Thursday, 12 May 2022

Hindi Essay on Tortoise, "कछुए पर निबंध" for Class 1, 2, 3, 4 and 5

Hindi Essay on Tortoise, "कछुए पर निबंध" for Class 1, 2, 3, 4 and 5

कछुए पर निबंध - Essay on Tortoise in Hindi

    कछुए पर निबंध - Essay on Tortoise in Hindi

    कछुए पर निबंध : कछुआ सरीसृप वर्ग का प्राणी है। विश्व में स्थलीय कछुओं और जलीय कछुओं दोनों की कई जातियाँ हैं। कछुए की पीठ पर एक मजबूत सुरक्षात्मक कवच होता है जिसमें वे शिकारियों से बचने के लिए अपने सिर, पैर और पूंछ को अंदर खींच सकते हैं। कछुए लगभग 300 मिलियन वर्ष पहले से अस्तित्व में आये। वे अर्ध-शुष्क जलवायु वाले स्थानों में निवास करते हैं।

    कछुए की चार टाँगें और एक लम्बी गर्दन होती है जो कवच से बाहर निकली रहती है। कछुओं के दांत नहीं होते हैं इसलिए वे अपने सख्त मुंह का उपयोग करके अपना भोजन चबाते हैं। कछुओं के कान भी नहीं होते, लेकिन उनके सिर के किनारों पर दो छोटे छेद होते हैं, जिनसे वे सुनते हैं। इसकी उम्र 300 साल से अधिक होती है। कछुए ठंडे खून वाले प्राणी होते हैं, इन्हें अपने वातावरण से गर्माहट मिलती है। कछुओं को धूप सेंकना पसंद होता है। इसलिए वे दिन में सक्रिय रहते हैं और रात में सोते हैं।

    अधिकांश कछुए शाकाहारी होते हैं और पत्ते, फूल और फल खाते हैं, हालांकि नम वन आवासों से कुछ कछुओं की प्रजातियां  कभी-कभी मांस भी खाती हैं। एशिया के कुछ हिस्सों में, कछुओं को एक स्वादिष्ट व्यंजन के रूप में खाया जाता है, इसलिए उनका शिकार किया जाता है। कछुओं की कई जातियाँ विलुप्त हो चुकी हैं लेकिन ३२७ आज भी अस्तित्व में हैं। इनमें से कई जातियाँ ख़तरे में हैं और उनका संरक्षण करना एक चिंता का विषय है। 

    कछुआ पर निबंध 200 शब्द

    कछुआ दो प्रकार का होता है जलीय कछुआ और भूमि पर रहने वाला कछुआ। दुनिया भर में कछुए पाए जाते हैं।लगभग 300 मिलियन वर्ष पहले डायनासोर के समय से ही कछुओं का अस्तित्व है। कछुआ को प्राचीन यूनानी देवता हेमीज़ का प्रतीक माना जाता है। वे अपने शर्मीले स्वभाव के लिए जाने जाते हैं। जलीय कछुए और भूमि पर रहने वाले कछुए दोनों के पास एक कठोर खोल होता है जो उनके शरीर की रक्षा करता है। खतरा महसूस होने पर कछुए अपना सिर, चारों टांगों अंगों और पूंछ को कवच में खींच लेते हैं। कवच के ऊपरी भाग को कारपेस तथा नीचे के भाग को प्लास्ट्रॉन कहते हैं। कवच स्कूट से ढका होता है जो कि केराटिन से बने होते हैं। 

    कछुए की विशेषताएं 

    कछुए के चार पैर होते हैं और प्रत्येक पैरों में पाँच-पाँच नाखून तथा जाल-युक्त ऊँगलियाँ पायी जाती हैं। कछुओं का मुंह तो होता है लेकिन दांत और बाहरी कान नहीं होते, सिर के किनारों पर सिर्फ दो छोटे-छोटे छेद होते हैं। कछुओं का आकार कुछ सेंटीमीटर से लेकर लंबाई में दो मीटर तक हो सकता है। 

    कछुआ जीवन काल

    कछुओं का जीवन आम तौर पर मनुष्यों के समान होता है, हालाँकि, कुछ कछुओं की प्रजातियाँ 200 वर्षों से अधिक समय तक जीवित रहती हैं।

    कछुए का आहार

    अधिकांश भूमि पर रहने वाले कछुए शाकाहारी होते हैं, वे घास, खरपतवार, पत्तेदार साग, फूल और कुछ फलों को खाते हैं। उनके मुख्य आहार में अल्फाल्फा, तिपतिया घास, सिंहपर्णी और पत्तेदार खरपतवार शामिल हैं।

    कछुआ पर निबंध 250 शब्द 

    कछुए विश्व की सबसे पुरानी जीवित प्रजातियों में से एक मानी जाती है। कछुआ एक सरीसृप जीव है जो दुनियाभर में पाया जाता है। माना जाता है कि कछुए प्राचीन प्रजातियां स्तनधारियों, चिड़ियों, सांपों और छिपकलियों से भी पहले धरती पर अस्तित्व में आ चुके थे। जीव वैज्ञानिकों के मुताबिक, कछुए इतने लंबे समय तक सिर्फ इसलिए खुद को बचा सके क्योंकि उनका कवच उन्हें सुरक्षा प्रदान करता है।

    कछुए जल और स्थल दोनों जगह पाए जाते है। ये दुनिया के सबसे धीमे चलने वाले जीवों में से एक है। कछुए की पीठ एक कवच से ढकी होती है जो इसे एक विशेष पहचान प्रदान करती है। जल और स्थल के कुछए तो भिन्न होते ही हैं, मीठे तथा खारे जल के कछुओं की भी पृथक जातियाँ होती हैं। कछुए की चार टाँगें होती हैं तथा लंबी गरदन बाहर निकली रहती है। इसका गोल शरीर कड़े वलय जैसे आवरण से ढका रहता है। कछुओं का ऊपरी भाग प्राय: उभरा हुआ और निचला भाग चपटा रहता है। कुछ कछुओं का ऊपरी भाग चिकना रहता है।

    कछुआ धीरे–धीरे विलुप्त होने की कगार पर हैं। कछुआ को बचाने के लिए 'विश्व कछुआ दिवस' प्रत्येक वर्ष 23 मई को सम्पूर्ण विश्व में मनाया जाता है। यदि इनके प्रति लोगों में जागरूकता नही फैलायी गयी तो यह प्रजाति पूरी तरह से ख़त्म हो सकती है। विश्व कछुआ दिवस मनाने का उद्देश्य लोगों का ध्यान कछुओं की तरफ आकर्षित करने और उन्हें बचाने के लिए किए जाने वाले मानवीय प्रयासों को प्रोत्साहित करना है। इस दिन वन विभाग द्वारा जगह-जगह कार्यशाला आयोजित की जाती हैं।

    कछुआ पर निबंध 300 शब्द 

    कछुआ एक सरीसृप है जो टेस्टुडीनिडे नामक परिवार से संबंधित है। उनके पास एक कवच है जो उन्हें अन्य शिकारियों से बचाता है। उनका कवच बहुत मजबूत होता है, वे अपनी रक्षा के लिए अपने सिर और अन्य भागों को कवच में खींच लेते हैं। कछुओं की लगभग 49 प्रजातियां हैं जो आपको पूरी दुनिया में मिल जाएंगी जैसे गैलापागोस कछुआ, भारतीय सितारा कछुआ, लाल पैरों वाला कछुआ आदि।

    कछुए दुनिया में सबसे लंबे समय तक जीवित रहने वाले प्राणी हैं। वे 100-150 साल तक जीवित रह सकते हैं। वे धीमी गति से चलने वाले सरीसृप हैं जिनकी औसत गति 0.2-0.5 किमी/घंटा है। कछुआ की हर प्रजाति आकृति और आकार में भिन्न होती है। वे जमीन पर रहते हैं और जब उन्हें कोई खतरा महसूस होता है तो वे अपने खोल में छिप जाते हैं।

    उनके आहार की बात करें तो कछुआ स्वाभाविक रूप से शाकाहारी होते हैं और उनके आहार में पौधे, फल, फूल और अन्य पौधों पर आधारित चीजें होती हैं। इनके पास खाने के लिए दांत नहीं होते हैं इसलिए ये जबड़ों से चबाते हैं। इनके कानों के स्थान पर दो छिद्र होते हैं जिससे वे सुन सकें। कछुए आमतौर पर शर्मीले स्वभाव के होते हैं और वे दिन में सक्रिय रहते हैं और रात में आराम करते हैं।

    कछुए अपना ज्यादातर समय जमीन पर बिताते हैं और जलीय कछुए ज्यादातर समय पानी में बिताते हैं। जब हम खोल की संरचना को ठीक से देखते हैं तो हम देखेंगे कि कवच में 3 भाग होते हैं यानी शीर्ष कैरपेस, निचला प्लास्टर, और पुल जो इन हिस्सों को जोड़ने में मदद करता है। कैरपेस पर बने धब्बों को को स्कूट के रूप में जाना जाता है जो केराटिन से बने होते हैं। केराटिन एक प्रोटीन है जिससे हमारे नाखून बने होते हैं। कछुआ का खोल कठोर लेकिन संवेदनशील होता है, साथ ही वे अपने खोल पर हर स्पर्श और रगड़ खरोंच को महसूस कर सकते हैं।

    गर्म और गर्म क्षेत्रों में पाए जाने वाले कछुओं के पास हल्के कवच होते हैं। दूसरी ओर, ठंडे क्षेत्र के कछुओं के पास भारी और गहरे रंग के कवच होते हैं। कछुआ के बारे में एक दिलचस्प तथ्य यह है कि वे खाली होते हैं। डायनासोर के युग के दौरान 300 मिलियन वर्ष पहले से कछुआ अस्तित्व में आया था। वे ठंडे खून वाले होते हैं जिसका मतलब है कि उन्हें गर्म वातावरण पसंद है। 


    SHARE THIS

    Author:

    I am writing to express my concern over the Hindi Language. I have iven my views and thoughts about Hindi Language. Hindivyakran.com contains a large number of hindi litracy articles.

    0 Comments: