Friday, 12 August 2022

10 lines on Munshi Premchand in Hindi - मुंशी प्रेमचंद पर 10 वाक्य का निबंध

Few Lines on Munshi Premchand in Hindi : इस निबंध में हम आपको मुंशी प्रेमचंद पर 10 वाक्य का निबंध दे रहे हैं जिसको पढ़कर विद्यार्थी 10 lines on Munshi Premchand in Hindi आसानी से लिख सकेंगे। 

10 lines on Munshi Premchand in Hindi - मुंशी प्रेमचंद पर 10 वाक्य का निबंध

5 Lines on Munshi Premchand in Hindi

(1) मुंशी प्रेमचंद का जन्म 30 जुलाई 1980 को वाराणसी जिले के लमही गांव में हुआ था । 

(2) मुंशी प्रेमचंद को हिंदी साहित्य का उपन्यास सम्राट भी कहा जाता है। 

(3) मुंशी प्रेमचंद का वास्तविक नाम धनपत राय श्रीवास्तव था। 

(4) मुंशी प्रेमचंद की माता का नाम आनन्दी देवी तथा पिता का नाम मुंशी अजायबराय था 

(5) 8 अक्टूबर 1936 को मुंशी प्रेमचंद का लम्बी बीमारी के कारण निधन हो गया।

(6) कफन, पूस की रात, पंच परमेश्वर, बूढ़ी काकी आदि मुंशी प्रेमचंद की प्रसिद्ध कहानियाँ है। 

10 Lines on Munshi Premchand in Hindi

(1) मुंशी प्रेमचंद का जन्म 30 जुलाई 1980 को वाराणसी जिले के लम्हे नामक गांव में हुआ था । 

(2) मुंशी प्रेमचंद की माता का नाम आनन्दी देवी तथा पिता का नाम मुंशी अजायबराय था 

(3) मुंशी प्रेमचंद को हिंदी साहित्य का उपन्यास सम्राट भी कहा जाता है। 

(4) मुंशी प्रेमचंद का वास्तविक नाम धनपत राय श्रीवास्तव था। 

(5) जब मुंशी प्रेमचंद सात साल के थे, तभी उनकी माता का स्वर्गवास हो गया। 

(6) पिताजी के दबाव में आकर मुंशी प्रेमचंद ने 14 वर्ष की आयु में ही विवाह कर लिया। 

(7) 1906 में मुंशी प्रेमचंद का दूसरा विवाह शिवरानी देवी से हुआ जो बाल-विधवा थीं।

(8) मुंशी प्रेमचंद जी के तीन संताने थी – श्रीपत राय, अमृत राय और कमला देवी।

(9) मुंशी प्रेमचंद ने 1910 में अंग्रेज़ी, दर्शन, फ़ारसी और इतिहास लेकर इण्टर किया 

(10) 1919 में मुंशी प्रेमचंद ने अंग्रेजी, फ़ारसी और इतिहास लेकर बी. ए. किया।

(11) 8 अक्टूबर 1936 को मुंशी प्रेमचंद का लम्बी बीमारी के कारण निधन हो गया।

15 Lines on Munshi Premchand in Hindi

(1) मुंशी प्रेमचंद का जन्म 30 जुलाई 1980 को वाराणसी जिले के लम्हे नामक गांव में हुआ था । 

(2) मुंशी प्रेमचंद को हिंदी साहित्य का उपन्यास सम्राट भी कहा जाता है। 

(3) मुंशी प्रेमचंद का वास्तविक नाम धनपत राय श्रीवास्तव था। 

(4) मुंशी प्रेमचंद की माता का नाम आनन्दी देवी तथा पिता का नाम मुंशी अजायबराय था 

(5) आरंभ (आरम्भ) में मुंशी प्रेमचंद नवाब राय के नाम से उर्दू में लिखते थे।

(6) जब मुंशी प्रेमचंद सात साल के थे, तभी उनकी माता का स्वर्गवास हो गया। 

(7) पिताजी के दबाव में आकर मुंशी प्रेमचंद ने 14 वर्ष की आयु में ही विवाह कर लिया। 

(8) 1906 में मुंशी प्रेमचंद का दूसरा विवाह शिवरानी देवी से हुआ जो बाल-विधवा थीं।

(9) मुंशी प्रेमचंद जी के तीन संताने थी – श्रीपत राय, अमृत राय और कमला देवी।

(10) मुंशी प्रेमचंद ने 1910 में अंग्रेज़ी, दर्शन, फ़ारसी और इतिहास लेकर इण्टर किया 

(11) 1919 में मुंशी प्रेमचंद ने अंग्रेजी, फ़ारसी और इतिहास लेकर बी. ए. किया।

(12) 1919 में बी.ए. पास करने के बाद वे शिक्षा विभाग के इंस्पेक्टर पद पर नियुक्त हुए।

(13) 8 अक्टूबर 1936 को मुंशी प्रेमचंद का लम्बी बीमारी के कारण निधन हो गया।

(14) गोदान, कर्मभूमि, निर्मला और मानसरोवर आदि मुंशी प्रेमचंद के सबसे प्रसिद्ध उपन्यास हैं। 

(15) कफन, पूस की रात, पंच परमेश्वर, बूढ़ी काकी आदि मुंशी प्रेमचंद की प्रसिद्ध कहानियाँ है। 


SHARE THIS

Author:

I am writing to express my concern over the Hindi Language. I have iven my views and thoughts about Hindi Language. Hindivyakran.com contains a large number of hindi litracy articles.

0 comments: