लोकतंत्र की सफलता के लिए चार आवश्यक शर्ते बताइए।

Admin
0

लोकतंत्र की सफलता के लिए चार आवश्यक शर्ते बताइए।

लोकतंत्र की सफलता के लिए चार आवश्यक शर्ते हैं- जनता के प्रति उत्तरदायी संसद, धर्मनिरपेक्षता, आर्थिक नियोजन का महत्व, विकेन्द्रीकरण पर बल आदि। जिन्हें निम्नलिखित शीर्षकों में समझा जा सकता है 

लोकतंत्र की सफलता के लिए मुख्य शर्ते

(1) संसद - भारतीय संसद भारतीय प्रजातन्त्र का स्पष्ट प्रतीक है और कार्यपालिका की राजनीतिक शक्ति का स्रोत संसद ही है। राष्ट्रीय महत्व के अनेक प्रश्नों एवं समस्याओं के निर्धारण की भूमिका रही है। ऐसे भी अवसर आये हैं, जब संसदीय दबाव ने प्रत्यक्ष तथा अप्रत्यक्ष रूप से मन्त्रियों को त्याग-पत्र देने के लिए बाध्य किया।

(2) धर्मनिरपेक्षता - हमारे लोकतन्त्र का बनियादी सिद्धान्त धर्मनिरपेक्षता है। भारतीय समाज के सभी अल्पसंख्यकों के बिना किसी धार्मिक भेदभाव के लोकतन्त्रात्मक पद्धति में भाग लेने का अवसर प्रदान किया गया है। अल्पसंख्यक समुदाय का नागरिक न केवल मतदान कर सकता, अपितु ऊँचा शासकीय व राजनीतिक पद प्राप्त कर सकता है या चुना जा सकता है। इससे जन्म, जाति, धर्म व लिंग आदि के आधार पर भेदभाव नहीं किया जा सकता।

(3) आर्थिक नियोजन - भारत में यह महसूस किया गया कि आर्थिक लोकतन्त्र की स्थापना आर्थिक विकास का सूत्रपात हआ है। यद्यपि आर्थिक नियोजन के द्वारा देश में आर्थिक सामाजिक क्रान्ति लाने का सूत्रपात हुआ है। यद्यपि आर्थिक विषमता के तेजी से प्रसार पर अंकुश लगा है।

(4) विकेन्द्रीकरण पर बल - भारत में पंचायती संस्थाओं को संवैधानिक दर्जा प्रदान किया गया और आर्थिक शक्तियों का विकेन्द्रीकरण किया गया। स्थानीय समस्याओं के समाधान में पंचायतों की भूमिका दिन-प्रतिदिन बढ़ती जा रही है। कई राज्यों ने ग्रामीण विकास कार्यक्रमों के क्रियान्वयन में पंचायत पर महती जिम्मेदारी डाली। निश्चित ही पंचायती राज व्यवस्था में संसदीय लोकतन्त्र को गाँव-गाँव और घर-घर तक पहुँचाने का एक सुन्दर अभियान इस देश में चल रहा है। 

Post a Comment

0Comments
Post a Comment (0)

#buttons=(Accept !) #days=(20)

Our website uses cookies to enhance your experience. Learn More
Accept !