Wednesday, 24 April 2019

सर आर्थर कॉनन डॉयल का जीवन परिचय Arthur Conan Doyle Biography in Hindi

सर आर्थर कॉनन डॉयल का जीवन परिचय

नाम : आर्थर कॉनन डॉयल
जन्‍म : 22 मई 1859
मृत्‍यु : 7 जुलाई 1930
देश : स्कॉटलैंड
प्रमुख कार्य : शेरलॉक होम्स की रचना

22 मई 1859 को स्कॉटलैंड के एडिनबर्ग में आर्थर कॉनन डॉयल का जन्म हुआ था। आर्थर कानन डायल एक अंग्रेजी उपन्‍यासकार थे, जो जासूसी किरदार शेरलॉक होम्स के सृजक के रूप में दूर-दूर तक पहचाने जाते हैं। डायल पेशे से डॉक्‍टर थे।

प्रारंभिक जीवन
22 मई 1859 को आर्थर कॉनन डॉयल का जन्म स्कॉटलैंड के एडिनबर्ग में एक संपन्न, आयरिश-कैथोलिक परिवार में हुआ था। कला की दुनिया में डॉयल का परिवार काफी सम्मानित था। उनके पिता, चार्ल्स एक शराबी थे। आर्थर कॉनन डॉयल की मां, मैरी एक जीवंत और पढ़ी-लिखी महिला थीं, जिन्हें किताबें पढ़ना पसंद था। वह अपने बेटे को दंतकथाओं में सुनाया करती थी। 

Arthur Conan Doyle Biography in Hindi
9 साल की उम्र में, डॉयल को इंग्लैंड भेज दिया गया, जहां उन्होंने होडर प्लेस, स्टोइनहर्स्ट नामक एक प्रारंभिक विद्यालय में अध्ययन किया। इसके बाद डॉयल ने अगले पाँच वर्षों तक स्टोइनहर्स्ट कॉलेज में अध्ययन किया। डॉयल के लिए, बोर्डिंग-स्कूल का अनुभव क्रूर था: उसके कई सहपाठी उसे परेशान किया करते थे। समय के साथ, डॉयल ने कहानी लेखन में कौशल विकसित किया।

चिकित्सा शिक्षा और कैरियर
जब डॉयल ने 1876 में स्टोइनहर्स्ट कॉलेज से स्नातक की उपाधि प्राप्त की, तो उसके माता-पिता को उम्मीद थी कि वह अपने परिवार के नक्शेकदम पर चलेगा और कला का अध्ययन करेगा, इसलिए जब उन्होंने एडिनबर्ग विश्वविद्यालय में चिकित्सा की डिग्री लेने का फैसला किया तो वे आश्चर्यचकित रह गए। मेड स्कूल में, डॉयल ने अपने गुरु, प्रोफेसर डॉ जोसेफ बेल से मुलाकात की, जिन्होंने डॉयल को अपने प्रसिद्ध काल्पनिक जासूस, शर्लक होम्स को बनाने के लिए प्रेरित किया। एडिनबर्ग विश्वविद्यालय में, डॉयल को सहपाठियों और भविष्य के साथी लेखकों जेम्स बैरी और रॉबर्ट लुई हेवेंसन से मिलने का सौभाग्य भी मिला। एक मेडिकल छात्र के बावजूद, डॉयल ने लेखन में अपना पहला कदम रखा, द मिस्ट्री ऑफ साससा वैली नामक एक छोटी कहानी के साथ। इसके बाद एक दूसरी कहानी, द अमेरिकन टेल, जिसे लंदन सोसाइटी में प्रकाशित किया गया था।

डॉयल के मेडिकल स्कूल के तीसरे वर्ष के दौरान, उन्हें आर्कटिक सर्कल के लिए नौकायन व्हेलिंग जहाज पर एक जहाज सर्जन का पद मिला। यात्रा ने डॉयले में रोमांच की भावना जागृत की, जिसने उन्हें Captain of the Pole Star कहानी लिखने के लिए प्रेरित किया। डॉयल ने बाद में अपना मेडिकल लेखन को पूरी तरह से छोड़ दिया, ताकि वह अपना सारा ध्यान अपने लेखन पर केंद्रित कर सकें।

व्यक्तिगत जीवन
1885 में, डॉयल की मुलाकात लुईसा हॉकिन्स से हुई, बाद में उन्होंने उससे शादी कर ली। दंपति अपर विंपोल स्ट्रीट चले गए। उनके दो बच्चे, एक बेटी और एक बेटा था। 1893 में, लुईसा तपेदिक से बीमार थी। जब लुईसा बीमार थी, डोयले जीन लेकी नामक एक युवा महिला की ओर आकर्षित हुई थी। अंततः लुईसा की 1906 में मृत्यु हो गई। अगले वर्ष, डॉयल ने जीन लेकी से शादी कर ली, जिसके साथ उनके दो बेटे और एक बेटी थी।

कहानी और उपन्यास : 
उनकी पहली कहानी, जिसमें होम्‍स का चरित्र था, ए स्‍टडी इन स्‍कारलेट, 1887 में प्रकाशित हुई थी। 1890 के बाद वह पूर्णकालिक लेखक बन गए। उन्‍होंने होम्‍स के रोमांचक कार्यों को द मेमोयर्स ऑफ शरलक होम्‍स (1894), द हाउंड ऑफ द बास्‍करविल्‍लेस (1902) और उनकी अंतिम पुस्‍तक, जिसमें इस जासूस का चरित्र था, द केसबुक ऑफ शरलक होम्‍स (1927) में लिखा। डायल ने 4 उपन्‍यास और 56 कहानियां लिखीं, जिनमें होम्‍स को शामिल किया गया था।

विडंबना देखिए, डायल अपनी जासूसी कहानियों के लिये याद नहीं रखे जाना चाहते थे, बल्‍कि अपने अधिक उल्‍लेखनीय कार्यों, ऐतिहासिक उपन्‍यास सर निगेल (1906), मिकाह क्‍लार्के (1889) और व्‍हाइट कंपनी (1890) के लिए विचलित थे, लेकिन ये कार्य आज कम प्रसिद्ध हैं।

डायल ने रहस्‍य और रोमांच की दूसरी कथाएं भी लिखी हैं, जिसमें साइंस फिक्‍शन, जिसके मुख्‍य पात्र प्रोफेसर चैलेंजर थे, द लॉस्‍ट् वर्ल्‍ड (1911) और द प्‍वॉयजंस बेल्‍ट (1912) थी। 1902 में नाइट की उपाधि से सम्‍मानित डायल ने दो प्रचार पुस्‍तिकाएं भी लिखीं, जिसमें बोअर युद्ध में इंग्‍लैंड की भूमिका की निंदा की गई थी। प्रथम विश्‍वयुद्ध में अपने पुत्र की मृत्‍यु के बाद,डायल को आध्‍यात्‍मिकता के अध्‍ययन में आराम मिला और उन्‍होंने हिस्‍ट्री ऑफ स्‍प्रिचुअलिज्‍म (दो खंड, 1926-27) प्रकाशित किये। 1924 में उनकी आत्‍मकथा मेमोरीज एंड एडवेंचर्स आई।

मृत्यु : दिल की बीमारी एनजाइना पेक्टोरिस से पीड़ित होने के बाद भी डॉयल ने अपने डॉक्टर की चेतावनी को नजरअंदाज कर दिया। 7 जुलाई 1930 को, डॉयल की हार्ट अटैक से उनके बगीचे में उनकी मौत हो गई।

SHARE THIS

Author:

I am writing to express my concern over the Hindi Language. I have iven my views and thoughts about Hindi Language. Hindivyakran.com contains a large number of hindi litracy articles.

0 comments: