Friday, 21 September 2018

छोटे भाई को धूम्रपान की हानियों का वर्णन करते हुए पत्र

छोटे भाई को धूम्रपान की हानियों का वर्णन करते हुए पत्र 

chote bhai ko patra
15-B ब्लॉक
कुतुब रोड दिल्ली 
दिनांक : 2 मार्च 2018 
प्रिय मनोज,
कल आप के छात्रावास से लौटा तो मन कुछ उदास और भावी आशंका से बड़ा खिन्न रहा। वहां कुछ विद्यार्थियों को सिगरेट पीते देखकर आप पर भी उसका प्रभाव पड़ने की संभावना सी दिखने लगी। वैसे तो मुझे आप पर पूर्ण विश्वास है कि आप भूलकर भी ऐसे विद्यार्थियों की संगति ना करेंगे, फिर भी धूम्रपान के कारण होने वाली कुछ एक हानियों से मैं आपको सूचित करना अपना कर्तव्य मानता हूं।

धूम्रपान स्वास्थ्य का नाश करने वाला होता है। वह अनेक प्रकार की बुरी आदतों को जन्म देने वाला होता है, शिष्टाचार के विरुद्ध एक गंदा व्यसन है। आपको विदित है कि सिगरेट, 20, बीड़ी, तंबाकू, चरस, अफीम इत्यादि वस्तुओं का धुआं हमारे फेफड़ों के लिए हानिकारक होता है। इससे खांसी दमा कैंसर तथा क्षय रोग जैसी बीमारियां एक स्वस्थ मनुष्य को लग जाती हैं जो उसे घुन की भांति खाकर खोखला कर जाती हैं। धूम्रपान करने वाले को और भी कई व्यसन आ घेरते हैं। झूठ बोलकर तथा चोरी करके पैसे लेना, बुरी संगति, शराब, जुआ का आदि बन जाना इत्यादि।

धूम्रपान से अपव्यय होता है वही पैसा यदि फल या पौष्टिक आहार पर व्यय किया जाए तो स्वास्थ्य बनता है। जबकि धूम्रपान पर खर्च करके हम अपना स्वास्थ्य अपने हाथों खो देते हैं। अतः मेरी आपको यही सलाह है कि आप इस बुराई से बचकर रहे तथा यदि आप किसी को आपसे तो मुझे भूलकर भी इस दुर्व्यसन को अपनाने की आशा नहीं हो सकती। आशा है कि आप सावधान रहोगे।
आपका भाई 
सुरेश गोयल

SHARE THIS

Author:

Etiam at libero iaculis, mollis justo non, blandit augue. Vestibulum sit amet sodales est, a lacinia ex. Suspendisse vel enim sagittis, volutpat sem eget, condimentum sem.

0 comments: