Saturday, 15 June 2019

यूक्लिड का जीवन परिचय। Euclid ka Jivan Parichay


यूक्लिड का जीवन परिचय। Euclid ka Jivan Parichay

नाम : यूक्लिड
उपनाम : ज्‍यामिती के पिता
जन्‍म : 350 ईसवी
जन्मस्थान : ग्रीस

यूक्लिड (Euclid) ग्रीक गणितज्ञ थे, जो ईसा से लगभग ३२५ वर्ष पूर्व हुए थे। यूक्लिड ने एलिमेण्ट्स (Elements) नामक एक पुस्तक लिखी जो 13 खंडों में विभाजित है। इनमें प्‍लेन ज्‍योमेट्री, प्रपोर्शन इन जनरल, द प्रापर्टीज ऑफ नंबर्स, इनकमेनसुरेबल मैग्‍नीट्यूड्स और सॉलिड ज्‍यामेट्री जैसे विषय शामिल थे। उन्हें "ज्यामिति का जनक" कहा भी जाता है। यह मिस्र से सम्राट टॉलेमी प्रथम (Ptolemy 1st) के, जिसने ईसा से ३०६ वर्ष पूर्व से २८३ वर्ष पूर्व तक राज्य किया था, समकालीन थे। संभवत : उनकी शिक्षा एथेंस में प्‍लेटो के शिष्‍यों के द्वारा हुई। वह अलेक्‍़जेंद्रिया में ज्‍यामिती पढ़ाते थे और वहां उन्‍होंने गणित के एक विद्यालय की भी स्‍थापना की। 

युक्‍लिड को द डाटा (ए कलेक्‍शन ऑफ ज्‍योमेट्रिकल थ्‍योरम्‍स); द फिनॉमिना (द डिस्‍क्रिप्‍शन ऑफ हेवन्‍स); द ओप्टिक्‍स; द डिवीजन ऑफ स्‍केल, ए मेथेमेटिकल डिस्‍कशन ऑफ म्‍युजि़क और भी कईं किताबें लिखने का श्रेय जाता है। कुछ इतिहासकारों का मानना है कि इन सभी कार्यों (एलीमेंट्स के अलावा) का श्रेय उनको गलत तरीके से दिया गया है। इतिहासकार उनके दूसरे योगदानों की मौलिकता पर असहमत हैं।

संभवत: एलीमेंट्रस का जो ज्‍यामितीय भाग है, वह प्राथमिक रूप से पूर्व के कई गणितज्ञों, जैसे यूडोक्‍सस के कार्यों की पुनर्व्‍यस्‍था था, लेकिन युक्‍लिड का स्‍वयंयह मानना था कि उन्‍होंने अंको के सिद्धांतों में कईं मौलिक खोजें की हैं।

युक्‍लिड की एलीमेंट्रस को करीब 2000 वर्षों से मूलग्रंथ के रूप में पढ़ा जा रहा है और यहां तक कि आज भी उनकी पहली कुछ पुस्‍तकों के रूपांतरित संस्‍करण प्‍लेन जयामिती में हाईस्‍कूल इंस्‍ट्रक्‍शन का आधार बनाते हैं। युक्‍लिड के कार्यों का पहला छपा हुआ संस्‍करण अरबी से लैटिन में किया हुआ अनुवाद था, जो 1482 में वेनिस में प्रकाशित हुआ। 1798 ई० में इस गणितज्ञ की स्मृति में यूक्लिड नाम का शहर बसाया गया, जो अमरीका के ओहायो प्रांत में है।

SHARE THIS

Author:

I am writing to express my concern over the Hindi Language. I have iven my views and thoughts about Hindi Language. Hindivyakran.com contains a large number of hindi litracy articles.

0 comments: