Wednesday, 1 January 2020

टेलीफोन पर निबंध Essay on Telephone in Hindi

टेलीफोन पर निबंध Essay on Telephone in Hindi

टेलीफोन पर निबंध Essay on Telephone in Hindi टेलीफोन अद्भुत आविष्कार है। इसका उपयोग दोस्तों और परिवारों के साथ संवाद करने के लिए किया जाता है। हमने बच्चों और छात्रों के लिए टेलीफोन पर निबंध (Long and Short Essay on Telephone in Hindi) लिखा है।

    10 Lines on Telephone in Hindi

    • टेलीफोन विज्ञान का सबसे शानदार आविष्कार है।
    • इसका आविष्कार अलेक्जेंडर ग्राहम बेल ने किया था।
    • दूरभाष या टेलीफोन, दूरसंचार का एक उपकरण है।
    • इसमें एक स्पीकर और एक माइक्रोफोन होता है।
    • टेलिफोन के ऊपरी भाग में एक डायलिंग पैड होता है।
    • इसके डायल पैड पर 0 से 9 तक के अंक अंकित होते हैं।
    • प्रत्येक टेलिफ़ोन का एक विशेष नुम्बर होता है।
    • इसके द्वारा हम दूरस्थ मित्रों से संवाद कर सकते हैं।
    • टेलिफोन से समय और धन की बचत होती है।
    • भारत में दूरभाष का प्रयोग 1882 में शुरू हुआ। 
    • मोबाइल फोन इसका एक बेहतर रूप है। 
    • टेलीफोन पर बातचीत तार के माध्यम से होती है। 
    • लोग इसका उपयोग घरों कार्यालयों आदि में करते हैं। 

    Short Essay on Telephone in Hindi (100 words)

    टेलीफोन दूरसंचार का एक प्रमुख साधन है। इसका आविष्कार ग्राहम बेल ने किया था। इन दिनों भारत के कस्बों और शहरों में टेलीफोन काफी आम हो गए हैं। यह दो प्रकार के होते हैं - निजी फोन तथा सार्वजनिक फोन। हम घरों, कार्यालयों, दुकानों, स्कूलों, कॉलेजों और अस्पतालों में मिलने वाले टेलीफोन को निजी फोन कहा जाता है। जबकि जो टेलीफोन हम रेलवे प्लेटफार्मों पर, डाकघरों में, बस केंद्रों और हवाई अड्डों में देखते हैं वे सार्वजनिक फोन कहलाते हैं, क्योंकि इनका उपयोग जनता के सभी सदस्यों द्वारा किया जा सकता है। हर फोन का अपना विशेष नंबर होता है। यह मानवता के लिए बहुत लाभकारी यंत्र है। इसके माध्यम से हम दूर के स्थानों से समाचार प्राप्त कर सकते हैं। इस तरह समय और धन की बड़ी बचत होती है।

    Long Essay on Telephone in Hindi

    टेलीफोन का आविष्कार ग्राहम बेल ने 1876 ई. में किया था। टेलीफोन एक बहुत ही सरल यांत्रिक उपकरण है। यह दो या कभी-कभी अधिक व्यक्तियों के बीच बातचीत करने के काम आता है। हर टेलीफोन सेट में एक ट्रांसमीटर और एक रिसीवर होता है। ट्रांसमीटर स्पीकर की आवाज श्रोता को भेजता है। रिसीवर को स्पीकर की आवाज़ मिलती है। दो टेलीफोन सेट तारों द्वारा जुड़े हुए होते हैं। यदि तारों को कहीं भी अलग किया जाता है, तो संचार बाधित हो जाता है। मोबाइल टेलीफोन प्रणाली का नवीनतम स्वरुप है।

    टेलीफोन बहुत उपयोगी यंत्र है। टेलीफोन हमें बिना बाहर जाए बाहरी दुनिया के विभिन्न शहरों से जोड़कर हमारे कीमती समय और ऊर्जा को बचाता है। यह व्यापारियों से लेकर डॉक्टरों और वकीलों तक के सभी प्रकार के लोगों के कार्यालयों में पाया जाता है। पुलिस के पास भी अपने कार्यालयों में टेलीफोन हैं। वे किसी भी अपराध या अपराधी के बारे में तत्काल जानकारी प्राप्त करते हैं। वे एक अपराधी को पकड़ने के लिए विभिन्न पुलिस स्टेशनों के साथ संपर्क करते हैं। फायर ब्रिगेड कार्यालय में टेलीफोन सेट बहुत सहायक है। जैसे ही आग लगने की सूचना टेलीफोन के माध्यम से इस कार्यालय तक पहुंचती है, फायर ब्रिगेड दुर्घटनास्थल पर पहुंच जाती है और आग को बुझा देती है।

    आजकल के दिनों में टेलीफोन एक आम जरूरत बन गया है। इस सुविधा का विस्तार गाँवों तक किया गया है। एक समय था जब टेलीफोन सेट को अमीरों की निशानी माना जाता था। लेकिन आज यह हर परिवार में एक आवश्यक वस्तु बन गया है। अगर परिवार के सदस्य अलग-अलग जगहों पर रह रहे हैं तो वे टेलीफोन के जरिए एक-दूसरे से बात कर सकते हैं।

    SHARE THIS

    Author:

    I am writing to express my concern over the Hindi Language. I have iven my views and thoughts about Hindi Language. Hindivyakran.com contains a large number of hindi litracy articles.

    0 comments: