Saturday, 13 August 2022

10 Lines on Water in Hindi - जल या पानी पर 10 वाक्य का निबंध

Few Lines on Water in Hindi : इस निबंध में हम आपको जल या पानी पर 10 वाक्य का निबंध दे रहे हैं जिसको पढ़कर विद्यार्थी 10 lines on Water in Hindi आसानी से लिख सकेंगे। जल हमारी पृथ्वी के लगभग 71 प्रतिशत भाग में पाया जाता है।

10 Lines on Water in Hindi - जल या पानी पर 10 वाक्य का निबंध

10 Lines on Water in Hindi

  • जल या पानी पृथ्वी पर सभी जीवों के लिए आवश्यक तत्व है। 
  • जल हमारी पृथ्वी के लगभग 71 प्रतिशत भाग में पाया जाता है।
  • जल का निर्माण दो हाइड्रोजन और एक ऑक्सीजन परमाणु से होता है। 
  • जल या पानी एक पेय पदार्थ है जिसका रासायनिक सूत्र - H2O होता है। 
  • जल एक रंगहीन, स्वादहीन, गंधहीन और विलेय तरल पदार्थ है। 
  • पृथ्वी पर पाए जाने वाले कुल जल का 97 % भाग महासागरों में पाया जाता है। 
  • शेष 3% जल ध्रुवीय प्रदेशों में, नदियों और तालाबों में पाया जाता है। 
  • जल लगातार एक चक्र में घूमता रहता है जिसे जलचक्र कहते है। 
  • साफ और ताजा पेयजल मानवीय और अन्य जीवन के लिए आवश्यक है। 
  • मनुष्य जल का उपयोग पीने में, कृषि कार्यों में और बिजली बनाने में करता है। 

Jal par 10 Line Hindi Mein

  • जल मानव जीवन के लिये बहुत महत्वपूर्ण है इसलिए कहा गया है कि जल ही जीवन है।
  • जल सामान्य तापमान और दबाव में एक फीका, बिना गंध वाला तरल है। 
  • बारिश के जल को पानी का सबसे शुद्ध रूप माना जाता है। 
  • पानी तीनो अवस्थाओं में अर्थात जल, बर्फ, भाप के रूप में पाया जाता हैं। 
  • हमारे पृथ्वी का 71 प्रतिशत भाग जल है जिसमे 97 % खारा जल तथा 3% मीठा जल है।
  • जल की जरुरत सभी जीव-जंतुओं, पेड़-पौधों व वनस्पतियों को होती हैं।
  • जल के अनुपस्तिथि में धरती से सभी जीव-जंतु और वनस्पति नष्ट हो जाएंगे।
  • जल एक मूल्यवान प्राकृतिक संसाधन है जिसका विवेकपूर्ण उपयोग किया जाना चाहिए।
  • पृथ्वी पर जल विभिन्न स्रोतों जैसे बारिश, नदियों, झीलों और कुओं, आदि से मिलता है।
  • मनुष्य पानी का प्रयोग खाना पकाने, पीने, सिंचाई करने और अन्य उद्देश्यों के लिए करता है।


SHARE THIS

Author:

I am writing to express my concern over the Hindi Language. I have iven my views and thoughts about Hindi Language. Hindivyakran.com contains a large number of hindi litracy articles.

0 comments: