उड़ती चिड़िया पहचानना मुहावरे का अर्थ और वाक्य प्रयोग

Admin
0

उड़ती चिड़िया पहचानना मुहावरे का अर्थ

उड़ती चिड़िया पहचानना मुहावरे का अर्थ होता है– परखने वाली दृष्टि रखना; भेद की बात तुरन्त जान लेना; मन की बात जानना; किसी के दिल का भाव जान लेना; दूर से ताड़ या भाँप लेना; दूरदर्शी होना।

उड़ती चिड़िया पहचानना मुहावरे का वाक्य प्रयोग 

वाक्य प्रयोग - उससे कुछ भी छिपा रखने का प्रयास ही बेकार है। वह तो उड़ती चिड़िया पकड़ता है।

वाक्य प्रयोग - अनुभवी और समझदार व्यक्ति उड़ती चिड़िया पहचान लेते हैं। 

वाक्य प्रयोग - तुम हमसे कुछ छिपा नहीं सकते, हम तो उड़ती चिड़िया पहचानते हैं। 

वाक्य प्रयोग - तुमने क्या मुझे अनाड़ी समझ रखा है जो नकली सामान दे रहे हो ? अरे मैं तो उड़ती चिड़िया पहचान लेता हूँ। 

वाक्य प्रयोग - जज ने गवाह की बातें सुनकर कहा, “झूठ मत बोलो, मैं उड़ती चिड़िया पहचानता।

वाक्य प्रयोग - जय तुम्हारी मीठी बातों में नहीं आने वाला, वह उड़ती चिड़िया पहचान लेता है। 

वाक्य प्रयोग - प्रबुद्ध एवं प्रतिभाशाली व्यक्तियों को धोखा देना आसान नहीं होता। विभिन्न क्षेत्रों से प्राप्त अनुभवों के कारण वे उड़ती चिड़िया को पहचानने में सिद्धहस्त होते हैं।

वाक्य प्रयोग - उड़ती चिड़िया को पहचानना सबके वश की बात नहीं है। 

उड़ती चिड़िया पहचानना एक प्रसिद्ध हिन्दी मुहावरा है जिसका का अर्थ है–  परखने वाली दृष्टि रखना; भेद की बात तुरन्त जान लेना; मन की बात जानना; किसी के दिल का भाव जान लेना; दूर से ताड़ या भाँप लेना; दूरदर्शी होना। जब कोई व्यक्ति अपने अनुभव से छिपी हुयी या गूढ़ बातें जान लेता है तो उसके लिए इस मुहावरे का प्रयोग करते हैं। 

Tags

Post a Comment

0Comments
Post a Comment (0)

#buttons=(Accept !) #days=(20)

Our website uses cookies to enhance your experience. Learn More
Accept !