आ बैल मुझे मार मुहावरे का अर्थ और वाक्य प्रयोग

Admin
0

आ बैल मुझे मार मुहावरे का अर्थ और वाक्य प्रयोग

आ बैल मुझे मार मुहावरे का अर्थ- जान बूझकर मुसीबत मोल लेना; विपत्ति को निमंत्रण देना; संकट मोल लेना।

आ बैल मुझे मार मुहावरे का वाक्य प्रयोग

वाक्य प्रयोग: सुरेश तो जिसके पास बैठता है उसी से लड़ता है। मैं उसे अपने पास बैठने को नहीं कहूँगा अन्यथा वही बात होगी आ बैल मुझे मार। 

वाक्य प्रयोग: सुरक्षा बलों की टुकड़ी पर नक्सलवादियों ने हमला करके आ बैल मुझे मार वाली कहावत को चरितार्थ किया है। परिणामस्वरूप सुरक्षा बल के जवानों ने उनके बहुत से ठिकानों को तबाह कर दिया।

वाक्य प्रयोग: तुमने रामू को घर बुलाकर वही काम किया कि आ बैल मुझे मार। 

वाक्य प्रयोग: विदेशी सामान को चोर बाज़ार में बेचकर आपने स्वयं ही आ बैल मुझे मार वाली स्थिति उत्पन्न कर दी है। 

वाक्य प्रयोग: कुश्ती के लिए कालू पहलवान ने खली को ललकार के आ बैल मुझे मार वाली कहावत चरितार्थ कर दी है। 

वाक्य प्रयोग: सरपंच जी बेवजह ही लोगों से झगड़े किया करते हैं इसलिए मैंने एक दिन उन्हें अकेले में समझाया कि क्यों तुम आ बैल मुझे मार वाला काम किया करते हो, किसी दिन लेने के देने पड़ जायेंगे। 

वाक्य प्रयोग: मोहन ने इंस्पेक्टर से बहस करके स्वयं ही आ बैल मुझे मार वाला काम किया है, अब जेल में बंद है तो समझ आ रहा होगा। 

यहाँ हमने आ बैल मुझे मार मुहावरे का अर्थ और वाक्य प्रयोग समझाया है। बैल मुझे मार मुहावरे का अर्थ होता है- जान बूझकर मुसीबत मोल लेना; विपत्ति को निमंत्रण देना; संकट मोल लेना। इस कहावत का प्रयोग तब किया जाता  कोई व्यक्ति खुट ही स्वयं को मुसीबत में फंसता है। प्रायः देखा जाता है कि जो व्यक्ति आ बैल मुझे मार वाला काम करता है वह या तो अत्यंत साहसी होता है या अत्यंत मूर्ख। 

Tags

Post a Comment

0Comments
Post a Comment (0)

#buttons=(Accept !) #days=(20)

Our website uses cookies to enhance your experience. Learn More
Accept !