Tuesday, 31 December 2019

साइकिल की आत्मकथा हिंदी निबंध Cycle ki Atmakatha in Hindi

साइकिल की आत्मकथा हिंदी निबंध Cycle ki atmakatha in hindi मैं एक पुरानी साइकिल हूं। मैं अपनी कहानी दूसरों के साथ साझा करने के लिए अपनी आत्मकथा लिख रही हूं। बच्चों क्या आप मेरी अर्थात साइकिल की आत्मकथा जानना चाहोगे?

साइकिल की आत्मकथा हिंदी निबंध Cycle ki Atmakatha in Hindi

मैं एक साइकिल हूं। मेरा नाम हरक्यूलिस है। मुझे परिवहन के लिए एक बहुत ही उपयोगी साधा के रूप में जाना जाता है। मेरा निर्माण अमेरिका की एक बड़ी कंपनी के एक कारखाने में हुआ है। मुझे बनाने में उन्हें कई दिन लगे। उन्होंने मुझे सफेद और काली पट्टियों के साथ नीले रंग में रंगा।

तत्पश्चात मुझे विमान द्वारा भारत भेज दिया गया। फिर मुझे एक बड़े से शोरूम में भेज दिया गया। उस शोरूम के मालिक ने मुझे सामने रखा क्योंकि मैं स्टोर में मौजूद सबसे अच्छी साइकिल थी। दुकान में मेरे कई दोस्त थे जिनमे स्कूटी, कई अन्य साइकिल और टॉय स्कूटर थे। एक दिन 10 साल का एक लड़का अपने माता-पिता के साथ दूकान आया। उसने सभी साइकिलों में से मुझे सबसे ज्यादा पसंद किया। हालांकि मेरी कीमत थोड़ी अधिक थी, फिर भी उसने मुझे ही खरीदा। 

जिस लड़के ने मुझे खरीदा था, उसका नाम हर्ष था। वे मुझे एक फेरारी कार में ले गए। मैं कार में बैठने के लिए बहुत उत्साहित था। यह एक सपने के सच होने जैसा था। शाम को हर्ष मुझे विभिन्न स्थानों जैसे पार्कों, बगीचों आदि में ले जाता था। एक बार हर्ष के दोस्त ने मुझे सवारी के लिए उधार लिया। वह मुझे लेकर सड़क पर गिर पडा हम दोनों को ही बहुत चोट आई। मैं रोने लगा क्योंकि मेरे हैंडल मुड़ गए और मेरी हेडलाइट टूट गई। तब हर्ष ने अपने माता-पिता को बुलाया। उन्होंने मुझे सांत्वना दी और फिर से दुकान पर ले गए। दुकानदार ने मेरी मरम्मत की, साफ किया, नया पेंट किया और मुझे पहले से भी बेहतर बना दिया। अब मैं उसे अपने स्कूल और ट्यूशन और हर जगह ले जाता। 

महीने बीतते गए और समय के साथ मेरा महत्व कम होता गया। अब हर्ष मुझ पर उतना ध्यान नहीं देता था। उसने एक मोटर साइकिल खरीद ली। मैं दिन-प्रतिदिन दुखी होता जा रहा था और मेरा स्वास्थ्य भी बिगड़ रहा था। यह लगभग मेरे जीवन का अंत था। अब मैं उस स्टोर रूम की कई अन्य चीजों की तरह एक बेकार सामान था। मेरी भगवान से बस यही प्रार्थना है कि मैं फिर से जवान हो जाऊं ताकि मैं अपने जीवन का आनंद ले सकूं। इस तरह, मैं मानव जीवन की सेवा में अपना जीवन अर्पित  कर सकूँ।

SHARE THIS

Author:

I am writing to express my concern over the Hindi Language. I have iven my views and thoughts about Hindi Language. Hindivyakran.com contains a large number of hindi litracy articles.

0 comments: