Friday, 3 May 2019

मेरी प्रिय खिलाड़ी साइना नेहवाल पर निबंध My Favourite Player Saina Nehwal in Hindi

मेरी प्रिय खिलाड़ी साइना नेहवाल पर निबंध My Favourite Player Saina Nehwal in Hindi

मेरी प्रिय खिलाड़ी साइना नेहवाल है. वह एक बैडमिंटन खिलाड़ी है. वह विश्व की नंबर एक रैंकिंग प्राप्त करने वाले एकमात्र भारतीय महिला खिलाड़ी हैं. साइना नेहवाल का जन्म 17 मार्च 1990 को हरियाणा के हिसार जिले में हुआ था. उनके माता-पिता हरवीर सिंह और उषा नेहवाल भी बैडमिंटन प्लेयर रह चुके हैं. वह हरियाणा के लिए बैडमिंटन खेलते थे. साइना नेहवाल भारत की युवा पीढ़ी के लिए प्रेरणा का स्रोत है भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उन्हें भारत की प्रिय बेटी कह कर संबोधित किया. उन्होंने अपनी आत्मकथा "प्लेइंग टू विन" में लोगों को बैडमिंटन खेलने के लिए प्रेरित किया।

बैडमिन्टन से परिचय : उन्होंने आठ साल की उम्र में बैडमिंटन खेलना शुरू कर दिया। उनका प्रारंभिक प्रशिक्षण नानी प्रसाद द्वारा किया गया। जब उन्होंने अपना करियर शुरू किया, तो उन्हें द्रोणाचार्य पुरस्कार विजेता एसएम आरिफ द्वारा प्रशिक्षित किया गया था। बाद में, उन्हें पुलेला गोपीचंद द्वारा 2014 तक प्रशिक्षित किया गया। वर्तमान में, उन्हें पूर्व बैडमिंटन चैंपियन और राष्ट्रीय कोच, यू विमल कुमार द्वारा प्रशिक्षित किया जा रहा है। साइना नेहवाल इंडियन बैडमिंटन लीग में अपने शहर हैदराबाद का भी प्रतिनिधित्व करती हैं।

शिक्षा : वह स्कूल में एक शांत, अध्ययनशील और शर्मीली छात्रा हुआ करती थी। साइना नेहवाल ने कई स्कूल बदले। उसने कैंपस स्कूल सीसीएस एचएयू, हिसार में लोअर केजी से थर्ड स्टैंडर्ड तक की पढ़ाई की, जहाँ उसके पिता काम करते थे। भारतीय विद्या भवन के विद्याश्रम स्कूल और राष्ट्रीय ग्रामीण विकास संस्थान (NIRD) स्कूल राजेंद्रनगर, हैदराबाद में दसवें से दसवें स्तर पर। उन्होंने हैदराबाद के मेहदीपट्टनम में सेंट एन्स कॉलेज फॉर वीमेन से 12 वीं पास की।

करियर : सन 2006 में साइना नेहवाल ने फिलीपींस ओपन टूर्नामेंट जीता और कई जूनियर टूर्नामेंटों में अच्छा प्रदर्शन किया. वर्ष 2014 में आयोजित बीडब्ल्यूएफ वर्ल्ड जूनियर चैंपियनशिप में वह उपविजेता रही. 2 साल बाद उन्होंने विश्व जूनियर बैडमिंटन चैंपियनशिप जीती और उसी वर्ष आयोजित बीजिंग ओलंपिक में वह क्वार्टर फाइनल में पहुंची.

सन 2009 में साइना नेहवाल ने इंडोनेशिया ओपन जीता और ऐसा करने वाली वह पहली भारतीय बैडमिंटन खिलाड़ी बन गई. अगले वर्ष उन्होंने ऑल इंग्लैंड सुपर सीरीज के सेमीफाइनल में जगह बनाई. और उसी वर्ष उन्होंने सिंगापुर ओपन सुपर सीरीज और इंडोनेशियाई ओपन का खिताब जीता. नई दिल्ली में आयोजित राष्ट्रमंडल खेलों में साइना नेहवाल ने महिला एकल वर्ग में स्वर्ण पदक जीता और सन 2010 के इंडोनेशियाई सुपर सीरीज खिताब को जीतकर उन्होंने वर्ष का समापन किया. लंदन ओलंपिक 2012 में साइना नेहवाल ने महिला एकल वर्ग में कांस्य पदक जीता.

इस प्रकार जीतों का सिलसिला चलता रहा जब उन्होंने ऑस्ट्रेलियाई ओपन में महिला एकल टूर्नामेंट जीता तो वह दुनिया की सातवीं रैंकिंग वाली खिलाडी बन गई 2015 में साइना नेहवाल ने इंडियन ओपन ग्रैंड प्रिक्स गोल्ड और फाइनल में महिला एकल प्रतियोगिता जीती इसी वर्ष उन्होंने इंडियन ओपन बीडब्ल्यूएफ सुपर सीरीज में एकल प्रतियोगिता जीत कर बैडमिंटन वर्ल्ड फेडरेशन रैंकिंग में नंबर 1 रैंकिंग हासिल की इस प्रकार वह दुनिया की सर्वश्रेष्ठ महिला बैडमिंटन खिलाड़ी बन गई। 

पुरस्कार और उपलब्धियां : नेहवाल को 2009 में अर्जुन पुरस्कार से सम्मानित किया गया था और एक साल बाद, भारत सरकार ने उन्हें भारत के चौथे सर्वोच्च नागरिक सम्मान पद्म श्री से भी सम्मानित किया। वर्ष 2009 में, नेहवाल को खेल उत्कृष्टता के लिए भारत के सर्वोच्च पुरस्कार - राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार से सम्मानित किया गया। वर्ष 2016 में, भारत सरकार ने साइना नेहवाल को पद्म भूषण से सम्मानित किया जोकि देश का तीसरा सबसे बड़ा नागरिक सम्मान है। उन्होंने राष्ट्रमंडल खेलों में कुल चार पदक जीते  - एक स्वर्ण और तीन कांस्य।साइना के पास कुल 21 अंतर्राष्ट्रीय खिताब हैं।

उपसंहार : साइना नेहवाल की सफलता ने बैडमिंटन को और अधिक ऊंचाइयों पर पहुंचा दिया है और कई लड़कियों को खेल को पेशेवर रूप से लेने पर विचार करने के लिए प्रेरित किया है। सईना के सफलता हमें यह सिखाती है की क्रिकेट के अलावा और भी खेल है जिनमे सफलता प्राप्त की जा सकती है।
Related Articles :
मेरे प्रिय खिलाडी महेंद्र सिंह धोनी पर निबंध
मेरा प्रिय खिलाड़ी विराट कोहली निबंध
मेरे प्रिय खिलाड़ी लियोनेल मेसी पर निबंध
मेरा प्रिय खिलाड़ी क्रिस्टियानो रोनाल्डो पर निबंध

SHARE THIS

Author:

I am writing to express my concern over the Hindi Language. I have iven my views and thoughts about Hindi Language. Hindivyakran.com contains a large number of hindi litracy articles.

0 comments: