Monday, 22 August 2022

चीन की दीवार पर निबंध (Essay on Great wall Of China in Hindi)

चीन की दीवार पर निबंध (Essay on Great wall Of China in Hindi)

चीन की दीवार पर निबंध : चीन की विशाल दीवार मिट्टी और पत्थर से बनी एक किलेनुमा दीवार है। 'चीन की दीवार' की कुल लंबाई 21,196 किलोमीटर है। चीन के लोग इस दीवार को 'वान ली चैंग चेंग' के नाम से जानते हैं। चीन की दीवार एकमात्र मानव निर्मित स्मारक है जो अंतरिक्ष से भी दिखाई पड़ता है। इस दीवार की चौड़ाई इतनी हैं कि एक साथ 5 घुड़सवार या 10 पैदल सैनिक एक साथ गस्त कर सकते हैं। इस दीवार से दूर से आते शत्रुओं पर नजर रखने के लिए कई जगह मीनारें भी बनायीं गयी थीं। इस दीवार को 1970 में आम पयर्टकों के लिए खोला गया था। चीनी दीवार को यूनेस्को ने 1987 में विश्व धरोहर सूची में शामिल किया था। लगभग 1 करोड़ पयर्टक हर साल इस दीवार को देखने के लिए आते हैं।

चीन की दीवार पर निबंध (Essay on Great wall Of China in Hindi)

चीन के पूर्व सम्राट किन शी हुआंग की कल्पना के बाद दीवार बनाने में करीब 2000 साल लगे। इस दीवार का निर्माण किसी एक सम्राट द्वारा नहीं किया गया बल्कि कई सम्राटों और राजाओं द्वारा कराया गया था। जिसे चीन के विभिन्न शासको के द्वारा उत्तरी हमलावरों से रक्षा के लिए पाँचवीं शताब्दी ईसा पूर्व से लेकर सोलहवी शताब्दी तक बनवाया गया। यह सिर्फ चीन ही नहीं बल्कि दुनिया की भी सबसे लंबी दीवार है। यह दुनिया के सात अजूबों में शामिल है, जिसे अंग्रेजी में 'ग्रेट वॉल ऑफ चाइना' कहते हैं। इस दीवार को बनाने के लिए ईंट, पत्थर, लकड़ी और धातुओं का इस्तेमाल किया गया है। इसी वजह से इसे दुनिया की सबसे पुरानी मिट्टी और पत्थर की बनी दीवार भी कहा जाता है। 

माना जाता है कि इस दीवार के निर्माण में करीब 20 लाख मजदूर लगे थे, जिसमें से 10 लाख लोगों ने अपनी जान गंवा दी थी। माना जाता है कि उन्हें दीवार के नीचे ही दफना दिया गया था। यही वजह है कि इस दीवार को दुनिया का सबसे बड़ा कब्रिस्तान भी कहा जाता है।  इस चीनी दीवार को देश की रक्षा के लिए बनाया गया था लेकिन यह दीवार अजेय न रह सकी क्योंकि चंगेज खान ने 1211 में इसे तोडा और पार कर चीन पर हमला किया था। लंबी होने की वजह से इस दीवार की ऊंचाई हर जगह एक समान नहीं है। यह किसी जगह पर नौ फीट ऊंची है तो कहीं पर 35 फीट ऊंची है। 


SHARE THIS

Author:

I am writing to express my concern over the Hindi Language. I have iven my views and thoughts about Hindi Language. Hindivyakran.com contains a large number of hindi litracy articles.

0 comments: