Saturday, 16 September 2017

अच्छा आचरण पर निबंध

अच्छा आचरण पर निबंध। 

अच्छा आचरण पर निबंध

अच्छा आचरण इंसान को सभ्य बनता है। वह हमारे जीवन को शांतिदायक, आसान और रुचिकर बनाता है। एक सभ्य व्यक्ति का हर जगह स्वागत किया जाता है। सभ्य व्यक्ति  सभी स्नेह व प्रेम पर दुष्ट व्यक्ति से सभी घृणा व नफरत करते हैं। लोग इस प्रकार के लोगों से बहुत बचकर रहते हैं। 

अच्छे आचरण से तात्पर्य है अच्छे व्यवहार से। यह हमारी कोमलता, कुलीनता और प्रतिष्ठा को प्रदर्शित करता है। इसका अर्थ यह है की हमारी बातों, हमारी आदतों से किसी के दिल को ठेस नहीं पहुंचनी चाहिए। इसका अर्थ यह भी हुआ की हमें दूसरों के बारे में कभी भी बुरा-भला नहीं कहना चाहिए। हमें हमेशा विनम्र व मीठी भाषा का ही प्रयोग करना चाहिए। अगर कोई हमारी सहायता करे तो हमें सच्चे दिल से उसे धन्यवाद कहना चाहिए। हमें ज्यादा से ज्यादा कृतज्ञ शब्दों का प्रयोग करना चाहिए परन्तु सिर्फ तभी जब इसकी जरुरत हो। अच्छे आचरण का अर्थ है की हमें किसी भी प्रकार के झूठ से बचना चाहिए। इसका यह भी अर्थ है की हमें दूसरों को प्रभावित करने पर बल देना चाहिए। इसके लिए चाहे हमें अप्रिय सच ही क्यों न बोलना पड़े। 

अच्छे आचरण का अर्थ है कि हम अपने बड़े-बूढ़ों और असहाय लोगों, विशेषकर महिलाओं को आगे आने का अवसर प्रदान करें। हमें सभी की मदद करनी चाहिए और उनका ध्यान रखना चाहिए। हमें अपने आस-पास के वातावरण को भी साफ़ रखना चाहिए। हम किसी के भावों को आहात न करें। किसी की गलती पर न हँसना भी सभ्यता का ही एक अंग है। अच्छे आचरण के अंतर्गत हमें अपने शारीरिक भाषा का भी ध्यान रखना चाहिए, सदैव अपने से बड़े-बूढ़ों का अभिवादन करना चाहिए। 

चिड़ियों व बेजुबान जानवरों को मारना भी अच्छा आचरण नहीं कहलाता, इसी प्रकार पेड़-पौधों से अनावश्यक रूप से पत्तियाँ व फूलों को तोडना भी अच्छा आचरण नहीं है। अच्छी सभ्यता अच्छे आदर्शों व मित्रता को फैलाती है। इससे एक स्वस्थ और शांतिपूर्ण जीवन का निर्माण होता है। अच्छा आचरण छोटी उम्र से ही सीखा जाता है। यह बहुत आसानी से सीखे जा सकते है, यह हमें सामाजिक होने में मदद करते हैं व एक सफल जीवन का निर्माण करते हैं। 

SHARE THIS

Author:

Etiam at libero iaculis, mollis justo non, blandit augue. Vestibulum sit amet sodales est, a lacinia ex. Suspendisse vel enim sagittis, volutpat sem eget, condimentum sem.

0 comments: