Monday, 6 June 2022

मेरा परिचय पर निबंध - Mera Parichay par Nibandh for Students

मेरा परिचय पर निबंध - Mera Parichay par Nibandh for Students

    मेरा परिचय हिंदी में Class 1, 2, 3

    “मेरा नाम अमित रॉय है। मैं 8 साल का लड़का हूँ। मैं अपने माता-पिता, भाई और दादा-दादी के साथ बैंगलोर में रहता हूं। मैं अपने परिवार से बहुत प्यार करता हूं। मेरा जन्म 4 अप्रैल 20xx को हुआ था। मैं सेंट जोसेफ कॉन्वेंट स्कूल में तीसरी कक्षा में पढ़ता हूं। मेरा एक बड़ा भाई है जो मुझसे 5 साल बड़ा है। हम एक ही स्कूल में पढ़ते हैं लेकिन अलग-अलग कक्षाओं में। मैं हर साल अपनी गर्मी की छुट्टियों में अपने परिवार के साथ छुट्टी मनाने जाता हूं। मुझे कहानी की किताबें पढ़ना, डांस करना और कुकिंग करना पसंद है। मैं कभी-कभी रसोई में अपनी मां की मदद करता हूं।

    मुझे हर रोज स्कूल जाना पसंद है और मैं अपने सभी शिक्षकों का सम्मान करता हूं। मैं हमेशा स्कूल जाने और अपनी पढ़ाई को लेकर समय का पाबंद रहता हूं। मुझे ब्रेक टाइम में अपने दोस्तों के साथ खेलना अच्छा लगता है। मेरी सबसे अच्छी दोस्त का नाम पूजा है। हम स्कूल के बाद रोजाना क्रिकेट खेलते हैं। मैं अपने स्कूल में सभी पाठ्येतर गतिविधियों और खेल आयोजनों में भाग लेता हूं और अच्छा प्रदर्शन करने की पूरी कोशिश करता हूं। मेरे स्कूल में एक बहुत बड़ा खेल का मैदान है जहाँ मैं अपने दोस्तों के साथ कई खेल खेलता हूँ। मेरा स्कूल अपने सभी छात्रों को एक स्वस्थ और शांतिपूर्ण वातावरण प्रदान करता है।"

    मेरा परिचय हिंदी में Class 4, 5, 6

    मेरा नाम गुड्डू है। मैं बगीचों के शहर, बेंगलुरु से हूं। मैं दिल्ली पब्लिक स्कूल में कक्षा 5 में पढ़ता हूं। मेरी माँ एक प्रोफेसर हैं और मेरे पिता एक व्यवसायी हैं। मेरी एक बड़ी बहन है और वह भी इसी स्कूल में पढ़ती है। हम एक साथ बिद्यालय जाते हैं। हमारे पड़ोस में बहुत सारे दोस्त हैं।

    मेरे माता-पिता हमें हर रविवार को बाहर ले जाते हैं। मुझे अपने दोस्तों के साथ बैडमिंटन और शतरंज खेलना पसंद है। मैं विभिन्न खेल और साहित्यिक प्रतियोगिताओं में भाग लेता हूं। मैं पढ़ाई में अच्छा हूं और अक्सर अपनी परीक्षाओं में अच्छा रैंक करता हूं।

    मुझे पालतू जानवर बहुत पसंद हैं। हमारे पास घर में एक बिल्ली है। उसका नाम लिली है। वह हमारे परिवार की एक प्यारी सदस्य है। जैसे ही मैं स्कूल से घर आता हूँ वो मेरे साथ खेलने लगती है।

    मेरे माता-पिता हमेशा मुझसे कहते हैं कि मुझे केवल पढ़ने के बजाय कुछ रुचि विकसित करनी चाहिए। इसलिए मैं शास्त्रीय भारतीय नृत्य सीख रहा हूं और मुझे नृत्य करने में मजा आता है। मैं अपने विद्यालय में एक वृक्षारोपण समूह का हिस्सा हूं। इस समूह में हम न केवल पौधे लगाते हैं बल्कि दूसरों को वृक्षारोपण के लाभ भी बताते हैं।

    मुझे मिठाइयाँ बहुत पसंद हैं और मैं मिठाइयाँ बनाने में अपनी माँ की मदद करता हूँ। हम घर पर बहुत सारे त्योहार मनाते हैं, जैसे गणेश चतुर्थी, दीपावली और होली आदि। हम दशहरा उत्सव के दौरान मैसूर में रहने वाले अपने दादा-दादी से मिलने भी जाते हैं। मैसूर में इस त्योहार को धूमधाम से मनाया जाता है।

    मेरा परिचय हिंदी में Class 7, 8, 9

    मेरा नाम सुनील है। मैं 14 साल का लड़का हूँ और 9 वीं कक्षा में पढ़ता हूँ। मैं गाज़ियाबाद के दिल्ली पब्लिक स्कूल में पढ़ता हूँ। हमारे घर में कुल 4 सदस्य हैं जिसमें मैं मेरे पिताजी माताजी और मेरा एक बड़ा भाई है. मैं अपने माता-पिता की दूसरी संतान हूं और एक बड़ा भाई है। मेरी मां एक गृहिणी है। वह घर पर काम करती है। मेरे पिता एक कंपनी में सुपरवाइजर हैं। मेरे माता-पिता बहुत दयालु हैं। मेरे दादा-दादी हमारे पैतृक गांव में ही रहते है.

    मैं प्रातः सूर्योदय से पहले करीब 5:00 बजे उठ जाता हूं फिर मैं अपने नित्य क्रियाओं से निवृत्त होकर कॉलोनी के पास बनी पार्क में घूमने के लिए चला जाता हूं. वहां पर अन्य लोग भी कई प्रकार की क्रियाएं करते रहते हैं जैसे कुछ लोग योगा और एक्सरसाइज तो कुछ युवा लोग आर्मी की तैयारी के लिए तेज दौड़ लगाते है.

    पार्क में कुछ बुजुर्ग लोग भी आते है जिनको मैं रोज प्रणाम करता हूं और वे भी मुझे बहुत ही स्नेह प्रदान करते है उनसे बहुत कुछ अच्छी बातें सीखने को मिलती है. इसके पश्चात मैं घर चला जाता हूं और नहाकर स्कूल जाने के लिए तैयार हो जाता हूं मेरी माता जी मेरे लिए सुबह का नाश्ता तैयार कर देती है पिताजी और मैं साथ में नाश्ता करते हैं क्योंकि पिताजी को भी कार्यालय में जाना होता है.

    कुछ समय बाद स्कूल बस मुझे लेने आती है और मैं उसने बैठकर चला जाता हूं. विद्यालय पहुंचने पर में सबसे पहले ही पहले के मंदिर जाकर मां सरस्वती को प्रणाम करता हूं फिर स्कूल की प्रार्थना होती है. मेरी कक्षा की सभी विद्यार्थी बहुत ही होनहार और अच्छे है.

    सभी शिक्षक गण मुझे जानते है क्योंकि मैं हर बार कक्षा में प्रथम श्रेणी से पास होता हूं और मैं वार्षिक उत्सव, गणतंत्र दिवस, स्वतंत्रता दिवस, वाद-विवाद प्रतियोगिता, खेलकूद इत्यादि सभी प्रतियोगिताओं में भाग लेता हूं. कुछ दिनों पहले हुई निबंध प्रतियोगिता में मुझे प्रथम स्थान मिला था.

    विद्यालय के सभी शिक्षक गण बहुत अच्छे है वह हमें अच्छी शिक्षा देते है और कभी कभी पढ़ाई का टेंशन कम करने के लिए हमें ज्ञानवर्धक कहानियां सुनाते है और कभी खेलने के लिए भी ले जाते है.

    विद्यालय से 1:00 बजे हमारी छुट्टी हो जाती है. घर आकर में मुंह हाथ धोकर खाना खाता हूं इसके बाद थोड़ी देर में टीवी देखता हूं. शाम 4:00 बजे में फिर से पढ़ाई करने के लिए बैठ जाता हूं इस समय मैं स्कूल मैं दिया गया हूं होमवर्क करता हूं. करीब 5:00 बजे के लगभग मैं और मेरी दोस्त पास ही के मैदान में खेलने के लिए चले जाते है और खूब मस्ती करते है.

    मुझे क्रिकेट, फुटबॉल और बैडमिंटन खेलना, संगीत सुनना बहुत पसंद है साथ ही मुझे लिखने का भी बहुत शौक है मैं छोटी कविताएं और चुटकुले लिखता हूं. मुझे डांस करना भी बहुत पसंद है इसलिए जब भी स्कूल की छुट्टियां पड़ती है तो मैं डांस सीखने के लिए भी जाता हूं.

    Related Essays : 


    SHARE THIS

    Author:

    I am writing to express my concern over the Hindi Language. I have iven my views and thoughts about Hindi Language. Hindivyakran.com contains a large number of hindi litracy articles.

    0 comments: