संसदीय व्यवस्था की विशेषताएँ बताइये।

Admin
0

संसदीय व्यवस्था की विशेषताएँ बताइये।

भारत उन देशों में सम्मिलित है जहाँ लोकतन्त्रात्मक शासन प्रणाली लागू है। भारत में लोकतंत्रात्मक अवधारणा को अपनाते हुए संसदीय शासन प्रणाली को मान्यता दी गयी है। संसदीय लोकतंत्र से तात्पर्य सरकार के उस स्वरूप व कार्यप्रणाली से है जिसमें जनता अपने प्रतिनिधियों के माध्यम से शासन में भागीदारी निभाती है। यह प्रतिनिधि वयस्क मतधिकार द्वारा पूरे देश से अलग-अलग संसदीय क्षेत्रों से चुने जाते हैं जो किसी राजनीतिक दल से या निर्दलीय प्रतिनिधि के रूप में होते हैं संसदीय लोकतन्त्र की मुख्य विशेषता दोहरी कार्यपालिका का होना है। राष्ट्रपति नाममात्र की कार्यपालिका के समान है जबकि प्रधानमन्त्री तथा मन्त्रिमण्डल वास्तविक कार्यपालिका की भूमिका निभाते हैं। संसद का निर्माण लोकसभा, राज्यसभा तथा राष्ट्रपति से मिलकर होता है।

संसदीय व्यवस्था की प्रमुख विशेषताएँ निम्न प्रकार हैं

  1. संसदीय व्यवस्था में व्यवस्थापिका, कार्यपालिका संयोजित होकर संसद बन जाती है।
  2. कार्यपालिका के दो रूप होते हैं एक नाममात्र को कार्यपालिका (राष्ट्रपति) दूसरे वास्तविक कार्यपालिका प्रधानमन्त्री तथा मन्त्रिपरिषद।
  3. राज्य का अध्यक्ष सरकार के अध्यक्ष की नियुक्ति करता है।
  4. सरकार का अध्यक्ष मन्त्रिपरिषद की रचना करता है।
  5. मन्त्रिगण संसद के सदस्य होते हैं।
  6. कार्यपालिका व्यवस्थापिका के प्रति उत्तरदायी होती है।
  7. सरकार का अध्यक्ष राज्य के अध्यक्ष को व्यवस्थापिका (लोकसभा) को भंग करने की सलाह दे सकता है।
  8. कार्यपालिका निर्वाचकों के प्रति प्रत्यक्ष रूप से उत्तरदायी नहीं रहती।
  9. संसद ही सम्प्रभुता एवं शक्ति का केन्द्र होती है।
  10. शक्तियों का पूर्ण स्पष्ट विभाजन नहीं रहता।

सम्बंधित प्रश्न :

  1. संसद में बजट पारित होने की प्रक्रिया का वर्णन कीजिए।
  2. संसदीय समितियों से क्या तात्पर्य है ? कुछ प्रमुख संसदीय समितियों का वर्णन कीजिए।
  3. संसद में कानून निर्माण की प्रक्रिया को समझाइए।
  4. भारतीय संसद में विपक्ष की भूमिका पर टिप्पणी कीजिए।
  5. संसद के सदस्यों के विशेषाधिकारों का मूल्यांकन कीजिए।
  6. भारतीय संसद किस प्रकार मंत्रिपरिषद पर नियंत्रण स्थापित करती हैं?
  7. संसद की अवमानना से आप क्या समझते हैं?
  8. क्या भारतीय संसद संप्रभु है समझाइए
  9. संसद और उसके सदस्यों के विशेषाधिकारों और उन्मुक्तियों की व्याख्या करें।
  10. संसद की समिति पद्धति पर टिप्पणी कीजिए।

Post a Comment

0Comments
Post a Comment (0)

#buttons=(Accept !) #days=(20)

Our website uses cookies to enhance your experience. Learn More
Accept !