐसी स्थिति में किसी को यह अधिकार नहीं मिल जाता कि वह दसरों को बुरा कहे। वस्तुतः पहले अपने मन को शुद्ध करने की जरूरत हुआ करती है। मन भला तो जग भला।

क्षमा सन्तों की रीति है. किन्तु असन्तों की रीति इससे सर्वथा विपरीत हुआ करती है। बुरा जो देखन चले' उनकी दुनिया में कमी नहीं। सास बहू की बुराई देखती है, तो बहू सास की। चोर साह को बरा कहता है, साहू चोर को। मज़दूर के लिए मालिक बुरा है, मालिक के लिए नौकर। मकान मालिक से पूछो तो कहेगा, किरायेदार सबसे बुरा है। किरायेदार की सुनो तो कहता है, मकान-मालिक से बुरा और कोई है ही नहीं। इस प्रकार बुराई का अन्त नहीं। अपनी बुराई न देख, सभी उसे दूसरों पर थोप कर सुर्खरू हो जाना चाहते हैं। बस, मूल समस्या यही है।
स्त्रियों का तो प्राय: मनोरंजन ही है दूसरों के मीन-मेख निकालना। चूल्हे-चौके से निपटीं नहीं कि आँगन में मुँह जोड़कर जा बैठेंगी। दृष्टि उनकी बहुत पैनी होती है, पड़ोसिन के तिल-बराबर दोष भी देख लेंगी, पर अपने ताड़-बराबर दोष भी उन्हें दिखाई न देंगे। दृष्टि पैनी और जबान गज़ भर से भी लम्बी। मुँह पर तो प्रशंसा के इतने पुल बाँधेगी कि उनका शब्द-कोष भी समाप्त हो जायेगा। पीठ-पीछे उसकी बुराई करेंगी, तो मुँह के सामने इसकी चुगली खायेंगी-"अमुक महिला तुम्हारे विषय में यों कहती थी।" उधर की बराई इधर और इधर की बुराई उधर करके भी स्वयं वे दूध की धुली देवी के समान बचकर साफ-साफ निकल जाने का प्रयास करेंगी। स्त्रियाँ मन्दिर में हों, कथा-सत्संग में बैठी हों, अर्थी के साथ चल रही हों या पनघट से पानी भरकर ला रही हों, उनके मनोरंजन के विषय होंगे-लांछन, ताने, शिकायतें, सास और बहू की नोंक-झोंक, किसी न किसी की चुगली और निन्दा। यह विडम्बना ही है कि उनका यह स्वभाव प्रकृति की देन माना जाता है।

पुरुषों द्वारा परछिद्रान्वेषण अर्थात् दूसरों के दोष देखने-निकालने का केन्द्र होता है उनका कार्यालय ! जहाँ भी दफ्तर के दो-चार बाबू मिल बैठे, तो साहब की आलोचना करेंगे। चाय के समय उनकी दोष-बुद्धि विशेष रूप से उग्र हो जाती है। चपरासियों से लेकर अपने सेक्शन अफसर, निदेशक, मंत्री, यहाँ तक कि सरकार और विदेशी राष्ट्रों के शासन भी उनके कटु आक्षेपों से नहीं बच सकते । परन्तु अपना अन्तर झाँककर देखने का कष्ट उनमें से कोई कभी नहीं उठाता। पराई निन्दा-चुगली करते रहना व्यक्ति की हीनता की परिचायक बहुत बड़ी बुराई है।
कभी अफसरों की कानाफूसी छिपकर सुन देखियेगा। कानों में यही शब्द गूंजने लगेग-"ये क्लर्क तो मुफ्त की खाते हैं. मानो सरकार के दामाद हों ! सुबह पहुँचे। तो लेट, काम करने को दिया तो जेब में हाथ डाले बैठे रहते हैं। निठल्ले बैठे रहेंगे पर आवश्यक काम को छुयेंगे भी नहीं। निठल्लेपन की हद हो गयी । कामचोरी करते हुए इन्हें लाज भी नहीं आती। कुछ लिखते नज़र आएंगे। पास जाकर देखो तो व्यक्तिगत पत्र लिख रहे होंगे। इधर मझे देखो. प्रातः घर से जल्दी आता हूँ, दिन-भर आप लोग देखते ही हैं कि काम के कारण सिर खुजलाने का भी फर्सत नहीं मिलती। फिर सायंकाल भी देर तक बैठा काम करता रहता हूँ ! बस, विभाग का काम चल रहा है, तो केवल मेरे सिर पर । शेष सब, ऊपर से लेकर नीचे तक कामचोर इकट्ठे हो गये हैं। इस प्रकार परनिन्दा ही सभी का पेशा बनकर रह गया है। मज़ाल है कि छोटा-बड़ा कभी भी कोई अपने मन में भी झाँककर देखे ! कभी अपनी बुराइयाँ भी गिने!
यदि कोई जी-जान लगाकर काम करता है, तो वह भी साथियों के व्यंग्यबाणों का शिकार हुए बिना नहीं रहता-"हाँ, हाँ, तरक्की लेने की तैयारियां हो रही हैं। भई, बड़े अधिकारियों की चाटुकारिता करनी सीखनी हो तो महाशय 'क' से सीखिए ! काम खाक करता है। बस दिन-भर साहब के आगे-पीछे चक्कर लगाता रहेगा। भई, ऐसे सरकार के शुभचिन्तक दो-चार यहाँ आ गये, तो हमें तो जवाब मिल जायेगा नौकरी से!”

राजनीति में पर-दोष-दर्शन एक सफल कला मानी गयी है। उसका चमत्कार देखना हो तो देखिए चुनाव के दिनों में, जब राजनीतिक दल बढ़-बढ़ कर झूठ बोलते हैं, बढ़-चढ़कर एक-दूसरे पर कीचड़ उछालते हैं, पगड़ी उछालते हैं, अपमानित करते हैं। संसदों और विधान-सभाओं में भी अब यही कुछ होने लगा है। परिणामस्वरूप अनन्त वैज्ञानिक प्रगतियों के बावजूद भी बेचारी नैतिकता के लिए विश्व में कहीं कोई ठौर-ठिकाना नहीं, कि जहाँ वह बैठ सके!
इस प्रकार सारी दुनिया 'बुरा देखन चली' और उसे दुनिया में सब बुरे दिखायी दिये। यह कैसे सम्भव है कि भगवान् की सारी सृष्टि में दोष भरे हों और केवल निर्दोष बचे रहे तो पराये दोष देखने वाले ही! दोष को दोष कहते समय हमारा दृष्टिकोण मधुरात्मक होना चाहिए। यदि हम लोगों के दोष दूर करने के लिए ऐसा करते हैं, तो हमें दोषों के साथ उनके गुण भी देखने चाहिए। इसी का नाम आलोचना है। यदि किसी को उसके दोष सद्भावना से गिनायेंगे तो वह मान जायेगा और अपना सुधार करने का यल करेगा, अन्यथा वह चिढ़ेगा और लड़ेगा। और अधिक बरे कर्म करने लगेगा!
इस प्रकार ‘पर उपदेश चतुर बहुतेरे।' ऐसे लोग बहुत कम होते हैं, जो प्रतिदिन सोने से पहले अपनी दिनचर्या का विश्लेषण करते हैं कि आज मुझसे कौन-कौन-सी भूलें हुई। वे अनुभव करते हैं, कि 'जो मन खोजा आपना, मुझसे बुरा न कोय ।' वे अपनी भूलों को डायरी में लिखते हैं, उनका विश्लेषण और प्रायश्चित्त भी किया करते हैं। पुनः प्रात: उठकर वे सतर्क रहने का निश्चय करते हैं कि जो भूलें मुझसे कल हुई थीं, मैं आज नहीं करूंगा। इसे ही आत्मचिन्तन या आत्मविश्लेषण कहते है। इसके द्वारा मनुष्य दोषों से मुक्त होकर उस स्थिति में पहुँच जाता है कि 'बुरा जो देखन वे चले बुरा न दीखा कोय।' यदि सभी इस प्रकार आत्मालोचन करने लगें, तो निश्चय ही संसार से बुराई का अन्त हो सकता है। आज यों तो प्रत्येक व्यक्ति के लिए, पर राजनीतिज्ञों के लिए आत्मालोचन की विशेष आवश्यकता है। ऐसा करके ही वे लोग देश का सही नेतृत्व और विकास कर सकते हैं। अपनी बुराइयों से छुटकारा ही पूरे जीवन-समाज के अच्छे बनने की शर्त है।

Monday, 30 March 2020

व्यायाम के लाभ पर निबंध इन हिंदी", "जीवन में व्यायाम का महत्व पर निबंध", "vyayam ka mahatva par nibandh", "व्यायाम के लाभ पर छोटा निबंध", "व्यायाम के लाभ पर एस्से", "Essay on Benifits of Exercise in hindi"

व्यायाम के लाभ पर निबंध इन हिंदी", "जीवन में व्यायाम का महत्व पर निबंध", "vyayam ka mahatva par nibandh", "व्यायाम के लाभ पर छोटा निबंध", "व्यायाम के लाभ पर एस्से", "Essay on Benifits of Exercise in hindi"

व्यायाम के लाभ पर निबंध इन हिंदी", "जीवन में व्यायाम का महत्व पर निबंध", "vyayam ka mahatva par nibandh", "व्यायाम के लाभ पर छोटा निबंध", "व्यायाम के लाभ पर एस्से", "व्यायाम पर निबंध हिंदी में", "vyayam ke labh par essay", "Essay on Benifits of Exercise in hindi" for Class 5, 6, 7, 8, 9 & 10.

व्यायाम अर्थात् कसरत ! अंग्रेजी में इसके लिए 'एक्सरसाइज' शब्द का प्रयोग किया जाता है। इसके महत्व से हर आदमी परिचित है। इसके लाभ क्या हैं, सामान्य रूप से इस बात को सभी जानते हैं। फिर भी यह बात दुख के साथ कहनी और स्वीकार करनी पड़ती है कि आज इस महत्त्वपूर्ण कार्य की ओर आम तौर पर ध्यान नहीं दिया जाता, या बहुत कम दिया जाता है। यही कारण है कि आज का जीवन व्यक्ति और समाज दोनों स्तरों पर अनेक प्रकार के भयानक रोगों का, महामारियों और अव्यवस्थाओं का शिकार होता जा रहा है।
Essay on Benifits of Exercise in hindi
एक कहावत है-स्वस्थ शरीर में ही स्वस्थ मन तथा आत्मा का निवास हुआ करता है। यह भी कहा जाता है कि बुद्धिमत्तापूर्ण कार्य और सफलता के लिए परिश्रम भी स्वस्थ शरीर द्वारा ही संभव हुआ करते हैं। इस प्रकार स्वस्थ मन, स्वस्थ बुद्धि, स्वस्थ आत्मा आदि के लिए शरीर को स्वस्थ रखना बहुत ज़रूरी है। जीवन जीने के लिए, जीवन की हर प्रकार को छोटी-बड़ी आवश्यकता पूरी करने के लिए मनुष्य को निरन्तर परिश्रम करना पड़ता है। परिश्रम भी स्वस्थ व्यक्ति ही कर सकता है, निरन्तर अस्वस्थ और रोगी रहने वाला नहीं। इन सभी बातों से स्पष्ट पता चल जाता है कि नियमित व्यायाम करना क्यों आवश्यक है। उसका महत्त्व और लाभ क्या है? स्वस्थ मन-मस्तिष्क वाला व्यक्ति ही जीवन में हर बात पर ठीक से विचार कर सकता है। उसके हानि-लाभ से परिचित हो सकता है। अपने जीवन को उन्नत तथा विकसित बनाने के लिए कोशिश कर सकता है। ऐसा करके वह बाहरी जीवन के सभी सुख तो पा ही सकता है, जिसे आत्मिक सुख और आत्मा का आनन्द कहा जाता है, उसका अधिकारी भी बन जाता है। स्पष्ट है कि इस प्रकार के सभी अधिकार पाने के लिए शरीर का स्वस्थ, सुन्दर और निरोगी होना परम आवश्यक है।
vyayam ke labh par essay
शरीर की स्वस्थता और सुन्दरता नियमपूर्वक व्यायाम करके ही कायम रखी और प्राप्त की जा सकती है। मन, बुद्धि और आत्मा भी तभी स्वस्थ-सुन्दर होंगे जब शरीर स्वस्थ-सुन्दर होगा। अत: व्यायाम का लाभ और महत्त्व स्पष्ट है। आलस्य को मनुष्य का सबसे बड़ा शत्रु माना गया है। वह आदमी को कामचोर तो बना ही देता है, धीरे-धीरे उसके तन-मन को जर्जर और रोगी भी बना दिया करता है। मनुष्य की सारी शक्तियाँ समाप्त कर उसे कहीं का नहीं रहने देता। इस आलस्य रूपी महाशत्रु से छुटकारा पाने के लिए आवश्यक है कि प्रतिदिन व्यायाम करने का नियम बनाएँ । व्यायाम करने का यह एक नियम ही जीवन की धारा को एकदम बदल सकता है। यह आदमी को स्वस्थ-सुन्दर तो बनायेगा ही उसे परिश्रमपूर्वक अपना काम करने की प्रेरणा भी देगा। हर प्रकार से चुस्त और दुरुस्त राखेगा। हमेशा चुस्त और दुरुस्त रहने वाला व्यक्ति जीवन में सहज ही सब-कुछ पाने का अधिकारी बन जाया करता है। इसके लिए कठिन और असंभव कुछ भी नहीं रह जाता। जीवन की सारी खुशियाँ, सारे सुख उसके लिए हाथ पर रखे आमले के समान सहज सुलभ हो जाया करते हैं!
जीवन में व्यायाम का महत्व पर निबंध
स्वस्थ्य-सुन्दर, चुस्त-दुरुस्त, क्रियाशील और गतिशील रहने के लिए व्यायाम आवश्यक है, ऊपर के विवेचन से यह बात स्पष्ट हो जाती है। व्यायाम के कई रूप और आकार हैं। अर्थात स्वस्थ रहने के लिए हम अनेक प्रकार के व्यायामों में से अपनी आवश्यकता और सुविधा के अनुसार किसी भी एक रूप का चुनाव कर सकते हैं। प्रातकाल उठकर दो-चार किलोमीटर तक खुली हवा और वातावरण में भ्रमण करना सबसे सरल, सुविधाजनक, पर सबसे बढ़कर लाभदायक व्यायाम है। इसी प्रकार सुबह के वातावरण में दौड़ लगाना भी व्यायाम का एक अच्छा और सस्ता रूप माना जाता है। बैठकें लगाना, डण्ड पेलना, कुश्ती  लड़ना, कबड़ी खेलना आदि सस्ते, व्यक्तिगत और सामूहिक देशी ढंग के व्यायाम हैं। कोई भी व्यक्ति अकेला या कुछ के साथ मिलकर सरलता से इनका अभ्यास कर आदी बन  सकता है। यदि किसी व्यक्ति की रुचि ललित कलाओं में है, तो वह नृत्य के अभ्यास को भी एक अच्छा और उन्नत व्यायाम मानकर चल सकता है। ध्यान रहे, व्यायाम में शरीर के भीतर-बाहर के सभी अंगों का हिलता-डुलना, साँसों का उतार-चढाव आदि आवश्यक है। अतः कैरम या ताश खेलना जैसे खेलों को व्यायाम करना नहीं कहा जा सकता। हाँ, योगासन करना बड़ा ही अच्छा और उन्नत किस्म का व्यायाम माना जाता है। योगाभ्यास तन, मन और आत्मा सभी को शुद्ध करके आत्मा को भी उन्नत और बलवान बनाता है।
vyayam ka mahatva par nibandh
आज तरह-तरह के खेल खेले जाते हैं। हॉकी, फुटबॉल, वालीबॉल, बास्किट बॉल, टेनिस, क्रिकेट आदि सभी खेल सामूहिक स्तर पर खेले जाते हैं। इनसे शरीर के प्रायः सभी अंगो का व्यायाम तो होता ही है, मिल-जुलकर रहने और काम करने की प्रवृत्ति को भी बल मिलता है। सामूहिकता और सामाजिकता की भावनाओं का अभ्यास भी होता है, इनके विकास का भी अच्छा अवसर प्राप्त हो जाता है। इस प्रकार की बातों को हम व्यायाम से प्राप्त होने वाले अतिरिक्त लाभ कह सकते हैं। यह भी कहा जा सकता है कि ये सब बात सामूहिक या फिर सामाजिक स्वास्थ्य की रक्षा के लिए आवश्यक हुआ करती हैं, सो खेलों, का व्यायाम शरीर को स्वस्थ रखने के साथ-साथ सारे जीवन और समाज को स्वस्थ-सुन्दर रखने में महत्त्वपूर्ण योगदान कर सकता है।

पहले छोटे-बड़े, प्रायः सभी आयु वर्ग के लोग अपनी-अपनी ज़रूरत और सुविधा के अनुसार किसी-न-किसी प्रकार का व्यायाम अवश्य किया करते थे किन्तु आज का जीवन कुछ इस प्रकार का हो गया है कि वह अभ्यास छूटता जा रहा है, लगभग छूट ही चुका है। एक तो लोगों में पहले जैसा उत्साह ही नहीं रह गया, दूसरे पहले के समान सुविधाएँ भी नहीं मिल पातीं। अभाव और मारामारी दूसरों को गिराकर भी खुद आगे बढ़ जाने की अच्छी दौड़ ने आज जीवन को इतना अस्त-व्यस्त बना दिया है कि अपने स्वास्थ्य तक की और उचित ध्यान दे पाने का समय हमारे पास नहीं रह गया । उस पर हम लोग प्रदूषित वातावरण में रहने को विवश हैं। परिणाम हमारे सामने है। आज तरह-तरह की नयी बीमारियों ने हमारे तन-मन को ग्रस्त कर लिया है। खाना तक ठीक पचा नहीं पाते। बीमारियाँ बढ़ने के साथ-साथ डाक्टरों, अस्पतालों की भरमार हो गयी है। ज़रा-ज़रा-सी बात के लिए डॉक्टरों, डॉक्टरी सलाह और दवाइयों के मुहताज होकर रह जाना वास्तव में सामूहिक अस्वस्थता का लक्षण ही कहा जा सकता है।

स्वाभाविक प्रश्न उठता है कि इस सामूहिक अस्वस्थता से उबरने का आखिर उपाय क्या है ? उत्तर और उपाय एक ही है-व्यायाम ! किसी भी प्रकार के वैयक्तिक या सामूहिक व्यायाम करने के आदी बनकर ही इस प्रकार की विषम परिस्थितियों से छटकारा प्राप्त किया। जा सकता है। नियमपूर्वक व्यायाम करना, साफ-सुथरे वातावरण में रहना वह रामबाण औषधि है, कि जिससे हर व्यक्ति और पूरे समाज का कल्याण हो सकता है। यदि व्यायाम और उससे प्राप्त लाभ की तरफ ध्यान न दिया गया, तो व्यक्ति और समाज सभी अस्वस्थ हो जायेंगे, दुर्बल हो जायेंगे और दुर्बल को जीने का अधिकार नहीं हुआ करता. यह प्रकृति का नियम है। सो अपने और समाज के विनाश से बचने के लिए हमें व्यायाम के लाभदायक मार्ग पर आज से ही चलना शुरू कर देना चाहिए।
अरे द्वारपालो कन्हैया से कह दो भजन लिरिक्स Are Dwarpalo Kanhaiya se Kehdo lyrics in Hindi and English

अरे द्वारपालो कन्हैया से कह दो भजन लिरिक्स Are Dwarpalo Kanhaiya se Kehdo lyrics in Hindi and English

अरे द्वारपालो कन्हैया से कह दो लिरिक्स हिंदी में डाउनलोड अरे द्वारपालो कन्हैया से कह दो mp3 अरे द्वारपालों सुदामा से कह दो, दर पे सुदामा गरीब आ गया है वीडियो। Are Dwarpalo Kanhaiya se Kehdo lyrics in Hindi and English are dwarpalo sudama se kehdo bhajan Hindi Mp3 download and video हिंदी में डाउनलोड अरे द्वारपालो कन्हैया से कह दो हिंदी लिरिक्स

हिंदी लिरिक्स

अरे द्वारपालो कन्हैया से कह दो
देखो देखो यह गरीबी, यह गरीबी का हाल,
कृष्ण के दर पे यह विशवास ले के आया हूँ।
मेरे बचपन का दोस्त हैं मेरा श्याम,
येही सोच कर मैं आस ले कर के आया हूँ ॥

अरे द्वारपालों कहना से कह दो,
दर पे सुदामा गरीब आ गया है।
भटकते भटकते ना जाने कहाँ से,
तुम्हारे महल के करीब आ गया है॥

ना सर पे हैं पगड़ी, ना तन पे हैं जामा
बतादो कन्हिया को नाम है सुदामा।
इक बार मोहन से जाकर के कहदो,
मिलने सखा बदनसीब आ गया है॥

सुनते ही दोड़े चले आये मोहन,
लगाया गले से सुदामा को मोहन।
हुआ रुकमनी को बहुत ही अचम्भा,
यह मेहमान कैसा अजीब आ गया है॥

और बराबर पे अपने सुदामा बिठाये,
चरण आंसुओं से श्याम ने धुलाये।
न घबराओ प्यारे जरा तुम सुदामा,
ख़ुशी का समा तेरे करीब आ गया है।

English Lyrics

Are Dwarpalo Kanhaiya se Kehdo lyrics

Dekho Dekho Yeh Garibi Yeh Garibi Ka Haal,
Krishna Ke Dar Pe Biswas Leke Aaya Hoon।
Mere Bachpan Ka Dost Hai Mera Shyam,
Yeh Soch Kar Mein Aash Ke Kar Ke Aaya Hoon।

Are Dwarpalo Kanhaiya Se Keh Do,
Ke Dar Pe Sudama Garib Aagaya Hai।
Bhatakte Bhatakte Naa Jaane Kaha Se,
Tumhare Mahal Ke Karib Aagaya Hai।

Naa Sarpe Hai Pagri Naa Tan Pe Hai Jaama,
Batado Kanhaiya Ko Naam Hai Sudama।
Ek Baar Mohan Se Ja Kar Ke Kahdo,
Ke Milne Sakha Badnasib Aa Gaya Hai।

Sunte Hi Doude Chale Aaye Mohan,
Lagaya Gale Se Sudama Ko Mohan।
Hua Ruksmani Ko Bahut Hi Achambha,
Yeh Mehman Kaisa Ajeeb Ageya Hai।

Aur Barabar Pe Apne Sudama Ko Bithaye,
Charan Ansuon Se Shyam Ne Dhulaye।
Na Ghabrao Pyare Jara Tum Sudama,
Khushi Ka Shama Tere Karib Gaya Hai।

Are Dwarpalo Kanhaiya se Kehdo Video Song


मित्रों Youtube से वीडियो डाउनलोड करने के लिए Saveyoutube.in जाएँ। 

Sunday, 29 March 2020

ಚಂದ್ರನ ಮೇಲೆ ಮಾನವ ಕುರಿತು ಪ್ರಬಂಧ Man on Moon Essay in Kannada Language

ಚಂದ್ರನ ಮೇಲೆ ಮಾನವ ಕುರಿತು ಪ್ರಬಂಧ Man on Moon Essay in Kannada Language

ಚಂದ್ರನ ಮೇಲೆ ಮಾನವ ಕುರಿತು ಪ್ರಬಂಧ Man on Moon Essay in Kannada Language

ಮಾನವನನ್ನು ಚಂದ್ರನ ಮೇಲೆ ಇಳಿಸಲು ಅಮೆರಿಕ ಸಿದ್ದಪಡಿಸಿದ 'ಮಾನವ ತಂದ್ರನ ಮೇಲೆ' (ಮ್ಯಾನ್ ಆನ್ ದಿ ಮೂನ್) ಯೋಜನೆಯಲ್ಲಿ ಪ್ರಪ್ರಥಮವಾಗಿ ಯಶಸ್ವಿಯಾದ ಅಂತರಿಕ್ಷ ನೌಕೆ. ಈ ಅಂತರಿಕ್ಷ ನೌಕೆಯ ಪೂರ್ಣ ಹೆಸರು ಅಪೋಲೆ 11. ಪ್ಯಾಟರ್ನ್ 5 ಅದರ ಉಡಾವಣಾ ರಾಕೆಟ್, ಇದು ಮೂರು ಘಟ್ಟಗಳಲ್ಲಿ ತೋಡಣೆಗೊಂಡಿರುವ ರಾಕೆಟ್ ವ್ಯವಸ್ಥೆ. ಇದರ ಎತ್ತರ 75 ಮೀ. ಭಾರ 2954.64 ಮಟ್ರಿಕ್) ಟನ್ನುಗಳು, ಮೆಲುಭಾಗ ಅಪೊಲೊ 11, ಎತ್ತರ 25 ಮೀ. ಭಾರ 45.36 ಟಿ. ಪೂರ್ಣವ್ಯವಸ್ಥೆಯ ಎತ್ತರ 100 ಮೀ. ಭಾರ 3000 ಟ. 1969 ಜುಲೈ 16ರಂದು ಸಂಜೆ 2-02 ಘಂಟೆಗೆ ಅಮೆರಿಕದ ಫ್ಲಾರಿಡದ ಕೇಪ್ ಕೆನಡಿ ಉಡಾವಣಾ ಪೀಠದಿಂದ ಅಪೊಲೊವನ್ನು ಹಾರಿಸಲಾಯಿತು. 3400 ಟನ್ ನೂಕು ಬಲದಿಂದ ಸ್ಯಾಟರ್ನ್ 5ರ ತಳದ ರಾಕೆಟ್ 3000 ಟನ್ ಭಾರದ ಸಮಗ್ರ ವ್ಯವಸ್ಥೆಯನ್ನು ಮೇಲೆತ್ತಿತ್ತು.

ನೀಲ್ ಎ. ಆರ್ಮ್‌ಸ್ಟ್ರಾಂಗ್, ಮೈಕೆಲ್ ಕಾಲಿನ್ಸ್, ಎಡ್ಮಿನ್ ಇ, ಆಲ್ವಿನ್ ಇವರು ಅಪೊಲೆ ಯಾತ್ರಿಕರು, ಆರ್ಮ್‌ಸ್ಟಾಂಗ್ ನಾಯಕ, ಚಂದ್ರನ ಮೇಲೆ ಪ್ರಥಮವಾಗಿ ಕಾಲೂರಿದ ಮಾನವ, ಜುಲೈ 20, ಮುಂದಿನ ಸಾಹಸ ನೆರವೇರಿಸಲು ಭೂಮಿಯ ಮೇಲಿನ ನಿಯಂತ್ರಕರು ಅನುಮತಿ ನೀಡಿದರು. ಸ್ವಯಂಚಾಲಿತ ವ್ಯವಸ್ಥೆ ಈಗಲ್ಲನ್ನು ಚಂದ್ರತಲದ ಮೇಲಿನ ನಿರ್ದಿಷ್ಟ ಸ್ಥಳದಲ್ಲಿ ಇಳಿಸಲು ಸಿದ್ಧವಾಗಿತ್ತು. ಮೊದಲು ಆಲ್ಫ್ರಿನ್ ಮತ್ತೆ ಆರ್ಮ್‌ಸ್ಟಾಂಗ್ ಈಗಲ್ಲನ್ನು ಪ್ರವೇಶಿಸಿದರು. ಪುನಃ ಅದರ ಉಪಕರಣಗಳ ಪರಿಶೀಲನೆ, ಮತ್ತೆ ಅಂತರಿಕ್ಷ ಉಡುಪುಗಳ ಧಾರಣೆ, ಬೆಳಗಿನವರೆಗೂ ಯಾತ್ರಿಕರು ಈಗಲ್ ಒಳಗೆ ಇದ್ದರು. ವಿಶ್ರಾಂತಿ ಮತ್ತು ಹೊಸ ಪರಿಸರದ ಪೂರ್ಣ ಪರಿಚಯವಾಗಬೇಕು. ಅಪಾಯವಿಲ್ಲ ಎಂದು ದೃಢವಾದ ಮೇಲೆ ಆರ್ಮ್‌ಸ್ಟಾಂಗ್ ಈಗಲ್ ಬಾಗಿಲು ತೆರೆದು ಏಣಿಯ ಮೂಲಕ ಒಂದೊಂದೇ ಮೆಟ್ಟಲನ್ನು ಲಯಬದ್ದವಾಗಿ ಇಳಿದ, ಎಡಗಾಲನ್ನು ಚಂದ್ರತಲದ ಮೇಲೆ ಊರಿದ (3-27 ಗಂ. ಜುಲೈ 21, 1969). “ಇದು ಒಬ್ಬ ಮನುಷ್ಯನಿಗೆ ಬಲು ಪುಟ್ಟ ಹೆಜ್ಜೆ; ಆದರೆ ಮಾನವ ಜನಾಂಗಕ್ಕೆ ಹನುಮಂತ ನೆಗೆತ” ಎಂಬ ಅರ್ಥದ ಉದ್ಧಾರವೆತ್ತಿದ. ಚಂದ್ರಲೋಕದ 15 ದಿವಸಗಳ ಹಗಲಿನ ಆರಂಭ ಆಗತಾನೇ ಆಗುತ್ತಿತ್ತು. ಆರ್ಮ್‌ಸ್ಟಾಂಗ್ ಕಾಲೂರಿದ 19 ಮಿನಿಟುಗಳ ಅನಂತರ ಅಲ್ಲ ರಿನ್ ಬಂದು ಅವನನ್ನು ಕೂಡಿಕೊಂಡ. ಇಬ್ಬರೂ ಕೂಡಿ ನಿಯೋಜಿತ ಕರ್ತವ್ಯಗಳನ್ನು, ಪ್ರಯೋಗಗಳನ್ನು ನಿರ್ವಹಿಸಿದರು. ಅಮೆರಿಕ ಸಂಯುಕ್ತ ಸಂಸ್ಥಾನಗಳ ಅಧ್ಯಕ್ಷ ರಿಚರ್ಡ್ ನಿಕ್ಸನ್ ಮತ್ತು ಮೂವರು ಯಾತ್ರಿಕರ ಸಹಿಯಿದ್ದ ಒಂದು ಫಲಕವನ್ನು ಏಣಿಗೆ ಕಟ್ಟಿದರು. ಅದರ ಮೇಲೆ 'ಭೂಮಿಗ್ರಹದಿಂದ ಬಂದೆ ಮನುಷ್ಯರು ಚಂದ್ರನ ಮೇಲೆ ಇಲ್ಲಿ ಮೊದಲ ಕಾಲಿಟ್ಟರು. ಕ್ರಿ.ಶ. ಜುಲೈ 1969. ನಾವು ಮಾನವ ಜನಾಂಗದ ಕಲ್ಯಾಣಕ್ಕಾಗಿ ಬಂದೆವು' ಎಂಬರ್ಥದ ಇಂಗ್ಲಿಷ್ ಒಕ್ಕಣೆ ಇದೆ, ಅಮರಿಕ ದೇಶದ ಧ್ವಜವನ್ನು ಅಲ್ಲಿ ನೆಟ್ಟರು. ಬೇರೆ ಬೇರೆ ಸ್ಥಳಗಳಲ್ಲಿ ಒಂದು ಕಂಪನ ಲೇಖಕ, ಲೇಸರ್ ಪ್ರತಿಫಲಕ ಮತ್ತು ಕಣಸಂಗ್ರಾಹಕಗಳನ್ನು ಇಟ್ಟರು. ಅವರು ಚಂದ್ರನ ಮೇಲಿಟ್ಟ ಇತರೆ ವಸ್ತುಗಳ ವಿವರ-ರಷ್ಯ ದೇಶದ ಮೃತ ಖಗೋಳ ಯಾತ್ರಿಗಳಾದ ಯೂರಿ ಗಗಾರಿನ್ ಮತ್ತು ಕೋಮರೋವ್ ಅವರ ಪದಕಗಳು; ಅಪೊಲೊ ಯೋಜನೆಯಲ್ಲಿ ಈ ಹಿಂದೆ ಆಸ್ಫೋಟನೆಯಿಂದ ದುರ್ಮರಣಕ್ಕೆ ಈಡಾದ ಅಮೆರಿಕದ ಮೂವರು ಅಂತರಿಕ್ಷ ಯಾತ್ರಿಕರಾದ ರಿಸ್ಕೊ, ಚಾಫಿಮತ್ತು ವೈಟ್ ಅವರ ಲಾಂಛನಗಳು; ಸಂಯುಕ್ತ ರಾಷ್ಟ್ರಗಳ ವರಿಷ್ಠಾಧಿಕಾರಿಗಳ ಸಂದೇಶಗಳು-ಇತ್ಯಾದಿ. ಆರ್ಮ್‌ಸ್ಟಾಂಗ್ ಚಂದ್ರನ ಮೇಲೆ ನಡೆಯುತ್ತಿದ್ದಾಗ ಅದರ ಮೇಲಿನ ಮಣ್ಣು ಕೈಗೆ ಅಂಟಿಕೊಳ್ಳುವಂತೆ ಪುಡಿಪುಡಿಯಾಗಿದೆ ಎಂದು ಅವನಿಗನಿಸಿತು. ಚಂದ್ರಲೋಕದ ಆ ಪ್ರದೇಶ ಒಂದು ಮರುಭೂಮಿಯಂತ ಇತ್ತು. ಸುತ್ತಲೂ ಕೆಲವು ಕಡೆಗಳಲ್ಲಿ ದೊಡ್ಡ ದೊಡ್ಡ ಬಂಡೆಗಳೂ ಲೆಕ್ಕ ಮಾಡಲು ಸಾಧ್ಯವಿಲ್ಲದಷ್ಟು ಚಿಕ್ಕ ದೊಡ್ಡ ಕೂಪಗಳೂ ಇದ್ದುವು. ಯಾತ್ರಿಗಳ ಹೃದಯಮಿಡಿತ ನಿಮಿಷಕ್ಕೆ 90-125. ಆರ್ಮ್ಸ್ವಾಂಗ್ 10 ಕಿ.ಗ್ರಾಂ. (ಚಂದ್ರನಲ್ಲಿ. ನಂತರದ ಕೆಲವು ಗಂಟೆಗಳಲ್ಲಿ ಭಾರದ ಕಲ್ಲನ್ನೆತ್ತಿದಾಗ ಹೃದಯಮಿಡಿತ ಬಹುವಾಗಿ ಏರಿತು. ಪರೀಕ್ಷಾರ್ಥವಾಗಿ ಅಲ್ಲಿನ ಅಮೌಲ್ಯ ಮೃತ್ತಿಕಾದಿ ವಸ್ತುಗಳನ್ನು ಸಂಗ್ರಹಿಸಿದರು.

ನಂತರ ಎಸ್.ಎಂ. (ಸರ್ವಿಸ್ ಮಾಡ್ಯೂಲ್)ನ ಮೈಗೆ ಅಳವಡಿಸಿರುವ ರಾಕೆಟ್‌ಗಳು ಸ್ಫೋಟಿಸಿ ಗಂಟೆಗೆ 8,850ಕಿ.ಮೀ. ವೇಗದಲ್ಲಿ ಅಪೊಲೊ ಭೂಮಿಪ್ರಭಾವ ಕ್ಷೇತ್ರ ಪ್ರವೇಶ ಮಾಡಿತು. ನಿಯೋಜಿಸಿದ ಪ್ರಕಾರ ಪೆಸಿಫಿಕ್ ಸಾಗರದ ಮೇಲೆ ಬಡಿದಪ್ಪಳಿಸಿತು. (ಜುಲೈ 22, ರಾತ್ರಿ 10-20 ಗಂಟೆ). ಅದರ ಬರವನ್ನು ಕಾಯುತ್ತಿದ್ದ ನೌಕಾಪಡೆಯ ಸಿಬ್ಬಂದಿ ಹೆಲಿಕಾಪ್ಟರ್ ಸಹಾಯದಿಂದ ಸಿ.ಎಂ. (ಕಮಾಂಡ್ ಮಾಡ್ಯೂಲ್)ನ್ನು ಮೇಲೆತ್ತಿಕೊಂಡರು. ಈ ಮಹಾಯಾತ್ರಯ ಒಟ್ಟು ಅವಧಿ 195 ಗಂಟೆ 18 ಮಿನಿಟು, ಭೂಮಿಯಿಂದ ಹಾರಿದಾಗ ಇದ್ದ ಭಾರ 3,000 ಟನ್; ಬಂದಾಗ ಸುಮಾರು 6 ಟನ್; ಅಂತರಿಕ್ಷ ಸಂಶೋಧನೆಯಲ್ಲಿ ಅಪೊಲೊ 11ರ ಯಶಸ್ಸು ಒಂದು ಪ್ರಮುಖ ಮೈಲಿಕಲ್ಲು,

ಸೌರವ್ಯೂಹಕ್ಕೆ ಉಪಗ್ರಹಗಳು ಒಂದು ಆಕಾಶಕಾಯದ (ಭೂಮಿ, ಚಂದ್ರ ಇತ್ಯಾದಿ) ಸುತ್ತಲೂ ಪರಿಭ್ರಮಿಸಲು ಮನುಷ್ಯ ನಿಯೋಜಿಸಿರುವ ಸಾಧನ (ಆರ್ಟಿಫಿಶಲ್ ಸ್ಯಾಟಲೈಟ್), ಚಂದ್ರನಂಥ ನೈಸರ್ಗಿಕ ಉಪಗ್ರಹವಾಗಲಿ ಭೂಮಿಯಿಂದ ನಾವು ಕಳುಹಿಸಬಹುದಾದ ಕೃತಕ ಉಪಗ್ರಹಗಳಾಗಲಿ ಪಾಲಿಸಬೇಕಾದ ನಿಮಯಗಳೇನೇನು ಎಂಬುದನ್ನು 17ನೆಯ ಶತಮಾನದಲ್ಲಿಯೇ ವಿಖ್ಯಾತ ವಿಜ್ಞಾನಿ ನ್ಯೂಟನ್ ಅವನ ಗ್ರಂಥದಲ್ಲಿ ಬರೆದಿಟ್ಟಿದ್ದ. ಎಲ್ಲ ಕೃತಕ ಉಪಗ್ರಹಗಳಲ್ಲಿಯೂ ಅನೇಕ ಸಾಧನೋಪಕರಣಗಳ ವೈವಿಧ್ಯಪೂರ್ಣ ಪ್ರಪಂಚವೇ ಅಡಕವಾಗಿರುತ್ತದೆ. ಈ ಸಾಧನಗಳು ಉಪಗ್ರಹದೊಳಗಿನ ಮತ್ತು ಹೊರಗಿನ ಸಂಮರ್ದ ಉಷ್ಣತೆಗಳನ್ನೂ, ಉಪಗ್ರಹದ ಮೇಲೆ ಮಳೆಗರೆಯುವ ಉಲ್ಕೆಗಳನ್ನು, ವಿಶ್ವಕಿರಣಗಳನ್ನೂ, ಸೂರ್ಯ ಮತ್ತು ನಕ್ಷತ್ರಗಳು ಪ್ರಸಾರ ಮಾಡುತ್ತಿರುವೆ ದೃಶ್ಯ ಬೆಳಕನ್ನೂ, ಅತಿನೇರಳೆ ಬೆಳಕನ್ನೂ, ಎಕ್ಸ್ ಕಿರಣಗಳನ್ನೂ, ಉನ್ನತ ವಾಯುಮಂಡಲದ ವಿದ್ಯುತ್ ಸ್ಥಿತಿಯನ್ನೂ, ಕಾಂತಕ್ಷೇತ್ರವನ್ನೂ ಅಳೆಯುತ್ತವೆ. ಹೀಗೆ ಅಳದು ನಿರ್ಣಯಿಸಿದ ಅಂಕಿಅಂಶಗಳನ್ನು ರೇಡಿಯೋ ಸಂಕೇತಗಳ ಮೂಲಕ ಭೂಮಿಗೆ ಕಳುಹಿಸುವ ರೇಡಿಯೋ ಪ್ರೇಷಕ (ಟ್ರಾನ್ಸ್‌ಮೀಟರ್), ಭೂಮಿಯಿಂದ ಕಳುಹಿಸಿದ ಸಂಕೇತದ ಆಜ್ಞೆಗಳನ್ನು ಉಪಕರಣಗಳಿಗೆ ಮತ್ತು ಪ್ರೇಷಕಕ್ಕೆ ಸಾಗಿಸಬಲ್ಲ ರೇಡಿಯೋ ಗ್ರಾಹಕ (ರಿಸೀವರ್), ಪ್ರೇಷಕ ಗ್ರಾಹಕಗಳಿಗೆ ವಿದ್ಯುಚ್ಛಕ್ತಿಯನ್ನೂ ಒದಗಿಸಬಲ್ಲ ವಿದ್ಯುತ್ಕಶಗಳು ಇವಕ್ಕೂ ಉಪಗ್ರಹಗಳಲ್ಲಿ ಸ್ಥಳ ಮೀಸಲಾಗಿರುತ್ತದೆ.

ಉಪಗ್ರಹಗಳೇ ಮೊದಲಾದ ಅಂತರಿಕ್ಷ ವಾಹನಗಳನ್ನು ಅವುಗಳ ಕಕ್ಷೆಗಳಿಗೆ ಒಯ್ಯಲು ಬಳಸುವ ವಾಹಕ ರಾಕೆಟುಗಳು. ಸಾಮಾನ್ಯವಾಗಿ ಬಾಣಬಿರುಸುಗಳಂತ ರಾಸಾಯನಿಕ ದ್ರವ್ಯಗಳ ದಹನ ಕ್ರಿಯೆಯನ್ನು ಅವಲಂಬಿಸಿ ಕೆಲಸ ಮಾಡುತ್ತವೆ. ಕೃತಕ ಭೂಉಪಗ್ರಹಗಳು ಸಂಕೀರ್ಣ ಉಪಕರಣಗಳನ್ನೊಳಗೊಂಡ ಮಾನವನಿರ್ಮಿತ ಅಂತರಿಕ್ಷವಾಹನಗಳು. ಇವನ್ನು ಭೂಮಿ ಯಿಂದ ಎತ್ತಿ ವಾಯುಮಂಡಲದ ವ್ಯಾಪ್ತಿಯಾಚೆಗೆ ಕೊಂಡೊಯ್ದು ಅಲ್ಲಿ ಸೂಕ್ತವೇಗದೊಡನೆ ಸೂಕ್ತದಿಸೆಯಲ್ಲಿ ಬಿಡುಗಡೆ ಮಾಡುವುದಷ್ಟೆ ವಾಹಕ ರಾಕೆಟುಗಳ ಕೆಲಸ, ರಾಕೆಟುಗಳಿಂದ ಪ್ರತ್ಯೇಕಗೊಂಡ ಮೇಲೆ ಉಪಗ್ರಹ ಯಂತ್ರ ಸಹಾಯವಿಲ್ಲದೆ ತನ್ನಷ್ಟಕ್ಕೆ ತಾನೇ ಭೂಮಿಯ ಸುತ್ತ ಅವಿಚ್ಛಿನ್ನವಾಗಿ ಪರಿಭ್ರಮಿಸತೊಡಗುವುದು. ಇಂಥ ಯಂತ್ರರಹಿತ ಚಲನೆ ಸಾಧ್ಯವಾಗಲು ಕಾರಣ ಆ ಉಪಗ್ರಹ ನಿರ್ವಾತಪ್ರದೇಶದಲ್ಲಿ ಸಂಚರಿಸುವಾಗ ಯಾವ ಗಮನಾರ್ಹ ಘರ್ಷಣೆ-ಪ್ರತಿರೋಧಗಳಿಗೆ ಸಿಲುಕದಿರುವುದೇ, ಅಲ್ಲದೆ ಉಪಗ್ರಹಕ್ಕೆ ಈ ರೀತಿಯಲ್ಲಿ ಲಭಿಸುವ ಸುದೀರ್ಘವಾದ ವೇಗಪೂರ್ಣ ಚರಸ್ಥಿತಿ ಅದನ್ನು ಭೂಮೇಲ್ಮಗೆ ಕೂಡಲೇ ಬಿದ್ದುಹೋಗದಂತೆ ರಕ್ಷಿಸುವುದು. ಜಗತ್ತಿನ ಮೊದಲನೆಯ ಕೃತಕ ಉಪಗ್ರಹವನ್ನು ರಷ್ಯನರು 1957ರ ಅಕ್ಟೋಬರ್ 4 ರಂದು ಭೂಮಿಯ ಸುತ್ತಲ ಕಕ್ಷೆಯೊಂದರಲ್ಲಿ (ಆರ್ಬಿಟ್) ಯಂತ್ರಗಳ ನೆರವಿಲ್ಲದೆ ತನ್ನಷ್ಟಕ್ಕೆ ತಾನೇ ಚಲಿಸುವಂತೆ ಮಾಡಿ ಪ್ರಪಂಚದ ಜನರೆಲ್ಲರನ್ನೂ ಪಾಮರರನ್ನೇ ಅಲ್ಲದೆ ವಿಜ್ಞಾನಿಗಳನ್ನೂ ಬೆರಗುಗೊಳಿಸಿದರು. ಇದಕ್ಕೆ ಅವರು ಸ್ಪುಟ್ಟಿಕ್ ಅಂದರೆ ಸಹಪ್ರವಾಸಿ ಎಂದು ಹೆಸರಿಟ್ಟರು. ಅದು 92 ದಿವಸಗಳ ಕಾಲ ಭೂಮಿಯನ್ನು ಪಶ್ಚಿಮದಿಂದ ಪೂರ್ವಕ್ಕೆ ಸುತ್ತು ಹಾಕುತ್ತಿದ್ದು 1958ರ ಜನವರಿಯಲ್ಲಿ ಕಕ್ಷೆಯಿಂದ ಜಾರಿ ಭೂ ವಾಯುಮಂಡಲದೊಳಗಡೆ ವಾಯುಸಂಘರ್ಷಣದ ಪರಿಣಾಮವಾಗಿ ಸುಟ್ಟು ನಾಶವಾಯಿತು.

ಪ್ರಥಮ ಸ್ಪುಟ್ನಕಿನ ಉಡಾವಣೆಯಿಂದೀಚೆಗೆ ಬಗೆಬಗೆಯ ಉಪಗ್ರಹಗಳನ್ನು ಸಹಸ್ರಾರು ಸಂಖ್ಯೆಯಲ್ಲಿ ಅಂತರಿಕ್ಷಕ್ಕೆ ಉಡಾಯಿಸಲಾಗಿದೆ. ಆಧುನಿಕ ಉಪಗ್ರಹಗಳಲ್ಲಿರುವ ಯಂತ್ರೋಪಕರಣ ವ್ಯವಸ್ಥೆ ಸಂಕೀರ್ಣ ಹಾಗೂ ವೈವಿಧ್ಯಪೂರ್ಣ ವೈಜ್ಞಾನಿಕ ಸಂಶೋಧನೆಗಳಲ್ಲಿ ಅತಿವೇಗದ ವಿಮಾನ ಕ್ಷಿಪಣಿಗಳ ಮಾರ್ಗದರ್ಶನದಲ್ಲಿ, ಹವಾಮುನ್ಸೂಚನೆಗಳ ನಿಷ್ಕರ್ಷೆಯಲ್ಲಿ ಭೂಮಿಯ ಮೇಲೆ ದೀರ್ಘವ್ಯಾಪಕ ಟೆಲಿಫೋನ್ ಸಂಪರ್ಕಗಳ ಸಂಸ್ಥಾಪನೆಯಲ್ಲಿ, ಬಾಹ್ಯಾಕಾಶಯಾನಿಗಳ ತರಬೇತಿಯಲ್ಲಿ ಹಾಗೂ ಆಕಾಶಾಧಾರಿತ ಕೈಗಾರಿಕೆಗಳ ನಿಯೋಜನೆಯಲ್ಲಿ ಉಪಗ್ರಹಗಳು ನಿರ್ವಹಿಸುವ ಪಾತ್ರ ಅಮೂಲ್ಯವಾದುದು. ಸಂಶೋಧನ ಕ್ಷೇತ್ರದಲ್ಲಿ ಭೂಮಿಯ ವಾಯುಮಂಡಲದ ಬಾಹ್ಯವಲಯಗಳ ಸ್ವರೂಪ, ಭೂಮಿಯ ಆಕಾರ ಹಾಗೂ ಗುರುತ್ವಾಕರ್ಷಣೆ, ವಿಶ್ವದ ಬೇರೆಡೆಗಳಿಂದ ಭೂಮಿಯ ಬಳಿಗೆ ಆಗಮಿಸುವ ಕಣ ಪ್ರವಾಹಗಳು ಮತ್ತು ದೃಶ್ಯಾದೃಶ್ಯ ರಶ್ಮಿಗಳು, ಭೂಪರಿಸರದ ಕಾಂತಕ್ಷೇತ್ರ ಆಕಾಶದಲ್ಲಿ ಉಲ್ಕಾಧೂಳಿಯ ಹಂಚಿಕೆ, ಜೀವಗಳ ಮೇಲೆ ಆಕಾಶಯಾನದ ಪ್ರಭಾವ-ಇವೇ ಮುಂತಾದ ವಿಚಾರಗಳ ಬಗ್ಗೆ ತನಿಖೆ ನಡೆಸಲು ಉಪಗ್ರಹಗಳು ವಿಜ್ಞಾನಿಗಳಿಗೆ ನೆರವಾಗಿವೆ. ವಾಯುಯಾನ-ಕ್ಷಿಪಣಿ ಯಾನ ಕ್ಷೇತ್ರದಲ್ಲಿ ಸೂಕ್ತ ಮಾರ್ಗದರ್ಶಕ ಉಪಗ್ರಹಗಳು (ನ್ಯಾವಿಗೇಷನಲ್ ಸ್ಯಾಟಲೈಟ್ಸ್) ತಮ್ಮಿಂದ ಪ್ರಸಾರವಾಗುವ ರೇಡಿಯೊ ಸಂಕೇತಗಳ ಮೂಲಕ ವಿಮಾನ ಕ್ಷಿಪಣಿಗಳಿಗೆ ನಿಯೋಜಿತ ಮಾರ್ಗದಲ್ಲಿ ಚಲಿಸುವಂತೆ ನಿಖರ ನಿರ್ದೇಶನ ನೀಡಬಲ್ಲವು. ಹವಾವಿಜ್ಞಾನ ಕ್ಷೇತ್ರದಲ್ಲಿ ಪರಮೋಪ ಗ್ರಹಗಳು (ಮೀಟಿಯರೋಲಾಜಿಕಲ್ ಸ್ಯಾಟಲೈಟ್ಸ್) ಭೂಮಿಯ ವಿವಿಧ ಭಾಗಗಳ ಮೇಲೆ ನೆರೆದಿರುವ ಮೇಘರಾಶಿಗಳ ಚಿತ್ರಗಳನ್ನು ತೆಗೆದುಕೊಳ್ಳುತ್ತವೆ ಮತ್ತು ಅಲ್ಲಿಗೆ ಸಂಬಂಧಿಸಿದ ಉಷ್ಣ ವಿಸರಣ ದರವನ್ನು ಅಳೆಯುತ್ತವೆ. ಟೆಲಿಫೋನ್, ಟೆಲಿವಿಷನುಗಳಂಥ ಸಂಪರ್ಕ ವ್ಯವಸ್ಥೆಗಳ ಕ್ಷೇತ್ರದಲ್ಲಿ ಸೂಕ್ತ ನಿಯೋಜನೆಯ ಉಪಗ್ರಹಗಳು ಭೂಮೇಲ್ಮೀಯಿಂದ ಬರುವ ವಿದ್ಯುತ್ಕಾಂತ ಸಂಕೇತಗಳನ್ನು ಗ್ರಹಿಸಿ ಶಕ್ತಿವರ್ಧನೆ ಮಾಡಿ ಮತ್ತೆ ಭೂಮಿಯೆಡೆಗೆ ಮರುಪ್ರಸಾರ ಮಾಡುವುದರ ಮೂಲಕ ಭೂಮಿ ಯಲ್ಲಿ ದೂರವಾಗಿರುವ ಪ್ರೇಷಕ-ಗ್ರಾಹಕ ಕೇಂದ್ರಗಳ ನಡುವೆ ಸಂಬಂಧ ಕಲ್ಪಿಸುತ್ತವೆ. ಇಂದಿನ ಜನಜೀವನಕ್ಕೆ ಕೃತಕ ಉಪಗ್ರಹಗಳ ಕೊಡುಗೆ ಅತ್ಯಮೂಲ್ಯ ಎಂದು ಹೇಳಬಹುದು.
भारत की प्रमुख राष्ट्रीय समस्या पर हिंदी निबंध Bharat ki Samasya par Nibandh

भारत की प्रमुख राष्ट्रीय समस्या पर हिंदी निबंध Bharat ki Samasya par Nibandh

भारत की प्रमुख राष्ट्रीय समस्या पर हिंदी निबंध भारत की ज्वलंत समस्या पर निबंध Bharat ki Samasya par Nibandh Bharat ki Jwalant Samasya par Nibandh Hamari Pramukh Rashtriya Samasya par Nibandh हमारी प्रमुख राष्ट्रीय समस्या पर हिंदी निबंध भारत की ज्वलंत एस्से इन हिंदी लैंग्वेज Essay on Problems of india in Hindi.

भारत की प्रमुख राष्ट्रीय समस्याएँ पर निबंध Bharat ki Samasya par Nibandh

प्रगति और विकास के कई चरण पार कर जाने के बाद भी भारत को यदि समस्याओं का देश कह दिया जाये, तो कोई अतिशयोक्ति नहीं। समस्या भी एक नहीं, अनेक हैं, जिनसे यह देश निरन्तर जूझ रहा है। थोड़े स्थान और समय में उन सब की चर्चा कर पाना तो संभव नहीं, हाँ, कुछ मुख्य समस्याओं की चर्चा इस प्रकार से की जा सकती है:
Read also : Hindi Essay on “Bharat ki Samajik Samasya"

जनसंख्या वृद्धि की समस्या - इस समस्या को विकासशील देशों में, विशेषकर भारत में बहुत विस्फोटक माना जा रहा है। सन् 1947 में जब भारत स्वतंत्र हुआ था, तब इसकी कुल जनसंख्या तीस करोड़ के आस-पास थी। उसमें से माना जाता है कि दस-बारह करोड़ लोग पाकिस्तान में रह गये। लेकिन आज अकेले भारत की जनसंख्या 121 करोड़ के आस-पास पहुँच चुकी है। इस शती के अन्त तक, यदि रोका न गया, तो यह संख्या 1.5 अरब से भी अधिक हो जायेगी, इसमें कोई सन्देह नहीं। इस कारण आज चिल्ला-चिल्ला कर लोगों को सावधान किया जा रहा है। आज ही जब जीने के लिए, रहने,खान, पीने के लिए कई तरह के अभावों से सामना हो रहा है, तब क्या दशा होगी, आज सहज अनुमान लगाया जा सकता है कि उस स्थिति से बचने के लिए आवश्यक है कि कठोरता से काम लेकर जनसंख्या-वृद्धि पर नियंत्रण किया जाये। नहीं तो आदमी को आदमी ही खा जायेगा।
Read also : कश्मीर की समस्या पर निबंध

बेकारी की समस्या - जनसंख्या-वद्धि का एक परिणाम तो अभी से सामने आने लगा है। पढ़े-लिखे लोगों और अनपढ़ लोगों, सभी प्रकार के बेकारों की लम्बी कतारें लगती जारही हैं। उत्पादन और कार्यों के स्रोत पहले ही कम हैं, और भी कम होते जा रहे हैं। उधर हर वर्ष लाखों की संख्या में पढ़े-लिखे यवक और अनपढ़, अर्ध-शिक्षित नौकरियां पाने केलिए सामने आ रहे हैं। नौकरियाँ मिलती नहीं। उसी का परिणाम है कि आज अराजकता, हिंसा, आपाधापी, लूट-पाट बढ़ गयी है। काम-धन्धा न होने पर सपनों की दुनिया में जीने वाले लोग पेट पालने की खातिर अनैतिक-अराजक उपाय अपनाने को लगभग विवश हो जाते हैं। बेकारी की समस्या इस शती के दौर में और भी बढ़ जायेगी, यह सभी समझदार मानते हैं। उनका यह भी मानना है कि बेकारी पर काबू पाने के लिए एक तो जनसंख्या-वृद्धि पर नियंत्रण पाना आवश्यक है, दूसरे रोज़गार के साधन और अवसर भी बढ़ाये जाने चाहिये। अन्यथा बेकारों के मन में रहने वाले भूत जीवन और समाज को एकदम तहस-नहस करके रख देंगे।
Read also : भारत में भाषा संबंधी समस्‍या पर निबंध

अशिक्षा – भारत में जो तरह-तरह की परम्परागत और आधुनिक बुराइयाँ, कुरीतियाँ घर करती जा रही है, उसका एक बहुत बड़ा कारण अशिक्षा और निरक्षरता भी है। साक्षर-शिक्षित व्यक्ति ही अपना तथा सबका भला-बुरा समझकर अनेक प्रकार की बुराइयों के विरुद्ध संघर्ष का बिगुल बजा सकते हैं उन्हें दूर भी कर सकते हैं। अशिक्षा और निरक्षरता के कारण आज अनेक लोग चुस्त-चालाक लोगों द्वारा लट भी रहे हैं। अपने अधिकारों और कर्तव्यों से परिचित न होने के कारण वे अक्सर भटक जाते हैं। ठगे-लूटे जाने पर भी उपाय कर पाने में समर्थ नहीं हो पाते। इस दृष्टि से शिक्षा और साक्षरता का प्रचार-प्रसार बहुत जरूरी है। राष्ट्र-विकास और राष्ट्रीयता का सम्मान बनाने-बढ़ाने के लिए भी शिक्षित होना बहुत आवश्यक है। कहा जा सकता है कि इस ओर ध्यान दिया जा रहा है। साक्षरों-शिक्षितों का प्रतिशत निरन्तर बढ़ रहा है। उसके प्रकाश में देश कई बुराइयों और समस्याओं से लड़ पाने में समर्थ हो सकेगा, ऐसी आशा करनी चाहिए।
Read also : Hindi Essay on “Bharat mein Bal Shram ki Samasya”

प्रान्तीयता की समस्या – कन्याकुमारी से लेकर कश्मीर तक यों तो भारत एक है, एक देश और राष्ट्र है, फिर भी कई बार प्रान्तीयता की समस्या उग्र होकर सामने आती रहती है। आदमी जिस प्रान्त का निवासी है, उसके भले और लाभ की बात सोचना बुरा नहीं,पर तभी तक कि जब तक यह सोच राष्ट्रीय सन्दर्भो को ध्यान में रखकर कार्य करती है। क्योंकि प्रान्त का अस्तित्व राष्ट्र का अस्तित्व बना रहने पर ही स्थिर बना रह सकता है! फिर कोई भी प्रान्त अपने साधनों पर जीवित नहीं रह सकता। आज के युग में मात्र अपने में सीमित होकर देश और राष्ट्र नहीं रह सकते, प्रान्तों की तो बात ही क्या है। राष्ट्रीय सन्दर्भो और हितों से उखड़ कर ही प्रान्तीयता समस्या बना करती है। कभी सीमा-शुल्क को लेकर प्रान्त उलझ जाते हैं, कभी नदियों के पानी को लेकर, कभी बिजली को लेकर तो कभी भाषा को लेकर। पंजाब, कश्मीर, तमिलनाडु और कर्नाटक आदि में हम घृणित प्रान्तीयता का प्रचार देख चुके हैं। उसका कड़वा फल आज भी भोग रहे हैं। देश और उसके एक प्रान्त की हर वस्तु पर सभी देशवासियों का समान अधिकार है, इस बात या तथ्य को हमेशा मन-मस्तिष्क में रखकर, सहयोग और सहकारिता का भाव जगा कर ही प्रान्तीयता की भयानकता से छुटकारा पाया जा सकता है। अन्य कोई उपाय नहीं!
Read also : राष्ट्रभाषा की समस्या

साम्प्रदायिकता की समस्या – स्वतंत्र भारत के संविधान की मूल भावना के अनुसार भारत एक धर्म-निरपेक्ष देश है। यहां सभी धर्मो, सम्प्रदायों को अपने-अपने विश्वासों के अनुसार पूजा-उपासना करने, रहने, जीने, खाने-पीने, उत्सव-त्योहार मनाने का पूरा अधिकार है। अन्य धार्मिकता, जातीयता और साम्प्रदायिकता के लिए भारतीय संविधान के अनुसार इस देश में कोई स्थान और जगह नहीं है। अपने धर्मों-सम्प्रदायों, विश्वासों को मानते हुएभी राष्ट्रीयता की दृष्टि से हम एक है। फिर भी सभी जानते हैं कि हमें लगभग हर दिन कहीं-न-कहीं, किसी-न-किसी प्रकार की साम्प्रदायिकता से दो-चार होना ही पड़ता है। पहले केवल जातीय और धार्मिक साम्प्रदायिकता ही झगड़ों का कारण बना करती थी, पर आज तो और भी कई प्रकार की साम्प्रदायिकता का विकास और विस्तार होता जा रहा है।जमींदार, किसान, व्यापारी कारखानेदार, मज़दूर आदि सभी वर्ग वास्तव में समुदाय बनकर आपस में लड़ते-झगड़ते रहते है। परिणामस्वरूप राष्ट्रीय शक्ति, साधनों और समय का अपव्यय होता रहता है। जितनी बरबादी होती है, सदुपयोग करने और शान्ति रहने परउससे कई निर्माण कार्य संभव हो सकते हैं। सहनशीलता, सदभाव, प्रेम, भाईचारा और अहिंसा के भाव जगाकर ही इस भयानक हो गयी समस्या का कोई समाधान संभव हो सकता है।
Read also : मूल्यवृद्धि अथवा महँगाई की समस्या पर निबंध

राष्ट्रीय चरित्र का अभाव–हमारे विचार में इस देश में छोटी-बड़ी जितनी भी समस्याएँ है, उन सबका मूल कारण हमारे एक राष्ट्रीय चरित्र का न बन पाना ही है। वास्तव में स्वतंत्रता प्राप्ति के बाद जिसकी सबसे पहली और बड़ी आवश्यकता थी, उस चरित्र-निर्माण के प्रश्न की पूरी तरह उपेक्षा कर दी गयी। समझदार होते हुए भी स्वतंत्रता-संग्राम जीतकर आने वाले राष्ट्रीय नेता बड़े-बड़े बाँध बनाने, कल-कारखाने स्थापित करने जैसे कार्य तो करत रहे; पर जिस राष्ट्रीय चरित्र का विकास करके उनके लाभों को समान रूप से सभीतक पहुंचाया जा सकता था। उसकी तरफ बिल्कुल ध्यान नहीं दिया गया! उसी का परिणाम है कि आज सारी व्यवस्था भ्रष्ट होकर रह गयी है। राष्ट्र की चिन्ता छोड़कर सभी अपने-अपने स्वार्थ-साधन में लगे हुए हैं। यदि अब हम एक राष्ट्रीय चरित्र का निर्माण और विकास कर लेते हैं, तो हमारी सभी प्रकार की समस्याएँ अपने-आप ही हलहो सकती हैं।
Read also : ग्रामीण समाज की समस्याएं और समाधान पर निबंध

इस प्रकार दहेज की समस्या, काला बाजार, रिश्वत और भ्रष्टाचार की समस्या आदि और कई समस्याओं का उल्लेख भी राष्ट्रीय समस्याओं के रूप में कियाजा सकता है। इन सभी के समाधान का एक ही उपाय है। वह है राष्ट्रीय चरित्र का निर्माण चाहे वह निर्मम और कठोर बन कर ही क्यों न करना पडे, पर उसके बिना गुजारा नहीं।

Saturday, 28 March 2020

विज्ञान और विश्व शांति पर हिंदी निबंध Science for Peace Essay In Hindi

विज्ञान और विश्व शांति पर हिंदी निबंध Science for Peace Essay In Hindi

विज्ञान और विश्व शांति पर हिंदी निबंध विश्व शांति में विज्ञान का योगदान पर निबंध hindi essay on Science for Peace in Hindi Science for Peace Essay in Hindi Vishwa Shanti me Vigyan par Nibandh विज्ञान और विश्व शांति एस्से इन हिंदी लैंग्वेज विश्व शांति में विज्ञान और तकनीक का योगदान पर निबन्ध Essay in hindi Science for Peace Essay In Hindi.

विज्ञान और विश्व शांति पर हिंदी निबंध Science for Peace Essay In Hindi

प्रायः लोगों को कहते सुना जा सकता है कि जब से विज्ञान के युग का आरम्भ हुआ है, तभी से मानव-जीवन में आशान्ति का संचार भी होने लगा है। पहले का जीवन अच्छा था। सभी लोग और देश अपनी-अपनी सीमा में रहा करते थे । जीवन जीने के जो स्थानीय साधन और वस्तुएं उपलब्ध थीं, उनके सहारे ही शान्ति से जीवन कट जाता था। सुख-सुविधाएँ चाहे उतनी नहीं हुआ करती थीं, पर आज की तरह हर समय अशान्त और तनाव में भीनहीं रहना पड़ता था। जीवन शान्त था और शान्ति हर मूल्य पर अच्छी एवं उचित हुआ करती है। शान्ति हर मूल्य पर अच्छी होती है, इस बात पर न तो तब किसी के मन-मस्तिष्क में कोई प्रश्न या विरोध था; न आज ही है ! आज जिस वैज्ञानिक क्रान्ति और प्रगतियों को सब प्रकार की अशान्तियों की जननी और कारण माना जाने लगा है, सत्य तो यह है कि इसका आरम्भ भी मानव-जीवन और समाज में सुख-शान्ति बनाये रखने की इच्छा सेही हआ था। आज भी वास्तव में विज्ञान का उद्देश्य एवं प्रयोजन मानव-समाज में शान्ति बनाये रखना ही है।
विज्ञान ने मानव-सभ्यता को जो तरह-तरह के साधन, उपकरण प्रदान किये हैं, उनके बल पर आज अलग-अलग देशों, जातियों, राष्ट्रों, सभ्यता-संस्कृतियों को मानने वाले लोगएक-दूसरे के करीब आ सके हैं। करीब आकर उन्हें एक-दूसरे को देखने, सुनने, विचारों का आदान-प्रदान करने का अवसर मिल सका है। एक-दूसरे की समस्याएँ और आवश्यकताएँ भी समीप आकर ही सब लोग और देश जान-समझ सके हैं। परिणामस्वरूप तरह-तरह के आदान-प्रदान शुरू हो गए हैं। एक-दूसरे की ज़रूरतें पूरी करने के लिए सांझे या अकेले सहायता-कार्य शुरू हो सके हैं। ऐसा सब होने से निश्चय ही विश्व शान्ति की भावना को बल मिला है, उसके क्षेत्रों का विस्तार हुआ है। जब सभी के हित साँझे या एक हो जाया करते हैं, तब स्वभावतः आक्रमण-प्रत्याक्रमण का भाव और कार्य समाप्त हो जाता है। यह समाप्ति विश्व में शान्ति की पहली शर्त कही जा सकती है, जिसे काफी हद तक विज्ञान की उपलब्धियों ने पूरा किया है।
गरीबी और अभावों को मानव-जीवन के लिए अभिशाप, सब प्रकार के लड़ाई-झगड़ों और उनके कारण अशान्ति की जड़ माना जाता है। भूतकाल में अपनी गरीबी और अभावों को दूर करने के लिए भी एक देश दूसरे देश पर आक्रमण करता रहा है। ऐसा करके वे देश अपनी ग़रीबी और अभाव तो मिटा सके या नहीं, कहा नहीं जा सकता,पर खुद अशान्त होकर दूसरों को अंशान्त बना गये, यह बात एकदम सत्य और स्पष्ट है। वैज्ञानिक क्रान्ति के बाद आज ऐसे साधन प्राप्त हो गये हैं कि जिनके द्वारा मनुष्य की गरीबी और अभावों से संघर्ष करके, उन पर आसानी से या थोड़े-से परिश्रम से ही विजय पायी जा सकती है। इस प्रकार यहाँ भी कहा जा सकता है कि विज्ञान ने अपनी खोजों और आविष्कारों के द्वारा विश्व-शान्ति की रक्षा तो की ही है, हर प्रकार से उसे बढ़ावा भी दिया है।
आज विश्व के किसी भी कोने में यदि कोई अप्रिय घटना घटती है, तो कुछ ही क्षणों में सारे संसार को उसका पता चल जाता है। पता चलने पर तत्काल उसे रोकने या उसके कारणों को दूर करने की कोशिशें सारे संसार में एक साथ शुरू हो जाया करती है। फलस्वरूप उस अप्रिय घटना के जो सम्भावित दुष्परिणाम हो सकते है, उनके आने की नौबत नहीं होती। अशान्ति के जो बादल कुछ ही क्षणों में छाकर सबके डर का कारण बन गये होते हैं, विश्व-नेताओं के माध्यम से विश्व-जनमत का दबाव पड़ते ही वे छुट जाते हैं। अशान्ति और विनाश की बौछार पड़ने से पहले ही ठण्डी हवा चलकर सबको सुख-शान्तिका सन्देश दे जाती है। स्पष्ट है कि वेज्ञानिक साधनों के अभाव में संसार को इस अप्रियघटना का न तो पता चल पाता, न उसके कारणों को दर करके शान्ति की रक्षा ही संभवहो पाती। इस प्रकार वास्तव में आज विज्ञान विश्व शान्ति की रक्षा और विस्तार कर पानेमें सहायक हो रहा है!
विज्ञान का एक दूसरा पहलू भी है। वह है विनाश का मारक सन्देश देने वाला, शान्ति भंग कर अशान्ति फैलाने वाला। अर्थात् विज्ञान ने जिन परमाणु, हाइड्रोजन, कोबॉल्ट तथा जैविक बर्मो, अन्य शस्त्रास्त्रों, भयानक गैसों का निर्माण किया है. उनके रहते मानव-सभ्यताके विनाश और विश्व-शान्ति के भंग होने का खतरा बहुत अधिक बढ़ गया है। इस प्रकार के विचार प्रकट करते हुए किसी भी व्यक्ति को देखा-सुना जा सकता है ! ऊपरी दृष्टि सेदेखने पर इस प्रकार का भय ठीक भी लगता है। फिर विश्व में कई स्थानों पर इस प्रकारके मारक शस्त्रास्त्रों का दुरुपयोग हो भी चुका है। ध्यान रहे इस प्रकार के दुरुपयोगइक्का-दुक्का ही हुए हैं, सामूहिक रूप और स्तर पर नहीं। प्रश्न उठता है कि इसका क्याकारण है ? गम्भीरता से विचार करके कहा जा सकता है कि इसका कारण 'डर' है। दूसरोंके नाश का उतना नहीं, जितना कि अपने नाश का डर । यह डर भी वास्तव में विश्व-शान्तिबनाये रखने का एक बड़ा प्रेरणा-स्रोत है। जिस दिन यह डर समाप्त हो गया, विश्व-शान्तिकी बात तो जाने दीजिए, उस दिन सारी धरती और उस पर रहने वाली मनुष्यता का नामतक समाप्त हो जायेगा ! परन्तु नहीं, मनुष्य समझदार और बुद्धिमान तो है ही, डरपोक भीबहुत है। सन्त कबीर ने डर को 'करनी' और 'परम गुरु' कहा है। ‘डरते रहे सो ऊबरे’माना है। सो खुद अपने विनाश का जो डर विज्ञान ने मनुष्य के मन-मस्तिष्क में बिटदिया है, वास्तव में वह भी विश्व-शान्ति के भाव-विस्तार का एक बहुत बड़ा कारण है
हमने देखा है कि हमारे सामने शीत-युद्ध के जो खेमे बने, उनमें से कुछ उखड़ गयेहैं, बाकी उखड़ रहे हैं। इसका कारण यही है कि विज्ञान की उपलब्धियों ने मानव-समाजको अधिक विचारवान, अधिक सहनशील और अधिक व्यापक बना दिया है। आज का जागरूक मनुष्य अपने हित में सबका हित, संबके हित में अपना हित देखने और समझने लगा है। इसी कारण शीत-युद्धों और दूसरे सभी प्रकार के युद्धों की दलदल में फंसे उसके कदम, अब वहाँ से बाहर निकल कर शान्ति की कठिन और लम्बी राह पर चलने लगे हैं। धर्म, जातिवाद, कट्टर राष्ट्रवाद को कभी इस राह में बहुत बड़ी बाधा माना जाता था! परन्तु अब वैज्ञानिक दृष्टि का विकास होते जाने के कारण ये सारी बाधाएँ अपने-आप ही दूर होती जा रही हैं। सहज स्वाभाविक मानवता की भावना का निरन्तर, अधिक-से-अधिक विकास और विस्तार हो रहा है। संकुचित सीमाओं के बन्धन टूटते जा रहे हैं। इस सब को विश्व-शान्ति की रक्षा के लिए सभी प्रकार गे शुभ एवं आशाप्रद लक्षण कहा और स्वीकार किया जा सकता है।

मनुष्य एक विचारवान, आशावादी और संघर्षशील प्राणी है। स्वभाव से वह हमेशा शान्तिपूर्वक रहना चाहता है। वह चाहता है कि जीने के लिए जो आवश्यक है, उसके परिश्रम और योग्यता के बदले में वह सब उचित मात्रा में उसे और सबको मिलता रहे।विज्ञान का मूल उद्देश्य भी वास्तव में यही है। वह भी सबकी उचित आवश्यकताएं पूरी करने, सबके लिए उचित सुख-सुविधाएँ जुटाने की दिशा में ही प्रयत्नशील है। यदि हम उचित प्रयोग करके अपने कार्यों से विज्ञान और उसके साधनों की सहायता करते हैं, तो कोई कारण नहीं कि विश्व-शान्ति की रक्षा न हो सके। हम मनुष्य हैं। हमारी तरह दूसरों को भी उचित सुविधाएँ पाकर जीने का अधिकार है। ऐसा सोच और करके हम भी विश्व-शान्ति बनाये रखने में विज्ञान की उचित और वास्तविक सहायता कर सकते हैं।