Sunday, 5 May 2019

मेरा प्रिय खिलाड़ी क्रिस्टियानो रोनाल्डो पर निबंध। My Favourite Player Cristiano Ronaldo in Hindi

मेरा प्रिय खिलाड़ी क्रिस्टियानो रोनाल्डो पर निबंध। My Favourite Player Cristiano Ronaldo in Hindi

क्रिस्टियानो रोनाल्डो मेरे पसंदीदा फुटबॉलर हैं, मैं उन्हें बहुत पसंद करता हूं। दुनिया भर में उनके लाखों प्रशंसक हैं। उन्हीं के कारण मैंने फुटबॉल खेलना शुरू किया। क्रिस्टीयानो रोनाल्डो को क्रिस, रॉन, रॉनी,  द सुल्तान ऑफ स्टीपोवर और  CR7 जैसे उपनामों से भी जाना जाता है। वह पुर्तगाल के निवासी हैं। वह 2009 से रियल मेड्रिड क्लब के लिए कप्तान के रूप में खेलते हैं। वह एक बेहतरीन खिलाड़ी हैं। 

क्रिस्टीयानो रोनाल्डो का जन्म 5 फरवरी 1985 को हुआ। वह अपने माता-पिता की चौथी संतान हैं। क्रिस्टीयानो रोनाल्डो का एक बड़ा भाई ह्यूगो और दो बड़ी बहने एलमा और लिलियाना सेतिया हैं। उनका नाम पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति रोनाल्ड रीगन के नाम पर रखा गया क्योंकि उनके पिता रोनाल्ड रीगन को बहुत पसंद करते थे।

My Favourite Player Cristiano Ronaldo in Hindi
क्रिस्टीयानो रोनाल्डो रोनाल्डो मेरे प्रिय खिलाड़ी हैं क्योंकि वह गरीब बच्चों की मदद करते हैं। वह उन बच्चों के लिए प्रेरणा है जो बड़े होकर उनके जैसा बनना चाहते हैं। वह ना केवल ऐसे गरीब बच्चों से मिलते हैं बल्कि उन्हें उचित संसाधन भी मुहैया कराते हैं जिससे वह अपने सपने पूरे कर सकें। जब दक्षिण पूर्वी एशिया में सुनामी आई तो क्रिस्टियानो रोनाल्डो तुरंत ही इंडोनेशिया आए। जिससे वह जरूरतमंद लोगों की मदद कर सके। उन्होंने अपने कुछ निजी कीमती सामानों की नीलामी करवाई, जिससे वह जरूरतमंद लोगों के लिए धन जुटा सके और उनकी मदद कर सकें। क्योंकि उनका मानना है की एक अंतरराष्ट्रीय हस्ती होने के नाते यह उनकी जिम्मेदारी है कि वह जरूरतमंदों की मदद करें।

अंतरराष्ट्रीय स्तर पर उन्होंने पुर्तगाल की फुटबॉल टीम का प्रतिनिधित्व किया। उनके अंतरराष्ट्रीय करियर में मोड़ तब आया जब उन्होंने फ्रांस को उसके ही घर में हराकर यूरो 2016 का खिताब जीता। इसमें उन्हें एक अंतरराष्ट्रीय फुटबॉल लेजेंड के रूप में स्थापित किया।

बचपन से ही रोनाल्डो का फुटबॉल के प्रति विशेष लगाव था। उन्हें एक पेशेवर फुटबॉलर के रूप में खेलने का मौका तब मिला जब पुर्तगाली क्लब स्पॉटिंग सीपी के लिए उन्हें शामिल किया गया। स्पोर्टिंग सीपी क्लब में खेलने के दौरान उन्हें "रेसिंग हार्ट" नामक एक ह्रदय रक्तचाप संबंधी बीमारी का पता चला। यह बीमारी उनके फुटबॉल करियर और सपनों को चकनाचूर कर सकती थी। एक सामान्य व्यक्ति इस खबर को सुनकर टूट जाता लेकिन क्रिस्टीयानो ने अपने दृढ़ संकल्प से इस बीमारी का सामना किया। उन्होंने क्लब की मदद से एक सर्जरी करवाई। यह उनके करियर की पहेली बाधा थी और तब से उन्होंने विभिन्न चुनौतियों का सामना किया और अपने दृढ़ संकल्प कड़ी मेहनत और आत्मविश्वास से सफलता अर्जित की। इसीलिए रोनाल्डो मेरे प्रिय फुटबॉल खिलाड़ी हैं। 

अपने खाली समय के दौरान क्रिस्टीयानो रोनाल्डो को कुकिंग करना पसंद है। उन्होंने एक साक्षात्कार में बताया कि वह आमतौर पर फुटबॉल अभ्यास के लिए जाने से पहले कुकिंग करते हैं। उनकी व्यस्त जीवनशैली के चलते उन्हें टेलीविजन देखने का समय आमतौर पर नहीं मिलता है। परंतु जब कभी भी वह टेलीविजन देखते हैं तो वह ऐसे कार्यक्रम देखना पसंद करते हैं जो सामान्य ज्ञान के बारे में हो। इस प्रकार पता चलता है कि क्रिस्टीयानो रोनाल्डो एक ऐसे व्यक्ति हैं जिन्हें रोजाना नई चीजें सीखना पसंद है। 

जब वह मैदान पर होते हैं तो स्वयं तो अच्छा खेलते ही हैं साथ ही अपने साथी खिलाड़ियों को भी अच्छा खेलने के लिए प्रेरित करते हैं। समय-समय पर वह उन्हें खेल से संबंधित ऐसी बातें बताते हैं जिससे उनके खेल में सुधार हो सके। वह एक सच्चे फुटबॉलर हैं। वह बहुत ही अनुशासित जीवन शैली जीते हैं। वह अपने आहार व्यायाम और दिनचर्या के प्रति बहुत ही सचेत हैं। वह अपने शरीर को चुस्त-दुरुस्त रखना पसंद करते हैं। उनकी जो बातें मुझे पसंद हैं, वह हैं:-दबाव में खेलने की क्षमता, अनुशासन, नैतिकता लगन और आत्मविश्वास। कभी-कभी उनके आत्मविश्वास के कारण उन्हें अहंकारी भी माना जाता है, परंतु यह सच नहीं है। 

दुनिया भर के फुटबॉल प्रशंसक और पूर्व फुटबॉल खिलाड़ी उन्हें सर्वकालिक महान फुटबॉलर मानते हैं। क्लब स्तर पर उन्होंने मैनचेस्टर यूनाइटेड और रियल मेड्रिड जैसे प्रसिद्ध क्लबों के लिए खेला। इन दोनों ही क्लबों में उन्होंने बेहतरीन प्रदर्शन किया और बहुत सी ट्रॉफी, डोमेस्टिक कप, चैंपियन लीग और  शीर्ष स्कोरर पुरस्कार इत्यादि जीते। 


SHARE THIS

Author:

I am writing to express my concern over the Hindi Language. I have iven my views and thoughts about Hindi Language. Hindivyakran.com contains a large number of hindi litracy articles.

0 comments: