Wednesday, 20 November 2019

क्रिस्टी‍न कीलर की जीवनी - Christine keeler Biography in Hindi

क्रिस्टी‍न कीलर  की जीवनी - Christine keeler Biography in Hindi

नाम : क्रिस्‍टीन कीलर
जन्‍म : 22 फरवरी, 1942
जन्म स्थान : इंग्‍लैंड 
पेशा : एक विवादास्‍पद अभिनेत्री
क्रिस्टीन मार्गरेट कीलर (22 फरवरी 1942 - 4 दिसंबर 2017) एक अंग्रेजी मॉडल और टॉपलेस शो गर्ल थी। वह प्रोफोमो मामले में एक महत्वपूर्ण महिला रहीं, जिसने हेरोल्‍ड मैकमिलन की कन्‍जर्वेटिव सरकार को गिराने में सहयोग किया। 
क्रिस्टी‍न कीलर  की जीवनी - Christine keeler Biography in Hindi

क्रिस्टी‍न कीलर

कीलर का जन्म Uxbridge, Middlesex में हुआ था। उसके पिता, कॉलिन कीलर (जिसे बाद में कोलिन किंग के नाम से जाना जाता है) ने द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान परिवार को छोड़ दिया। उसे उसकी माँ, जूली एलेन पायने और सौतेले पिता, एडवर्ड हिश ने रेसेबरी के बर्कशायर में पाला था। वह अपनी मां के प्रेमी और उसके दोस्तों द्वारा किशोरी के रूप में यौन दुर्व्यवहार का शिकार हुयी। 15 साल की उम्र में, उन्होंने लंदन के सोहो में एक ड्रेस शॉप में एक मॉडल के रूप में काम किया। 17 साल की उम्र में, उसने एक अफ्रीकी-अमेरिकी वायु सेना के सार्जेंट के साथ प्रेम संबंध के बाद एक बेटे को जन्म दिया। बच्चे का जन्म समय से पहले 17 अप्रैल 1959 को हुआ था और वह सिर्फ छह दिन ही जीवित रहा

फिर उसने लंदन जाने का फैसला किया। उसने शुरुआत में बेकर स्ट्रीट के एक रेस्तरां में वेट्रेस के रूप में काम किया, जहाँ उसकी मुलाकात मॉरीन ओ'कॉनर से हुई, जो सोहो में मरे के कैबरे क्लब में काम करती थी। उसने केलर को मालिक, पर्सी मरे से मिलवाया, जिसने उसे लगभग एक टॉपलेस शो गर्ल के रूप में तुरंत काम पर रख लिया।

वहां उनकी भेंट एक चिकित्सक चार्ल्‍स वार्ड से हुई, जो इंग्लैंड के सबसे शक्‍तिशाली घरानों से संबंध रखते थे। वार्ड के साथ कीलर के संबंधों में प्रगाढ़ता के चलते वार्ड उनके संरक्षक बन गये। यही परिचय उन्‍होंने अपने लोगों को दियाजिनमें एजिन इवानोवा सम्मिलित थे। वह एक रूसी सैन्‍य कर्मी एवं इंटेलिजेंस एजेंट थे। इनके साथ कीलर का प्रेम संबंध रहा।


जुलाई, 1961 में वार्ड की एक पार्टी में राज्य सचिव जॉन प्रोफोमो से उनकी मुलाकात हुई। इनसे प्रेम संबंध कुछ इस समय ही चला। इन दिनों प्रेम संबंध की अफवाहें अखबार में छपने लगीं, लेकिन प्रोफोमो ने मार्च, 1963 में संसद के सम्मुख इस संबंध से इंकार कर दिया। इस सम्‍बन्‍ध की जानकारियां इकट्ठी कर ली गईं, जिसके परिणामस्वरूप जून, 1963 में प्रोफोमो ने त्यागपत्र दिया। इस विवाद के चलते मैकमिलन सरकार को नुकसान पहुंचा था। प्रोफोमा विवाद से एकाएक उत्पन्न हलचल मीडिया से चल रही थी। उसी समय किलर में फोटोग्राफी लेविस मोरले द्वारा प्रसिद्ध पाने के लिए कई तस्वीरें खिंचवाईं, जिनमें सबसे प्रमुख उनकी एक निर्वस्त्र तस्वीर थी। बाद में किलर ने अपना जीवन एकांतवास में बिताया और अपनी आत्‍मकथा द ट्रुथ एट लास्‍ट माई स्टोरी के साथ सबके सम्मुख आई थीं।

SHARE THIS

Author:

I am writing to express my concern over the Hindi Language. I have iven my views and thoughts about Hindi Language. Hindivyakran.com contains a large number of hindi litracy articles.

0 comments: