Tuesday, 23 April 2019

क्लियोपैट्रा का जीवन परिचय। Cleopatra Biography in Hindi

क्लियोपैट्रा का जीवन परिचय। Cleopatra Biography in Hindi

क्लियोपैट्रा प्राचीन मिस्र की रानी और अंतिम फिरौन थी। क्लियोपैट्रा ग्रीक भाषी टॉलमी राजवंश की सदस्य थी जिसने 300 ईसा पूर्व से 30 ईसा पूर्व तक मिस्र पर शासन किया। अपने भाई द्वारा सत्ता हड़प लिए जाने पर क्लियोपैट्रा ने जूलियस सीजर के साथ मिलकर सिंहासन को पुनः हासिल किया। सीजर की हत्या के बाद वह मार्क एंथोनी की प्रेमिका बन गई। लेकिन जब मार्क एंथोनी रोमन गृह युद्ध में ऑक्टेवियन सेनाओं द्वारा पराजित हो गया तब एंथोनी और क्लियोपैट्रा ने ऑक्टेवियस के हाथों में पढ़ने की बजाय आत्महत्या कर ली। और क्लियोपैट्रा की मौत के साथ ही इजिप्ट यानी मिश्र से टॉलमी राजवंश का अंत हो गया।

Cleopatra Biography in Hindi
क्लियोपैट्रा का जन्म लगभग 69 ईसा पूर्व हुआ था। उसके पिता टॉलमी द्वितीय की मृत्यु तभी हो गई थी जब क्लियोपैट्रा केवल 18 वर्ष की थी। जैसा कि उस समय का रिवाज था, क्लियोपेट्रा ने अपने भाई टॉलमी तृतीय से शादी की, और  उन्होंने मिस्र पर एक साथ शासन किया। हालांकि,  टॉलमी ने जल्द ही क्लियोपेट्रा को निर्वासित कर दिया था, जिससे वह साम्राज्य का एकमात्र शासक बन सके।

48 ईसा पूर्व में, रोमन साम्राज्य जूलियस सीज़र और पोम्पी के बीच एक गृह युद्ध में उलझा हुआ था। जब पोम्पी मिस्र की राजधानी अलेक्जेंड्रिया भाग गया, तो टॉलमी के आदेश पर उसकी हत्या कर दी गई। जब सीजर मिस्र आया तो टॉलमी ने पोम्पी का कटा हुआ सिर सीजर को उपहार में दिया लेकिन ऐसा माना जाता है कि उसके इस कृत्य से प्रसन्न होने की बजाय सीजर को गुस्सा आया और उसने आदेश दिया की पोम्पी के शरीर को रोमन सम्मान के साथ दफनाया जाए। क्लियोपैट्रा ने इस मौके का फायदा उठाया और सीजर को अपने प्रेम जाल में फंसा लिया। 

क्लियोपैट्रा ने जुलियस सीजर की सेना के सहयोग से अपने भाई टॉलमी द्वितीय को सिंहासन से हटा दिया और मार डाला। इस प्रकार की क्लियोपैट्रा दोबारा मिस्र की रानी बन गई। 47 ईसा पूर्व में क्लियोपैट्रा ने एक बच्चे को जन्म दिया जिसका नाम था "सिजेरियन" जिसका अर्थ होता है सीजर जैसा। हालांकि सीजर ने कभी भी इसे अपना पुत्र नहीं माना।

44BC में, जूलियस सीज़र की हत्या कर दी गई और इसने मार्क एंथोनी और सीज़र के दत्तक पुत्र ऑक्टेवियन के बीच सत्ता के संघर्ष को जन्म दिया।

ऑक्टेवियन की बहन (ऑक्टेविया) से विवाहित होने के बावजूद, मार्क एंथोनी का क्लियोपेट्रा के साथ प्रेम संबंध था। इसे एक पारिवारिक अपमान के रूप में भी देखा गया। मार्क एंथोनी और ऑक्टेवियन के बीच की दुश्मनी गृहयुद्ध में बढ़ गई और 31BC में, क्लियोपेट्रा ने अपनी मिस्र की सेना को मार्क एंथोनी की रोमन सेना के साथ मिला लिया और ग्रीस के पश्चिमी तट पर ऑक्टेवियन की सेना का मुकाबला किया।

क्लियोपेट्रा और मार्क एंथोनी बुरी तरह से युद्ध में पराजित हुए और मिस्र वापस भाग गए। हालाँकि, ऑक्टेवियन की सेना ने इस जोड़े का पीछा किया और 30BC में अलेक्जेंड्रिया पर कब्जा कर लिया। भागने का कोई मौका नहीं होने पर, मार्क एंथोनी और क्लियोपेट्रा दोनों ने 12 अगस्त 30BC को आत्महत्या कर अपनी जान ले ली। 

ऑक्टेवियन ने बाद में क्लियोपेट्रा के बेटे सिजेरियन का गला घोंटकर क्लियोपेट्रा राजवंश को समाप्त कर दिया। मिस्र रोमन साम्राज्य का एक प्रांत बन गया, और क्लियोपेट्रा मिस्र की फिरौन शासिका अंतिम साबित हुई।
Related : जूलियस सीजर का जीवन परिचय।

SHARE THIS

Author:

I am writing to express my concern over the Hindi Language. I have iven my views and thoughts about Hindi Language. Hindivyakran.com contains a large number of hindi litracy articles.

0 comments: