Wednesday, 25 May 2022

कैंची की जानकारी - Scissors Information in Hindi

कैंची की जानकारी - Scissors Information in Hindi

Scissors Information in Hindi: कैंची को अंग्रेजी भाषा में सीज़र्स कहते हैं। 'scissors' शब्द की उत्पत्ति लैटिन शब्द 'सिसोरिया' से हुई है, जिसका अर्थ है 'काटने का उपकरण'। पहले कैंची के ब्लेड कांसे के बने होते थे, लेकिन बाद में लोहे का इस्तेमाल किया जाने लगा। आधुनिक कैंची अब स्टेनलेस स्टील और प्लास्टिक के हैंडल से बनाई जाती हैं, हालांकि कभी-कभी बेहतर पकड़ प्रदान करने के लिए प्लास्टिक में रबर मिलाया जाता है।

कैंची की जानकारी - Scissors Information in Hindi

सबसे पहले ज्ञात कैंची 3,000 से 4,000 साल पहले मेसोपोटामिया में बनायी गयी थी। ये 'स्प्रिंग कैंची' प्रकार के थे, जिसमें दो कांस्य ब्लेड थे, जो घुमावदार कांस्य की एक पतली, लचीली पट्टी द्वारा हैंडल से जुड़े थे

कैंची हाथ से चलाया जाने वाला कतरनी उपकरण हैं। कैंची में बोल्ट से जुड़े धातु के ब्लेड की एक जोड़ी होती है। जब हैंडल चलाए जाते हैं तो नुकीले ब्लेड एक दूसरे के विपरीत दिशा में चलते हैं। कैंची का उपयोग विभिन्न पतली सामग्री, जैसे कागज, कार्डबोर्ड, धातु की पन्नी, कपड़ा, रस्सी और तार को काटने के लिए किया जाता है।

कैंची आमतौर पर 15-20 सेंटीमीटर लंबी होती हैं। समय के साथ और लगातार इस्तेमाल करने की वजह से सभी कैंची की धार आखिर में कम हो जाती है और अब उनकी तेज किनारें उतनी तेज नहीं होती, जितनी कि उन्हें खरीदते समय हुआ करती थी। अधिकांश कैंची के ब्लेड को नियमित रूप से तेज किया जाना चाहिए और कभी-कभी इसकी धुरी पर तेल लगाया जाना चाहिए।

कैंची कई प्रकार की होती है — जैसे बाल काटने की कैंची, बत्ती काटने की कैची, दर्जी की कैची, लोहार की कैंची बागबान की कैची, डाक्टर की कैंची इत्यादि ।

कैंची की धार कैसे तेज करें

कैंची की धार को सैंड पेपर की मदद से आसानी से तेज किया जा सकता है। धार तेज करने के लिए कैंची की ब्लेड को सैंड पेपर पर रगड़ना चाहिए। इससे कैंची की धार तेज हो जाती है। कैंची से सैंड पेपर को काटने से भी कैंची की धार तेज होती है। 

कैंची की धार को पत्थर पर रगड़कर भी तेज किया जाता है। सबसे पहले एक ग्रेनाइट का या कोई खुरदुरा पत्थर लें। फिर कैंची के ब्लेड को पत्थर पर रगड़ें। इस तरीके से भी कैंची की धार पहले की तरह तेज हो जाती है। 


SHARE THIS

Author:

I am writing to express my concern over the Hindi Language. I have iven my views and thoughts about Hindi Language. Hindivyakran.com contains a large number of hindi litracy articles.

0 Comments: