Thursday, 2 June 2022

Hindi Essay on "Pizza", "पिज्जा पर निबंध", "Pizza par Nibandh" for Students

Hindi Essay on "Pizza", "पिज्जा पर निबंध", "Pizza par Nibandh" for Students

पिज्जा पर निबंध - Essay on Pizza in Hindi

पिज्जा पर निबंध : पिज्जा भट्टी में बनाए जानी वाली चपटी ब्रेड होती है, जीसे मोज़ेरैला चीज़ टमाटर की चटनी, चीज़ और अन्य विविध टॉपिंग के साथ परोसा जाता है। पिज्जा आज दुनिया में सबसे लोकप्रिय खाद्य पदार्थों में से एक है। यह पूरे भारत में कैफेटेरिया और रेस्तरां में पाया जाने वाला एक आम भोजन बन गया है। पिज्जा इतालवी मूल का व्यंजन है। आज के समय में बच्चे, नौजवान सभी पिज्जा के शौकीन होते हैं। पिज्जा का नाम सुनते ही लोगों के मुंह में पानी आ जाता है। खासकर कि बच्चे पिज्जा खाने की काफी जिद करते हैं।

पिज़्ज़ा कई प्रकार का होता है (Types of Pizza) जैसे कि वेज पिज़्ज़ा (Veg Pizza), चीज़ पिज़्ज़ा (Cheese Pizza), मार्गरिटा पिज़्ज़ा, पेपरोनी पिज़्ज़ा, चिकन पिज़्ज़ा, बार्बिक्यू पिज़्ज़ा, मारीनारा पिज़्ज़ा आदि जो लोगों में ज्यादा मशहूर हैं। जिस तरह पिज़्ज़ा कई प्रकार के होते हैं उसी तरह हर प्रकार के पिज़्ज़ा के दाम भी अलग अलग होते हैं।

पिज़्ज़ा में इस्तेमाल होने वाली मोज़ेरैला चीज़ भैंस के दूध से ही बनाई जाती है। इटली में भी इसी का इस्तेमाल होता है। पिज्जा में टॉपिंग्स के नाम पर कई सारी सब्जियां डाली जाती है। यह छोटी-बड़ी पार्टियों की शान तो होता ही है, घरों में भी खूब पसंद किया जाता है। 

सबसे पहला पिज्जा ब्रेड, खजूर, तेल और हर्ब्स को मिलाकर तैयार करके मिट्टी के ओवन में पकाया गया था. मार्गरिटा पिज्जाअट्ठारवीं सदी में पिज्जा नेपोलिस में काफी मशहूर हो गया था, जो लोग बड़े शहरों में रहते थे उनके लिए पिज्जा एक सस्ता और आसानी से पकने वाला व्यंजन था, जिसकी वजह से लोग इसे काफी पसंद करने लगे थे.

18वीं शताब्दी में राजा अम्बर्टो 1 और रानी मार्गरिटा इटली के दौरे पर निकले थे, जहां राफेल एस्पोसिटो नाम के एक पिज्जा विक्रेता को बुलाया गया था. जिसने रानी मार्गरिटाके लिए एक खास पिज्जा बनाया, जिसमें टमाटर, चीज़ और बहुत सारी टॉपिंग का इस्तेमाल किया गया था. रानी मार्गरिटा को वह पिज्जा इतना पसंद आया कि एस्पोसिटो ने बाद में उस पिज्जा को मार्गरिटा पिज्जा का नाम दे दिया गया.


SHARE THIS

Author:

I am writing to express my concern over the Hindi Language. I have iven my views and thoughts about Hindi Language. Hindivyakran.com contains a large number of hindi litracy articles.

0 Comments: