Wednesday, 9 January 2019

फुटबॉल मैच का वर्णन पर निबंध Football Match Essay in Hindi

फुटबॉल मैच का वर्णन पर निबंध Football Match Essay in Hindi

Football Match Essay in Hindi
प्रस्तावना- फुटबॉल भारत के प्रसिद्ध खेलों में से एक है। यह भारत में ही नहीं विश्व भर में प्रसिद्ध है। कुछ दिन पहले मैंने एक फुटबॉल मैच देखा था बिहार विश्वविद्यालय और राँची विश्वविद्यालय के बीच। यह मैच मुजफ्फपुर में एल.एस. कॉलेज के मैदान में खेला गया था।

मैच का आरम्भ- मैच शाम को 4 बजे शुरू हुआ था। सभी खिलाड़ी मैदान में थे। एक बड़ी भीड़ मैच शुरू होने की प्रतीक्षा कर रही थी। बिहार विश्वविद्यालय के खिलाड़ी लाल कमी और काली पतलून में थे। राँची विश्वविद्यालय के खिलाड़ी हरी कमीज लाल पैन्ट में थे। मैच के निर्णायक ने लम्बी सीटी बजायी। दोनों कप्तान उसके पास आये और गेंद के बारे में निश्चय करने लगे।

खेल अच्छी तरह आरम्भ हुआ। मैच बड़ी रोचकता से देखा जा रहा था। राँची विश्वविद्यालय का दल बहुत मजबूत था। वे बड़े रोचक और आक्रमकता के साथ खेल रहे थे। लेकिन बिहार विश्वविद्यालय के गोल कीपर ने अनेक खतरनाक गेंदें बचाई। बिहार विश्वविद्यालय के कुछ खिलाड़ी बड़ी आक्रामकता के साथ खेल रहे थे लेकिन शेष खिलाड़ियों में जोश दिखाई नहीं दे रहा था। इसलिए खेल कुछ समय के लिए एक तरफा लग रहा था और लग रहा था कि राँची विश्वविद्यालय बड़ी सरलता से यह मैच जीत जाएगा, लेकिन राँची विश्वविद्यालय ने एक गोल कर दिया। अवकाश हो गया। 1-0 से राँची विश्वविद्यालय आगे चल रहा था।


अवकाश के बाद खेल और रोमांचक हो गया। सब खिलाड़ी जोश में थे। बिहार विश्वविद्यालय के खिलाड़ी जोश में थे। बिहार विश्वविद्यालय के खिलाड़ी अधिक मेहनत कर रहे थे क्योंकि उन्हें गोल करना था। बिहार विश्वविद्यालय को अन्त में पेनल्टी किक मिली। यह उनके पास अन्तिम मौका था। अन्त में बिहार विश्वविद्यालय ने भी गोल कर दिया और सब खिलाड़ी प्रसन्न थे। अब स्कोर 1-1 था। मैच में एक बार फिर रोमांच आ गया। लेकिन कोई भी दल और गोल न कर सका। समय पूर्ण हो चुका था। मैच का अन्तिम स्कोर 1-1 था। मैच को ड्रॉ घोषित कर दिया। वास्तव में यह एक रोमांचक मैच था।

SHARE THIS

Author:

I am writing to express my concern over the Hindi Language. I have iven my views and thoughts about Hindi Language. Hindivyakran.com contains a large number of hindi litracy articles.

0 comments: