चुनाव सुधारों में बाधाओं पर टिप्पणी कीजिए।

Admin
0

चुनाव सुधारों में बाधाओं पर टिप्पणी कीजिए।

चुनाव सुधारों में आने वाली बाधाएँ

2 मई 2002 के सर्वोच्च न्यायालय के आदेश के अनुपालन में निर्वाचन आयोग द्वारा जारी 20 जून के निर्देश को लगभग सभी राजनीतिक दलों ने यह कहकर खारिज कर दिया कि कानून बनाने का अधिकार संसद को है, किन्तु यह बात भी किसी से छपी नहीं है कि पिछले 50 वर्षों में राजनीतिक भ्रष्टाचार और अपराधीकरण रोकने में संसद विफल रही है।

चुनावी राजनीति में धन तथा बाहुबल के बढ़ते प्रभाव को रोकने की माँग काफी समय से उठाई जा रही है, किन्तु इस दिशा में कोई ठोस कार्यवाही करने से सरकारें बचती रही हैं। कई बार अपराधी छवि तथा अपराधी प्रकृति वाले लोग राष्ट्रीय तथा क्षेत्रीय राजनीतिक दलों के प्रत्याशी के रूप में चुनाव जीतकर संसद तथा विधानमण्डलों तक पहुँचते हैं वर्तमान में भी इनकी संख्या कुछ कम नहीं है। जब राजनीतिक दल ही ऐसा करेंगे तो इन्हें रोकेगा कौन ? यद्यपि न्यायालय तथा निर्वाचन आयोग द्वारा यदि कोई प्रयास इस तरह का किया जाता है तो संसद में वैसे इन्हीं राजनीतिक दलों के सांसद इस तरह के प्रयासों को बहुमत से अस्वीकार कर देते हैं। इससे राजनीतिक दलों के दोहरे मापदण्ड ही उजागर होते हैं। यही कारण था कि दिनेश गोस्वामी तथा इन्द्र जीत गुप्त की अध्यक्षता वाली समितियों की सिफारिशें लागू नहीं हो सकी थीं।

सम्बंधित लेख:

  1. मुख्य निर्वाचन आयुक्त पर संक्षिप्त टिप्पणी लिखिए।
  2. चुनाव सुधार पर संक्षिप्त टिप्पणी लिखिये।
  3. मतदान व्यवहार को प्रभावित करने वाले तत्व बताइये।
  4. निर्वाचन विषयक आधारभूत सिद्धान्तों की व्याख्या कीजिए।
  5. क्या निर्वाचन आयोग एक निष्पक्ष एवं स्वतन्त्र संस्था है?
  6. जनप्रतिनिधित्व अधिनियम, 1996 के अंतर्गत चुनाव सुधार के प्रावधानों का वर्णन कीजिए।

Post a Comment

0Comments
Post a Comment (0)

#buttons=(Accept !) #days=(20)

Our website uses cookies to enhance your experience. Learn More
Accept !