Monday, 26 November 2018

मेरा प्रिय धारावाहिक पर निबंध। Mera Priya Dharavahik Essay in Hindi

मेरा प्रिय धारावाहिक पर निबंध। Mera Priya Dharavahik Essay in Hindi

परिचय- आज हम टेलीविजन के विभिन्न चैनलों पर विभिन्न धारावाहिक देख सकते है। धारावाहिक विभिन्न प्रकार के हो सकते हैं; जैसे-हास्यपूर्ण, रोमांचक, पारिवारिक इत्यादि। जब कोई टेलीविजन देखता है न तो वह खाने के बारे में, न ही पीने के बारे में, न ही अन्य कार्य करने के बारे में सोच सकता है। यह धारावाहिक एक सामान ही होते हैं। इनके कलाकार भी सामान्यत: सामान होते हैं। इनकी पटकथा भी लगभग एक जैसी ही होती है।

मेरा प्रिय धारावाहिक- एक धारावाहिक ऐसा है जो कि अन्य धारावाहिकों से बिल्कुल विभिन्न है। यही कारण है कि यह मेरा प्रिय धारावाहिक है इसका नाम है : इण्डियाज मोस्ट वाण्टेड। इसके नाम से ही प्रतीत होता है कि यह भारत का सबसे अधिक चाहने वाला धारावाहिक है। यह धारावाहिक न तो हास्यपूर्ण है और न ही पारिवारिक। इस कार्यक्रम का उद्देश्य है राष्ट्र में व्याप्त जुर्म और भ्रष्टाचार को कम करना। इस कार्यक्रम के निर्देशक सुहैब इलयासी हैं। यह कार्यक्रम सर्वप्रमुख रूप से जुर्म पर आधारित है। यह धारावाहिक हमें अपराधी को सम्पूर्ण पृष्ठभूमि की जानकारी देता है जैसे उसको भौतिक प्रकटता, प्रकृति, सामान्य आदत, नाम इत्यादि। यह धारावाहिक हमें यह भी बताता है कि अपराधी अपने अपराध को किन क्षेत्रों में अंजाम देता है। अपराधी पर एक घटनाक्रम तैयार करने में विशेषज्ञों को कठिन परिश्रम करना पड़ता है। वे सबसे पहले अपराधी पर जानकारी इकट्ठी करते हैं फिर वे उसके जीवन सम्बन्धी कृतित्व का संक्षिप्त विवरण निकालते हैं, अन्त में कम्प्यूटर द्वारा उसका चित्र तैयार करते हैं।

धारावाहिक और उसके तथ्य- यह धारावाहिक उन बड़े माफियाओं के घटनाक्रमों को दर्शाता है जो राजनैतिक नेताओं को समर्थन देते हैं। यह धारावाहिक अपराधी और राजनीतिज्ञों के बंधन के गुप्त तथ्यों को प्रदर्शित करता है। यह राजनेता जो स्वयं को शुद्ध और ईमानदार बताते हैं बहुत धूर्त होते हैं जो अपराधीकरण फैलाकर सीधी-साधी जनता को धोखा देते हैं। उनका उद्देश्य जैसे तैसे चुनाव में जीतना होता है। यह स्पष्ट रूप से राजनीतिक नेताओं और अपराधियों के बन्धन को दर्शाता है।

जुर्म और राजनैतिक बन्धन– इण्डियाज मोस्ट वाण्टेड धारावाहिक भ्रष्ट राजनैतिक नेताओं के मुख से पर्दा हटाने का एक महत्वपूर्ण माध्यम है। यह नेता जुर्म करके भी अपनी राजनीतिक शक्ति द्वारा बच जाते हैं और इनके द्वारा ही अपराधी बिना किसी भय के अपराध करते हैं।
यह धारावाहिक गुलशन कुमार को धोखे से की गयी हत्या के घटनाक्रम को भी प्रदर्शित कर चुका है। कुछ अपराधी तो इस धारावाहिक के द्वारा ही पुलिस के आगे आत्मसमर्पण कर चुके हैं और कुछ गिरफ्तार हो चुके हैं। यह सब इण्डियाज मोस्ट वाण्टेड के साहस और प्रयत्न द्वारा ही सम्भव हो पाया है।

एक महान प्रयत्न- यह कार्यक्रम समाज को स्पष्ट एवं साफ रखने का एक महत्वपूर्ण कदम है। यह साहस धारावाहिक बनाने वालों ने दिखलाया है जो कि प्रशंसा योग्य है। श्रीमान सुहैब ऐसे धारावाहिक को दिखलाने में निर्भीक एवं साहसी हैं जो कि लोगों की सुरक्षा और भलाई के लिए महत्वपूर्ण है। अपराधियों द्वारा धमकी मिलने के बावजूद उन्होंने अपने कार्यक्रम को साहस के साथ जारी रखा।

धारावाहिक का संदेश- यह कार्यक्रम वर्णन करता है कि राष्ट्र को बचाया जा सकता हैं। यदि हम अपने कर्तव्यों का पालन साहस के साथ करें। यह हमें भ्रष्टाचार और जुर्म के विरूद्ध उत्साहित और जागरूक करता है।
मुझे यह धारावाहिक बहुत पसंद है क्योंकि इससे यह सिद्ध होता है कि जहाँ चाह वहाँ राह है। लेकिन दुर्भाग्यवश सुहैब इलयासी अपनी पत्नी अंजु इलयासी की हत्या के अपराध में फंस गये। जी.टी.वी. को इस धारावाहिक का प्रसारण रोकना पड़ा।
अन्त में वे अपराधी का चित्र जनता को दिखलाने लगे और जनता से उसे पकड़ने का आग्रह करने लगे, या उससे सम्बन्धित कोई जानकारी देने का अनग्रह करने लगे। अन्त में यह भी विश्वास दिलाते कि जानकारी देने वाले को पूर्ण सुरक्षा दी जाएगी।
धारावाहिक के  कलाकार वास्तविकता में तो ऐसे नहीं होते फिर भी ऐसे कलाकारों को नियुक्त किया जाता है जिनकी प्रस्तुत वास्तविक अपराधियों जैसी ही होती है। यह धारावाहिक किसी मासूम पर अपराधी द्वारा किये गये अत्याचारों एवं उसके दर्द के चरित्र को भी प्रस्तुत करता है जो अपने स्वार्थ के लिए किसी भी सीमा तक बुरा कर सकते हैं।

SHARE THIS

Author:

I am writing to express my concern over the Hindi Language. I have iven my views and thoughts about Hindi Language. Hindivyakran.com contains a large number of hindi litracy articles.

0 comments: