Saturday, 2 July 2022

यात्री और टिकट बाबू के बीच संवाद लेखन - Conversation between Ticket Collector and Passenger in Hindi

यात्री और टिकट बाबू के बीच संवाद लेखन : In This article, We are providing यात्री और टिकट चेकर के बीच संवाद लेखन and Conversation between Ticket Collector and Passenger in Hindi for Students and teachers.

    यात्री और टिकट बाबू के बीच संवाद लेखन

    टिकट चेकर : कृपया मुझे अपना टिकट दिखाओ!

    यात्री : मेरा टिकट गुम हो गया है।

    टिकट चेकर : यह बहाना मैंने पहले भी सुना है।

    यात्री : सॉरी लेकिन मेरे पास कोई टिकट नहीं है।

    टिकट चेकर : टिकट नहीं होने की वजह से आपको जुर्माना भरना होगा।

    यात्री : कितना जुर्माना है?

    टिकट चेकर : 500 रुपये।

    यात्री : यहां तक कि टिकट की कीमत भी 250 रुपये है। आप मुझसे 500 रुपये कैसे चार्ज कर सकते हैं?

    टिकट चेकर : अच्छा ठीक है, मुझे 300 रुपये दो और मामला रफा-दफा करो

    यात्री : भ्रष्टाचार करता हो? तुम सीधे से मेरी टिकट बनाओ। और अगर जुर्माना लगाना है तो उसकी रसीद दो।

    टिकट चेकर : ठीक है मैं आपकी टिकट बना देता हूं।

    यात्री और टिकट चेकर के बीच संवाद लेखन

    टिकट चेकर : अपनी टिकट दिखाइए। 

    यात्री : ये रही मेरी टिकट। 

    टिकट चेकर : पर ये टिकट तो जनरल डिब्बे की है और तुम स्लीपर डिब्बे में बैठे हो। 

    यात्री : वो क्या है की ट्रेन छूटने वाली थे इसलिए जल्दी-जल्दी में कुछ समझ नहीं आया। जो डिब्बा मिला बस उसी में चढ़ गए। 

    टिकट चेकर : पर बेटा ये कानूनन अपराध है। 

    यात्री : माफ़ कीजियेगा सर, दरअसल मेरी कल परीक्षा है और और मैं उसे मिस नहीं कर सकता था। 

    टिकट चेकर : चलो ठीक है। जैसे ही अगला स्टेशन आये तो उतारकर जनरल डिब्बे में चले जाना। 

    यात्री : जी धन्यवाद सर, आपने मेरी समस्या को समझा। 

    टिकट चेकर : बेटा हमने भी बहुत सरकारी परीक्षा दी हैं। ऐसे ही रेलवे में भर्ती नहीं हो गए। 

    यात्री : क्या आप मेरी स्लीपर की टिकट नहीं बना सकते ?

    टिकट चेकर : बना तो सकता हूँ पर सारी सीटें फुल  हैं ऐसे ही बैठकर जाना पड़ेगा। 

    यात्री : आप बस बना दीजिये कम से कम जनरल में धक्के खाने से तो बच जायेंगे। 

    टिकट चेकर : ठीक हैं 125 रुपये दो और ये रही तुम्हारी टिकट। 

    यात्री : ये लीजिये आपके पैसे। और टिकट बनाने के लिए धन्यवाद सर। 

    Conversation between Ticket Collector and Passenger in Hindi

    टिकट बाबू : चलिए, सभी यात्री अपना अपना टिकीट निकालकर रखिए।

    यात्री : टिकट बाबू, यह रहा मेरा टिकट।

    टिकट बाबू : आपका टिकट तो सिर्फ ठाणे स्टेशन तक का है। अब तो घाटकोपर स्टेशन आ गया है।

    यात्री : क्या? अरे मुझे तो ठाणे स्टेशन उतरना था।

    टिकट बाबू : ठाणे स्टेशन तो कब का चला गया।

    यात्री : अब मैं क्या करूँ?

    टिकट बाबू : जब ठाणे स्टेशन आया, तब आप क्या कर रहे थे?

    यात्री- मेरी तबियत कुछ खास ठीक नही है। इसलिए, मैं आराम कर रहा था। पता नही, कब आंँख लग गई!

    टिकट बाबू : ट्रेन में सफर करते वक्त आपको हमेशा सतर्क रहना चाहिए।

    यात्री : मैं क्षमा चाहता हूँ। अब अगली बार से मुझसे ऐसी गलती नही होगी।

    टिकट बाबू : अगली बार से ऐसी गलती नही दौराना, वरना आपको फाइन भरना पड़ेगा। अब, आप कुर्ला स्टेशन पर उतर जाना।

    यात्री : ठीक है। धन्यवाद।


    सम्बंधित संवाद लेखन 

    1. मोबाइल के दुरुपयोग पर दो मित्रों के बीच संवाद लेखन
    2. पिता और पुत्र के बीच पिकनिक पर संवाद लेखन
    3. पिता और पुत्र के बीच दहेज पर संवाद लेखन
    4. पिता और पुत्र के बीच मोबाइल को लेकर संवाद लेखन
    5. दो मित्रों के बीच पिकनिक को लेकर संवाद लेखन
    6. मोबाइल और चार्जर के बीच संवाद लेखन
    7. दो मित्रों के बीच फिल्म पर संवाद लेखन
    8. रक्षाबंधन पर भाई बहन के बीच संवाद लेखन
    9. कंप्यूटर और मोबाइल के बीच संवाद लेखन
    10. कछुआ और हंस के बीच संवाद लेखन
    11. दो मित्रों के बीच पढ़ाई पर संवाद लेखन
    12. रेलवे टिकट विक्रेता और यात्री के बीच संवाद लेखन
    13. रेलवे पूछताछ अधिकारी और यात्री के बीच संवाद लेखन
    14. ऑनलाइन पढ़ाई पर दो मित्रों के बीच संवाद लेखन
    15. दो मित्रों के बीच कोरोना वायरस पर संवाद लेखन
    16. मालिक और नौकर के बीच संवाद लेखन
    17. दो मित्रों के बीच प्रदूषण पर संवाद लेखन


    SHARE THIS

    Author:

    I am writing to express my concern over the Hindi Language. I have iven my views and thoughts about Hindi Language. Hindivyakran.com contains a large number of hindi litracy articles.

    0 Comments: