Saturday, 3 July 2021

Few Sentences on Arjun in Hindi

Few Sentences on Arjun in Hindi

In this article, we are providing 5, 10 and 20 easy lines on Arjun in Hindi for students of class 1, 2, 3, 4 and 5. इस लेख में पढ़े अर्जुन पर 5 से 10 तथा 15 वाक्य का निबंध।
Few Sentences on Arjun in Hindi

5 Sentences on Arjun in Hindi

  • अर्जुन महाभारत के मुख्य नायक तथा 5 पांडवों में से एक थे। 
  • अर्जुन महाराज पाण्डु एवं रानी कुन्ती के वह तीसरे पुत्र थे। 
  • अर्जुन को विश्व का सर्वश्रेष्ठ धनुर्धर माना जाता था।
  • अर्जुन ने गुरु द्रोणाचार्य से धनुर्विद्या की शिक्षा प्राप्त की। 
  • अर्जुन को 'सव्यसाची' तथा धनंजय आदि नामों से भी जाना जाता है। 
  • अर्जुन की सुभद्रा, उलूपी , द्रौपदी और चित्रांगदा नामक चार पत्नियाँ थीं।
  • अर्जुन ने धर्म की रक्षा के लिए कौरवों से युद्ध किया। 

10 Sentences on Arjun in Hindi

  • अर्जुन महाभारत के मुख्य नायक तथा 5 पांडवों में से एक थे। 
  • अर्जुन भगवान् कृष्ण अनन्य भक्त तथा उनके प्रिय सखा थे । 
  • अर्जुन महाराज पाण्डु एवं रानी कुन्ती के वह तीसरे पुत्र थे। 
  • अर्जुन को विश्व का सर्वश्रेष्ठ धनुर्धर माना जाता है।
  • अर्जुन ने गुरु द्रोणाचार्य से धनुर्विद्या की शिक्षा प्राप्त की। 
  • अर्जुन ने धर्म की रक्षा के लिए अपने ही परिवार से युद्ध किया। 
  • अर्जुन की सुभद्रा, उलूपी , द्रौपदी और चित्रांगदा नामक चार पत्नियाँ थीं।
  • अर्जुन के पास अग्नि देव का गांडीव नामक एक दिव्य धनुष था। 
  • कहा जाता है कि इस दिव्य धनुष के बाण कभी ख़त्म नहीं होते थे। 
  • अर्जुन एवं सुभद्रा का अभिमन्यु नाम का एक शूरवीर पुत्र था। 
  • अर्जुन पुरस्कार का नाम भी महान योद्धा अर्जुन के नाम पर रखा गया है।

15 Sentences on Arjun in Hindi

  • अर्जुन महाभारत के मुख्य नायक तथा 5 पांडवों में से एक थे। 
  • अर्जुन भगवान् कृष्ण अनन्य भक्त तथा के प्रिय सखा थे । 
  • अर्जुन महाराज पाण्डु एवं रानी कुन्ती के वह तीसरे पुत्र थे। 
  • अर्जुन को विश्व का सर्वश्रेष्ठ धनुर्धर माना जाता था।
  • अर्जुन ने गुरु द्रोणाचार्य से धनुर्विद्या की शिक्षा प्राप्त की। 
  • अर्जुन ने धर्म की रक्षा के लिए अपने ही परिवार से युद्ध किया। 
  • अर्जुन को 'सव्यसाची' तथा धनंजय आदि नामों से भी जाना जाता है। 
  • अर्जुन के क्रमशः कर्ण, युधिष्ठिर, भीम, नकुल, सहदेव नामक 5 भाई थे।
  • पुराणों में देवराज इंद्र को भी अर्जुन का पिता बताया गया है। 
  • अर्जुन की सुभद्रा, उलूपी , द्रौपदी और चित्रांगदा नामक चार पत्नियाँ थीं।
  • अर्जुन एवं सुभद्रा का अभिमन्यु नाम का एक शूरवीर पुत्र था। 
  • कुंती का एक नाम पृथा था, इसलिए अर्जुन 'पार्थ' भी कहा जाता है। 
  • अर्जुन के पास अग्नि देव का गांडीव नामक एक दिव्य धनुष था। 
  • कहा जाता है कि इस दिव्या धनुष के बाण कभी ख़त्म नहीं होते थे। 
  • अर्जुन पुरस्कार का नाम भी महान योद्धा अर्जुन के नाम पर रखा गया है।

20 Sentences on Arjun in Hindi

  • अर्जुन महाभारत के मुख्य नायक तथा 5 पांडवों में से एक थे। 
  • अर्जुन भगवान् कृष्ण अनन्य भक्त तथा के प्रिय सखा थे । 
  • अर्जुन महाराज पाण्डु एवं रानी कुन्ती के वह तीसरे पुत्र थे। 
  • अर्जुन ने गुरु द्रोणाचार्य से धनुर्विद्या की शिक्षा प्राप्त की। 
  • अर्जुन सबसे अच्छे धनुर्धर और द्रोणाचार्य के सबसे प्रिय शिष्य थे। 
  • अर्जुन को विश्व का सर्वश्रेष्ठ धनुर्धर माना जाता था।
  • अर्जुन ने धर्म की रक्षा के लिए अपने ही परिवार से युद्ध किया। 
  • पुराणों में देवराज इंद्र को भी अर्जुन का पिता बताया गया है। 
  • कुंती का एक नाम पृथा था, इसलिए अर्जुन 'पार्थ' भी कहा जाता है। 
  • अर्जुन को 'सव्यसाची' तथा धनंजय आदि नामों से भी जाना जाता है। 
  • अर्जुन के क्रमशः कर्ण, युधिष्ठिर, भीम, नकुल, सहदेव नामक 5 भाई थे।
  • महाभारत के महान योद्धा सूर्यपुत्र कर्ण भी अर्जुन के बड़े भाई थे। 
  • अर्जुन की सुभद्रा, उलूपी , द्रौपदी और चित्रांगदा नामक चार पत्नियाँ थीं।
  • अर्जुन एवं सुभद्रा का अभिमन्यु नाम का एक शूरवीर पुत्र था। 
  • अर्जुन पुरस्कार का नाम भी महान योद्धा अर्जुन के नाम पर रखा गया है।
  • अर्जुन के पास अग्नि देव का गांडीव नामक एक दिव्य धनुष था। 
  • कहा जाता है कि इस दिव्या धनुष के बाण कभी ख़त्म नहीं होते थे। 
  • युद्ध में विषादग्रस्त होने पर कृष्ण ने अर्जुन को गीता का उपदेश दिया। 
  • भगवान् श्रीकृष्ण को नारायण तथा अर्जुन को नर माना जाता है। 
  • इस प्रकार अर्जुन साहस, धैर्य और पराक्रम जैसे गुणों से ओत-प्रोत थे। 
Read also : 

SHARE THIS

Author:

I am writing to express my concern over the Hindi Language. I have iven my views and thoughts about Hindi Language. Hindivyakran.com contains a large number of hindi litracy articles.

0 comments: