Thursday, 2 February 2017

संज्ञा Noun in Hindi

                      संज्ञा और उसके भेद
संज्ञा-
किसी व्यक्ति, स्थान, वस्तु आदि तथा नाम के गुण, धर्म, स्वभाव का बोध कराने वाले शब्दो को संज्ञा कहते हैं।
जैसे-श्याम,श्रीकृष्ण,आम,घोड़ा,मिठास,चादर,शेर, हाथी आदि।


संज्ञा के प्रकार- संज्ञा के पांच भेद होते हैं।
1. व्यक्तिवाचक संज्ञा।
2. जातिवाचक संज्ञा।
3. भाववाचक संज्ञा।
4. समूहवाचक संज्ञा
5.  द्रव्यवाचक संज्ञा

1.व्यक्तिवाचक संज्ञा-

जिस संज्ञा शब्द से किसी विशेष, व्यक्ति, प्राणी, वस्तु अथवा स्थान का बोध हो उसे व्यक्तिवाचक संज्ञा कहते हैं। 
जैसे-जयप्रकाश राम, भारत, सूर्य, नारायण, श्रीकृष्ण, रामायण, ताजमहल, कुतुबमीनार, लालकिला हिमालय आदि।


2.जातिवाचक संज्ञा-
जिस संज्ञा शब्द से उसकी संपूर्ण जाति का बोध हो उसे जातिवाचक संज्ञा कहते हैं। जैसे-मनुष्य, नदी, नगर, पर्वत,बकरी, पहाड़, कंप्यूटर पशु, पक्षी, लड़का, कुत्ता, गाय, घोड़ा, भैंस, बकरी, नारी, गाँव आदि।


3.भाववाचक संज्ञा-

जिस संज्ञा शब्द से पदार्थों की अवस्था, गुण-दोष, धर्म आदि का बोध हो उसे भाववाचक संज्ञा कहते हैं।
जैसे-बुढ़ापा,ममता, मिठास, बचपन, मोटापा, चढ़ाई, थकावट आदि।


4. द्रव्यवाचक संज्ञा : जिस संज्ञा शब्द से उस पदार्थ या सामग्री का बोध होता है जिससे कोई वास्तु बनी होती है। उसे द्रव्य वाचक संज्ञा कहते है। 
जैसे : 1.ठोस पदार्थ (solid)- सोना चांदी ताँबा लोहा आदि।   2.गैसीय पदार्थ (gass) - धुंआ ऑक्सीजन आदि।   3.द्रव पदार्थ (liquid) - तेल पानी घी आदि। 


5. समूहवाचक संज्ञा : जो संज्ञा शब्द किसी एक व्यक्ति का नहीं बल्कि पूरे समूह का बोध कराये। उसे समूह  कहते है। 
जैसे : सभा समिति कर्मचारी वर्ग आयोग परिवार पुलिस सेना ऑर्केस्ट्रा आदि। 




आपको हमारी आज की पोस्ट ( पोस्ट ) कैसी लगी ,हमें Comment Box में बतायें व अपने सुझाव दें। 


please comment Below if you like our post and give us your suggestion...Good Day ! 

SHARE THIS

Author:

Etiam at libero iaculis, mollis justo non, blandit augue. Vestibulum sit amet sodales est, a lacinia ex. Suspendisse vel enim sagittis, volutpat sem eget, condimentum sem.

0 comments: