Friday, 6 May 2022

Hindi Essay on "Chocolate", "चॉकलेट पर निबंध", "10 Lines on Chocolate in Hindi" for Students

Hindi Essay on "Chocolate", "चॉकलेट पर निबंध", "10 Lines on Chocolate in Hindi" for Students

Essay on Chocolate in Hindi : मित्रों आज हमने चॉकलेट पर निबंध हिंदी में लिखा है इसमें हमने चॉकलेट कैसी होती है इसका वर्णन किया है। 10 Lines on Chocolate in Hindi चॉकलेट पर यह निबंध हमने अलग-अलग शब्द सीमा में कक्षा 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11 और 12 के लिए लिखा है। 

Hindi Essay on "Chocolate", "चॉकलेट पर निबंध", "10 Lines on Chocolate in Hindi" for Students

10 Lines on Chocolate in Hindi - चॉकलेट पर 10 वाक्य हिंदी में

(1) चॉकलेट कोको बीन्स से बनाई जाती है। 

(2) आधुनिक चॉकलेट का आविष्कार 1847 में जोसफ फ्राई ने किया था। 

(3) कैडबरी, नेस्ले और अमूल चॉकलेट बनाने वाली प्रमुख कम्पनीज हैं। 

(4) कोको बीन्स का स्वाद बहुत ही कड़वा होता है। 

(5) चॉकलेट विश्व में सबसे अधिक खायी जाने वाली खाद्य पदार्थ में से एक हैं। 

(6) प्राचीन काल में चॉकलेट का प्रयोग एक पेय पदार्थ के रूप में किया जाता था। 

(7) चॉकलेट बनाने के लिए कोको पाउडर का किण्वन किया जाता है। 

(8) चॉकलेट दो प्रकार की होती है डार्क चॉकलेट और मिल्क चॉकलेट। 

(9) चॉकलेट का प्रयोग आइस क्रीम, कैंडी और केक बनाने में किया जाता है। 

(10) चॉकलेट बच्चों से लेकर बड़े सभी आयुवर्ग के लोगों को पसंद है। 

चॉकलेट पर निबंध - Essay on Chocolate in Hindi

चॉकलेट पर निबंध : चॉकलेट कोको बीन्स से बनाई जाती है। आधुनिक चॉकलेट का आविष्कार जोसफ फ्राई ने 1847 में किया था। इसका उपयोग कई मिठाइयों जैसे पुडिंग, केक, कैंडी और आइसक्रीम में किया जाता है। यह कैंडी बार की तरह ठोस रूप में हो सकता है या यह तरल रूप में हॉट चॉकलेट की तरह हो सकता है।

चॉकलेट का इतिहास 

चॉकलेट का इस्तेमाल सबसे पहले प्राचीन मेक्सिको और मध्य अमेरिका में किया गया था, जहां वे कोको के पेड़ उगाते थे। माया और एज़्टेक लोग कोकोआ की फलियों से एक गर्म, कड़वा पेय बनाते थे। 1519 में एज़्टेक सम्राट मोंटेज़ुमा II ने स्पैनिश खोजकर्ता हर्नान कोर्टेस को xocoatl नामक एक चॉकलेट पेय परोसा।

कोर्टेस इस पेय को स्पेन ले आया। जब इसे चीनी, वेनिला और दालचीनी के साथ मिलाया गया, तो यह स्पेनिश राजाओं और रानियों का पसंदीदा पेय बन गया। 1600 के दशक में फ्रांस और इंग्लैंड में अमीर लोगों के बीच पेय लोकप्रिय हो गया।

1800 के दशक में लोगों ने खाने के लिए चिकनी, स्वादिष्ट चॉकलेट बनाने की खोज की। आज शीर्ष चॉकलेट उत्पादक देशों में संयुक्त राज्य अमेरिका, यूनाइटेड किंगडम, स्विट्जरलैंड, जर्मनी, नीदरलैंड और फ्रांस शामिल हैं।

कैसे बनती है चॉकलेट 

चॉकलेट की शुरुआत कोको के पेड़ के बीज से होती है। कोको का पेड़ उत्तर और दक्षिण अमेरिका, अफ्रीका और एशिया के गर्म क्षेत्रों में उगता है। बीज लंबे, खीरे के आकार के फलों में बनते हैं जिन्हें फली कहा जाता है। जब फलियां पक जाती हैं तो मजदूर उन्हें पेड़ से काटकर बीज निकाल देते हैं। फिर बीजों को या तो धूप में या ओवन में सुखाया जाता है। सूखे बीज, जिन्हें कोको बीन्स कहा जाता है, को चॉकलेट निर्माण संयंत्रों या कारखानों में भेजा जाता है।

कारखाने में श्रमिकों द्वारा स्वाद उत्पन्न करने के लिए फलियों को विशाल ओवन में भुना जाता है। फिर मशीनों द्वारा फलियों के आसपास की कठोर त्वचा को हटा दिया जाता है। इसके बाद, मशीनें बीन्स को एक पेस्ट में पीसती हैं, जिसे चॉकलेट लिकर कहा जाता है। चॉकलेट लिकर सॉलिड चॉकलेट और एक तरह के फैट से बनी होती है जिसे कोकोआ बटर कहते हैं।

चॉकलेट का एक और रूप कोको पाउडर है। कोको पाउडर का उपयोग बेकिंग और स्वाद बढ़ाने वाली सामग्री के रूप में किया जाता है। हॉट चॉकलेट ड्रिंक बनाने के लिए इसे चीनी और दूध के साथ भी मिलाया जा सकता है।

चॉकलेट लिकर में अतिरिक्त कोकोआ बटर मिलाकर खाने के लिए चॉकलेट बनाई जाती है। डार्क चॉकलेट बनाने के लिए हम इस मिश्रण में चीनी मिलाते हैं। जबकि मिल्क चॉकलेट बनाने के लिए हम चीनी और दूध दोनों मिलाते हैं।


SHARE THIS

Author:

I am writing to express my concern over the Hindi Language. I have iven my views and thoughts about Hindi Language. Hindivyakran.com contains a large number of hindi litracy articles.

0 comments: