Saturday, 28 October 2017

बिल्ली पर निबंध। Essay on Cat in Hindi

बिल्ली पर निबंध। Essay on Cat in Hindi

Essay on Cat in Hindi

बिल्ली एक छोटा और प्यारा पालतू जानवर है। यह सम्पूर्ण विश्व में पायी जाती हैं। इसके चार छोटे पैर और एक सुंदर प्यारी पूंछ होती है। इसके शरीर के बाल नरम, रेशमी और मुलायम होते हैं। यह भूरे, काले और सफ़ेद आदि कई रंगों में पायी जाती हैं। इसकी म्याऊं की आवाज बहुत ही प्यारी होती है। इनके पंजे और दाँत बहुत तेज होते हैं। बिल्ली के चलने में शोर नहीं होता है। इनकी आँखें भूरी, हरी या पीले रंग की होती हैं जो इन्हे रात में देखने में मदद करती हैं। यह एक मांसाहारी स्तनपायी जानवर है। इन्हे दूध और मछली बहुत पसंद होती हैं परन्तु चूहों का शिकार करना इन्हे सबसे अधिक पसंद होती है। लोग घरों में चूहों को दूर रखने के लिए इन्हे पालते हैं। 

देखा जाए तो शेर, बाघ, तेंदुआ और चीता भी बिल्ली की की प्रजाति हैं परन्तु पालतू बिल्ली आकार में इनसे छोटी होती हैं। भारत में बिल्ली को शेर की मौसी भी कहा जाता है। बिल्लियों की दौड़ने और छलांग लगाने की क्षमता अद्भुत होती है। यह आमतौर पर अँधेरे में और छुपकर, घात लगाकर शिकार करना पसंद करती हैं। इनके नाखून बहुत धारदार होते हैं। आमतौर पर इनके नाखून पंजों में ही छुपे होते हैं परन्तु शिकार करते समय ये बाहर आ जाते हैं। यह दो तरह की होती हैं जंगली बिल्ली और पालतू बिल्ली। जब जंगली बिल्ली को पाला जाता है और प्रशिक्षण दिया जाता है तो यह पालतू बिल्ली बन जाती हैं। 

बिल्लियों को लेकर अलग-अलग देशों में कई तरह के अंधविश्वास भी हैं। भारत और कई पडोसी देशों में बिल्लियों का रोना अशुभ माना जाता है। कई लोग तो अगर बिल्ली रास्ता काट जाए तो इसे भी अशुभ मानते हैं। यह बहुत ही हास्यास्पद हैं क्योंकि शायद ही कोई प्राणी होगा जो कभी रोता ना हो और चलता-फिरता ना हो। मिस्र में बिल्ली को देवी माना जाता हैं। जापान में भी बिल्लियों को शुभ माना जाता है। कई लोगों का यह भी मानना है की भूकंप आदि प्राकृतिक आपदाओं का बिल्लियों को पहले पता ही चल जाता है। मान्यताएं चाहे जो कुछ भी हों यह एक बहुत ही प्यारा और शर्मीला जानवर है।  

SHARE THIS

Author:

I am writing to express my concern over the Hindi Language. I have iven my views and thoughts about Hindi Language. Hindivyakran.com contains a large number of hindi litracy articles.

0 comments: