भारत के राष्ट्रपति की निर्वाचन प्रक्रिया का वर्णन कीजिए।

Admin
0

भारत के राष्ट्रपति की निर्वाचन प्रक्रिया का वर्णन कीजिए।

राष्ट्रपति का निर्वाचन प्रक्रिया

भारत के राष्ट्रपति का निर्वाचन एक ऐसे निर्वाचन मंडल द्वारा किया जाता है, जो संसद के दोनों सदनों एवं राज्यों की विधान सभाओं के निर्वाचित सदस्यों से मिलकर बनता है तथा इस निर्वाचन में आनुपातिक प्रतिनिधित्व की एकल संक्रमणीय मत प्रणाली का प्रयोग किया जाता है। इस पद्धति के अनुसार चुनाव में सफलता प्राप्त करने के लिए प्रत्याशी को निर्वाचन कोटा (Quota) प्राप्त करना आवश्यक होता है। कोटा निम्न सूत्र से ज्ञात किया जाता है ..

निर्वाचन कोटा =दिये गये कुल मतों की संख्या
2

आनुपातिक प्रतिनिधित्व का तात्पर्य यह है कि सभी राज्यों की विधान सभाओं के निर्वाचित सदस्यों के तथा संसद के निर्वाचित सदस्यों के मत आपस में बराबर हों। एकल संक्रमणीय मत का आशय है कि मतदान वरीयता क्रम से किया जाये ताकि मतों का संक्रमण हो सके ।

सम्बंधित प्रश्न :

  1. उपराष्ट्रपति के कार्य एवं शक्तियों का वर्णन कीजिए।
  2. राष्ट्रपति पर महाभियोग लगाने की प्रक्रिया का वर्णन कीजिए।
  3. अनुच्छेद 352 का वर्णन कीजिये तथा इसके प्रावधानों का उल्लेख कीजिये।
  4. राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री के बीच संबंध पर चर्चा करें
  5. क्या भारतीय राष्ट्रपति 'रबर स्टैम्प' है ? पुष्टि कीजिए।
  6. मंत्रिपरिषद में प्रधानमंत्री की विशिष्ट स्थिति पर टिप्पणी कीजिए।
  7. भारत में प्रधानमन्त्री के शक्तियों में वृद्धि के कारणों का उल्लेख कीजिए। 
  8. प्रधानमंत्री वास्तविक कार्यपालक के रूप में टिप्पणी लिखिए।
  9. मंत्रिपरिषद में प्रधानमंत्री की विशिष्ट स्थिति पर टिप्पणी कीजिए।
  10. संसद और उसके सदस्यों के विशेषाधिकारों और उन्मुक्तियों की व्याख्या करें।
  11. राज्यसभा के मुख्य पदाधिकारी कौन कौन होते हैं?
  12. राज्य सभा के गैर संघीय तत्वों पर टिप्पणी कीजिए।
  13. संघीय व्यवस्था के परिप्रेक्ष्य में राज्य सभा की प्रासंगिकता समझाइये।
  14. संसद की समिति पद्धति पर टिप्पणी कीजिए।
  15. धन विधेयक और वित्त विधेयक में क्या अंतर है? स्पष्ट कीजिए।
  16. वित्त विधेयक के सम्बन्ध में लोकसभा के क्या विशेषाधिकार हैं?

Post a Comment

0Comments
Post a Comment (0)

#buttons=(Accept !) #days=(20)

Our website uses cookies to enhance your experience. Learn More
Accept !