Thursday, 11 August 2022

10 Lines about Maharashtra in Hindi - महाराष्ट्र राज्य पर 10 वाक्य का निबंध

10 Lines about Maharashtra in Hindi : इस निबंध में हमने महाराष्ट्र राज्य पर 10 वाक्य का निबंध लिखा है जिसको पढ़कर विद्यार्थी आसानी से 10 Lines about Maharashtra in Hindi लिख पाएंगे। 
10 Lines about Maharashtra in Hindi - महाराष्ट्र राज्य पर 10 वाक्य का निबंध

5 Lines about Maharashtra in Hindi

(1) महाराष्ट्र भारत का एक राज्य है जो भारत के दक्षिण मध्य में स्थित है। 

(2) महाराष्ट्र की राजधानी मुंबई है जो भारत की आर्थिक राजधानी भी है। 

(3) महाराष्ट्र राज्य का कुल भौगोलिक क्षेत्रफल 307,713 वर्ग किमी है।

(4) महाराष्ट्र क्षेत्रफल के आधार पर भारत का तीसरा सबसे बड़ा राज्य है। 

(5) प्रारम्भ में महाराष्ट्र में २६ जिले थे परन्तु वर्तमान में महाराष्ट्र में ३६ जिले है। 

(6) महाराष्ट्र का राजकीय पक्षी हरा शाही कबूतर और राजकीय पशु विशाल गिलहरी है।

10 Lines about Maharashtra in Hindi

(1) महाराष्ट्र भारत का एक राज्य है जो भारत के दक्षिण मध्य में स्थित है। 

(2) महाराष्ट्र राज्य का निर्माण 1 मई, 1960 को मराठी भाषी के आधार पर किया गया। 

(3) महाराष्ट्र की राजधानी मुंबई है जो भारत की आर्थिक राजधानी भी है। 

(4) प्रारम्भ में महाराष्ट्र में २६ जिले थे परन्तु वर्तमान में महाराष्ट्र में ३६ जिले है। 

(5) महाराष्ट्र राज्य का कुल भौगोलिक क्षेत्रफल 307,713 वर्ग किमी है।

(6) महाराष्ट्र क्षेत्रफल के आधार पर भारत का तीसरा सबसे बड़ा राज्य है। 

(7) जनसँख्या के आधार पर मुंबई महाराष्ट्र का सबसे बड़ा ज़िला है। 

(8) क्षेत्रफल के आधार पर पुणे महाराष्ट्र का सबसे बड़ा ज़िला है।

(9) महाराष्ट्र में लोकसभा की 48 और राज्य सभा की कुल 19 सीटें हैं।

(10) महाराष्ट्र का राजकीय पक्षी हरा शाही कबूतर और राजकीय पशु विशाल गिलहरी है।

(11) महाराष्ट्र का राजकीय वृक्ष आम का वृक्ष और राजकीय पुष्प जरुल है।

(12) गोदावरी नदी महाराष्ट्र राज्य की सबसे लम्बी नदी है। 

(13) महाराष्ट्र में गेटवे ओफ इंडिया, मरीन ड्राईव और नासिक में चित्रकूट कुटिया जैसे पर्यटन स्थल हैं।


SHARE THIS

Author:

I am writing to express my concern over the Hindi Language. I have iven my views and thoughts about Hindi Language. Hindivyakran.com contains a large number of hindi litracy articles.

0 comments: