Monday, 6 November 2017

लोक कथा चिड़िया का दाना

चिड़िया का दाना लोक कथा।


एक थी चिड़िया नाम था चूं-चूं। एक दिन उसे कहीं से दाल का एक दाना मिला। वह गई चक्कीरानी के पास और दाना दलने को कहा। कहते-कहते ही वह दाना चक्की में गिर गया। चिड़िया ने दाना मांगा तो चक्की बोली- बढ़ई से चक्की चिरवा लो और अपना दाना वापस ले लो।


चिड़िया बढ़ई के पास पहुंची। उसने बढ़ई से कहा- बढ़ईतुम चक्की चीरोंमेरी दाल मुझे वापस दिला दो।’  बढ़ई के पास इतना समय कहां था कि वह छोटी-सी चिड़िया की बात सुनता ?  अब चिड़िया भागी-भागी गयी राजा के पास। राजा घिरा बैठा था चापूलसों से।


उसने चूं-चूं को भगा दिया। वह भागी रानी के पासरानी सोने की कंघी से बाल सँवार रही थी। उसने चूं-चूं से कहा। भूल जा अपना दानाआ मैं खिलाऊं तुझको मोती नाना (कई प्रकार के)
मोती भी भला खाए जाते हैंचिड़िया ने सांप से कहा, ‘सांप-सांपरानी को डस ले।

रानीराजा को नहीं मनाती, राजा बढ़ई को नहीं डांटता और बढ़ई चक्की नहीं चीरता इसलिए मुझे दाल का दाना नहीं मिलता।
सांप भी खा-पीकर मस्ती में पड़ा था। उसने सुनी-अनसुनी कर दी। चूं-चूं ने लाठीसे कहा-लाठी-लाठी तोड़ दे सांप की गर्दन।’ अरे! यह क्या! लाठी तो उसी पर गिरने लगी।
चूं-चूं जान बचाकर भागी आग के पास। आग से बोली-जरा लाठी की ऐंठ निकाल दो। उसे जलाकर कोयला कर दो।’ आग न मानी। चूं-चूं कागुस्सा और भी बढ़ गया। 



उसने समुद्र से कहा-इतना पानी पास तुम्हारे, लगादो आग की अकल ठिकाने।’  समुद्र तो अपनी ही दुनिया में मस्त था। उसकी लहरों के शोर में चूं-चूं की आवाज दबकर रह गई।

वहां से चूं-चूं अपने दोस्त हाथी मोटूमल के पास गयी। मोटूमल ससुराल जाने की तैयारी में था। उसने तो चूं-चूं की राम-राम का जवाब तक न दिया। तब चूं-चूं को अपनी सहेली चींटी रानी की याद आई।

कहते हैं कि मुसीबत के समय सच्चा दोस्त ही काम में आते हैं। चींटी रानी ने चूं-चूं को पानी पिलाया और अपनी सेना के साथ चल पड़ी। मोटूमल इतनी चींटियों को देखकर डर गया और बोला-हमें मारे-वारे न कोएहम तो समुद्र सोखब लोए।’ (मुझे मत मारोमैं अभी समुद्रको सुखाता हूं।)


इसी तरह समुद्र डरकर बोला-हमें सोखे-वोखे न कोएहम तो आग बुझाएवे लोए।’ और देखते-ही-देखते सभी सीधे हो गए। आग ने लाठी को धमकाया और लाठी सांप पर लपकी,  सांप रानी को काटने दौड़ा तो रानी ने राजा को समझायाराजा ने बढ़ई को डांटाबढ़ई आरी लेकर दौड़ा।

अब तो चक्की के होश उड़ गए। छोटी-सी चूं-चूं ने अपनी हिम्मत के बल पर इतने लोगों को झुका दिया। चक्की आरी देखकर चिल्लाई-हमें चीरे-वीरे न कोएहम तो दाना उगलिने लोए।’ (मुझे मत चीरोंमैं अभी दाना उगल देती हूं।)

चूं-चूं चिड़िया ने अपना दाना लिया और फुर्र से उड़ गई।

उत्तर भारत की यह लोक कथा गजेन्द्र ओझा जी की सहायता से उपलब्ध हो पायी है। 

SHARE THIS

Author:

I am writing to express my concern over the Hindi Language. I have iven my views and thoughts about Hindi Language. Hindivyakran.com contains a large number of hindi litracy articles.

0 comments: