Sunday, 12 February 2017

कितने सारे तारे

कितने सारे तारे कविता 

kitne sare tare hindi poem
कितने सारे तारे कविता 
टिम-टिम करते आसमान में,
तारे कितने सारे हैं ?
इनको देखो तो लगता है,
जग में सबसे न्यारे हैं। 
नीले-पीले और चमकीले,
ये तो प्यारे-प्यारे हैं। 
इनकी गिनती करूँ मैं कैसे ?
ये तो कितने सारे हैं। 

SHARE THIS

Author:

I am writing to express my concern over the Hindi Language. I have iven my views and thoughts about Hindi Language. Hindivyakran.com contains a large number of hindi litracy articles.

0 comments: