भारत में अंग्रेजी भाषा के महत्व पर निबंध

Admin
2

भारत में अंग्रेजी भाषा के महत्व पर निबंध

वैश्वीकरण के इस युग में अंग्रेजी भाषा का अध्ययन आवश्यक है। अंग्रेजी भाषा विभिन्न देशों के बीच संचार की सबसे महत्वपूर्ण भाषा है। भारत में, विभिन्न राज्यों के लोगों की अपनी- अपनी भाषा है अंग्रेजी भाषा हमें भारत के विभिन्न राज्यों के बीच एक जोड़ने वाले कड़ी के रूप में आ गई है।
              
       यू.एन. ने पांच भाषाओं को इसकी आधिकारिक भाषाओं के रूप में मान्यता दी है और उनमें से सबसे सबसे पहला स्थान है अंग्रेजी का ,क्योंकि इसे सीखना और बोलना आसान है। यदि हम ऐतिहासिक दृष्टिकोण से देखें, तो पता चलता है कि दुनिया का आधा हिस्सा किसी समय ब्रिटिश साम्राज्यवाद के अधीन था। उन देशों को जो ब्रिटिश शासन के अधीन थे उनके लिए अंग्रेजी सीखना जरूरी था फिर चाहे वह मजबूरी में ही सीखें। इस प्रकार लगभग पूरे विश्व में अंग्रेजी का प्रचार-प्रसार हो गया। 
  
       फ्रेंच, जर्मन, यूनानी और संस्कृत निश्चित रूप से अंग्रेजी से नीची नहीं हैं, फिर भी सच्चाई यह है कि अंग्रेजी समय की परीक्षा में खरी उतरी है।  व्यावहारिक दृष्टिकोण से भी अंग्रेजी का विशेष महत्त्व है  वर्तमान में अंग्रेजी एक ऐसी भाषा बनकर उभरी है जिससे हम पूरी दुनिया से जुड़ सकते हैं। चाहे आप किसी भी देश में क्यों न चले जाएँ आपको कोई न कोई तो अंग्रेजी बोलने वाला मिल ही जाएगा। अंग्रेजी ने भारतीय जन मानस पर एक अमिट छाप छोड़ी है। इसलिए हम विदेशी भाषा के रूप में अंग्रेजी के साथ व्यवहार नहीं कर सकते। दूसरे, शिक्षा और दर्शन, विज्ञान और प्रौद्योगिकी आदि विषयों को इस भाषा के माध्यम से बेहतर समझा जा सकता है।

       आधुनिक युग में दुनिया भर में यह आम बात है कि विभिन्न राजनीतिक, सामाजिक, सांस्कृतिक और धार्मिक मुद्दों को आसान बनाने के लिए अंग्रेजी भाषा सीखी जाती है। क्योंकि यह भाषा फ्रेंच, जर्मन, ग्रीक और संस्कृत से अधिक आसान है। इस भाषा की सहायता से है कि हम आधुनिक विज्ञान और प्रौद्योगिकी का ज्ञान प्राप्त कर रहे हैं और अपने आप को सबसे प्रगतिशील विचारों और वर्तमान विचारों के संपर्क में रख सकते हैं। 
        अंग्रेजी सबसे महत्वपूर्ण वैश्विक भाषा के रूप में उभरी है।  यह धारण करना गलत है कि यह अकेले ब्रिटिश की भाषा है। अंग्रेजी विज्ञान और प्रौद्योगिकी की भाषा है। उच्चतर पढ़ाई के लिए अधिकांश महत्वपूर्ण पुस्तकों को अंग्रेजी में ही लिखा गया है। भूमंडलीकरण के इस दौर में भारतीयों को अपनी आँखें बंद नहीं करनी चाहिए और अंग्रेजी को अपनाना चाहिए। 




आपको हमारी आज की पोस्ट ( पोस्ट ) कैसी लगी ,हमें Comment Box में बतायें व अपने सुझाव दें। 

please comment Below if you like our post and give us your suggestion...Good Day !


Post a Comment

2Comments
  1. Please tell me negative point

    ReplyDelete
  2. अंग्रेजी के अत्यधिक प्रचलन से क्षेत्रीय भारतीय भाषाओं के अस्तित्व का खतरा है.
    अंग्रेजी भाषा भारतीय संस्कृति के लिए खतरा है.
    अंग्रेजी भाषा हमारी मानसिक गुलामी का प्रतीक है.
    उनके विकास के लिए खतरा जो अंग्रेजी के जानकार नहीं है.

    ReplyDelete
Post a Comment

#buttons=(Accept !) #days=(20)

Our website uses cookies to enhance your experience. Learn More
Accept !