Sunday, 22 August 2021

भूगोल किसे कहते हैं - What is Geography in Hindi

भूगोल किसे कहते हैं - What is Geography in Hindi

यहाँ पढ़ें भूगोल किसे कहते हैं, भूगोल की परिभाषा, भूगोल की शाखाएं तथा उपशाखाएँ तथा भूगोल का अर्थ आदि। 

  1. भूगोल किसे कहते हैं
  2. भूगोल की परिभाषा
  3. भूगोल की शाखाएं
  4. भौतिक भूगोल
  5. मानव भूगोल 
  6. प्रादेशिक भूगोल

भूगोल किसे कहते हैं ? (What is Geography in Hindi)

भूगोल शब्द हिन्दी के दो शब्दों भू तथा गोल के योग से बना है भूगोल का शाब्दिक अर्थ है पृथ्वी गोल है। सामान्यतः पृथ्वी के धरातर की संरचना का वर्णन करने वाले विज्ञान को भूगोल कहते हैं। भूगोल या Geography दो यूनानी शब्दों से का मिश्रण है। Geo जिसका अर्थ होता है पृथ्वी और Graphaia का अर्थ होता है लिखना या वर्णन करना।  प्रारम्भ मेँ भूगोल विषय के अंतर्गत पृथ्वी के धरातल, स्थानोँ एवं क्षेत्रों की स्थिति तथा प्रधान भौतिक एवं रासायनिक तत्वों का ही अध्ययन किया जाता था। परंतु समय के साथ भूगोल का विस्तार हुआ। विश्वविख्यात जर्मन भूगोलवेत्ता कार्ल रिटर ने आधुनिक भूगोल के के विकास में अहम् योगदान दिया।  कार्ल रिटर को भूगोल के एक महत्वपूर्ण क्षेत्र तुलनात्मक भूगोल का जनक माना जाता हैं। प्रमुख भूगोलवेत्ताओं के अनुसार पृथ्वी का अर्थ केवल उसके धरातल तक ही सीमित नहीँ है, अपितु इसके अंतर्गत पृथ्वी के ऊपर की एक पतली वायुपेटी तथा पृथ्वी का भीतरी भाग भी सम्मिलित है।

भूगोल की परिभाषा (Definition of Geography in Hindi)

परिभाषा

लेखक

भूगोल हमको स्थल एवं महासागरोँ मेँ बसने वाले जीवों के बारे मेँ ज्ञान कराने के साथ साथ विभिन्न लक्षणों वाली पृथ्वी की विशाताओं को समझाता  है।

स्ट्रेबो

भूगोल पृथ्वी की सतह को अध्ययन का केंद्र मानकर उसे समझाने वाला शास्त्र है।

वारेनियस

भूगोल पृथ्वी तल के अध्ययन का विज्ञान है

मोंक हाउस

भूगोल वह विज्ञान है जिसमें पृथ्वी के उस भाग का अध्ययन किया जाता है, जहाँ मानव निवास करता है

कांट

भूगोल वह विज्ञान है जो पृथ्वी के एक स्थान से दूसरे स्थान तक परिवर्तनशील स्वरूपों पारस्परिक का अध्ययन करता है

हार्टसोर्न

भूगोल की कितनी शाखाएं हैं?

भूगोल विज्ञान की तीन प्रमुख शाखाएँ होती है : 

  1. भौतिक भूगोल, 
  2. मानव भूगोल 
  3. प्रादेशिक भूगोल। 

भौतिक भूगोल

भौतिक भूगोल (Physical geography) भूगोल की एक वह शाखा है जिसके अंतर्गत पृथ्वी की भौतिक परिघटनाओं की व्याख्या व अध्ययन किया जाता है। भौतिक भूगोल का भूविज्ञान, मौसम विज्ञान, जन्तु विज्ञान और रसायनशास्त्र से भी घनिष्ठ सम्बन्ध है। इसकी कई उपशाखाएँ हैं जो विविध भौतिक परिघटनाओं की विवेचना करती हैं।

भौतिक भूगोल की मुख्य उपशाखायें है:

  1. खगोलीय भूगोल
  2. भूआकृति विज्ञान
  3. जलवायु विज्ञान
  4. समुद्र विज्ञान
  5. मृदा भूगोल
  6. जैव भूगोल

मानव भूगोल

मानव भूगोल, भूगोल की वह शाखा हैं जिसमें अन्तर्गत मनुष्य की उत्पत्ति से लेकर वर्तमान समय तक मानव तथा पर्यावरण के साथ सह-सम्बन्धों का अध्ययन किया जाता हैं। मानव भूगोल में मानवीय कारकों जैसे मानव प्रजाति, जनसंख्या, मानव व्यवसाय, अधिवास, अंतर्राष्ट्रीय संबंध आदि का अध्ययन सम्मिलित होता है। मानव भूगोल के अन्तर्गत कई क्षेत्र एवं उपक्षेत्र शामिल है जैसे सामाजिक भूगोल. राजनीतिक भूगोल, आर्थिक भुगोल आदि। रेटजेल के अनुसार, "मानव भूगोल मानव और पर्यावरण के पारस्परिक संबंधों से संबंधित होता है। " जबकि एल्सवर्थ के अनुसार "मानव भूगोल मानवीय क्रियाकलापों तथा मानवीय गुणों के भौगोलिक वातावरण से संबंधों की प्रकृति एवं उसके विवरण का अध्ययन है। "

मानव भूगोल की प्रमुख उप-शाखायें है

मानवविज्ञान भूगोलऐतिहासिक भूगोल
सांस्कृतिक भूगोलसामाजिक भूगोल
आर्थिक भूगोलजनसंख्या भूगोल
राजनीतिक भूगोलअधिवास भूगोल

प्रादेशिक भूगोल

प्रादेशिक भूगोल पृथ्वी को या इसके किसी विशेष क्षेत्र को किसी विशेष आधार पर प्रदेशों में विभाजित करने और उनका वर्णन करने वाला विज्ञान है। प्रादेशिक भूगोल मानव भूगोल की एक प्रमुख शाखा है। इसके अन्तर्गत भौतिक एवं मानवीय समानताओं के आधार पर सम्पूर्ण धरातल का वर्गीकरण करके उनका अध्ययन किया जाता है। 'प्रदेश' से तात्पर्य ऐसे क्षेत्रों से है जिन्हे किसी विशेष आधार पर अन्य समीपवर्ती क्षेत्रों से अलग वर्गीकरण किया जा सके। प्रदेश किसी एक कारक जैसे, उच्चावच, वर्षा, वनस्पति, प्रति व्यक्ति आय पर आधारित हो सकते हैं। 

प्रादेशिक भूगोल की मुख्य उपशाखायें है:

  1. प्रादेशिक अध्ययन
  2. प्रादेशिक विश्लेषण
  3. प्रादेशिक विकास
  4. प्रादेशिक नियोजन (क्षेत्राीय व समुदाय नियोजन)


SHARE THIS

Author:

I am writing to express my concern over the Hindi Language. I have iven my views and thoughts about Hindi Language. Hindivyakran.com contains a large number of hindi litracy articles.

0 comments: