Thursday, 26 May 2022

Hindi Essay on Boat, "नाव पर निबंध", "Naav par Nibandh" for Students

Hindi Essay on Boat, "नाव पर निबंध", "Naav par Nibandh" for Students

    नाव पर निबंध - Essay on Boat in Hindi

    नाव एक प्रकार का जलयान है। आमतौर पर नाव लकड़ी से बनी होती है जिसे चप्पू द्वारा चलाया जाता है। नाव चलाने वाले को नाविक कहा जाता है। पुराने समय में नाव जल परिवहन का एक महत्वपूर्ण साधन था। लोग मछली पकड़ने, मनोरंजन और यात्रा के लिए नाव का इस्तेमाल करते थे। एक नाव विभिन्न आकारों में आती है, लेकिन आम तौर पर एक जलपोत से छोटी होती है। 

    Hindi Essay on Boat, "नाव पर निबंध", "Naav par Nibandh" for Students

    हजारों सालों से लोग नावों का इस्तेमाल माल ले जाने और परिवहन के लिए करते रहे हैं। सिंधु घाटी सभ्यता और मेसोपोटामिया के बीच वाणिज्य में नावों ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। सिंधु घाटी के विभिन्न पुरातात्विक स्थलों पर नावों के विभिन्न मॉडलों के साक्ष्य भी मिले हैं। प्राचीन अरब और यूनानियों ने नावों को व्यापारिक जहाजों के रूप में इस्तेमाल किया था।

    आज नाव शब्द का अर्थ मनोरंजन के लिए या छोटे भार ढोने के लिए इस्तेमाल किया जाने वाला एक छोटा जलयान है। बड़ी नावें जो लंबी दूरी तक कई लोगों या बहुत सारे सामानों को ले जा सकती हैं, जहाज कहलाती हैं। छोटी नावों का उपयोग आमतौर पर अंतर्देशीय जलमार्गों जैसे नदियों और झीलों, या तटीय क्षेत्रों में किया जाता है। भारत में, हम केरल, जम्मू और कश्मीर और तमिलनाडु जैसे राज्यों में विभिन्न प्रकार की नावों को चलते हुए देख सकते हैं। कश्मीर की हाउसबोट दुनिया भर में मशहूर है। 

    Hindi Essay on Boat - नाव पर हिंदी निबंध

    नाव शब्द का अर्थ है एक छोटा जलयान जिसका उपयोग मछली पकड़ने या परिवहन के लिए किया जाता है। बड़ी दूरी तय करने वाली बड़ी नावों को जलपोत कहा जाता है। कुछ शुरुआती नावें एक साथ बंधे हुए लट्ठों से बनी साधारण राफ्ट थीं। दुनिया भर के प्राचीन लोगों ने डगआउट, या डोंगी को लकड़ियों से उकेरा। मूल अमेरिकी और इनुइट लोगों ने छाल या जानवरों की खाल से डोंगी बनाई। बाद में लोगों ने लकड़ी के तख्तों से नावें बनाईं। बाद में गति प्रदान करने के लिए मस्तूल और पाल, और इंजन जोड़े गए। आधुनिक नावें अक्सर धातु, फाइबरग्लास या प्लास्टिक से बनी होती हैं।

    प्राचीन लोग लगभग 10,000 साल पहले नावों का उपयोग करते थे। नाव कई अलग-अलग आकारो में आती हैं। सामान्य तौर पर उन्हें तीन श्रेणियों में बांटा जा सकता है। ये पानी के माध्यम से उन्हें स्थानांतरित करने के लिए आवश्यक शक्ति के प्रकार पर आधारित होते हैं।

    कई नावों को चलने के लिए मानव शक्ति की आवश्यकता होती है। इनमें डोंगी और कश्ती शामिल हैं, जो नुकीले सिरों वाली छोटी, हल्की नावें हैं। लोग डोंगी और कश्ती को आगे बढ़ाने के लिए पैडल का इस्तेमाल करते हैं। नावें डोंगी की तुलना में चौड़ी और भारी होती हैं। लोग नावों को चप्पू लेकर आगे बढ़ते हैं।

    सेलबोट्स वे नावें होती हैं जिनमें पाल होते हैं, जिन्हें मस्तूल कहा जाता है। मस्तूल हवा का उपयोग करते हैं, जो नाव को हवा की दिशा में धकेलती है। सेलबोट्स का आकार सामान्य नावों से लेकर विशाल नौकायन जहाजों तक होता है जो महासागरों को पार कर सकते हैं। ज्यादातर इस प्रकार की नावों का इस्तेमाल समुद्री डाकू करते थे।

    मोटरबोट एक आधुनिक नाव है जो मोटर द्वारा संचालित होती है। यह इंजन पानी में एक प्रोपेलर घुमाकर नाव को चलाता है। इस प्रकार की नावों को चलाने के लिए मानव शक्ति की आवश्यकता नहीं होती है। ये नावें पारंपरिक नावों की तुलना में बहुत तेज गति से चल सकती हैं।

    नावों का उपयोग मनोरंजन, मछली पकड़ने या परिवहन के लिए किया जा सकता है। बहुत से लोग मस्ती के लिए झील पर नदी पर डोंगी, कश्ती या नाव चलाने का आनंद लेते हैं। दूसरों को नावों से दौड़ना पसंद है। रेसिंग के खेल में बहुत संकरी नावों का उपयोग किया जाता है जिन्हें शेल या स्कल्स कहा जाता है। रेसिंग के लिए सेलबोट और मोटरबोट का भी उपयोग किया जाता है। सबसे प्रसिद्ध अंतरराष्ट्रीय नौकायन प्रतियोगिता अमेरिका की कप दौड़ है।


    SHARE THIS

    Author:

    I am writing to express my concern over the Hindi Language. I have iven my views and thoughts about Hindi Language. Hindivyakran.com contains a large number of hindi litracy articles.

    0 comments: