मधुर-मधुर मेरे दीपक जल कविता - महादेवी वर्मा

Admin
0

मधुर-मधुर मेरे दीपक जल कविता

मधुर-मधुर मेरे दीपक जल कविता - महादेवी वर्मा

मधुर मधुर मेरे दीपक जल 
मधुर-मधुर मेरे दीपक जल!
युग युग प्रतिदिन प्रतिक्षण प्रतिपल, 
प्रियतम का पथ आलोकित कर !

सौरभ फैला विपुल धूप बन,
मृदुल मोम सा घुल रे मृदु तनय
दे प्रकाश का सिन्धु अपरिमित,
तेरे जीवन का अणु गल-गल !
पुलक- पुलक मेरे दीपक जल!

सारे शीतल कोमल नूतन,
माँग रहे तुझसे ज्वाला कण 
विश्व – शलभ सिर धुन कहता मैं
हाय, न जल पाया तुझमें मिल' !
सिहर सिहर मेरे दीपक जल! 

जलते नभ में देख असंख्यक,
स्नेहहीन नित कितने दीपकय
जलमय सागर का उर जलताय
विद्युत ले घिरता है बादल !

विहँस - विहँस मेरे दीपक जल!
द्रुम के अंग हरित कोमलतमय
ज्वाला को करते हृदयंगमय
वसुधा के जड़ अन्तर में भी
बन्दी है तापों की हलचल ! 
बिखर - बिखर मेरे दीपक जल!

मेरे निश्वासों से द्रुततर,
सुभग न तू बुझने का भय कर ।
मैं अंचल की ओट किये हूँ 
अपनी मृदु पलकों से चंचल !
सहज-सहज मेरे दीपक जल!

सीमा ही लघुता का बन्धन,
है अनादि तू मत घड़ियाँ गिनय
मैं दृग के अक्षय कोषों से -
तुझमें भरती हूँ आँसू-जल !
सहज-सहज मेरे दीपक जल!

तम असीम तेरा प्रकाश चिर,
खेलेंगे नव खेल निरन्तरय
तम के अणु - अणु में विद्युत-सा -
अमिट चित्र अंकित करता चल
सरल - सरल मेरे दीपक जल!

तू जल-जल जितना होता क्षय, 
यह समीप आता छलनामयय
मधुर मिलन में मिट जाना तू 
उसकी उज्जवल स्मित में घुल खिल !
मंदिर-मंदिर मेरे दीपक जल!
प्रियतम का पथ आलोकित कर !

मधुर मधुर मेरे दीपक जल शीर्षक कविता महादेवी वर्मा के काव्य-संग्रह 'नीरजा' (1935) में संगृहीत है. महादेवी वर्मा की ज्यादातर कविताओं को गीत की कोटि में रखा जाता है । इस कविता / गीत में महादेवी वर्मा ने दीपक को साधक के प्रतीक के रूप में चित्रित किया है. उनकी कई कविताओं में दीपक को साधक के रूप में प्रतीक बनाया गया है।

Post a Comment

0Comments
Post a Comment (0)

#buttons=(Accept !) #days=(20)

Our website uses cookies to enhance your experience. Learn More
Accept !