Wednesday, 8 September 2021

अनु उपसर्ग से बनने वाले शब्द - Anu Upsarg se Shabd in Hindi

अनु उपसर्ग से बनने वाले शब्द - Anu Upsarg se Shabd in Hindi

    इस लेख में पढ़िए उन शब्दों की सूची जो अनु उपसर्ग से बनते हैं। अनु उपसर्ग से कई शब्द बनाए जा सकते हैं जैसे अनुभव, अनुमान, अनुसार आदि। नीचे देखें अनु उपसर्ग से युक्त शब्दों की सम्पूर्ण सूची। Read here Anu upsarg lagakar banaye gaye shabd.

    अनु उपसर्ग से बनने वाले शब्द (Anu Upsarg Se Yukt Shabd)

    अनु से शब्द अर्थ मूल शब्द  उपसर्ग
    अनुभव तजुर्बा भव अनु
    अनुमान अंदाज़ा मान अनु
    अनुसार मुताबिक सार अनु
    अनुनासिक एक विशेष स्वर नासिक अनु
    अनुरागप्रेम, भक्तिरागअनु
    अनुराधा एक नक्षत्र राधा  अनु
    अनुरोध निवेदन  रोध अनु
    अनुरूप समान रूपवाला रूप अनु
    अनुग्रह कृपा ग्रह अनु
    अनुगुण समान गुणवाला गुण अनु
    अनुगामी पीछे चलने वाला गामी अनु
    अनुत्तरित उत्तर न दिया गया  उत्तरित अनु
    अनुगमन पीछे चलना गमन अनु
    अनुकाल समयानुकूल। काल अनु
    अनुकूल रुचि के अनुरूप  कूल अनु
    अनुकंपा कृपा कंपा अनु
    अनुशीलन नियमित अध्ययन। शीलन अनु
    अनुसरण किसी के पीछे चलना सरण अनु
    अनुक्षण लगातार, निरंतर क्षण अनु
    अनुष्ठान यज्ञ स्थान अनु
    अनुदिन प्रतिदिन दिन अनु
    अनुज छोटा भाई अनु
    अनुचर पीछे चलनेवाला चर अनु
    अनुपात सापेक्षिक संबंध पात अनु
    अनुकरण अनुसरण, नकल। करण  अनु
    अनुस्वार एक विशेष स्वर स्वार अनु
    अनुशासन नियमबद्ध आचरण। शासन अनु
    अनुपम सर्वोत्तम, पम अनु
    अनुत्तम जो उत्तम न हो। उत्तम अनु
    अनुसूची पीछे जोड़ी गई सूची। सूची अनु
    अनुपालन  आज्ञापालन। पालन अनु
    अनुपयुक्त अयोग्य। उपयुक्त अनु
    अनुगच्छति पीछे जाना गच्छति अनु
    अनुनय निवदन करना नय अनु
    अनुवाद भाषांतर वाद अनु
    अनुनाद प्रतिध्वनि। नाद अनु
    अनुक्रमण  क्रमपूर्वक आगे बढ़ना। क्रमण अनु
    अनुक्रमाणिका विषय सूची। क्रमणिका अनु
    अनुगत अनुचर गत अनु
    अनुभूति संवेदना। भूति अनु
    अनुक्रम क्रमबद्धता। क्रम अनु
    अनुयायी  अनुसरण करनेवाला यायी अनु

    SHARE THIS

    Author:

    I am writing to express my concern over the Hindi Language. I have iven my views and thoughts about Hindi Language. Hindivyakran.com contains a large number of hindi litracy articles.

    0 comments: