Friday, 13 May 2022

वायु प्रदूषण पर निबंध​ - Hindi Essay on Air Pollution for Students

वायु प्रदूषण पर निबंध​ - Hindi Essay on Air Pollution for Students

वायु प्रदूषण पर निबंध​ - Hindi Essay on Air Pollution for Student
वायु प्रदूषण मानव निर्मित गैसों और हवा में छोड़े गए रसायनों से उत्पन्न एक गंभीर समस्या है। वातावरण के रासायनिक प्रदूषण के सामान्य स्रोतों और अन्य प्रकार के वायु प्रदूषण के बारे में जानें, और उन तरीकों के बारे में जानें जिनसे बच्चे वायु प्रदूषण से निपटने में मदद कर सकते हैं।

    वायु प्रदूषण पर निबंध​ 100 words for Class 1 and 2

    वायु प्रदूषण से तात्पर्य प्रदूषित वायु से है। जब वायुमंडलीय हवा में हानिकारक बाह्य तत्वों मिल जाते हैं तो इसे वायु प्रदूषण कहते हैं। उद्योगों और मोटर वाहनों से उत्सर्जित हानिकारक और बिषैली गैसें मौसम, पेड़-पौधों और मनुष्य सभी को बहुत हानि पहुँचाती हैं। कुछ प्राकृतिक और मानवीय कारक वायु प्रदूषण के लिए जिम्मेदार हैं। हालांकि सबसे ज्यादा वायु प्रदूषण मानव गतिविधियों के कारण होता है जैसे: जीवाश्म, कोयला और तेल का जलना, हानिकारक गैसों को छोड़ना और कारखानों और मोटर वाहनों से निकला धुआं आदि। वनों के विकास, संरक्षण एवं संवर्धन को प्रमुखता देकर वायु प्रदूषण को को नियंत्रित किया जा सकता है। 

    वायु प्रदूषण पर निबंध​ 150 words for Class 3 and 4

    वायु प्रदूषण तब होता है जब हानिकारक गैसें, धूल, धुआं या रसायन हवा में मिल जाते हैं और इसे अशुद्ध कर देते हैं। वायु प्रदूषण मनुष्यों और जानवरों के सांस लेने और पौधों के विकास के लिए असुरक्षित है।

    पृथ्वी एक वायुमंडल से घिरी हुई है, जो गैसों की एक परत है। जब वायु प्रदूषित हो जाती है, तो यह पृथ्वी के वायुमंडल को हानि पहुँचाती है और लोगों के लिए समस्याएँ उत्पन्न करती है। वायु प्रदूषण ब्रोंकाइटिस जैसी बीमारियों को जन्म दे सकता है और अस्थमा से पीड़ित लोगों को नुकसान पहुंचा सकता है। यह बच्चों के लिए ठीक से विकसित होना भी मुश्किल बना सकता है। वायु प्रदूषण को लंबे समय से मानव स्वास्थ्य और पृथ्वी के पारिस्थितिक तंत्र के लिए एक खतरे के रूप में देखा जाता रहा है। बारिश होने पर हवा में मिले प्रदूषक तत्व पानी के साथ जमीन पर आ जाते हैं और धरती को प्रदूषित करते हैं। जिससे पौधों और जानवरों को नुकसान होता है। इसलिए हमें अपनी आदतों में बदलाव कर और हरित प्रौद्योगिकी को अपनाना चाहिए जिससे वायु प्रदूषण को कम किया जा सके। 

    वायु प्रदूषण पर निबंध​ 200 words for Class 5 and 6

    वायु प्रदूषण दिन-प्रतिदिन विकराल रूप धारण करता जा रहा है. वातावरण की वायु में घुली हानिकारक गैस और अशुद्ध कण वायु प्रदूषण कहलाती हैं। मानवजनित गतिविधियां वायु प्रदूषण के कारण हैं। हमारी दैनिक ज़रूरतों को पूरा करने के लिए इस्तेमाल होने वाली बिजली उत्पन्न करने के लिए जीवाश्म ईंधन का उपयोग किया जाता है और इससे निकलने वाला धुआँ हमारे वातावरण के लिए बेहद खतरनाक होता है। 

    उद्योग, वाहन व ज्वालामुखी से उत्सर्जित गैस वायु प्रदूषण का मुख्य कारण है। जीवाश्म ईंधन का अधिक दोहन और जंगल की आग भी वायु प्रदूषण उत्पन्न करते हैं। इसके कारण हमारे देश में प्रतिवर्ष हजारों लोगों की मृत्यु हो रही है। यह प्रतिवर्ष दोगुनी रफ्तार से बढ़ रहा है वायु प्रदूषण को लेकर ना तो सरकार की तरफ से कोई पुख्ता कदम उठाई जा रहे हैं और ना ही आम आदमी इसके बारे में कोई चिंता कर रहा है।

    वायु प्रदूषण के कारण हमारी पृथ्वी पर भी बदलाव आ रहा है जिसके कारण हमारी पृथ्वी का वातावरण बहुत तेजी से गरम हो रहा है। जिसके कारण ग्लोबल वार्मिंग जैसी स्थिति उत्पन्न हो रही है। वायु प्रदूषण हमारी पूरी पृथ्वी के वातावरण को नष्ट कर रहा है।

    पृथ्वी पर रहने वाला कोई भी जीव भोजन और जल के बिना तो कुछ दिन तक जिंदा रह सकता है लेकिन वायु के बिना एक क्षण भी जीवित नहीं रह सकता है इसलिए हमें जीवनदायी वायु  को प्रदूषित नहीं करना चाहिए.

    वायु प्रदूषण पर निबंध​ 300 words for Class 7 and 8

    वाहनों तथा फैक्ट्रियों से निकलने वाले गैसों के कारण हवा (वायु) प्रदूषित होती है। वायु प्रदूषण वर्तमान समय पूरे विश्व में विशेषरुप से औद्योगिकीकरण के कारण बड़े शहरों में सबसे बड़ी समस्या है। पर्यावरण में धूंध, धुआं, विविक्त, ठोस पदार्थों आदि का रिसाव शहर के वातावरण को संकेन्द्रित करता है जिसके कारण लोगों को स्वास्थ्य संबंधी खतरनाक बीमारी हो जाती हैं। लोग दैनिक आधार पर बहुत सा गंदा कचरा फैलाते हैं, विशेषरुप से बड़े शहरों में जो बहुत बड़े स्तर पर शहर के वातावरण को प्रदूषित करने में अपना योगदान देता है। मोटर साइकिल (बाइक), औद्योगिक प्रक्रिया, कचरे को जलाना आदि के द्वारा निकलने वाला धुआं और प्रदूषित गैसें वायु प्रदूषण में में अपना योगदान देती हैं। कुछ प्राकृतिक प्रदूषण भी जैसे पराग-कण, धूल, मिट्टी के कण, प्राकृतिक गैसें आदि वायु प्रदूषण के स्त्रोत है।

    वायु प्रदूषण के अन्य स्त्रोतों में लैंडफिल में कचरे का अपघटन और ठोस पदार्थों के निराकरण की प्रक्रिया से मीथेन गैस (जो स्वास्थ्य के लिये बहुत हानिकारक होता है) का निकलना है। तेजी से बढ़ती हुई जनसंख्या, औद्योगिकीकरण, स्वचलित वाहनों के प्रयोग में वृद्धि, हवाई जहाज आदि ने इस मुद्दे को गंभीर पर्यावरण का मुद्दा बना दिया है।

    जिस हवा को हम सांस के द्वारा प्रत्येक क्षण लेते हैं, वो पूरी तरह से प्रदूषित है जो हमारे फेफड़ों और पूरे शरीर में रक्त परिसंचरण के माध्यम से जाती है और अनगिनत स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं का कारण बनती है। प्रदूषित वायु पेड़-पौधों, पशुओं और मनुष्य के लिये प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष तरीके से नष्ट करने का कारण बनती है। यदि पर्यावरण को सुरक्षित करने वाली नीतियों का गंभीरता और कड़ाई से पालन नहीं किया गया तो वायु प्रदूषण का बढ़ता हुआ स्तर आने वाले दशकों में 1 मिलियन टन वार्षिक के आधार पर बढ़ सकता है।

    वायु प्रदूषण पर निबंध 400 शब्द for Class 9 and 10

    वातावरण की स्वच्छ वायु में विषैले अवांछित पदार्थों का लगातार बढ़ना वायु प्रदूषण कहलाता है। विभिन्न बाह्य तत्वों, जहरीली गैसों और मानवीय क्रियाकलापों के कारण स्वच्छ वायु प्रदूषित हो जाती है। जिसका नकारात्मक प्रभाव पर्यावरण, स्वस्थ्य, वनस्पति, मानव जीवन और पशु-पक्षियों पर पड़ता है। वायु प्रदूषण का स्तर उन सभी प्रदूषणों पर निर्भर करता है जो विभिन्न स्त्रोतों से निकलता है। स्थलाकृति और मौसम की स्थिति प्रदूषण की निरंतरता को बढ़ा रही हैं। उद्योगों में विनिर्माण प्रक्रिया में इस्तेमाल विभिन्न प्रकार के कच्चे माल से हानिकारक गैसों के उत्सर्जन की मात्रा बढ़ती जा रही है। बढ़ता हुआ जनसंख्या घनत्व और अधिक औद्योगिकीकरण की मांग कर रहा है, जो आखिरकार वायु प्रदूषण का कारण बनता है।

    वायु प्रदूषण हानिकारक तरल बूंदों, ठोस पदार्थों और विषाक्त गैसों (कार्बन ऑक्साइड, हलोगेनटेड और गैर- हलोगेनटेड हाईड्रोकार्बन, नाइट्रोजन और सल्फर गैसें, अकार्बनिक पदार्थ, अकार्बनिक और कार्बनिक अम्ल, बैक्टीरिया, वायरस, कीटनाशक आदि) का मिश्रण है, जो सामान्यतः ताजी हवा में नहीं पाये जाते और पेड़-पौधों और पशुओं के जीवन के लिये बहुत खतरनाक है। वायु प्रदूषण दो प्रकार का होता है जोकि प्राकृतिक और मानव निर्मित स्त्रोत है। वायु प्रदूषण के कुछ प्राकृतिक स्रोतों जैसे, ज्वालामुखी विस्फोट, ज्वालामुखी (राख, कार्बन डाइऑक्साइड, धुआं, धूल, और अन्य गैसें), रेत संकुचन, धूल, समुद्र और महासागर की लवणीयता, मिट्टी के कण, तूफान, जंगलों की आग, ब्रह्मांडीय कण, किरण, क्षुद्रग्रह सामग्री की बमबारी, धूमकेतु से स्प्रे , पराग अनाज, कवक बीजाणु, वायरस, बैक्टीरिया आदि है।

    वायु प्रदूषण के मानव निर्मित साधन उद्योग, कृषि, ऊर्जा सयंत्र, स्वचलित वाहन, घरेलू स्त्रोत आदि है। मानव निर्मित साधनों से कुछ वायु प्रदूषण जैसे धूम्रपान, धूल, धुएं, पार्टिकुलेट पदार्थ, रसोई से गैस, घरेलू ऊष्मा, विभिन्न वाहनों से निकलने वाला धुआं, कीटनाशकों का उपयोग, खर-पतवार को मारने के लिये प्रयोग की जाने वाली विषाक्त गैसें, ऊर्जा संयत्रों से निकलने वाली ऊष्मा, फ्लाई ऐश आदि से होता है। वायु प्रदूषण की संख्या बढ़ने के कारण इसे दो प्रकार में बांटा गया, प्राथमिक प्रदूषण, और द्वितीयक प्रदूषण। प्राथमिक प्रदूषण वो है जो प्रत्यक्ष रुप से ताजी हवा को प्रभावित करता है और धुआं, राख, धूल, धुएं, धुंध, स्प्रे, अकार्बनिक गैसों, कार्बन डाइऑक्साइड, कार्बन मोनोआक्साइड, सल्फर डाइऑक्साइड, हाइड्रोजन सल्फाइड, अमोनिया, नाइट्रिक ऑक्साइड और रेडियोधर्मी यौगिकों से उत्सर्जित होता है। द्वितीयक प्रदूषक वो हैं जो वायु को अप्रत्यक्ष रुप प्राथमिक कारकों के साथ रासायनिक क्रिया करके जैसे सल्फर ट्राई ऑक्साइड, ओजोन, हाइड्रोकार्बन, नाइट्रोजन डाइऑक्साइड, आदि से प्रभावित करते हैं।

    यदि पूरी दुनिया के लोग सामूहिक प्रयास करें तो  प्रदूषण को नियंत्रित किया जा सकता है। औद्योगिक क्षेत्रों की स्थापना रिहायशी इलाकों से दूर होनी चाहिए, लम्बी चिमनी का प्रयोग करने के लिये प्रोत्साहित करना चाहिये (फिल्टर और इलेक्ट्रोस्टैटिक प्रेसिपिटेटर्स के साथ), छोटे तापमान सूचकों के स्थान पर उच्च तापमान संकेतकों को प्रोत्साहन, ऊर्जा के अज्वलनशील स्रोतों का उपयोग करना, पैट्रोल में गैर-नेतृत्वकारी एन्टीनॉक ऐजेंट के प्रयोग को बढ़ावा देना, वृक्षारोपण को बढ़ावा देना और भी बहुत से सकारात्मक प्रयासों को करना।

    वायु प्रदूषण पर निबंध 500 words for Class 11 and 12

    वायु प्रदूषण एक प्रकार का पर्यावरण प्रदूषण है जो वायु को प्रदूषित करता है और आमतौर पर धुएं या अन्य हानिकारक गैसों, मुख्य रूप से कार्बन, सल्फर और नाइट्रोजन के ऑक्साइड के कारण होता है। आज विश्व के अधिकांश बड़े शहरों में प्रदूषित वायु या निम्न गुणवत्ता वाली वायु है। वायु प्रदूषण को लंबे समय से मानव स्वास्थ्य और पृथ्वी के कई पारिस्थितिक तंत्रों के लिए एक खतरे के रूप में देखा जाता रहा है।

    हवा की गुणवत्ता

    वायु प्रदूषक गैस, तरल या ठोस तीनों रूपों में हो सकता है। इसे रासायनिक रूप से भी वर्गीकृत किया जा सकता है, जैसे ऑक्साइड, हाइड्रोकार्बन, एसिड, या अन्य प्रदूषक।

    कई प्रदूषक प्राकृतिक स्रोतों से हवा में मिल जाते हैं। इन प्रदूषकों में धूल के कण, समुद्री नमक, ज्वालामुखी की राख और गैसें, जंगल की आग से निकलने वाला धुआं, पराग और कई अन्य सामग्री शामिल हैं। वास्तव में, मनुष्यों द्वारा किए जाने वाले प्रदूषकों की तुलना में कई अधिक प्राकृतिक प्रदूषक हैं। लेकिन, मनुष्य और अन्य जीवित प्राणी इनमें से अधिकांश प्राकृतिक प्रदूषकों के अनुकूल हो गए हैं।

    प्राथमिक और माध्यमिक प्रदूषक

    वायु प्रदूषण को आमतौर पर प्राथमिक प्रदूषक या द्वितीयक प्रदूषक के रूप में वर्णित किया जाता है। प्राथमिक प्रदूषक वे प्रदूषक होते हैं जो मनुष्यों या प्राकृतिक स्रोतों द्वारा सीधे हवा में डाले जाते हैं। प्राथमिक प्रदूषकों के उदाहरण कारों से निकलने वाले धुएं (गैस), धूल भरी आंधी और ज्वालामुखी विस्फोट से निकलने वाली राख आदि हैं।

    द्वितीयक प्रदूषक वे प्रदूषक होते हैं जो रासायनिक प्रतिक्रियाओं से बनते हैं जब प्रदूषक अन्य प्राथमिक प्रदूषकों या जल वाष्प जैसे प्राकृतिक पदार्थों के साथ मिल जाते हैं। कई द्वितीयक प्रदूषक तब बनते हैं जब प्राथमिक प्रदूषक सूर्य के प्रकाश के साथ प्रतिक्रिया करता है। ओजोन और स्मॉग द्वितीयक प्रदूषक हैं। ओजोन एक गैस है जो सूर्य से आने वाली हानिकारक पराबैंगनी किरणों को रोकती है। हालाँकि, जब ओजोन गैस भूमि के पास होती है, तो यह लोगों और अन्य जीवों को नष्ट कर सकती है।

    मानव जनित वायु प्रदूषण 

    मानव निर्मित वायु प्रदूषण कई चीजों से होता है। आज मनुष्य द्वारा फैलाया जाने वाला अधिकांश वायु प्रदूषण परिवहन के कारण है। उदाहरण के लिए, ऑटोमोबाइल मानव निर्मित वायु प्रदूषण का लगभग 60% हिस्सा है। कार से निकलने वाली गैसें, जैसे नाइट्रोजन ऑक्साइड, स्मॉग और एसिड रेन बनाती हैं।

    कई औद्योगिक बिजली संयंत्र अपनी ऊर्जा प्राप्त करने के लिए जीवाश्म ईंधन जलाते हैं। हालांकि, जीवाश्म ईंधन को जलाने से बहुत सारे ऑक्साइड बनते हैं। लेकिन वास्तव में, जीवाश्म ईंधन के जलने से  96% सल्फर ऑक्साइड बनते हैं। कुछ उद्योग ऐसे रसायन भी बनाते हैं जो जहरीला धुआँ उत्पन्न करते हैं।

    वायु प्रदूषण को कैसे रोका जा सकता है?

    वायु प्रदूषण की रोकथाम में योगदान देने के लिए लोगों द्वारा अपनाए जा सकने वाले कुछ महत्वपूर्ण उपाय नीचे दिए गए हैं।

    1. उपयोग में न होने पर लाइट बंद कर देना - हमारी अधिकांश बिजली जीवाश्म ईंधन के दहन से उत्पन्न होती है, जो वायु प्रदूषण में बहुत बड़ा योगदानकर्ता है। इसलिए, वायु प्रदूषण को रोकने के लिए बिजली का संरक्षण एक प्रभावी तरीका है।

    2. उत्पादों का पुन: उपयोग और पुनर्चक्रण - उत्पादों का पुन: उपयोग करके (जिन्हें पुन: उपयोग किया जा सकता है), उन उत्पादों में से एक के निर्माण में जाने वाली ऊर्जा की मात्रा को बचाया जा सकता है। इसके अलावा, उत्पादों का पुनर्चक्रण भी नए के निर्माण की तुलना में अधिक ऊर्जा के अनुकूल है।

    3. कचरा जलाने और धूम्रपान करने से बचना - वायु प्रदूषण में कचरा जलाने का बहुत बड़ा योगदान है। वायु प्रदूषण में एक अन्य योगदानकर्ता धूम्रपान है। इन हानिकारक गतिविधियों से बचना और उनके नकारात्मक परिणामों के बारे में जागरूकता फैलाना वायु प्रदूषण की रोकथाम में बहुत मददगार हो सकता है।

    4. पटाखों के प्रयोग से बचना - पटाखों का प्रयोग आमतौर पर कुछ खास अवसरों को मनाने के लिए किया जाता है। हालांकि, पटाखों से गंभीर वायु प्रदूषण होता है और इसलिए ये पर्यावरण के लिए बेहद हानिकारक हैं। व्यक्तिगत रूप से पटाखों के उपयोग से बचना और उनके नकारात्मक परिणामों के बारे में जागरूकता फैलाना वायु प्रदूषण को रोकने में मदद करने का एक शानदार तरीका है।

    वायु प्रदूषण पर निबंध इन हिंदी

    वायु प्रदूषण क्या है?

    वायु प्रदूषण तब होता है जब अवांछित रसायन, गैस और कण हवा और वातावरण में प्रवेश करते हैं, जिससे जीवित प्राणियों को सांस लेने में समस्या होती है और पृथ्वी के प्राकृतिक चक्रों को नुकसान पहुंचता है।

    वायु प्रदूषण के प्राकृतिक कारण

    वायु प्रदूषण के कुछ स्रोत प्राकृतिक हैं। इनमें ज्वालामुखियों का विस्फोट, धूल भरी आंधी और जंगल की आग शामिल हैं। ज्वालामुखी विस्फोट के दौरान उत्सर्जित लावा, चट्टानों के टुकड़े, जल वाष्प, राख, विभिन्न गैसें इत्यादि वायुमण्डल को दूषित करते हैं। वनों की आग के कारण राख, धुंआ गैसें इत्यादि वायु को प्रदूषित करतीं है।

    वायु प्रदूषण के मानवीय कारण

    मानव गतिविधि वायु प्रदूषण का एक प्रमुख कारण है, खासकर बड़े शहरों में। मानव जनित वायु प्रदूषण कारखानों, बिजली संयंत्रों, कारों, हवाई जहाजों, रसायनों, स्प्रे कैन से निकलने वाले धुएं और लैंडफिल से मीथेन गैस जैसी चीजों के कारण होता है।

    जीवाश्म ईंधन जलाना

    जिस तरह से मनुष्य सबसे अधिक वायु प्रदूषण का कारण बनता है वह है जीवाश्म ईंधन को जलाना। जीवाश्म ईंधन में कोयला, तेल और प्राकृतिक गैस शामिल हैं। जब हम जीवाश्म ईंधन जलाते हैं तो यह सभी प्रकार की गैसों को हवा में छोड़ता है जिससे वायु प्रदूषण जैसे स्मॉग होता है।

    वायु प्रदूषण का पर्यावरण पर प्रभाव

    वायु प्रदूषण और वातावरण में गैसों के निकलने से पर्यावरण पर कई नकारात्मक प्रभाव पड़ सकते हैं।

    1. ग्लोबल वार्मिंग - वायु प्रदूषण का एक प्रकार हवा में कार्बन डाइऑक्साइड गैस की वृद्धि है। कुछ वैज्ञानिकों का मानना है कि वातावरण में बहुत अधिक कार्बन डाइऑक्साइड छोड़ना ग्लोबल वार्मिंग के कारणों में से एक है। इससे कार्बन चक्र का संतुलन बिगड़ जाता है।

    2. ओजोन परत - ओजोन परत हमें सूर्य की हानिकारक किरणों से बचाने में मदद करती है। मीथेन गैस और सीएफ़सी क्लोरोफ्लोरोकार्बन जैसे वायु प्रदूषकों से ओजोन परत क्षतिग्रस्त हो रही है।

    3. अम्लीय वर्षा - अम्लीय वर्षा तब होती है जब सल्फर डाइऑक्साइड जैसी गैसें वातावरण में उच्च हो जाती हैं। हवा इन गैसों को मीलों तक उड़ा सकती है और जब ये बारिश के पानी के साथ नीचे आती हैं। इस वर्षा को अम्लीय वर्षा कहते हैं। यह बारिश जंगलों को नष्ट कर सकती है और मछलियों को मार सकती है।

    वायु प्रदूषण का स्वास्थ्य पर प्रभाव

    वायु प्रदूषण लोगों को बीमार भी कर सकता है। यह सांस लेने में कठिनाई पैदा कर सकता है और फेफड़ों के कैंसर, श्वसन संक्रमण और हृदय रोग जैसी बीमारियों का कारण बन सकता है। विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार हर साल 24 लाख लोग वायु प्रदूषण से मरते हैं। खराब स्मॉग वाले बड़े शहरों में रहने वाले बच्चों के लिए वायु प्रदूषण विशेष रूप से खतरनाक हो सकता है।

    वायु गुणवत्ता सूचकांक

    वायु गुणवत्ता सूचकांक सरकार द्वारा लोगों को हवा की गुणवत्ता और किसी क्षेत्र या शहर में वायु प्रदूषण कितना खराब है, के प्रति सचेत करने का एक तरीका है। वे रंगों का उपयोग यह निर्धारित करने में आपकी सहायता के लिए करते हैं कि आपको बाहर जाना चाहिए या नहीं।

    • हरा - स्वच्छ हवा
    • पीला - मध्यम हवा
    • संतरा - बुजुर्गों, बच्चों और फेफड़ों की बीमारियों वाले लोगों के लिए हवा अस्वस्थ है।
    • लाल - खराब हवा
    • बैंगनी - बहुत खराब हवा
    • लाल रंग - खतरनाक

    मुख्य वायु प्रदूषक तत्व

    वायु प्रदूषण फैलाने वाली गैस या पदार्थ वायु प्रदूषक कहलाते हैं। वायु प्रदूषण के लिए जिम्मेदार प्रमुख प्रदूषक हैं:

    1. सल्फर डाइऑक्साइड - अधिक खतरनाक प्रदूषकों में से एक, सल्फर डाइऑक्साइड (SO2) कोयले या तेल को जलाने से उत्पन्न हो सकता है। यह एसिड रेन के साथ-साथ अस्थमा जैसी सांस की बीमारियों का कारण बन सकता है।

    2. कार्बन डाइऑक्साइड - मनुष्य और जानवर हवा के साथ कार्बन डाइऑक्साइड (CO2) को बाहर निकालते हैं। जब जीवाश्म ईंधन को जलाया जाता है तो उसमे भी कार्बन डाइऑक्साइड उत्पन्न होती है। कार्बन डाइऑक्साइड एक ग्रीनहाउस गैस है।

    3. कार्बन मोनोऑक्साइड - यह गैस बहुत खतरनाक होती है। यह गैस गंधहीन होती है और कारों और अन्य वाहनों द्वारा छोड़ी जाती है। यदि आप इस गैस की अधिक मात्रा में सांस लेते हैं तो आपकी मृत्यु हो सकती है। यह एक कारण है कि आपको अपनी कार को गैरेज में कभी भी दौड़ते हुए नहीं छोड़ना चाहिए।

    4. क्लोरोफ्लोरोकार्बन - इन रसायनों को सीएफ़सी भी कहा जाता है। रेफ्रिजरेटर से लेकर स्प्रे कैन तक कई उपकरणों में इनका इस्तेमाल किया जाता था। इनका आज उतना उपयोग नहीं किया जाता है, लेकिन जब इनका भारी उपयोग किया जाता था, उस समय ओजोन परत को काफी नुकसान हुआ था।

    5. पार्टिकुलेट मैटर - ये धूल जैसे छोटे कण होते हैं जो वातावरण में मिल जाते हैं और जिस हवा में हम सांस लेते हैं उसे गंदा कर देते हैं। उन्हें फेफड़ों के कैंसर जैसी बीमारियों से जोड़कर देखा जाता है।

    हम वायु प्रदूषण को कैसे कम कर सकते हैं?

    प्रदूषण को कम करने का पहला तरीका 3R नीति का पालन करना है, अर्थात् हमारी जरूरतों को कम करना, वस्तुओं का पुन: उपयोग और रीसायकल करना। नागरिकों को एयर-कंडीशनर के उपयोग को कम करना चाहिए क्योंकि यह ओजोन-क्षयकारी क्लोरोफ्लोरोकार्बन जैसी हानिकारक गैसों को छोड़ता है। अगर हम अपनी आदतों में बदलाव करें और हरित प्रौद्योगिकी को अपनाएं, तो इससे वायु प्रदूषण कम होगा।

    Related Essays


    SHARE THIS

    Author:

    I am writing to express my concern over the Hindi Language. I have iven my views and thoughts about Hindi Language. Hindivyakran.com contains a large number of hindi litracy articles.

    0 comments: