Friday, 26 April 2019

जूलियस सीजर का जीवन परिचय। Julius Caesar Biography in Hindi

जूलियस सीजर का जीवन परिचय। Julius Caesar Biography in Hindi

नाम : जूलियस सीजर
जन्‍म : 100 ईसा पूर्व
जन्म स्थान : रोम, इटली 
मृत्‍यु : 44 ईसा पूर्व

जूलियस सीजर का जन्‍म 12 जुलाई, 100 ईसा पूर्व में गैइयस सीजर और ओरेलिया के घर हुआ। जूलियस सीज़र, एक रोमन राजनेता, सैन्य जनरल और इतिहासकार थे, जिन्होंने रोमन गणराज्य के पतन और रोमन साम्राज्य के उदय के लिए महत्वपूर्ण घटनाओं में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। सीजर ने एक युवा अधिकारी के रूप में एशिया माइनर और वित्‍त अधिकारी के रूप में स्‍पेन में अपनी सेवाएं दीं।

पत्नी और बच्चे :
  • 84 ईसा पूर्व में, जूलियस सीज़र ने एक रईस की बेटी, कॉर्नेलिया से शादी की। उनकी जूलिया सीजरिस (76 ई.पू) नाम की एक बेटी थी। 69 ईसा पूर्व में कार्नेलिया की मृत्यु हो गई।
  • 67 ईसा पूर्व में, सीज़र ने रोमन तानाशाह सुल्ला की पोती पोम्पेया से शादी की। उनकी शादी कुछ साल तक चली। 62 ईसा पूर्व में, इस जोड़े का तलाक हो गया।
  • 59 ईसा पूर्व में, सीज़र ने कैलिपोर्निया नाम की एक किशोरी से विवाह किया, जिसके साथ वह जीवन भर विवाहित रहे। उनके पास कई मिस्ट्रेस भी थीं जिनमें क्लियोपेट्रा VII, मिस्र की रानी, जिनके साथ उनका एक बेटा था, जिसका नाम था सिजेरियन।

Julius Caesar Biography in Hindi
राजनितिक जीवन : सीजर को पहली राजनीतिक सफलता 63 ईसा पूर्व में मिली, जब उन्‍हें पोन्‍टीफेक्‍स मैक्‍सिमस चुना गया, यानी रोम का मुख्‍य धार्मिक अधिकारी, जो महत्‍वपूर्ण राजनीतिक जिम्‍मेदारियां भी उठाता है। इसके बाद सीजर को 62 ईसा पूर्व के लिये प्रिडेटर चुना गया। सीजर ने जल्‍दी ही अपनी शक्‍ति उपयोग पश्‍चिमी यूरोप के एक रोमन प्रदेश लुसितानिया के कुछ स्‍थानीय कबीलों के विरुद्ध अभियान चलाने में किया। इसी दौरान उनके राजनीतिक प्रतिद्वंद्वियों ने उन पर उकसाने या युद्ध प्रारंभ करने का अरोप लगाया।

59 ईसा पूर्व सीजर ने चुनाव जीता और राजदूत बन गये। सीनेट ने जल्‍दी ही उनकी सैन्‍य और राजनीतिक शक्‍ति प्राप्‍त करने की इच्‍छा को खत्‍म कर दिया। उन्‍होंने पाया कि सीनेट में अपने विरोधियों से निबटने के लिये उन्‍हें गठबंधन करने होंगे।

सीजर ने जल्‍द ही गठबंधन बनाया रोमन जनरल पाम्‍पे तथा क्रासस के साथ जिससे उन्हें एक कुशल सेना मिली तथा राजनितिक सम्बन्ध बनाने में मदद मिली। इस गठबंधन पर 58 ईसा पूर्व में एक बार और मोहर लग गई, जब सीजर ने अपनी इकलौती बेटी जूलिया का विवाह पाम्‍पे से कर दिया।

सीजर को गुल का राज्‍यपाल बनाया बया, यह एक रोमन प्रांत था, जबकि गुल में रोमन नियंत्रण सीमित था। सीजर ने रोमन नियंत्रण बढ़ाने की योजना बनाई। उसने ब्रिटेन के विरुद्ध 55 ईसा पूर्व और 54 ईसा पूर्व गुल ने वरसिंगेटोरिक्‍स के नेतृत्‍व में बड़े पैामाने पर सीजर के विरुद्ध कर दिया। इस विद्रोह ने सीजर के शक्‍ति आधार के लिये खतरा बढ़ा दिया।

रोमन अधिकारी क्‍लोडियस की हत्‍या हो गई थी और उसकी हत्‍या से रोम में खलबली मच गई। सीजर एल्‍पस को पार कर रोम पहुंचे। पाम्‍पे, रोम में ही रह रहा था। एक नेता के रूप में पोम्पे ने अपनी राजनीतिक स्‍थिति को दृढ़ कर लिया था । गठबंधन में एक और तनाव जूलिया की मृत्‍यु से आया, जिससे दो लोगों के बीच गठबंधन टूटने लगा। 53 ईसा पूर्व क्रासस की मृत्‍यु ने पाम्‍पे और सीजर के बीच के संबंधों को और कमजोर कर दिया।

जब सीजर रोम पहुंचे, सीनेट ने उन पर मुकदमा चलाने का निर्णय लिया। सीजर के पास अब एक ही विकल्‍प था कि गृहयुद्ध शुरू कर दें। सीजर ने युद्ध को चुना।

प्रारंभ में लग रहा था की पाम्‍पे और सीनेट के पास अत्‍यधिक शक्‍ति है। हालांकि सीजर के पास एक मजबूत, अनुभवी और वफादार सेना थी और उन्‍हें इटली का भी समर्थन प्राप्‍त था। इसके अलावा सीजर अपने स्‍वयं के हितों के लिये लड़ रहे थे। पाम्‍पे इटली छोड़कर भाग गया। सीजरने अपनी स्‍थिति सुदृढ़ की और पाम्‍पे को हरा दिया। पाम्‍पे मिस्‍त्र भाग गया और जहाँ टॉलेमी तृतीय की आदेश पर उसकी हत्या कर दी गई। 

क्लियोपैट्रा से मुलाक़ात : जब सीज़र मिस्र पहुंचे तो वहां उनकी मुलाक़ात हुई क्लियोपैट्रा से। क्लियोपैट्रा ने सीज़र की विशाल सेना की सहायता से अपने भाई टॉलमी तृतीय को युद्ध में पराजित किया और मिस्र की महारानी बन गई। क्‍लियोपेट्रा और सीज़र के बीच प्रेम संबंध थे। उन दोनों का एक पुत्र भी था जिसका नाम था सिजेरियन। हालाँकि सीज़र ने उसे कभी अपना पुत्र नहीं माना। 

हत्या : उन्‍होंने अपनी रोमन तानाशाह की स्‍थिति प्राप्‍त कर ली। रोम के कुछ लोगों को लगा कि सीज़र बहुत शक्तिशाली है। वे चिंतित थे कि उनका शासन रोमन गणराज्य को समाप्त कर देगा। उन्होंने उसे मारने की साजिश रची। साजिश के नेता कैसियस और ब्रूटस थे। 15 मार्च को 44 ई.पू. सीजर ने सीनेट में प्रवेश किया। कई लोग उनके पास दौड़े और उन पर हमला करने लगे और उसे मार डाला। उसे 23 बार चाकू मारा गया।
Related : क्लियोपैट्रा का जीवन परिचय।

SHARE THIS

Author:

I am writing to express my concern over the Hindi Language. I have iven my views and thoughts about Hindi Language. Hindivyakran.com contains a large number of hindi litracy articles.

0 comments: