Saturday, 23 April 2022

आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस पर निबंध - Essay on Artificial Intelligence in Hindi

आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस पर निबंध - Essay on Artificial Intelligence in Hindi

    आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (एआई) को मशीनों में मानव बुद्धि के अनुकरण के रूप में परिभाषित किया जाता है। ऐसी मशीनों को मनुष्यों की तरह सोचने और उनके कार्यों की नकल करने के लिए प्रोग्राम किया जाता है।  आर्टिफीसियल इंटेलिजेंस कहते हैं। कृत्रिम बुद्धिमत्ता शब्द किसी भी मशीन पर भी लागू किया जा सकता है जो सीखने और समस्या-समाधान जैसे मानव दिमाग से जुड़े लक्षण प्रदर्शित करती है। वीडियो गेम में कृत्रिम बुद्धि का सबसे अधिक उपयोग किया जाता है, जहां कंप्यूटर को दूसरे खिलाड़ी के रूप में खेलने के लिए प्रोग्राम किया जाता है।"

    आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस क्या है?

    आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस या एआई ऐसी तकनीक है जो रोबोट या कंप्यूटर को इंसान की तरह काम करने और सोचने की क्षमता देती है। मनुष्य में अनुभव से सीखने की क्षमता होती है। AI वाली मशीनें भी ऐसा कर सकती हैं। हम इसे मशीन लर्निंग कहते हैं। मशीन लर्निंग का एक प्रमुख उदाहरण न्यूरल नेटवर्क है।

    आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का इतिहास

    जॉन मैकार्थी (1927-2011), एक अमेरिकी कंप्यूटर वैज्ञानिक ने सबसे पहले 'कृत्रिम बुद्धिमत्ता' शब्द का इस्तेमाल किया। वास्तव में, वह कृत्रिम बुद्धिमत्ता के संस्थापकों में से एक थे। मैककार्थी को आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के विषय में उनके योगदान के लिए ट्यूरिंग अवार्ड मिला। उन्हें क्योटो पुरस्कार और संयुक्त राज्य अमेरिका का राष्ट्रीय विज्ञान पदक भी मिला

    आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के प्रकार

    हम आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस को चार प्रकारों में वर्गीकृत कर सकते हैं। (1) प्रतिक्रियाशील मशीनें (2) सीमित मेमोरी वाली मशीनें (3) मानसिक क्षमता से युक्त मशीनें और (4) आत्म-जागरूकता मशीनें। 

    (1) प्रतिक्रियाशील मशीनें - ये मशीनें विभिन्न स्थितियों पर प्रतिक्रिया कर सकती हैं। इसका एक प्रमुख उदाहरण है डीप ब्लू प्रोग्राम जिसे आईबीएम द्वारा विकसित किया गया था। इस प्रोग्राम का प्रयोग शतरंज में किया जाता था। ऐसी मशीनों में मेमोरी की कमी होती है। ये पहले से फीड किये गए डाटा के अनुसार काम करती हैं। यह सभी संभावित विकल्पों का विश्लेषण करती है और सबसे अच्छा विकल्प चुनती है।

    (2) सीमित मेमोरी - ये एआई सिस्टम भविष्य का पूर्वानुमान लगाने के लिए पिछले अनुभवों का उपयोग करने में सक्षम होती है। इसका एक अच्छा उदाहरण सेल्फ-ड्राइविंग कार हो सकती है। ऐसी कारों में निर्णय लेने की प्रणाली होती है। ये कारें लेन बदलने, ,मोड़ लेने और ट्रैफिक के अनुसार गति को नियंत्रित करने के लिए पहले से संचित किये गए डेटा का प्रयोग करती है। 

    (3) मानसिक क्षमता - ये ऐसी मशीनें हैं जो मानवीय भावनाओं, संवेदनाओं और इच्छाओं को समझने में सक्षम होती हैं। ये काफी ज्यादा समझदार होती हैं। हालाँकि, इस प्रकार की AI अभी तक मौजूद नहीं है। इसलिए अवधारणा पूरी तरह से काल्पनिक है।

    (4) आत्म-जागरूकता - यह आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का उच्चतम और सबसे परिष्कृत स्तर है। ऐसी प्रणालियों में स्वयं की भावना होती है। इसके अलावा, उनके पास जागरूकता, चेतना और संवेदना जैसे मानवीय गुण होते हैं। जाहिर है, इस तरह की तकनीक अभी मौजूद नहीं है। यदि यह तकनीक विकसित होती है तो संभव है की यह मानव अस्तित्व के लिए चुनौती बन जाये।

    आर्टिफीसियल इंटेलिजेंस के उपयोग 

    (1) व्यापार - आजकल आर्टिफीसियल इंटेलिजेंस का प्रयोग अधिक प्रभावी स्टोर लेआउट डिजाइन करने, स्टॉक प्रबंधन को संभालने और खरीदारी के सुझाव प्रदान करने के लिए किया जा रहा है। अमेज़ॅन की "यू मे बी लाइक" या गूगल का "सम्बंधित परिणाम" इसके प्रमुख उदाहरण हैं। 

    (2) हेल्थकेयर - स्वास्थ्य सेवा में AI का महत्वपूर्ण उपयोग है। कंपनियां त्वरित निदान के लिए तकनीक विकसित करने की कोशिश कर रही हैं। एआई तकनीक को दवा का परामर्श प्रदान करने के लिए प्रशिक्षित किया जा रहा है, जिसमें रोगियों को दवा लेने का सुझाव देना और बेहतर स्वास्थ्य के लिए विभिन्न व्यायाम का सुझाव देना शामिल है।

    (3) निर्माण - एआई कारखानों की आपूर्ति और मांग का पूर्वानुमान लगाने में मदद करता है और उन्हें अधिक कुशल बनाता है। AI मैन्युफैक्चरिंग की दर को काफी बढ़ा सकता है। एआई से बड़ी संख्या में उत्पादों का निर्माण किया जा सकता है। इसके अलावा, पूरी उत्पादन प्रक्रिया मानवीय हस्तक्षेप के बिना हो सकती है। 

    संक्षेप में, आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस दुनिया का भविष्य बनने के लिए पूरी तरह तैयार है। विशेषज्ञों का मानना है कि एआई निश्चित रूप से जल्द ही मानव जीवन का अभिन्न अंग बन जाएगी। एआई हमारी दुनिया को देखने के तरीके को पूरी तरह से बदल देगा। आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के साथ, भविष्य पेचीदा और रोमांचक लगता है।


    SHARE THIS

    Author:

    I am writing to express my concern over the Hindi Language. I have iven my views and thoughts about Hindi Language. Hindivyakran.com contains a large number of hindi litracy articles.

    0 comments: