Tuesday, 23 July 2019

Mera Priya Mitra Essay in Hindi – मेरा प्रिय मित्र पर निबंध

दोस्तों आज के लेख में हमने Mera Priya Mitra पर Hindi निबंध लिखा है अर्थात My Best Friend Essay in Hindi. यहां पर प्रस्तुत किए गए 'मेरा प्रिय मित्र’ अथवा 'मेरा सच्चा मित्र' पर छोटे तथा बड़े अनुच्छेद और निबंध कक्षा 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9 & 10 के विद्यार्थियों के लिये उपयुक्त हैं।

Mera Priya Mitra Essay in Hindi – मेरा प्रिय मित्र पर निबंध

Please scroll below to read essays on Mera Priya Mitra and 10 line essay in Hindi for students in 100, 150, 200, 250, 300, and 400 words.

10 Lines on Mera Priya Mitra in Hindi

(1) मेरे कई मित्र हैं लेकिन आशू मेरा सबसे प्रिय मित्र है।
(2) हम एक ही स्कूल में तथा एक ही कक्षा में पढ़ते हैं।
(3) उनके पिता एक दुकानदार हैं और माँ एक गृहिणी हैं।
(4) वह दुकान में अपने पिता की सहायता भी करता है।
(5) वह अपने माता-पिता तथा बड़ो का सम्मान करता है।
(6) वह हमारे स्कूल की फुटबॉल टीम का कप्तान हैं।
(7) वह मेरे साथ रोजना शतरंज का अभ्यास करता है।
(8) हम दोनों हमेशा  एक दुसरे की मदद करते हैं।
(9) वह मेरे लिए एक दोस्त से अधिक भाई की तरह है।
(10) मैं धन्य हूं कि मेरा विपुल जैसा दोस्त है।

Mera Priya Mitra Essay in Hindi For class 1, 2, 3 (100 WORDS)

रमन मेरा सबसे प्रिय मित्र हैं। वह मेरा सहपाठी है और मेरी ही उम्र का है। वह एक अच्छे परिवार से है। उनके माता-पिता मुझे अपने बेटे की तरह प्यार करते हैं। इसी तरह, मेरे माता-पिता रमन से बहुत प्यार करते हैं। रमन अच्छे चरित्र का लड़का है। वह स्वाभाव से खुशमिजाज और दयालू लड़का है। हम दोनों रोजाना एक-साथ स्कूल जाते हैं। वह विद्यालय में सभी शिक्षकों का प्रिय छात्र है। विज्ञान और गणित उसके पसंदीदा विषय हैं। पढाई के साथ-साथ वह खेलकूद में भी अव्वल है। हमारे बीच कभी कोई गलतफहमी नहीं हुई। मैं रमन जैसा दोस्त पाकर स्वयं को भाग्यशाली हूं। 

Mera Priya Mitra Essay in Hindi For class 4, 5, 6 (150 WORDS)

मित्र वह व्यक्ति होता है जिसके साथ रहने से हम आनंदित हो। दुनिया में प्रत्येक व्यक्ति को एक सच्चे मित्र की आवश्यकता होती है। सच्ची मित्रता जीवन में एक वरदान की तरह होती है। परंतु सच्चे और ईमानदार दोस्त बड़े ही दुर्लभ होते हैं। 

मेरे कई दोस्त हैं लेकिन रमन मेरा सबसे अच्छा दोस्त है। वह मेरे घर से कुछ ही दूरी पर रहता है। हम एक ही स्कूल में पढ़ते हैं। वह एक सम्मानित परिवार से ताल्लुक रखता हैं। उसके पिता एक डॉक्टर हैं और माँ एक शिक्षक हैं। वे अमीर हैं, उनका पास अपना बड़ा घर, कार और आधुनिक जीवन की अन्य सभी सुविधाएं हैं। और फिर भी वह कभी भी अभिमान करता है।

रमन एक बुद्धिमान छात्र है। वह अपने से बड़ों का सम्मान करता है। वह मेरी कक्षा का मॉनिटर भी है। वह विज्ञान का गृहकार्य करने में मेरी मदद करता है और बदले में, मैं उसकी अंग्रेजी में मदद करता हूं। हमारा आपसी तालमेल भी बहुत अच्छा है। मैं भाग्यशाली हूं कि मेरा रमन जैसा मित्र है।

Mera Priya Mitra Essay in Hindi For class 5, 6, 7 (200 WORDS)

हमारे कई मित्र होते हैं परंतु कहावत है कि विपत्ति  के समय में जो साथ दे वही सच्चा मित्र होता है। सच्चा मित्र एक सहायक तथा मार्ग दर्शक बनकर हमें जीवन जीने की सही राह दिखाता है। वह हमें पथभ्रष्ट होने से बचाता है। जब हम विचलित होते हैं तब वह हमारा मार्गदर्शन करता है। 

ऐसा ही है मेरा मित्र रमन। हम दोनों एक दूसरे को बचपन से जानते हैं। वह बहुत ही मेहनती छात्र है और सदैव समय पर स्कूल आता है। वह मेरे घर से कुछ ही दूरी पर रहता है। उसके पिताजी सरकारी अधिकारी और मां एक आदर्श ग्रहणी हैं। वह सदैव व्यस्त रहते हैं। मेरी मां उसके लिए विशेष व्यंजन बनाती हैं। हमें साथ में स्कूल का ग्रह कार्य करना, लाइब्रेरी जाना और सैर पर जाना पसंद है। 

उसे वास्तव में मित्रता निभाना आता है। जब मैं उदास होता हूं तो वह सावधानीपूर्वक मेरी बातों को सुनता है और मेरी मदद करने का प्रयास करता है। यदि आपके पास भी रमन जैसा मित्र हो तो आपका जीवन भी खुशियों से भर जाएगा। क्योंकि मित्र जीवन में औषधि की तरह होते हैं। मुझे खुशी है कि मेरे पास ऐसा सच्चा मित्र है और हम जीवन पर्यंत मित्र रहेंगे। 

Mera Priya Mitra Essay in Hindi 7, 8, 9, 10 (250 WORDS)

आमतौर पर, जिन व्यक्तियों को हम अक्सर मित्र कहते हैं, वे वास्तविक मित्र नहीं हैं। वे केवल परिचित अथवा जान पहचान के व्यक्ति हैं जिनके साथ हम अक्सर संपर्क में आते हैं। एक सच्चा मित्र वह है जिसके साथ हम अपने सारे रहस्य, खुशियाँ, दुख और विचार साझा करते हैं।  वह आपके सुख-दुख में आपके साथ खड़ा होता है व विपत्ति के समय में आपका साथ नहीं छोड़ता। वह लोग वास्तव में भाग्यशाली हैं जिनके पास कम से कम एक सच्चा मित्र और ईमानदार मित्र है। 

ऐसा ही है मेरा मित्र रमनरमेश त्रिपाठी। हम छठी कक्षा से दोस्त हैं। हम एक ही कक्षा में पढ़ते हैं। वह एक सम्मानित परिवार से ताल्लुक रखते हैं। उनके पिता एक पुलिस इंस्पेक्टर हैं और माँ एक हाउस वाइफ हैं। वह बहुत ईमानदार और मेहनती हैं। वह विद्यालय में सभी शिक्षकों का प्रिय छात्र है। वह स्कूल क्रिकेट टीम के कप्तान भी हैं।

रमेश एक मधुर स्वभाव वाला मृदुभाषी और विनम्र लड़का है। वह अपने से बड़ों का सम्मान करता है। शायद इसीलिए वह सबका चहेता भी है। उसका मानना है कि टाइम इज मनी अर्थात समय ही वास्तविक धन है। इसीलिए वह अपने समय का सदुपयोग करता है। वह मेरे लिए एक दोस्त से अधिक भाई की तरह है। 

जब भी स्कूल में मैं किसी समस्या में होता हूं तो वह मेरी सहायता करता है हम स्कूल के होमवर्क में भी एक दूसरे की मदद करते हैं हम एक साथ मंदिर और पुस्तकालय जैसी जगहों पर जाना पसंद करते हैं वह सच में एक आदर्श मित्र है। 

Mera Priya Mitra Essay in Hindi For class 8, 9, 10 (300 WORDS)

मेरे कई दोस्त हैं लेकिन दीपक शुक्ला मेरे सबसे अच्छे दोस्त हैं। मैं उसे संक्षेप में दीपू कहता हूं। वह एक मध्यम वर्गीय परिवार से है। उनके पिता एक दुकानदार हैं और माँ एक आदर्श गृहिणी हैं। वे मुझे अपने बेटे की तरह प्यार करते हैं। मैं अक्सर उनसे मिलने जाता हूं। वह क्रिकेट खेलना पसंद करता है और स्कूल में मुझसे और अन्य दोस्तों से इस खेल के बारे में बात करता है।

वह एक स्वस्थ स्वास्थ्य रखता है। वह सुबह जल्दी उठता है और नियमित रूप से सुबह की सैर के लिए जाता है। दीपक एक बुद्धिमान छात्र होने के साथ-साथ खेल-कूद में भी अव्वल है। वह हमेशा कक्षा में प्रथम आता है। गणित व भौतिक विज्ञान उसके प्रिय विषय है। उसने शहर में आयोजित सभी वाद-विवाद प्रतियोगिताओं में पुरस्कार जीते। 

वह बहुत अच्छा हँसमुख और मृदुभाषी लड़का है। मैं उनके दोस्ताना और सरल स्वभाव का सम्मान करता हूं।  इसका मतलब यह नहीं है कि हम एक दूसरे के गुलाम हैं। हमारे बीच भी मतभेद हैं। लेकिन दोस्ती के बीच उनका कोई स्थान नहीं है। एक बार, दीपक कुछ दिनों के लिए बीमार था तब मुझे उसकी बहुत याद आयी। जब भी मैं अपने स्कूल में समस्या में होता हूं तो वह हमेशा मेरी मदद करने के लिए होता है। 

वह बुलंद महत्वाकांक्षा का लड़का है। उसका सपना है कि वह आईएएस अधिकारी बने। मेरा भी एक उद्देश्य एक कार्यकारी अधिकारी होना है। इसलिए वह मेरे करियर के निर्माण में मेरे लिए एक प्रेरणा हैं। वह अपने सपने को पूरा करने के लिए कड़ी मेहनत करता है और चाहता है कि मैं भी ऐसा ही करूं। उनकी कंपनी निश्चित रूप से मुझे मेरा लक्ष्य हासिल करने में मदद करेगी।

हम एक-दूसरे के विचारों का सम्मान करते हैं। दीपक मेरा सबसे अच्छा दोस्त है, और वह जीवन भर सबसे अच्छा रहेगा।

Mera Priya Mitra Essay in Hindi For class 10, 11, 12 (400 WORDS)

जीवन में भोजन और पानी की भांति सच्चा मित्र अत्यंत आवश्यक है। मित्र के बिना जीवन का कोई महत्व नहीं है। वह एक सच्चा सलाहकार, शुभचिंतक और महान सहायक हैं। इसीलिए कहा भी गया है कि सचमुच सच्चा मित्र खोजना मुश्किल, छोड़ना कठिन और भूलना नामुमकिन है। 

राहुल मेरा प्रिय मित्र है। राहुल से मेरी दोस्ती तब शुरू हुई जब हम काफी छोटे थे। वह मेरे घर से कुछ ही दूरी पर रहता है। उनके माता-पिता एक सरकारी बैंक में अधिकारी हैं। उसके एक भाई और एक बहन है। वह अपने माता-पिता की सबसे बड़ी संतान है। वे अमीर हैं, उनका अपना बड़ा घर, कार और आधुनिक जीवन की अन्य सभी सुविधाएं हैं। और फिर भी वह कभी पैसे का घमंड नहीं करता। उनके पिता जी मेरे पिताजी के करीबी दोस्त भी हैं। इसलिए, हमारी दोस्ती हमें विरासत में मिली है। उनके माता-पिता मुझे अपने बेटे की तरह प्यार करते हैं। इसी तरह, मेरे माता-पिता रमन से बहुत प्यार करते हैं। 

हमारे बीच कई झगड़े हुए। अपनी शुरुआती स्कूली शिक्षा के लिए, हम दोनों ने एक ही विद्यालय में प्रवेश लिया। अब हम एक साथ हाईस्कूल की पढाई कर रहे हैं। लेकिन पढाई में राहुल की उपलब्धियाँ निश्चित रूप से मेरी तुलना में बेहतर हैं। उसने स्कूल के क्रिकेट टूर्नामेंट में भी खेला और हमारी टीम को जीत दिलाई।

राहुल एक उत्तम चरित्र का लड़का है। वह लम्बा और सुडौल है। वह नियमित सुबह की सैर करता है। टहलने से आने के बाद, वह कुछ योगासन भी करता है। वह एक प्रकृति प्रेमी है। वह पक्षियों, फूलों और पौधों की संगति में रहना पसंद करता है। हम अक्सर एक साथ होते हैं और रचनात्मक गतिविधियों में अपना समय गुजारते हैं, जैसे कि होमवर्क करना, गेम खेलना या लंबी सैर पर जाना। 

हम दोनों जरूरत के समय में एक-दूसरे की मदद करते हैं। कभी-कभी वह मुझे अपने घर बुलाता है। उसके माता-पिता मुझे अपने पास बिठाते हैं और मेरा मार्गदर्शन करते हैं। हालाँकि राहुल के पिता काफी अमीर हैं, लेकिन वह बेकार में पैसा खर्च नहीं करते। इसके बजाय, वह अपने पॉकेट मनी का उपयोग स्कूल के गरीब और ज़रूरतमंद छात्रों की मदद करने के लिए करता है। सभी शिक्षक उससे प्यार करते हैं और उस पर भरोसा करते हैं। वह हमारे स्कूल का एक बहुत लोकप्रिय छात्र भी है।

हम एक साथ मिलकर एक दूसरे की कमियों पर काम करते हैं ताकि हम एक दूसरे को निखार सकें। हालांकि, कुछ छात्रों को हमारी दोस्ती से जलन महसूस होती है, लेकिन हम कभी भी उनकी परवाह नहीं करते हैं। आशा है कि हम जीवन भर एक-दूसरे के परम मित्र रहेंगे।

SHARE THIS

Author:

I am writing to express my concern over the Hindi Language. I have iven my views and thoughts about Hindi Language. Hindivyakran.com contains a large number of hindi litracy articles.

0 comments: