Thursday, 15 November 2018

कन्या भ्रूण हत्या पर कविता संग्रह। Kanya Bhrun Hatya par Poem

कन्या भ्रूण हत्या पर कविता संग्रह। Kanya Bhrun Hatya par Poem

Kanya Bhrun Hatya par Poem
संतान को धर्म के संस्कारों में डालने वाली मां होती है
नादानी में होने वाले भूलों को टालने वाली मां होती है
गर्भ में पल रहे भ्रूण की हत्यारिन को मां कैसे कह दें
खुद भूखे रहकर औलाद को पालने वाली मां होती है।

गर्भस्थ बेटी मां से यही पुकार करती है
हे मां ! मेरे प्राण बेवजह क्यों हरती है
यदि मेरी मौत से तेरी दुनिया आबाद रहे
तो यह बेटी दुआओं से तेरा दामन भरती है।

कोख में पल रहे भ्रूण से आज क्यों है दूरी
बेटी के जन्म का अधिकार छीनने की कैसी है मजबूरी
बेटियां इसी तरह मरती रही तो याद रखना
बहू के संग बेटे की गृहस्थी बसाने की हसरत रहेंगी अधूरी।

आज नारी अपने ही अस्तित्व को नकार रही है
अभिशाप है बेटिया धरती पर पुकार रही है
हद से गुजर कर शर्मसार हो गई है मां की ममता
जन्म से पहले ही मासूम को कोख में मार रही है।
__________________________________________

क्यों भ्रूण हत्या का चक्कर सिर पर मंडरा रहा है
नारियां ही नारी की क्यों दुश्मन बन रही है
एक दूजे से यह वादा करते हैं हम अभी
भ्रूण हत्या ने अपना योगदान देंगे नहीं कभी
अगर हमारे मां-बाप में भी भ्रूण हत्या की होती
तो हमारे जीवन की ज्योत कब की बुझ गई होती।

भ्रूण हत्या से बढ़कर कोई पाप नहीं होता
हैवान को अपने किए पर पश्चाताप नहीं होता
बेबस मां को कोख उजाड़ने पर मजबूर कर दे
ऐसा निर्दयी असल में इंसान नहीं होता।

मत मारो बिटिया को, घर कैसे बनाओगे
नहीं संभले तो एक दिन पछताओगे
बेटी है कुल की शान बेटी है घर का मान
बेटा बेटी है समान, कन्या है  एक वरदान।

अब भी संभल जाओ, भ्रूण हत्या ना करो
आत्महत्या का,  त्याग तुम करो
निर्दोष प्राणी को कभी मत मारो
कभी मत मारो, भ्रृण जीवन तारों।
__________________________________________

मां मोम सा कोमल मन तेरा, कैसे पत्थर का हो गया
अभी तेरे गर्भ में आई ही थी, कैसे वध मेरा हो गया
जिसे तूने अपने खून से सींचा, क्या मैं वह क्यारी ना थी
होगी सभी को बेटे की आस, पर क्या मैं तुझको प्यारी ना थी।

बेटे से क्यों मोह है इतना, मुझसे मां क्यों इतना डर
अपना लूंगी मैं भी तो मां, तेरे सारे दुख और दर्द!
कोई नहीं एक दूसरे से कम
हीरा अगर बेटा है तो बेटी नहीं मोती से कम ।
अगर हीरा है बेटा तो मोती है बेटी
एक कुल रोशन करेगा बेटा,

पर दो कुलों की लाज रखती है बेटी।
बेटा तब तक हैं बेटा, जब तक ना बन जाता वर
बेटी सदगुण की पेटी, बेटी रहती जीवन भर
ममता का गला घोट क्यों, बेटे पर मां दीवानी
घटती संख्या नारी की है आज चुनौती भारी।
__________________________________________

यह दुनिया अगर गुलशन है तो नारी है उसकी माली
वह झुक जाए तो सीता उठ जाए तो चंडी काली ।
भारत माता के वतन में देखो कैसी नादानी
कन्या भ्रूण की हत्या युगों की क्रूर कहानी।
उठो बहनों यह प्रण लो, यह पाप नहीं होने देंगे
एक नन्ही सुगंधित कली को यूंही नहीं सोने देंगे।
 _________________________________________________

--- कन्या भ्रूण हत्या पर एक कविता---
कोर्ट में एक अजीब मुकदमा आया
एक सिपाही एक कुत्ते को बांध कर लाया
सिपाही ने जब कटघरे में आकर कुत्ता खोला
कुत्ता रहा चुपचाप, मुँह से कुछ ना बोला

नुकीले दांतों में कुछ खून-सा नज़र आ रहा था
चुपचाप था कुत्ता, किसी से ना नजर मिला रहा था
फिर हुआ खड़ा एक वकील
देने लगा दलील
बोला, इस जालिम के कर्मों से यहाँ मची तबाही है
इसके कामों को देख कर इन्सानियत घबराई है
ये क्रूर है, निर्दयी है, इसने तबाही मचाई है
दो दिन पहले जन्मी एक कन्या, अपने दाँतों से खाई है
अब ना देखो किसी की बाट
आदेश करके उतारो इसे मौत के घाट
जज की आँख हो गयी लाल
तूने क्यूँ खाई कन्या, जल्दी बोल डाल
तुझे बोलने का मौका नहीं देना चाहता
लेकिन मजबूरी है, अब तक तो तू फांसी पर लटका पाता
जज साहब, इसे जिन्दा मत रहने दो
कुत्ते का वकील बोला, लेकिन इसे कुछ कहने तो दो
फिर कुत्ते ने मुंह खोला
और धीरे से बोला
हाँ, मैंने वो लड़की खायी है
अपनी कुत्तानियत निभाई है
कुत्ते का धर्म है ना दया दिखाना
माँस चाहे किसी का हो, देखते ही खा जाना
पर मैं दया-धर्म से दूर नही
खाई तो है, पर मेरा कसूर नही
मुझे याद है, जब वो लड़की छोरी कूड़े के ढेर में पाई थी
और कोई नही, उसकी माँ ही उसे फेंकने आई थी
जब मैं उस कन्या के गया पास
उसकी आँखों में देखा भोला विश्वास
जब वो मेरी जीभ देख कर मुस्काई थी
कुत्ता हूँ, पर उसने मेरे अन्दर इन्सानियत जगाई थी
मैंने सूंघ कर उसके कपड़े, वो घर खोजा था
जहाँ माँ उसकी थी, और बापू भी सोया था
मैंने कू-कू करके उसकी माँ जगाई
पूछा तू क्यों उस कन्या को फेंक कर आई
चल मेरे साथ, उसे लेकर आ
भूखी है वो, उसे अपना दूध पिला
माँ सुनते ही रोने लगी
अपने दुख सुनाने लगी
बोली, कैसे लाऊँ अपने कलेजे के टुकड़े को
तू सुन, तुझे बताती हूँ अपने दिल के दुखड़े को
मेरे पास पहले ही चार छोरी हैं
दो को बुखार है, दो चटाई पर सो रही हैं
मेरी सासू मारती है तानों की मार
मुझे ही पीटता है, मेरा भरतार
बोला, फिर से तू लड़की ले आई
कैसे जायेंगी ये सारी ब्याही
वंश की तो तूने काट दी बेल
जा खत्म कर दे इसका खेल
माँ हूँ, लेकिन थी मेरी लाचारी
इसलिए फेंक आई, अपनी बिटिया प्यारी
कुत्ते का गला भर गया
लेकिन बयान वो पूरे बोल गया
बोला, मैं फिर उल्टा आ गया
दिमाग पर मेरे धुआं सा छा गया
वो लड़की अपना, अंगूठा चूस रही थी
मुझे देखते ही हंसी, जैसे मेरी बाट में जग रही थी
कलेजे पर मैंने भी रख लिया था पत्थर
फिर भी काँप रहा था मैं थर-थर
मैं बोला, अरी बावली, जीकर क्या करेगी
यहाँ दूध नही, हर जगह तेरे लिए जहर है, पीकर क्या करेगी
हम कुत्तों को तो, करते हो बदनाम
परन्तु हमसे भी घिनौने, करते हो काम
जिन्दी लड़की को पेट में मरवाते हो
और खुद को इंसान कहलवाते हो
मेरे मन में, डर कर गयी उसकी मुस्कान
लेकिन मैंने इतना तो लिया था जान
जो समाज इससे नफरत करता है
कन्याहत्या जैसा घिनौना अपराध करता है
वहां से तो इसका जाना अच्छा
इसका तो मर जान अच्छा
तुम लटकाओ मुझे फांसी, चाहे मारो जूत्ते
लेकिन खोज के लाओ, पहले वो इन्सानी कुत्ते
लेकिन खोज के लाओ, पहले वो इन्सानी कुत्ते
.........प्रस्तुत कविता मैढ़ क्षत्रिय स्वर्णकार के फेसबुक पेज से ली गयी है
__________________________________________

पूजा अर्चना कर देवी मां से वरदान है मांगते
इधर कोमल से बेटियों का घात है करते
लोग होते हैं ये इंसानियत के नाम पर धब्बा
ऐसे दानवो से मुझे बचाना मेरे रब्बा
क्यों दुनिया में आने से पहले मेरी दुनिया उजाड़ देते
अपने ही जिगर के टुकड़े का गला घोट देते
सुना है मैंने दयामय है भारतीय संस्कृति
फिर कैसे हो जाती है इनकी दानवभरी विकृति
तुम मेरी हत्या ऐसे ही करते रहोगे
तो कल अपने बेटे के लिए बहू कहां से लाओगे
मारकर मुझे तुम बच ना पाओगे
भगवान के घर जाकर क्या मुंह दिखाओगे
कानून ने भी दिया है मुझे जीने का अधिकार
मुझे मारने वालों का है धिक्कार धिक्कार धिक्कार। 

SHARE THIS

Author:

I am writing to express my concern over the Hindi Language. I have iven my views and thoughts about Hindi Language. Hindivyakran.com contains a large number of hindi litracy articles.

0 comments: