Saturday, 18 March 2017

Hindi Essay on cow, "गाय पर निबंध", "Cow par Nibandh" for Class 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7 & 8.

गाय पर निबंध: इस लेख में हम पढ़ेंगे काऊ एस्से इन हिंद जिसमें हम जानेंगे गाय का महत्व, "गाय पर संस्कृत में निबंध", "गाय से लाभ", "गाय की वर्तमान दशा" आदि। Hindi Essay on "Cow", "Cow par Nibandh" for Class 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7 & 8.

Hindi Essay on cow, "गाय पर निबंध", "Cow par Nibandh" for Class 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7 & 8.

essay on cowHindi Essay on cow, "गाय पर निबंध" for Class 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7 & 8.
गाय मनुष्य की प्राचीन काल से अभिन्न मित्र रही है। वह हमें दूध देती है और जब उसका बछड़ा बड़ा होता है तो बैल बनकर कृषि के काम आता है। गाय का गोबर खाद व ईधन के रूप में प्रयोग किया जाता है। उसके दूध से घी, दही व पनीर मक्खन इत्यादि बनता है गाय के दूध से बहुत सारी स्वादिष्ट मिठाइयां भी बनती हैं। भारत में गाय को माता माना जाता है वह हिन्दुओं के लिए पूज्य है। 

गाय बहुत ही विनम्र होती है। वह एक पालतू जानवर है। उसे परिवार के एक सदस्य की तरह ही माना जाता है। प्राचीन समय में गायों के संख्या से व्यक्ति की सम्पन्नता का पता चलता था। गाय का शरीर शक्तिशाली होता है। उसके चार पैर होते हैं। गाय के शरीर पर छोटे-छोटे बाल होते हैं। उसके दो सींग और एक पूँछ होती है। उसकी आँखें बड़ी व खूबसूरत होती हैं। पैर पर खुर होते हैं जो दो भागों में बंटे होते हैं। गाय बैठकर अपने मुंह से जुगाली भी करती है। गाय का दूध अत्यंत स्वादिष्ट व पचने में सहायक होता है। यह हमारे लिए बहुत ही लाभदायक होता है। विशेषकर बच्चों व बीमारों के लिए तो किसी दवा से काम नहीं है। दूध का प्रयोग कई प्रकार से होता है। यह पाउडर व रक्षित दूध के रूप में भी मिलता है। गाय कई रंगों की होती हैं जैसे सफ़ेद, भूरी व काली इत्यादि। वे संसार में सब जगह पायी जाती हैं। उसके बच्चे को बछड़ा कहते हैं। पुल्लिंग गाय को बैल कहते हैं। वह हल चलाने ,बैलगाड़ी चलाने व रहत चलाने के काम आता है। यह बहुत ही बुरी बात है की जब गाय दूध देना बंद कर देती है तो उसे छोड़ दिया जाता है। हमें उसके साथ दया का व्यवहार करना चाहिए व उसकी देखभाल करनी चाहिए। भारतवर्ष में गाय  एक सम्मानित स्थान है, यहां गाय को माता कहा जाता है। भारतवर्ष में  जीविका  प्रमुख आधार कृषि है। इसलिए गाय का भारतीय जीवन में विशेष महत्त्व है।

गाय का महत्व

धार्मिक देश भारत में गाय का महत्त्व प्राचीन काल से चला आ रहा है। श्रीकृष्ण का ग्वाला बनकर गायों को चराना , कामधेनु गाय जिसके कारण युद्ध हुआ, मुहम्मद गौरी ने भारतीयों की गाय के प्रति ऐसी  देखकर गायों की तुलना सेना से की। सं 1857 की क्रान्ति का प्रमुख कारण भी गाय की चर्बी को कारतूस पैर लगाना था।

गाय से लाभ

  • गाय से हमें दूध प्राप्त होता है जो बहुत पौष्टिक होता है।
  • गाय के बछड़े व बैल खेत जोतने में मदद करते हैबैलगाड़ी का प्रयोग परिवहन के साधन के रूप  में भी किया  जाता है।
  • इसके गोबर का प्रयोग उपल बनाने में,खेतों के लिए खाद बनाने व कच्चे फर्श को लीपने  में किया जाता है।
  • गाय के मूत्र का प्रयोग कैंसर जैसी घातक बीमारियों के इलाज में किया जाता है।
  • गाय के दूध का प्रयोग दवाइयों  बनाने में भी किया जाता है। 
गाय की वर्तमान दशा : मानव समाज के लिए इतने उपयोगी होने के बावजूद भी गाय की वर्तमान दशा अत्यंत बुरी है। आज दुकानों में गायों का मांस बेचा  खाया जाता है। ही गाय दूध देना बंद करती है , उसे चाँद रुपयों के लिए कटने के लिए बेच दिया जाता है।  अतः हमारा कर्तव्य है की हम गाय का आदर और उसके प्राण की रक्षा करें।

आपको हमारी आज की पोस्ट ( पोस्ट ) कैसी लगी ,हमें Comment Box में बतायें व अपने सुझाव दें। 
please comment Below if you like our post and give us your suggestion...Good Day !


SHARE THIS

Author:

I am writing to express my concern over the Hindi Language. I have iven my views and thoughts about Hindi Language. Hindivyakran.com contains a large number of hindi litracy articles.

2 comments: