अंगारे उगलना मुहावरे का अर्थ और वाक्य प्रयोग

Admin
0

अंगारे उगलना मुहावरे का अर्थ 

अंगारे उगलना मुहावरे का अर्थ होता है – कड़वी बातें कहना; जली-कटी सुनाना; गुस्से में भला-बुरा कहना; क्रोध में कठोर वचन कहना; क्रोध में लाल-पीला होना; क्रोध करना। 

अंगारे उगलना मुहावरे का वाक्य प्रयोग

वाक्य प्रयोग - गरीब किसान को देखते ही ज़मींदार अंगारे उगलने लगा। 

वाक्य प्रयोग - अभिमन्यु की मृत्यु से आहत अर्जुन कौरवों पर अंगारे उगलने लगा। 

वाक्य प्रयोग - श्रीकृष्ण का नाम सुनते ही शिशुपाल अंगारे उगलने लगा। 

वाक्य प्रयोग - सुनील के चोरी करने की बात जानने पर उसके पिता जी अंगारे उगलने लगे। 

वाक्य प्रयोग - अपने विषय में अनर्गल वार्ता सुनकर वह अंगारे उगलने लगा।

वाक्य प्रयोग - विमला देवी तो हमेशा अपनी बहू के लिए अंगारे ही उगलती रहती है।

अंगारे उगलना एक प्रसिद्ध लोकोक्ति या हिन्दी मुहावरा है जिसका का अर्थ है – कड़वी बातें कहना; जली-कटी सुनाना; गुस्से में भला-बुरा कहना; क्रोध में कठोर वचन कहना; क्रोध में लाल-पीला होना; क्रोध करना। जब किसी व्यक्ति को किसी पर इतना अधिक क्रोध आता है कि क्रोधवश वह जला-कटा या उल्टा-सीधा कहने लगता है तो इस मुहावरे का प्रयोग किया जाता है।

Tags

Post a Comment

0Comments
Post a Comment (0)

#buttons=(Accept !) #days=(20)

Our website uses cookies to enhance your experience. Learn More
Accept !