राज्यपाल तथा मंत्रिपरिषद के संबंधों के बारे में लिखिए।

Admin
0

राज्यपाल तथा मंत्रिपरिषद के बीच संबंधों के बारे में लिखिए।

राज्यपाल तथा मंत्रिपरिषद के बीच संबंध

राज्य मंत्रिपरिषद, राज्य की वास्तविक कार्यपालिका होती है। यद्यपि राज्य का प्रशासन राज्यपाल के नाम पर चलाया जाता है, परन्तु वास्तव में प्रशासन से सम्बन्धित सभी महत्वपूर्ण निर्णय मंत्रिपरिषद द्वारा लिए जाते हैं। सामान्यतया राज्यपाल मंत्रिपरिषद के परामर्श से ही निर्देशित होता है। राज्य मंत्रिपरिषद का प्रमुख होने के नाते राज्य के मुख्यमंत्री का यह दायित्व होता है कि वह राज्य के प्रशासन से सम्बन्धित मंत्रिपरिषद के सभी निर्णयों तथा विधायन के प्रस्तावों से राज्यपाल को अवगत कराता रहे तथा राज्यपाल द्वारा वांछित सूचना भी प्रदान करता रहे।

राज्यों में राज्य मंत्रिपरिषद तथा राज्यपाल के मध्य वही सम्बन्ध हैं जो केन्द्र में केन्द्रीय मंत्रिपरिषद तथा राष्ट्रपति के मध्य हैं। जहाँ तक राज्यपाल तथा राष्ट्रपति को स्वविवेकी शक्तियों का प्रश्न है तो राष्ट्रपति को यह शक्तियाँ संविधान द्वारा स्पष्टतः नहीं दी गई हैं जबकि राज्यपाल को संविधान द्वारा स्पष्ट रूप से प्रदत्त की गई हैं। 

सम्बंधित लेख :

Post a Comment

0Comments
Post a Comment (0)

#buttons=(Accept !) #days=(20)

Our website uses cookies to enhance your experience. Learn More
Accept !