Wednesday, 15 January 2020

पुलिसकर्मी पर निबंध Essay on Policeman in Hindi

पुलिस पर निबंध Essay on Policeman in Hindi

पुलिसकर्मी पर निबंध Essay on Policeman in Hindi : In this article, we are providing पुलिस पर निबंध। This Essay on Policeman in Hindi is ideal for class 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9 and 10.

Short Essay on Policeman in Hindi

पुलिस पर निबंध Essay on Policeman in Hindi
पुलिस विभाग सरकार का एक महत्वपूर्ण विभाग है। पुलिसकर्मी कानून और व्यवस्था का संरक्षक होता है। वह असामाजिक तत्वों के लिए आतंक का पर्याय होता है। पुलिसकर्मी को ही पुलिस वाला भी कहा जाता है। पुलिसकर्मी खाकी वर्दी, खाकी टोपी और मजबूत काले जूते पहनता है। वह अपने हाथ में एक मोटी छड़ी या बंदूक रखता है।

वह समाज में शान्ति बनाए रखता है तथा अपराधियों को दण्डित करता है। वह रात में सड़क पर गश्त लगाता है और चोरों और लुटेरों से हमारी संपत्ति की रक्षा करता है। मेलों और बड़े समारोहों में उसे बहुत काम करना पड़ता है। मेलों में, वह उन महिलाओं और बच्चों की मदद करता है जो खो या भटक जाते हैं और मुसीबत में पड़ जाते हैं।

भारत में कुछ पुलिसवाले खुद को अधिकारी समझते है न कि जनता का सेवक। वह मुसीबत में किसी की मदद करना अपना कर्तव्य नहीं समझते। वह पूरी तरह से भृष्टाचार के लिप्त रहते है। वह गरीब और निर्बल लोगों को परेशान करता है। पीटे जाने के डर से लोग बोल नहीं सकते। उनमे दया और सहानुभूति की भावनाओं का अभाव पाया जाता है।

उसके साथ सहयोग करना हमारा कर्तव्य है। लेकिन पुलिसकर्मी को विनम्र और विचारशील होना चाहिए। उसे सामान्य और निर्दोष व्यक्तियों के साथ अच्छा व्यवहार करना चाहिए। उसे कठोर कठोर नहीं होना चाहिए। उसे यह ध्यान रखना चाहिए कि वह लोगों की सेवा करे।

पुलिस पर निबंध 

एक पुलिस एजेंसी को पुलिस बल, पुलिस विभाग, पुलिस सेवा भी कहा जा सकता है। पुलिस ऐसे लोगों का समूह है, जिनका काम कानूनों को लागू करना, अपराधों को सुलझाना और सार्वजनिक संपत्ति की रक्षा करना होता है। पुलिस वास्तव में समाज की रक्षक होती है। पुलिस सार्वजनिक व्यवस्था और सुरक्षा को बनाए रखने तथा आपराधिक गतिविधियों की जांच, पता लगाने और रोकने के लिए जिम्मेदार होती है। इन कार्यों को पुलिसिंग के रूप में जाना जाता है। पुलिस को अक्सर विभिन्न लाइसेंसिंग और नियामक गतिविधियों के साथ सौंपा जाता है।

पुलिस के काम 
अपराध रोकना : पुलिस का सबसे महत्वपूर्ण काम अपराध को रोकना और जनता की सुरक्षा करना है। पुलिसकर्मी पैदल तथा पुलिस कारों में गश्त लगाकर ऐसा करता हैं।

अपराधों पर प्रतिक्रिया: जब कोई पुलिस को किसी अपराध की सूचना मिलती है तो पुलिस फ़ौरन ही घटनास्थल पर अधिकारियों को भेजकर अपराध को रोकना तथा अपराधी को पकड़ने का कार्य करती है। 

अपराध की जांच : इसका मतलब है कि पुलिस अपराध घटित होने के पश्चात यह पता लगाने की कोशिश करती है की अपराध का वास्तविक दोषी कौन है। वह संदिग्धों को गिरफ्तार करके हिरासत में लेती है। जब पुलिस यह मानती है कि किसी ने अपराध किया है, तो पुलिस उन्हें गिरफ्तार करती है, उन्हें थाने ले जाती है और उनसे सवाल पूछती है। हालांकि, उन्हें दण्डित करने का अधिकार न्ययालय का है न की पुलिस का। 

आपात स्थिति या प्राकृतिक आपदा, आगजनी जैसी गंभीर परिस्थितियों में पुलिस अग्निशमन, एंबुलेंस और बचाव दल के साथ मिलकर काम करती है। 

निष्कर्ष : एक पुलिसकर्मी समाज की रीढ़ होता है। वह कानून के संरक्षक और समाज के रक्षक के रूप में कार्य करता है। कभी-कभी वह कुछ अति संवेदनशील क्षेत्रों में तैनात होता है जहाँ उसके अपने जीवन के लिए भी खतरा होता है। कभी-कभी भीड़ हिंसक हो जाती है, उसे लाठीचार्ज का सहारा लेना पड़ता है। कई बार जब स्थिति बिगड़ती है, तो उसे गोलीबारी जैसी कड़ी कार्रवाई करनी पड़ती है। उसे अपने कर्तव्य के लिए अपने व्यक्तिगत सुख का त्याग करना पड़ता है। 

Long Essay on Policeman in Hindi

पुलिसवाला एक सरकारी कर्मचारी होता है। वह पुलिस विभाग के लिए काम करता है। उसका मुख्य कार्य समाज में कानून और व्यवस्था बनाए रखना और अपने क्षेत्र में अपराधियों से नागरिकों की रक्षा करना है। वह उन लोगों को गिरफ्तार करता है जो कानून तोड़ने की कोशिश करते हैं, और उन्हें पुलिस स्टेशन में बंद कर देता हैं। वह एक महत्वपूर्ण लोक सेवक हैं। उसे बस स्टैंड, सड़क, रेलवे स्टेशन, बाजार, अंतर-राज्यीय बस स्टैंड आदि सभी जगह देखा जा सकता है। त्योहार के समय में उसे बहुत मेहनत करनी पड़ती है।

पुलिसवाला हमारे समाज का बहुत उपयोगी सदस्य है। उसका मुख्य कार्य असामाजिक तत्वों पर नजर रखना है। हर समाज में, ऐसे तत्व होते हैं जो उपद्रव पैदा करते हैं। वे समाज में शांति और सद्भाव के लिए खतरा पैदा करते हैं। यह पुलिसकर्मी ही है जो उन्हें नियंत्रित करते है। वह उनके साथ सख्ती से पेश आता है जो कानून का पालन नहीं करते हैं। एक पुलिसकर्मी समाज की रीढ़ होता है।

वह कानून का प्रतीक है और उसे शांति का संरक्षक कहा जाता है। वह दुष्टों के लिए एक आतंक है। वह कानून और समाज के रक्षक के रूप में कार्य करता है। उसे बहुत कम छुट्टियां मिलती हैं। बहुत बार उसे त्योहार के मौके पर भी काम करना पड़ता है। उसे अपने कर्तव्य के लिए अपने व्यक्तिगत सुख का त्याग करना पड़ता है। उनकी नौकरी में बड़ा जोखिम है। वह चोरों और लुटेरों को गिरफ्तार करता है। 

पुलिस की दो मुख्य भूमिकाएं होती हैं: अपराध की जांच और अपराध की रोकथाम। इसके अतिरिक्त उसे कई तरह की ड्यूटी करनी पड़ती है। उसे रात में गश्त लगानी पड़ती है कई बार वह यातायात को नियमित करता है।वह ट्रैफिक नियमों का उल्लंघन करने वालों से जुर्माना वसूलता है। वह यातायात को नियंत्रित करने के लिए सीटी का उपयोग करता है। वह शासन के सुचारू संचालन में मदद करता है। वह समाज में शांति और सद्भाव सुनिश्चित करता है। वह दो पक्षों के बीच विवादों का निपटारा करता है। 

लेकिन पुलिस विभाग में भी भ्रष्टाचार जड़ जमा चुका है। कुछ पुलिसकर्मी कर्तव्यपरायण और ईमानदार नहीं हैं। वे भौतिक सुखों के लिए अपने कर्तव्यों से विमुख हो जाते हैं। कभी-कभी वे असामाजिक तत्वों के साथ घनिष्ठ संबंध विकसित करते हैं और इस तरह समाज की शांति और सद्भाव को बिगाड़ते हैं। ऐसे पुलिसकर्मी पुलिस विभाग को शर्मसार करते हैं।

सरकार को पुलिस विभाग में शिक्षित और ईमानदार व्यक्तियों की भर्ती करनी चाहिए। उन्हें सिखाया जाना चाहिए कि रिश्वत स्वीकार न करें। पुलिसकर्मी को भी अपने कर्तव्य के प्रति ईमानदार होना चाहिए। तभी हमारा समाज एक अच्छा समाज बनेगा।

SHARE THIS

Author:

I am writing to express my concern over the Hindi Language. I have iven my views and thoughts about Hindi Language. Hindivyakran.com contains a large number of hindi litracy articles.

0 comments: