ईमान बेचना मुहावरे का अर्थ और वाक्य प्रयोग

Admin
0

ईमान बेचना मुहावरे का अर्थ और वाक्य प्रयोग (Iman bechna Muhavare ka arth)

ईमान बेचना मुहावरे का अर्थ और वाक्य प्रयोग (Iman bechna Muhavare ka arth)

ईमान बेचना मुहावरे का अर्थ धोखा करना, बेईमानी करना, विश्वासघात करना।

Iman bechna Muhavare ka arthDhokha dena ,Beimani Karna, Vishwasghaat Karna

वाक्य प्रयोग: नेता बनने के लिए सबसे पहले अपना ईमान बेचना पड़ता है, राजनीति करना ईमानदार लोगों के बस की बात नहीं। 

वाक्य प्रयोग: रमेश चाचा के सगे भाई ने संपत्ति के लालच में अपना ईमान बेच दिया और जाली हस्ताक्षर करके उनकी सारी संपत्ति हड़प ली। 

वाक्य प्रयोग: कुछ लोग चंद रुपयों के प्रलोभन में आकर अपना ईमान बेच देते है। चंद रुपयों के लिए ईमान बेचकर पैसा कमाना एक स्वस्थ मानसिकता की पहचान यकीनन नहीं।

वाक्य प्रयोग: कई बार लोग जल्दी सफल होने की अपना ईमान बेच देते हैं और गलत तरीके अपनाते हैं। वे भूल जाते हैं कि ईमान बेचकर उन्हें सफलता तो मिल जाएगी परन्तु समाज में उनका सम्मान नहीं होगा। 

यहां हमने “ईमान बेचना” जैसे प्रसिद्ध मुहावरे का अर्थ और उसका वाक्य प्रयोग समझाया है। ईमान बेचना मुहावरे का अर्थ होता है- "धोखा देना, बेईमानी करना, विश्वासघात करना।" जब कोई व्यक्ति किसी पर पूरा विश्वास करता है और दूसरा व्यक्ति बेईमानी कर देता है तो इस परिस्थिति में कहा जायेगा कि उस व्यक्ति में अपना ईमान बेच दिया। इस प्रकार जब कोई व्यक्ति अपना ईमान बेचता है तो ऐसा करके वह धोखा देकर या बेईमानी करके अनुचित लाभ कमाता है। 

Tags

Post a Comment

0Comments
Post a Comment (0)

#buttons=(Accept !) #days=(20)

Our website uses cookies to enhance your experience. Learn More
Accept !